Connect with us

featured

Exclusive- क्या इस बड़े अधिकारी की लापरवाही बनी सीएमओ की मौत की वजह?

Published

on

बलिया डेस्क : बलिया में तैनात सीएमओ डा. जितेंद्र पाल का सोमवार को लखनऊ के पीजीआई में कोरोना वायरस से निधन हो गया । दिवंगत सीएमओ बीते 29 दिसंबर को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, तभी से उनका लखनऊ पीजीआई में इलाज चल रहा था। लेकिन सोमवार की सुबह उनका निधन हो गया। सीएमओ के निधन से पूरे जिले में शोक की लहर है, लेकिन अब ऐसा घटनाक्रम सामने आया है जिसे सुनकर आपकी भी पैरों तले जमीन खिसक जाएगी।

सूत्र की मानें तो एनआरएचएम के एक अधिकारी बीते 25 दिसंबर को कोरोना पाजिटिव पाए गए थे, नियमत: उनको होम आइसोलेशन में रहना चाहिए था। लेकिन अधिकारी ने लापरवाही की पराकाष्ठा पार करते हुए अपने कार्यालय पर ही जमे रहे और रोजाना सीएमओ आफिस उनका आनाजाना लगा रहता था। इस बीच बीते 29दिसंबर को सीएमओ भी कोरोना पाजिटिव पाए गए थे और आज यानी सोमवार को उनका निधन हो गया। मामले का खुलासा कुछ यूं हुआ कि अधिकारी ने अपने अधीनस्थ पुष्पेंद्र को काम पर बुलाया था, जब पुष्पेंद्र कार्यालय नहीं पहुंचे तो अधिकारी ने उनके खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी किया, इसके जवाब में पुष्पेंद्र ने जो जवाब दिया वह वास्तव में चौंकाने वाला है।

पुष्पेंद्र ने क्या कहा लेटर में
पुष्पेंद्र ने मुख्य चिकित्साधिकारी को लिखे गए लेटर में साफ कहा है कि एनआरएचएम के अधिकारी विगत २५ दिसंबर को कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं। नियमत: उन्हें होम आइसोलेशन में रहना चाहिए, लेकिन उनके द्वारा सारे पाबंदियों का उल्लंघन किया गया है और वे कार्यालय में ही रह गए। मेरे द्वारा कई बार उनको एल-१ अस्पताल में भर्ती होने की सलाह भी दी गई है। लेकिन उन्होंने नहीं सुना। ऐसे में मैं काम पर नहीं गया।

क्या बोले जिलाधिकारी

इस सिलसिले में जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही से बात करने पर उन्होंने बताया कि ऐसा कुछ नहीं है। खैर डीएम है तो बात माननी ही पड़ेगी। लेकिन सवाल उठना लाजिमी है कि जब स्वास्थ्य महकमे का ही एक कर्मचारी इस तरह का पत्र सीएमओ को लिखता हैं और महकमे के एक अधिकारी कोरोना पाजिटिव है तो उनको होम आईसोलेशन में ही रहना चाहिए। हम इस पर दावा तो नहीं कर सकते कि सीएमओ को डीपीएम से कोरोना हुआ है, लेकिन इस बात से इंकार भी नहीं किया जा सकता!

रिपोर्ट – तिलक कुमार

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

featured

बलिया- भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह पर चेयरमैन प्रतिनिधि ने लगाया मंत्री का कार्यक्रम रद्द करवाने का आरोप

Published

on

बलिया डेस्क: बैरिया से भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह व भाजपा चेयरमैन के बीच आये दिन हो रहे विवाद से नगर पंचायत में हड़कम्प मचा हुआ है।

चेयरमैन प्रतिनिधि मंटन वर्मा ने क्षेत्रीय विधायक सुरेंद्र सिंह पर लगातार प्रताड़ित करने का लगाया आरोप लगाया है ।

चेयरमैन प्रतिनिधि मंटन वर्मा का आरोप है कि विधायक अपने रसूक का इस्तेमाल कर कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या के बैरिया दौरे को रद्द करवाने में लगे हुए हैं।

FFBB8206-9D2E-4E34-8F97-B0439B21173E

वही चर्चा है कि कार्यक्रम मे क्षेत्रीय विधायक को आमंत्रित नही किये जाने को लेकर उनकी नाराजगी बताई जा रही है। चेयरमैन प्रतिनिधि मंटन वर्मा ने ये भी आरोप लगाया कि विधायक के दबाव मे ही SDM बैरिया ने मंत्री के कार्यक्रम की अनुमति नही दी।

उन्होंने कहा कि  मामले की जानकारी उच्चाधिकारियों को देने के बाद डीएम ने कार्यक्रम की पुनः अनुमति दी है।

वहीं जब इस आरोप पर हमने विधायक सुरेंद्र सिंह का पक्ष जानने की कोशिश की तो उनका नम्बर बंद मिला।

बता दें कि चेयरमैन प्रतिनिधि के पिता संत शिव दयाल वर्मा के 9वी पुण्यतिथि कार्यक्रम मे कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या का बैरिया दौरा होना है।

Continue Reading

featured

बलिया- पूर्व भाजपा MLA ने अपनी ही सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, स्वास्थ्य व्यवस्था की खोली पोल !

Published

on

बलिया डेस्क : भाजपा के पूर्व विधायक राम इकबाल सिंह अपने बगावती तेवर को लेकर एक बार फिर चर्चा में हैं । योगी सरकार एक तरफ स्वास्थ्य व्यवस्था के सुदृढ होने का दावा कर रही है तो दूसरी तरफ पूर्व विधायक ने आज जिले में पैदल मार्च कर स्वास्थ्य व्यवस्था की कलई खोली । पूर्व भाजपा विधायक के इस कदम से उनके राजनैतिक भविष्य को लेकर चर्चा तेज हो गई है।

भाजपा के पूर्व विधायक राम इकबाल सिंह एक बार फिर चर्चा में हैं । उन्होंने आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र दुबहड़ से बलिया तक पैदल मार्च किया। उन्होंने इस मौके पर स्वास्थ्य महकमे को जमकर आड़े हाथों लिया । उन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस का भावपूर्ण स्मरण करते हुए कहा कि नेता जी ने देश में सुराज लाने के लिए ”तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा” का नारा बुलंद किया था।

उन्होंने रणभेरी बजाते हुए कहा कि उन्होंने भी महान पुरुषों से प्रेरणा लेकर जनपद की बीमार स्वास्थ्य सेवाओं को दुरुस्त कराने का संकल्प लिया है। उन्होंने कहा कि सरकारी चिकित्सक प्राइवेट प्रैक्टिस कर मरीजों का आर्थिक शोषण कर रहे हैं तथा मोटी कमीशन के चक्कर में उन्हें वाराणसी व मऊ आदि जगहों पर रेफर कर रहे हैं। इसके कारण अधिकाधिक रोगियों की मृत्यु हो जाती है।

उन्होंने जिले की स्वास्थ्य दुर्व्यवस्था का उल्लेख करते हुए कहा कि सरकारी चिकित्सालय में एंटी रेबीज, एंटी स्नेक इंजेक्शन तथा दवाओं सहित डॉक्टरों का घोर अभाव रहता है। जनपद में एनआरएचएम योजना के धन की जमकर लूट खसोट की जा रही है। इस योजना के तहत प्राथमिक विद्यालय के बच्चों, आंगनबाड़ी केंद्रों के बच्चों के स्वास्थ्य परीक्षण एवं इलाज के लिए लगाए गए वाहनों एवं चिकित्सकों का धरातल पर कोई अस्तित्व नही है। बलिया में स्वास्थ्य विभाग में संचालित योजनाएं भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई हैं। योगी सरकार एक तरफ स्वास्थ्य व्यवस्था के सुदृढ होने का दावा कर रही है तो दूसरी तरफ पूर्व विधायक का यह तेवर चर्चा का विषय बना हुआ है ।

पूर्व विधायक राम इकबाल सिंह जिला प्रशासन की कार्यप्रणाली को लेकर भी पहले बेहद मुखर रहे हैं । इनके तेवर को भाजपा के साथ बगावत के साथ जोड़कर देखा जा रहा है । भाजपा विधायक के इस तेवर से उनके राजनैतिक भविष्य को लेकर चर्चा तेज हो गई है ।

रिपोर्ट- अनूप कुमार हेमकर

Continue Reading

featured

बलिया- विवाद के बाद SDM ने लगाई मूर्ति अनावरण पर रोक, बतौर मुख्य अतिथि कैबिनेट मंत्री को होना था शामिल !

Published

on

बलिया डेस्क : बैरिया में खाकी बाबा के मठिया की ज़मीन पर पूर्व प्रधान स्वर्गीय शिवदयाल वर्मा की मूर्ति अनावरण का विरोध शुरु हो गया है। इलाके के लोगों ने सरकारी ज़मीन पर मूर्ति अनावरण पर आपत्ति दर्ज की है। जिसके बाद उपज़िलाधिकारी ने इसपर रोक लगा दी है।
उप जिलाधिकारी बैरिया प्रशांत कुमार नायक ने शासन एवं ज़िलाधिकारी को मूर्ति अनावरण पर रोक लगाने की लिखित सूचना भी भेजी है। उन्होंने कहा कि ये ज़मीन धार्मिक है, इसपर बिना अनुमति के राजनीतिक व्यक्ति की मूर्ति लगाया जाना उचित नहीं है। इस वजह से इस कार्यक्रम पर रोक लगाई जा रही है।

उन्होंने कहा कि इसकी सूचना जिलाधिकारी के माध्यम से शासन को दे दी गई है। दरअसल, 25 जनवरी को पूर्व प्रधान स्वर्गीय शिवदयाल वर्मा की मूर्ति अनावरण का कार्यक्रम रखा गया था। ये कार्यक्रम शिवदयाल वर्मा की पत्नी नगर पंचायत अध्यक्ष शांति देवी ने रखा था। उन्होंने इस संबंध में प्रशासन को पत्र लिखकर अनुमति भा मांगी थी। लेकिन मूर्ति अनावरण के बारे में जब इलाके के लोगों को पता चला तो उन्होंने इसका विरोध करना शुरु कर दिया और प्रशासन से इसे रोके जाने की मांग की।

जिसके बाद उप जिलाधिकारी प्रशांत कुमार नायक ने लोगों के विरोध को देखते हुए इसपर रोक लगाने का फैसला किया। उन्होंने कहा कि ये ज़मीन धार्मिक होने के साथ ही विवादित भी है और इसपर न्यायालय में मामला भी विचाराधीन है। इसलिए इस ज़मीन पर किसी राजनीतिक व्यक्ति की मूर्ति स्थापित करना उचित नहीं है।  इस मामले को लेकर उत्तर-प्रदेश की आरटीआई कार्यकर्ता और आईपीएस अमिताभ ठाकुर की पत्नी नूतन ठाकुर ने ट्विटर पर एक ऑडियो भी शेयर किया है।

उन्होंने बलिया प्रशासन से मामले की जांच कर सरकारी ज़मीन पर अवैध कब्ज़े को तत्काल रुकवाने की मांग भी की थी।  ऑडियो में बैरिया का रहने वाला रवि कुमार सिंह नाम का एक शख़्स मामले की जानकारी देता हुआ सुनाई दे रहा है। रवि कहते हैं कि पूर्व प्रधान स्वर्गीय शिवदयाल वर्मा का बेटा शिवकुमार मंटन सरकारी ज़मीन पर जबरन मूर्ती लगा रहा है।

जिसका उद्घाटन कैबिनेट मंत्री 25 जनवरी को करेंगे।  उन्होंने बताया कि इस संबंध में वह और इलाके के लोग प्रशासन से शिकायत कर चुके हैं। लेकिन अभी तक प्रशासन ने इसपर कोई कार्रवाई नहीं की है, क्योंकि शिवदयाल वर्मा की पत्नी शांति देवी बीजेपी की नेता हैं।
रवि ने ये आरोप प्रशासन के मूर्ति अनावरण पर रोक के आदेश से पहले लगाए थे। उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि शांति देवी जिनकी मूर्ति लगाना चाहती हैं, उनके ख़िलाफ़ कई आपराधिक मामले दर्ज हैं, जिसके चलते उन्हें ज़िला बदर किया गया था। साथ ही उनपर मूर्ति चोरी का मुकदमा भी दर्ज है।

Continue Reading

TRENDING STORIES