Connect with us

featured

भू-माफिया ने हड़पी ADM की पैतृक जमीन, बलिया DM ने मिर्जापुर के जिलाधिकारी को लिखा पत्र

Published

on

उत्तर प्रदेश में भू-माफिया कानून व्यवस्था की सरेआम धज्जियां उड़ाते हुए आम लोगों के साथ अब अफसरों की जमीन भी हथियाने लगे हैं। बलिया जिले में तैनात एक पीसीएस अफसर की जमीन मिर्जापुर जिले के एक भू-माफिया ने कब्जा ली है। इस अफसर ने मिर्जापुर के अफसरों को अपनी पीड़ा बताते हुए कई बार प्रार्थनापत्र दी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब उन्होंने बलिया के डीएम श्रीहरिप्रताप शाही के पास गुहार लगाई है। बलिया डीएम ने मिर्जापुर के डीएम और एसपी को पत्र लिखकर भू-माफिया के खिलाफ कार्रवाई कर उसके कब्जे से अफसर की जमीन मुक्त कराने की बात कही है।

बलिया में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व के पद पर तैनात प्रवरशील बर्णवाल ने मिर्जापुर जिले में अपने माता के नाम पर मौजूद जमीन को भू-माफियाओं द्वारा कब्जाने की पीड़ा सुनाई तो 23 जुलाई को बलिया डीएम ने मीरजापुर डीएम और एसपी को पत्र भेजा। इस खत को भेजे जाने की पुष्टि डीएम के स्टेनो राजेश कुमार ने किया। उन्होंने बताया कि प्रवरशील बर्णवाल की जमीन उनके माता जी के नाम से है। इसके बारे में वह डीएम साहब से बोले तो पत्र जिलाधिकारी की तरफ से भेजा गया है।

बलिया डीएम ने पत्र में कही ये बात

बलिया डीएम की तरफ से भेजे गए पत्र में कहा गया है कि प्रवरशील बर्णवाल अपरजिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व के पद पर उनके साथ कार्यरत हैं। मिर्जापुर के भरूहना गांव में इनकी पैतृक जमीन है। रिटायरमेंट के बाद वह अपने पैतृक गांव में ही रहना चाहते हैं। मगर उस जमीन पर अच्छे प्रताप सिंह, इंदिरा सिंह, विजय सिंह, धेनू शुक्ला नामक भू-माफिया ने कब्ज़ा जमा रखा है और इनके खिलाफ पहले ही कई थानों में मुकदमें दर्ज हैं। यह लोग अफसर को उक्त जमीन पर निर्माण के दौरान बाधा खड़ा करने के साथ डरा-धमका रहे हैं। इसको लेकर बर्णवाल ने अपर पुलिस महानिदेशक एंटीकरप्शन सहित कई जगह चिट्ठी लिखी। इन खतों को संल्गन करते हुए बलिया डीएम ने मीरजापुर डीएम व एसपी से इनके निर्माणकार्य में नियमानुसार उचित सहयोग करने का आग्रह किया है।

featured

बलिया : पैसे के लेन-देन पर दुकानदार की पीट-पीटकर हत्या

Published

on

बलिया के सिकंदरपुर में  पीट-पीटकर हत्या का मामला सामने आया है। खबर के मुताबिक पैसे के लेन-देन को लेकर हुए विवाद के बाद नगर के गंधी मुहल्ला में सोमवार की सुबह अंडा विक्रेता की पीट-पीटकर हत्या कर दी। उसका पुत्र तौहिद के साथ ही दूसरे पक्ष के दो अन्य गंभीर रूप से घायल हो गये। सूचना पर पहुंचे सीओ पवन सिंह, चौकी इंचार्ज अमरजीत यादव, थानाध्यक्ष बालमुकुंद मिश्र घायलों को सीएचसी पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने मुर्शीद के मौत के पुष्टि की। मृतक के पुत्र ने छह लोगों के विरूद्ध तहरीर दी है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। घटना के बाद मुहल्ले के लोगों में आक्रोश को देखते हुए मौके पर पुलिस व पीएसी तैनात की गयी है।

