Connect with us

दुनिया

इमरान की तीसरी पत्नी के बुर्के पर पूर्व पत्नी ने उठाया सवाल, सोशल मीडिया ने जमकर मारे तंज

Published

on

पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर और पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के मुखिया इमरान खान की तीसरी शादी सोशल मीडिया पर लगातार चर्चा में है। अब इमरान खान की पूर्व दूसरी पत्नी रेहम खान ने उनकी तीसरी पत्नी बुशरा मनेका पर उनके बुर्के पर तंज कसा है। रेहम खान का कहना है कि एक सामान्य बुर्का और राजनीतिक बुर्के में फर्क होता है। रेहम खान ने एक ट्वीट किया और उसके साथ एक तस्वीर शेयर की है। इस तस्वीर में बुशरा मनेका सिर से पैर तक बुर्के में ढकी है, जबकि दूसरे और एक महिला सामान्य बुर्के में है। रेहम खान ने लिखा है, ” मैं उन महिलाओं का पूरा सम्मान करती हूं जो निजी कारणों से बुर्का पहनती हैं, लेकिन वह कट्टरपंथियों द्वारा वोट पाने की कोशिशों का विरोध करती हैं।” हालांकि रेहम खान को इस ट्वीट के लिए पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के समर्थकों का गुस्सा झेलना पड़ रहा है। सोशल मीडिया में लोग रेहम खान को निशाना बना रहे हैं। इससे पहले रेहम खान ने कहा ने इमरान खान की तीसरी शादी को ‘पॉलिटिकल मिसएडवेंचर’ कहा था।

रेहम खान को जवाब देते हुए कई यूजर्स ने उनके पुराने ट्वीट को शेयर किया है जिसमें वह बुर्के का समर्थन करती हुईं दिख रही हैं। एक यूजर ने कहा है कि आपको यह ट्वीट डिलीट करना चाहिए, आप गलतबयानी कर रही हैं। एक यूजर ने बुर्के में उनकी पुरानी तस्वीरों को शेयर करते हुए कहा है कि हां राजनीतिक बुर्का का सिस्टम गलत है। एक यूजर ने कहा कि अपना निजी बदला लेने के लिए धर्म का इस्तमाल मत करिए।

बता दें कि इमरान खान ने कुछ ही दिन पहले अपने आध्यात्मिक गुरु बुशरा मनेका से तीसरी शादी की थी। इमरान खान की पहली शादी ब्रिटेन की जेमिमा गोल्ड स्मिथ से हुई थी और यह शादी नौ सालों तक चली। उनकी दूसरी शादी रेहम खान से हुई लेकिन यह मात्र 10 महीने तक चली।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दुनिया

कोरोना को लेकर जानें क्या चेतावनी दे रहे वैज्ञानिक, सुनकर खिसक जाएगी पैरों तले जमीन

Published

on

कोरोना वायरस को लेकर इस समय जहां पूरी दुनिया में सहमे हुए हैं, वहीं सरकारें भी अपने-अपने देश को बचाने को लेकर खासे चिंतित है. चूंकि कोरोना का अब तक कोई सटिक उपचार ईजाद नहीं हुआ, लिहाजा अब इसे लेकर वैज्ञानिक भी चेतावनी जारी किए हैं. आइए जानतें है कि कोरोना को लेकर दुनिया के वैज्ञानिक क्या कह रहे है.

– हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में महामारी विशेषज्ञ और स्टडी के लेखक मार्क लिपसिच ने कहा, संक्रमण दो चीजें होने पर फैलता है- एक संक्रमित व्यक्ति और दूसरा कमजोर इम्यून वाले लोग. जब तक कि दुनिया की ज्यादातर आबादी में वायरस के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता विकसित नहीं हो जाती है, तब तक बड़ी आबादी के इसके चपेट में आने की आशंका बनी रहेगी. वैक्सीन या इलाज ना खोजे जा पाने की स्थिति में 2025 में कोरोना वायरस फिर से पूरी दुनिया को अपनी जद में ले सकता है. महामारी विशेषज्ञ मार्क का कहना है कि वर्तमान में कोरोना वायरस से संक्रमण की स्थिति को देखते हुए 2020 की गर्मी तक महामारी के अंत की भविष्यवाणी करना सही नहीं है.

