Connect with us

बैरिया

बलिया – कोविड का टीका लगने के बाद बुजुर्ग की तबीयत बिगड़ी, लोगों का हंगामा

Published

on

बलिया : कोरोना का टीका लगवाने के बाद जिले के हल्दी थाना क्षेत्र के बलिहार गांव के रहने वाले एक वृद्ध की तबियत खराब हो गई। मंगलवार की सुबह तबीयत अधिक बिगड़ने पर परिजन न्यू पीएचसी गंगापुर ले गए। वहां चिकित्सकों के अभाव में परिजनों को घंटो परेशान होना पड़ा। जब इसकी जानकारी गांव के अन्य लोगों को हुई तो उन्होंने हंगामा करना शुरू कर दिया। इसकी सूचना मिलने के बाद सीएमओ ने सोनवानी सीएचसी के चिकित्सक को मौके पर भेजा, तब जाकर तीन घंटे बाद वृद्ध का इलाज हो सका।

आपको बता दे कि बलिहार गांव निवासी 60 वर्षीय युधिष्ठिर मिश्रा ने सोमवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गंगापुर पर कोरोना का टीका लगवाया था। टीका लगने के बाद से ही उनकी स्थिति बिगड़ने लगी। मंगलवार की सुबह ज्यादा तबीयत बिगड़ने पर परिजन न्यू प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गंगापुर ले गए, जहां चिकित्सक पहुंचे ही नहीं थे। जब काफी देर हो गई तो परिजनों और गांव के अन्य लोगों ने हंगामा शुरू किया। तभी वहां समाजसेवी अंगद मिश्रा पहुंचे। उन्होंने मामले की जानकारी सीएमओ को दी।

सीएमओ के निर्देश पर तीन घंटे बाद पहुंचे सीएचसी सोनवानी के चिकित्सक एम अहमद ने पीड़ित का उपचार किया। गांव के लोगों ने न्यू पीएचसी गंगापुर पर चिकित्सक न होने और साफ सफाई नहीं रहने को लेकर हंगामा भी मचाया। गांव वालों ने आरोप लगाया कि जब पीड़ित को न्यू पीएचसी गंगापुर पर ले जाया गया, तो वहां मौजूद वार्ड ब्वॉय ने कहा कि यहां कोई चिकित्सक नहीं है जिला मुख्यालय ले जाइए।

गांव के निवासी हनुमंत मिश्रा ने बताया कि जब लोगों ने हंगामा किया और अस्पताल के हाजिरी रजिस्टर पर डॉक्टर को अनुपस्थित करना चाहा तो अस्पताल के एक कर्मचारी ने उनके हाथ से रजिस्टर छीन लिया। चिकित्सक एम अहमद ने बताया कि युधिष्ठिर मिश्रा को कोरोना का टीका लगाया गया था। इसके बाद उन्हें बुखार आया था। उनका इलाज किया गया है। गौरतलब है कि अनुपस्थित फार्मासिस्ट विनोद कुमार का वेतन रोकने के लिए उच्चाधिकारियों को पत्र लिखा गया है और कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया है।

featured

बलिया- ऐसे में तो फिर खाली रह जाएंगे ग्राम पंचायत सदस्य के सैंकड़ो पद !

Published

on

बैरिया। पंचायत चुनाव को लेकर प्रशासनिक तैयारियां तेज चल रही हैं। वहीं, गांव देहात में उम्मीदवार भी पूरी ताकत झोंके हुए हैं। सबसे अधिक दावेदार प्रधानी व जिला पंचायत सदस्य के नजर आ रहे हैं। वहीं ग्राम पंचायत सदस्य के एक पद पर एक उम्मीदवार भी नजर नहीं आ रहे हैं। जिससे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में ग्राम पंचायत सदस्यों की कई सीटें खाली रह सकती हैं।

कारण कि इस पद की उम्मीदवारी को लेकर लोगों में उदासीनता है। बैरिया विकासखंड में अभी तक कुल 422 ग्राम पंचायत सदस्य पदों के सापेक्ष अब तक महज 302 नामांकन पत्र ही बिके हैं। जबकि कई पदों पर एक से अधिक नामांकन पत्र भी बिके हैं। अगर एक-एक नामांकन पत्र भी मानें तो अभी तक 120 पदों के लिए कोई नामांकन पत्र नहीं बिका है।