नगर के गंधी मुहल्ला निवासी 46 वर्षीय मुर्शीद मुहल्ले में अंडा का दुकान चलाता था। बकरीद के दिन मुर्शीद से उसका पड़ोसी डब्लू ने शराब पीने के लिए पैसा मांगा। जब उसने देने से इनकार किया तो इस पर दोनों में विवाद हुआ था। उस समय पुलिस ने मामला शांत करा दिया था। इस बीच, सोमवार की सुबह करीब छह बजे मुर्शीद ने दुकान खोला। उसके साथ उसका पुत्र तौहिद भी था। बताया जाता है कि इसी बीच करीब नौ बजे उसका पड़ोसी डब्लू पांच-छह लोगों के साथ दुकान पर पहुंचा तथा मुर्शीद व उसके पुत्र के साथ मारपीट करने लगे। गंभीर चोट लगने से मुर्शीद की मौके पर मौत हो गयी, जबकि चार अन्य घायल हो गये। घायलों में एक पक्ष से 20 वर्षीय जाहिद,19 वर्षीय सोनू, 18 वर्षीय तौहीद उर्फ पप्पू शामिल हैं। सूचना पर पहुंची पुलिस ने सभी को सीएचसी पहुंचाया, जहां मुर्शीद को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया, जबकि तीन लोगों का उपचार कर घर भेज दिया। पुलिस सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। हालांकि समाचार लिखे जाने तक किसी के गिरफ्तार होने की बात पुलिस नहीं बता रही है।

 

Continue Reading

featured

बलिया में तैनात संयुक्त मजिट्रेट विपिन कुमार जैन, अन्नपूर्णा गर्ग का तबादला !

Published

on

उत्तर  प्रदेश सरकार ने बुधवार रात 17 आईएएस समेत 15 पीसीएस अफसरों के तबादले कर दिए। इनमें 2016 बैच के आईएएस अफसर भी हैं, जिन्हें चार वर्ष की सेवा पूरी होने पर बीती एक जनवरी को सीनियर टाइमस्केल दिया गया था। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के पद पर तैनात इन अफसरों को अब मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ) बनाया गया है। नौ जिलों में सीडीओ तैनात किये गए हैं। पांच प्रतीक्षारत अफसरों को भी तैनाती दी गई है।  इसमें बलिया में तैनात संयुक्त मजिट्रेट विपिन कुमार जैन, अन्नपूर्णा गर्ग का भी तबादला किया गया है, अन्नपूर्णा गर्ग-ज्वाइंट मजिस्ट्रेट बलिया को अब सीडीओ अंबेडकरनगर बनाया गया है तो वहीँ विपिन कुमार जैन ज्वाइंट मजिस्ट्रेट बलिया को सीडीओ प्रतापगढ़ बनाया गया है।

देखें पूरी लिस्ट 

 
1-अन्नपूर्णा गर्ग-ज्वाइंट मजिस्ट्रेट बलिया : सीडीओ अंबेडकरनगर
2-विपिन कुमार जैन ज्वाइंट मजिस्ट्रेट बलिया : सीडीओ प्रतापगढ़
3-अश्विनी कुमार पांडे-ज्वाइंट मजिस्ट्रेट चित्रकूट -सीडीओ बलिया 
4-अमित आसरी-ज्वाइंट मजिस्ट्रेट फर्रुखाबाद-सीडीओ चित्रकूट 
5-अतुल वत्स-ज्वाइंट मजिस्ट्रेट मऊ-सीडीओ सुलतानपुर
6-डॉ.अंकुर लाठर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट मऊ : सीडीओ अमेठी 
7-महेंद्र कुमार-सीडीओ चित्रकूट-विशेष सचिव कृषि उत्पादन आयुक्त शाखा
8-अमित पाल सीडीओ प्रतापगढ़ : विशेष सचिव माध्यमिक शिक्षा 
9-गजल भारद्वाज ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ललितपुर : सीडीओ रामपुर 
10-कविता मीणा ज्वाइंट मजिस्ट्रेट भदोही : सीडीओ बहराइच 
11-इंद्रजीत सिंह ज्वाइंट मजिस्ट्रेट इटावा : सीडीओ गोरखपुर 
12-डॉ.मुथु कुमार स्वामी बी. प्रतीक्षारत : विशेष सचिव अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास 
13-श्याम सुंदर शर्मा (प्रतीक्षारत) : सचिव उत्तर प्रदेश राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग
14-मनोज कुमार प्रतीक्षारत : निदेशक कृषि विपणन एवं विदेश व्यापार 
15-गुर्राला श्रीनिवासुलू प्रतीक्षारत : विशेष सचिव वित्त 
16-अरविंद कुमार चौहान सीडीओ बहराइच : विशेष सचिव (समाज कल्याण)
17-घनश्याम मीणा (प्रतीक्षारत) : सीडीओ कुशीनगर 