– यूके सरकार की वैज्ञानिक सलाहकार समिति ने सुझाव दिया था कि अस्पतालों पर मरीजों का बोझ बढ़ने से रोकने के लिए लंबे वक्त तक फिजिकल डिस्टेंसिंग बनाए रखने की जरूरत है. समिति ने कहा कि देश में करीब एक साल तक सरकार को कभी सख्ती तो कभी थोड़ी ढील के साथ सोशल डिस्टेंसिंग के नियम जारी रखने चाहिए. शोध के मुताबिक, नए इलाज, वैक्सीन के आने और स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर होने की स्थिति में फिजिकल डिस्टेंसिंग अनिवार्य नहीं रह जाएगा लेकिन इनकी गैर-मौजूदगी में देशों को 2022 तक सर्विलांस और फिजिकल डिस्टेंसिंग लागू करनी पड़ सकती है. शोधकर्ताओं ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर अभी कई रहस्य सुलझे नहीं हैं, ऐसे में बहुत लंबे वक्त के लिए इसकी सटीक भविष्यवाणी कर पाना मुश्किल है. अगर लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता स्थायी हो जाती है तो कोरोना वायरस पांच सालों या उससे ज्यादा लंबे समय के लिए गायब हो जाएगा. अगर लोगों की इम्युनिटी सिर्फ एक साल तक कायम रहती है तो बाकी कोरोना वायरसों की तरह सालाना तौर पर इस महामारी की वापसी हो सकती है.

– शोधकर्ता लिपसिच ने कहा, इस बात की ज्यादा संभावनाएं हैं कि दुनिया को करीब एक साल के लिए आंशिक सुरक्षा हासिल हो जाए. जबकि वायरस के खिलाफ पूरी तरह सुरक्षा हासिल करने के लिए कई साल लग सकते हैं. फिलहाल, हम सिर्फ कयास ही लगा सकते हैं. सभी परिस्थितियों में ये बात तय है कि एक बार का लॉकडाउन कोरोना को खत्म करने के लिए काफी नहीं होगा. पाबंदियां हटते ही कोरोना वायरस का संक्रमण फिर से पैर पसार लेगा.

– यूनिवर्सिटी ऑफ रीडिंग में सेल्युलर माइक्रोबायोलॉजी के प्रोफेसर डॉ. सिमन क्लार्क ने द इंडिपेंडेट से बातचीत में कहा कि कोरोना वायरस के एंडगेम की तारीख बताना असंभव बात है. उन्होंने कहा, अगर कोई आपको कोरोना वायरस के अंत की तारीख बता रहा है तो इसका मतलब है कि वे क्रिस्टल बॉल देखकर भविष्यवाणी कर रहे हैं. सच्चाई तो यह है कि कोरोना वायरस फैल चुका है और अब यह हमारे साथ हमेशा के लिए रहने वाला है.

– साउथहैम्पटन यूनिवर्सिटी में ग्लोबल हेल्थ के शोधकर्ता माइकल हेड का कहना है कि कोरोना वायरस के बारे में कोई भी अंदाजा लगाना मुश्किल है. ये बिल्कुल नया वायरस है और दुनिया भर में महामारी का रूप धारण कर चुका है. उन्होंने कहा कि आने वाले कुछ महीनों में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में गिरावट देखने को मिल सकती है. हालांकि, सर्दी के आते ही कोरोना वायरस के मामले फिर से बढ़ सकते हैं क्योंकि उस वक्त फ्लू भी दस्तक दे देगा.

– इंपीरियल कॉलेज लंदन के प्रोफेसर नील फार्ग्युसन के मुताबिक, सोशल डिस्टेंसिंग जैसे कदम संक्रमण की धीमी रफ्तार के लिए बहुत जरूरी हैं.जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती, तब तक बड़े पैमाने पर सोशल डिस्टेंसिंग की जरूरत बनी रहेगी. कॉलेज की ही एक रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि कोरोना वायरस की वैक्सीन बनने में करीब 18 महीनों का वक्त लग सकता है.

Continue Reading

दुनिया

बलिया ने देश के साथ विदेश को भी दिया पीएम, इस देश के प्रधानमंत्री की जड़े अपने जिले से जुड़ी हैं

Published

on

बलिया डेस्क: अपने बलिया का नाम न सिर्फ देश में बल्कि विदेशों में भी तमाम वजहों से फैला हुआ है. यहाँ से जुड़े लोगों ने दुनिया भर में अपना परचम लहराया है और बलिया का नाम रौशन किया है. यूँ ही नहीं बलिया को बागियों का शहर कहा जाता है. है कुछ ख़ास यहाँ की मिटटी में. बलिया से देश की आज़ादी के लिए लड़ने वाले महान क्रांतिकारी निकले हैं वही आज़ाद भारत की सियासत को अलग मोड़ देने वाले तमाम नेता भी यहीं से निकले हैं.

बलिया ने चंद्रशेखर के रूप में देश को प्रधानमंत्री भी दिया है लेकिन आज हम आपको एक और ख़ास बात बताने जा रहे हैं. क्या आपको मालूम है कि मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जुगनाथ की जड़ें बलिया से जुड़ी हुई हैं.दरअसल यह बात बिलकुल सच है और इसी का पता लगाने के लिए एक बार कुछ महीनों पहले मॉरीशस के उच्चायुक्त जगदीश्वर गोवर्धन भी बलिया आए थे.

मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जुगनाथ ने उन्हें अपने पूर्वजों का पता लगाने के लिए एक बार बलिया भेजा था और वह यहाँ आये भी थे. इस दौरान उन्होंने तारीफ करते हुए कहा था कि बलिया ने न सिर्फ देश को प्रधानमंत्री दिया है बल्कि विदेश को प्रधानमंत्री दिया है. इस दौरान उन्होंने अपनी खोज के बाद साफ़ कहा था कि मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जुगनाथ के पूर्वज बलिया के रसड़ा से ताल्लुक रखते थे.

उन्होंने कहा था कि इस बात का उन्हें प्रमाण भी मिल चुका है. उन्होंने कहा था कि फिलहाल तो इस पर कुछ ज्यादा नहीं बता सकता लेकिन वह और जानकारी जुटाने की कोशिश में लगे हुए हैं. इस दौरान उन्होंने मॉरीशस से सुंदर देश भारत को कहा था.बहरहाल, फिलहाल तो उन्हें अपनी खोज में कहाँ तक सफलता मिली इसके बारे में तो कुछ नहीं कहा जा सकता है और न ही उसके बाद उनकी तरफ से कोई बयान आया.

Continue Reading

दुनिया

बाढ़ पीड़ितों की मदद को आगे आया बलिया का यह शख्स, यूगांडा से भेजी इतनी बड़ी रक़म

Published

on

दिल्ली डेस्क: भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को सहेजने और विकसित करने का दायित्व सिर्फ भारतवासियों का ही नहीं बल्कि सात समंदर पार बसे उन अप्रवासी भारतीयों का भी है जिनके दिलों में भारत धड़कता है। यह काम वह बख़ूबी कर रहे हैं।

तमाम भारतीयों ने पूरी ईमानदारी से यह प्रयास किया है कि वे अधिक से अधिक अपने मूल्यों, परंपराओं, रीति रिवाजों, तीज-त्योहारों और संस्कृति को उसी रूप में जीवंत रखें जिस रूप में उनका पुराना वैभव और सौन्दर्य जगमगाता है। इस बीच प्रवासीयों की एक बड़ी संस्था -ईस्ट इंडिया कल्चरल एसोसिएशन (EICA) ने भी बड़ा कदम उठाते हुए बिहार पीड़ितों के लिए 2 लाख की राशि भेजा है।

इसमें खुशी की बात ये है कि इस संस्था EICA के चेयरपर्सन संतोष तिवारी बलिया के मूल निवासी हैं। अभी पिछले हाल ही में युगांडा की राजधानी कंपाला में भारतीय दूतावास की ओर से आयोजित अप्रवासी भारतीय सम्मान समारोह में भारतीय लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला के साथ मंच भी साझा कर चुके हैं। जिसमें उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड के विधान सभा अध्यक्ष भी भारतीय प्रतिनिधि के रूप में उपस्थित थे।

संतोष तिवारी ने बताया कि इस मुश्किल घड़ी में मैं अपने देशवासियों के साथ खड़ा हूँ। बिहार में आई भीषण बाढ़ के प्रकोप और उससे हुई जन और हानि से हम सब अत्यंत ही विचलित हैं। इस बाढ़ आपदा से पूरे राज्यभर में जबरदस्त तबाही मच गई। कई लोग बाढ़ की वजह से बेघर हो गये तो,वहीं कई लोगों की जिंदगी चली गई। ऐसे में युगांडा में बसे हम बिहार और उत्तर प्रदेश के प्रवासियों ने मिलकर अपने भाईयों की तरफ़ मदद का हाथ बढ़ाया है।

हमने “ईस्ट इंडिया कल्चरल एसोसिएशन” (EICA) के माध्यम से बिहार के “मुख्यमंत्री बाढ़ राहत कोष” में करीब 2 लाख रूपये दान किये हैं। ईस्ट इंडिया कल्चरल चेयरपर्स संतोष तिवारी के प्रतिनिधि के रूप में एसोसिएशन के संयुक्त कोषाध्यक्ष अमितेश कुमार, जो मूल रूप से झारखंड (बोकारो) के निवासी हैं, ने बातचीत में बताया कि युगांडा में रहने वाले बिहार औऱ यूपी के लोगों से चंदा इकट्ठा कर बिहार के “मुख्यमंत्री राहत कोष” में जमा कराया गया है।

Continue Reading

TRENDING STORIES