Connect with us

बलिया स्पेशल

बलिया – ज़िंदा महिला दस्तावेज़ों में मृत, सरकारी कर्मचारियों की लापरवाही से जीवन हुआ दुश्वार

Published

on

बलिया। फिल्म ‘कागज़’ की कहानी जैसा एक मामला बलिया से सामने आया है। यहां एक ज़िंदा महिला को दस्तावेज़ों में मृत घोषित कर दिया गया है। सरकारी महकमों की इस लापरवाही के चलते महिला को अब विधवा पेंशन और उज्ज्वला जैसी योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। इससे महिला का जीवन बेहद दुश्वार हो गया है।

पीड़ित महिला का नाम यमुना देवी है, जो बेलहरी ब्लाक के ग्राम सभा दीघार के पचरूखिया की रहने वाली एक विधवा है। यमुना देवी सरकार से मिलने वाली विधवा पेंशन योजना के सहारे ही अपना और अपने बच्चों का पेट पाल रही थीं। लेकिन पिछले सात महीनों से उन्हें इस योजना का लाभ नहीं मिला है। ऐसे में उनके सामने भुखमरी का संकट खड़ा हो गया है। यमुना देवी को सरकारी योजनाओं का लाभ अब इसलिए नहीं मिल रहा क्योंकि उन्हें सरकारी दस्तावेज़ों में जीवित होते हुए भी मृत घोषित किया जा चुका है। ब्लॉक के कर्मचारियों द्वारा डीपीओ कार्यालय में उनके मृत होने की रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

हालांकि ये नहीं पता चल सका है कि ये रिपोर्ट किसने, कब और किस आधार पर लगाई। फिलहाल अधिकारी भी इसका जवाब देने से बचते नज़र आ रहे हैं। अधिकारियों से जब इस मामले में सवाल पूछा जा रहा है तो वो जांच की बात कर रहे हैं।

लेकिन ये जांच कब पूरी होगी और पीड़िता को कब इंसाफ़ मिलेगा इसका जवाब अधिकारियों के पास भी नहीं है। सरकारी कर्मचारियों की लापरवाही के चलते यमुना देवी सिर्फ विधवा पेंशन योजना से ही नहीं बल्कि और भी सरकारी योजनाओं से वंचित हो गई हैं। उन्हें सरकार की महत्वाकांक्षी उज्ज्वला योजना का लाभ भी नहीं मिल रहा है। जिसके चलते उन्हें आज भी बूढ़े व कमज़ोर हाथों से मिट्टी के चूल्हा पर ही खाना बनाना पड़ रहा है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बलिया स्पेशल

बलिया कांग्रेस ने जिला पंचायत के 32 वार्डों पर घोषित किए प्रत्याशी

Published

on

बलिया – कांग्रेस ने भी सोमवार को जिला पंचायत सदस्य पद के लिए 32 वार्डों पर अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी। भाजपा व समाजवादी पार्टी सभी वार्डों पर अपने उम्मीदवारों की सूची पहले ही जारी कर चुकी है।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने सूची जारी करते हुए बताया कि जिला पंचायत के 32 वार्डों में से प्रत्याशियों की सूची जारी की गई है। कांग्रेस पूरे दमखम के साथ चुनाव लड़ेगी

Continue Reading

बलिया स्पेशल

बलिया- सपा की तीसरी सूची जारी, आठ वार्ड में नहीं उतारे प्रत्याशी

Published

on

बलिया-  समाजवादी पार्टी ने नामांकन से मात्र कुछ घंटे पहले आठ वार्डों में जिला पंचायत सदस्य पद के प्रत्याशियों की तीसरी और अंतिम सूची जारी कर दी है।

सूची के मुताबिक वार्ड 17 से संजय पाण्डेय , वार्ड 03  से सुधीर यादव , वार्ड 50 से दिलीप खरवार , वार्ड 04 से विजय शंकर यादव, वार्ड 05 से फुल मुन्नी देवी , वार्ड 46 से सावित्री देवी, वार्ड 30 से लालमती, वार्ड 47 से संजय भारती के नाम शामिल हैं।

बता दें की इस बार जिला पंचायत के लिए समाजवादी पार्टी ने कुल 50 प्रत्याशियों को मैदान में उतारा है। 58 जिला पंचायत की सीटों वाले बलिया जिले से सपा ने आठ सीटों पर अपने प्रत्याशी नहीं उतारे हैं। सूत्रों के मुताबिक सीट विवादित होने की वजह से प्रत्याशी उतारने से पार्टी ने परहेज़ किया है।

 

 

 

Continue Reading

बलिया स्पेशल

बलिया- जिला मजिस्ट्रेट अदिति सिंह ने 11 को किया जिला बदर

Published

on

बलिया: यूपी के बलिया में जिला प्रशासन ने पंचायत चुनाव में शांति व्यवस्था के लिए चलाए जा रहे अभियान के तहत 11 व्यक्तियों को आपराधिक कृत्यों के मद्देनजर 6 महीने के लिए जिला बदर कर दिया है।

जिला मजिस्ट्रेट अदिति सिंह ने गुंडा नियंत्रण अधिनियम के अंतर्गत ये कारवाई की है । उन्होंने सभी संबंधित थानों के प्रभारियों को इस आदेश का सख्ती से अनुपालन सुनिश्चित कराने को कहा है। पुलिस अधीक्षक व ज्येष्ठ अभियोजन अधिकारी की रिपोर्ट के बाद उन्होंने यह कार्रवाई की है।

जिला मजिस्ट्रेट ने सूरज यादव निवासी पटपर थाना खेजुरी, राहुल राम निवासी बलेसरा थाना गड़वार, नारद पासवान निवासी हरदत्तपुर थाना बाँसडीह, राकेश गोंड निवासी बहुआरा थाना दोकटी, अजय कुमार गुड्डू निवासी इसारी रामबारी थाना नगरा, पिंटू सिंह उर्फ मणि सिंह निवासी छितौनी थाना मनियर, राजबहादुर सिंह निवासी कुशहा रसीदपुर थाना भीमपुरा, मुकेश गोंड निवासी गोविंदपुर थाना भीमपुरा, सिकन्दर पासवान निवासी निरुपुर थाना हल्दी, राजेन्द्र उर्फ राजा बाबू ग्राम जवहीं दियर थाना हल्दी व रामायण सिंह ग्राम छितौनी थाना मनियर को जिला बदर का आदेश दिया है।

Continue Reading

TRENDING STORIES