Continue Reading

featured

कौन हैं बलिया के विंग कमांडर मनीष सिंह, जो राफेल उड़ाकर ला रहे हैं?

Published

on

बलिया : आज का दिन भारत के साथ साथ बलिया के लिए भी बेहद ख़ास है. दरअसल एक तरफ़ जहाँ आज फ़्रांस से भारत के लिए राफेल विमान ने उड़ान भरी तो दूसरी तरफ़ ख़ास बात यह है कि इन पाँच विमान में एक विमान उड़ा ला रहे हैं विंग कमांडर मनीष सिंह. आपको बता दें कि विंग कमांडर मनीष सिंह बलिया से ताल्लुक़ रखते हैं. वह बांसडीह तहसील के छोटे से गांव बकवां के रहने वाले हैं. वहीं मनीष सिंह के पिता मदन सिंह भी सेना से रिटायर हुए हैं. मनीष के राफेल उड़ाकर भारत लाए जाने से बकवा गांव में खुशी की लहर है। जिले के लोगों का सीना गर्व से चौड़ा हो गया है।

वायु सेना के पायलटों का जो दल फ्रांस से राफेल विमान ला रहा है, उसमें जिले के आर्मी से रिटायर मदन सिंह के बेटे विंग कमांडर मनीष सिंह भी शामिल हैं। मनीष के छोटे भाई अनीश सिंह ने बताया कि भैया आज यानी मंगलवार को अबुधाबी में थे तो उनसे हम लोगों ने कुशलक्षेम जानने के लिए बात की थी। उन्होंने बताया कि आज अबुधाबी से भारत के लिए उड़ने वाले हैं। अनीश ने बताया कि सैनिक स्कूल कुंजपुरा हरियाणा से शिक्षा लेने के बाद वायुसेना में मनीष का चयन एनडीए के जरिये हुआ था।

कौन हैं विंग कमांडर मनीष सिंह?

बांसडीह के बकवा गांव के रहने वाले  फौजी मदन सिंह के पुत्र मनीष सिंह अपने भाई बहनों में सबसे बड़े हैं। गांव की गलियों से निकल कर विंग कमांडर के पद तक पहुंचे मनीष की शुरुआती शिक्षा गांव के एक निजी स्कूल नूतन शिक्षा निकतन में हुई। छठवीं कक्षा तक गांव में पढ़ाई करने के बाद उनकी उच्च शिक्षा करनाल के कुंजपुरा स्थित सैनिक स्कूल से हुई, जहां इनके पिता सेना में सेवारत रहे।

वह 2003 में बतौर फ्लाइट लेफ्टिनेंट वायुसेना में भर्ती हुए थे। फिलहाल विंग कमाण्डर हैं। इससे पहले वह गोरखपुर में तैनात थे। उन्हें राफेल उड़ाने का प्रशिक्षण लेने के फ्रांस भेजा गया था। प्रशिक्षण पूरा होने के बाद राफेल को भारत लाने वाले दल में उनका चयन किया जाना पूरे परिवार के लिए गर्व की बात है। दो भाई और दो बहन में सबसे बड़े मनीष के राफेल उड़ाकर भारत लाए जाने से बकवा गांव में खुशी की लहर है। मनीष के पिता मदन सिंह को अपने बेटे पर गर्व है। गांव के समाजसेवी संतोष सिंह ने कहा कि पूरा गांव आने लाल के लिए फूले नहीं समा रहा है।

Continue Reading

Trending