इसरो में तैनात बलिया के होनहार ने बारात में अनाथ बच्चों को बुला पेश की मिसाल, बना चर्चा का विषय

BALLIA SPECIAL

बलिया के एक होनहार युवक ने अपनी शादी में अनाथ एवं दिव्यांग बच्चों को शामिल कर एक मिसाल पेश की है। इसके साथ ही युवक ने नेत्रदान का संकल्प लेने के साथ ही दहेज लोभियों को आईना भी दिखाया है।

बलिया के रतसड़ क्षेत्र के जनऊपुर निवासी तपन पांडेय भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र इसरो में प्रशासनिक सहायक के पद पर तैनात हैं। तपन की शनिवार को शादी हुई लेकिन उनकी बारात में शाही गाड़ियां एवं शाही लोग शामिल नहीं थे।

उन्होंने अनाथ एवं दिव्यांग बच्चों को शामिल किया और उनके साथ खुशियां बांटीं। उनका कहना है कि ये भी समाज के अभिन्न अंग हैं। तपन की शादी इब्राहिम पट्टी निवासी सुधीर मिश्रा की पुत्री अंजली मिश्रा से हुई।

उन्होंने सिंदूर दान के समय बीएचयू के डॉक्टरों एवं पंडितों के समक्ष नेत्रदान का संकल्प लिया। सुबह विदाई के वक्त तपन को पत्नी के साथ दहेज में केवल 5 पौधे मिले, जो इनकी हार्दिक इच्छा थी।

दहेज लोभियों के लिए यह एक आईना है। इस कार्य से गांव के लोग एवं लड़की के माता-पिता सभी अति प्रसन्न हैं। तपन के पिता डॉक्टर ओंकार नाथ पांडे एवं माता शारदा पांडे का कहना है कि उनके इकलौते पुत्र ने समाज में एक मिसाल कायम की और ऐसे पुत्र पर हर माता-पिता नाज करेगा, जिसने अपनी शादी के माध्यम से समाज को अनूठा संदेश दिया।

तपन पांडे की प्रारंभिक शिक्षा मऊ जनपद में हुई। उनके पिता डॉक्टर ओंकार नाथ पांडे गाजीपुर में चीफ फार्मासिस्ट के पद पर कार्यरत थे और इनकी माता शारदा पांडे महिला समाख्या अधिकारी के पद पर गोरखपुर में तैनात थीं।

तपन ने हाईस्कूल की परीक्षा में मऊ में तीसरा स्थान प्राप्त किया एवं इंटरमीडिएट की परीक्षा में भी तीसरा स्थान हासिल किया। ग्रेजुएशन बीएचयू से करने के बाद 2015 में इसरो की परीक्षा उत्तीर्ण की।

उनका चयन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (इसरो) में प्रशासनिक पद पर हुआ। उन्होंने इसके पहले एयरफोर्स की नौकरी छोड़ दी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *