Connect with us

featured

बलिया- नौकरी से बर्खा’स्त हुए PCS अधिकारी श्याम बाबू का आया पहला बड़ा बयान!

Published

on

बलिया डेस्क : जाति प्रमाण पत्र को लेकर नौकरी से निष्कासित हुए एसडीएम श्याम बाबू का अब पहली बार इस मामले में बयान आया है. उन्होंने कहा है कि सत्य को परेशान किया का सकता है लेकिन पराजित नहीं किया का सकता है. सिपाही से पीसीएस अधिकारी बने श्याम बाबू ने कहा है कि उन्होंने 15 साल पुलिस विभाग में नौकरी की. इसी वर्ग के साथ.

ऐसे में अब मेरी जाति कैसे बदल सकती है. उन्होंने आगे कहा है कि जाति व्यवसाय को देखकर निर्धारित नही की जा सकती है. उन्होंने कहा कि जाति अभिलेख से निर्धारित की जाती है. उन्होंने आगे कहा कि तत्कालीन ज़िलाधिकारी ने उनकी पड़ताल की थी. बाद इसके उनकी तैनाती की गई थी. उन्होंने आगे कहा कि उनकी सफलता कुछ लोगों को रास नहीं आ रही है. इसलिए उनकी जाति पर सवाल किया जा रहा है.

बता दें की बैरिया के इब्राहिमाबाद उपरवार इलाके के रहने वाले श्याम बाबू 2016 के पी सी एस एग्जाम में पास होकर चर्चा में आये थे. दिलचस्प बात यह थी कि श्याम बाबू उस वक़्त प्रयागराज में सिपासी के पद पर तैनात थे. पीसीएस एग्जाम में श्याम बाबू ने अनुसूचित जनजाति (एसटी) का प्रमाण पत्र लगाया था.

श्याम बाबू ने एसटी का प्रमाण पत्र लगाकर खुद को गोंड जाति का बताया था. लेकिन इसके बाद मूल आदिवासी जनजाति कल्याण संस्था गोरखपुर के अध्यक्ष विजय बहादुर चौधरी की तरफ से अपील की गयी कि श्याम बाबू के जाति प्रमाण पत्र सत्यापन किया जाए. शिकायतकर्ता का कहना था कि श्याम बाबू ने अपने जाति प्रमाण पत्र में हेरा फेरी की है.

 

featured

बलिया के नवागत एसपी विपिन टाडा ने संभाला चार्ज !

Published

on

बलिया डेस्क :  बलिया में आए नवागत एसपी विपिन टाडा ने शुक्रवार को देर शाम कार्यभार ग्रहण कर लिया। कार्यभार ग्रहण करने के बाद वे अपने आवास पहुंचे। उनके कार्यभार ग्रहण करने के संबंध में जब आवास के कर्मचारियों से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि साहब कार्यभार ग्रहण कर अंदर चले गए हैं। उन्होंने कार्यभार ग्रहण करने के अलावा किसी से कोई बात नहीं की है।

नवागत पुलिस अधीक्षक के आगमन को लेकर जिले की पुलिसिंग बृहस्पतिवार से ही काफी सतर्क और एक्शन मोड में नजर आ रही थी। शुक्रवार को भी पूरे दिन शहर में महकमे के लोग इसी प्रयास में लगे रहे कि साहब के आगमन से पूर्व कुछ भी ऐसा घटित न हो, जिससे उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़े।

बता दें की 2012 बैच के आईपीएस अधिकारी विपिन टाडा मूल रूप से जोधपुर के राजस्थान के रहने वाले हैं। विपिन टाडा  ने एमबीबीएस की पढ़ाई की है। पिता मच्छी राम पेशे से वकील हैं। इसके अलावा वह मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और पूर्व मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री सतपाल सिंह के दमाद हैं।

 

 

Continue Reading

featured

बलिया के 2 बच्चों की रहस्यमयी मौत, 5 अस्पताल में भर्ती, घर वालों और डॉक्टर के अलग-अलग बयान !

Published

on

बलिया डेस्क :  नरहीं थाना क्षेत्र के स्थानीय गांव में कल देर रात दो बालिकाओं की मृत्यु हो गई जबकि 5 बच्चे बलिया के एक निजी अस्पताल में भर्ती हैं । दुखद घटना क्रम में महिमा (7 वर्ष) पिता बालेश्वर प्रजापति (बलिया सदर अस्पताल में मृत्यु हुई) और प्रिया राय (14 वर्ष) पुत्री प्रशान्त कुमार राय (बलिया सदर अस्पताल से इलाज के लिए मऊ जाते समय रास्ते में दम तोड़ दिया।

चिकित्सक के बयान के मुताबिक दोनों बच्चियों की मौत फूड प्वाइजनिंग से हुई है। जबकि मृतका के घर वालों का कहना है कि नहीं मेरी बच्चियों की आम मौत है और आनन-फानन में दाह संस्कार भी कर दिए। ऐसे में सवाल यह उठता है कि नाबालिग की मौत की वजह डाक्टर के मुताबिक फूड प्वाइजनिंग या फिर मौत की पीछे कुछ रहस्य है, जिसे घर वाले छिपाना चाह रहे हैं!
ज्ञात हो कि विनोद पांडेय के पुत्र रिशु (8 वर्ष) पुत्री रिया व रिद्धि , अरुण पांडेय के चार वर्षीय पुत्र आयुष पांडेय, धनंजय पांडेय के पुत्र 6 वर्षीय पुत्र राज पांडेय का उपचार बलिया के एक निजी अस्पताल में चल रहा है । ग्रामीणों का कहना है कि बच्चे गांव में मगई नदी के किनारे लगने वाले मेले में बुधवार की शाम गए थे ।

बृहस्पतिवार की सुबह से बारी बारी बच्चे पेट दर्द की शिकायत करने लगे और उल्टियां होने लगीं । बच्चों के परिवार वाले सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नरहीं ले गए । जहाँ बच्चों की नाजुक हालत को देखते हुए चिकित्सकों नेजिला चिकित्सालय बलिया के लिए रेफर कर दिया गया । जहाँ देर रात जिला चिकित्सालय मेंमहिमा की मृत्यु हो गई जबकि मऊ जाते समय प्रिया ने भी रास्ते में दम तोड़ दिया।

इन सबको प्राथमिक उपचार के बाद छोड़ दिया गया
नरहीं के ही निवासी कन्हैया पांडेय के पुत्र आदित्य पांडेय व पुत्री सप्तसती पांडेय को भी पेट दर्द व उल्टी की शिकायत के बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नरहीं पर दिखाया गया जहां प्राथमिक उपचार के बाद छोड़ दिया।

क्या बोले नरहीं एसओ

एसओ ज्ञानेश्वर मिश्र के मुताबिक उन्हें इस मामले की प्रेस से ही जानकारी हुई है, हमारे पास किसी प्रकार पीडि़त की तरफ से संपर्क नहीं साधा गया, इसबीच दो बच्चियों की मौत के बाद से ही पुलिस खुद ही छानबीन में लगी हुई है।

क्या बोले सीएचसी अधीक्षक

डा. साकेत बिहार शर्मा  ने कहा कि मेरे यहां जांच में फूड प्वाइजनिंग पाई गई है। बच्चों की हालत नाजुक होने पर जिला अस्पताल उन्हें रेफर किया गया।

Continue Reading

featured

UP MLC Election Result: वाराणसी में सपा ने मारी बाजी

Published

on

उत्तर प्रदेश की 11 विधान परिषद सीटों पर चुनाव हुए थे, जिसके नतीजे गुरुवार को घोषित किए गए. . उत्तर प्रदेश में जहां सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की साख दांव पर थी तो वहीं सपा और कांग्रेस की यह पहली अग्निपरीक्षा रही.

वाराणसी स्नातक शिक्षक खंड से सपा समर्थित प्रत्याशी लाल बिहारी यादव ने बाजी मारी है. वहीं, बरेली से बीजेपी के हरि सिंह ढिल्लो ने जीत हासिल की है. वह 12 हजार 827 वोटों से विजयी रहे.

विधान परिषद में संख्या बढ़ाने पर था बीजेपी का जोर

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ बीजेपी के लिए यह चुनाव इसलिए अहम रहा क्योंकि वह विधान परिषद में भी संख्या बल बढ़ाना चाहती है. यही वजह है कि भाजपा ने स्नातक निर्वाचन खंड की सभी पांच सीटों से और शिक्षक निर्वाचन खंड की छह में से चार सीटों पर सीधे तौर पर अपने प्रत्याशी उतारे.

स्नातक निर्वाचन खंड की एक सीट पर बीजेपी ने शिक्षक संघ के प्रत्याशी को समर्थन दिया तो एक अन्य सीट को छोड़ दिया. वहीं, सपा ने तो सभी 11 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे.

 

Continue Reading

Trending