लोगों का कहना है कि पंचायत के संचालन में ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत अधिकारियों द्वारा ग्राम पंचायत सदस्यों को अहमियत न दिए जाने के चलते लोग ग्राम पंचायत सदस्य पद का चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं।

पिछले कई दिनों से ब्लॉक मुख्यालय पर नामांकन पत्रों की बिक्री में प्रधान के 30 पदों के लिए अब तक 466 नामांकन पत्र बिक चुके हैं, जबकि क्षेत्र पंचायत सदस्य के 73 पदों के लिए कुल 258 नामांकन पत्र बिका है। वहीं, ग्राम पंचायत सदस्य के कुल 422 पदों के सापेक्ष अब तक 302 नामांकन पत्र ही बिके हैं। हालांकि अभी चार दिन और नामांकन पत्र बिकेंगे।

 

Continue Reading

बैरिया

बलिया- गायघाट के प्रधान पद के प्रत्याशी मनोज सिंह को लेकर गांव के युवा उत्साहित !

Published

on

बलिया डेस्क: ग्राम सभा गायघाट के पिछले दस साल से गांव के जनता कि सेवा करने वाले तथा जनता के हर दुख सुख में साथ रहने वाले प्रधान पद के प्रत्याशी मनोज सिंह पिता का नाम स्वर्गीय चंद्रशेखर सिंह जो कि पूर्व प्रधान थे।

इस बार के चुनाव में भी मैदान में हैं। मनोज सिंह शिक्षित प्रत्याशी है। जिनकी शिक्षा प्रदेश के प्रसिद्ध विश्वविद्यालय इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से हुई हैं। इनके बारे में गांव के लोग भी खासकर युवा वर्ग बताते है कि मनोज सिंह गांव के पढे लिखे प्रत्याशी होने के साथ-साथ युवाओं का साथ देने वाले प्रत्याशी हैं।

एक वोटर ने तो, इनके बारे में यहा तक बताया कि मनोज सिंह गांव के ऐसे प्रत्याशी है जो बिना किसी पद के लोगों की सेवा कर रहे है जैसे- लोगों के लिये राशन की व्यवस्था सुनिश्चत करना, लाइट की समस्या की पूर्ति करना इत्यादि कामों को पुरा कर रहे हैं।

Continue Reading

बलिया स्पेशल

बलिया – वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के बाद भी फार्मासिस्ट निकला पॉजिटिव

Published

on

बलिया – बलिया में एक तरफ जहां कोरोना के मामले दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। तो वही, दूसरी तरफ वैक्सीन की दोनों डोज लगने के बाद भी लोग पॉजिटिव पाए जा रहे हैं।  बता दें कि रेवती सीएचसी के फार्मासिस्ट कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लेने के बाद भी एक फार्मासिस्ट पॉजिटिव पाया गया है। फार्मासिस्ट के पॉजिटिव आने के बाद अस्पताल व स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है।

खबर के मुताबिक सीएचसी में तैनात एसएन तिवारी के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद अस्पताल को 24 घंटे के लिए बंद कर दिया गया। इससे रोगियों को दिक्कत का सामना पड़ा। साथ ही टीकाकरण का कार्य भी नहीं हो सका। अस्पताल परिसर में रहने वाले कर्मचारी भी परिजनों के साथ कमरे के अंदर ही रहे। फार्मासिस्ट कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके हैं।

सीएचसी के अधीक्षक डा. धर्मेंद्र कुमार ने  बताया कि नगर पंचायत के सफाईकर्मी को बुलाकर सीएचसी परिसर को सेनेटाईज कराया। साथ ही कर्मचारियों को हिदायत दी कि निर्धारित अवधि में अस्पताल में प्रवेश न करें। कोरोना पॉजिटिव फार्मासिस्ट के अनुसार वे वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके हैं। उन्होंने यह भी दावा किया कि पॉजिटिव रिपोर्ट के बावजूद शारीरीक रूप से फीट हैं तथा किसी प्रकार की दिक्कत नहीं है। तीन दिन पहले रूटीन चेकअप के तहत सीएचसी के कर्मचारियों का सेम्पल जांच के लिए वाराणसी भेजा गया था। वहां से रिपोर्ट आने के बाद फार्मासिस्ट को होम आइसोलेशन में भेज दिया गया।

Continue Reading

TRENDING STORIES