सादगी और शालीनता की प्रतिमूर्ति सोमनाथ चटर्जी: रविशंकर

0

बलिया।
जनपद के शेखर फाउंडेशन के तत्वावधान में सोमवार को चंद्रशेखर उद्घान में चौदहवीं लोकसभा के अध्यक्ष व पश्चिमी बंगाल से दस बार सांसद व भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के वरिष्ठ नेता व सांसद रह चुके सोमनाथ चटर्जी की 89 वर्ष की उम्र मे निधन हो गया। जिससे जनपद में शोक की लहर दौड़ गयी। उनके निधन की खबर जैसे ही शेखर फांउडेशन के सदस्यों ने एक शोक सभा आयोजित कर श्रद्धांजलि अर्पित की।

शोक सभा को संबोधित करते हुए सदस्य विधान परिषद् रविशंकर सिंह पप्पू ने कहा कि दस बार सांसद रहे पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी का जाना भारतीय राजनीति से महान व्यक्तित्व का जाना है। वामपंथी पार्टियों में लोकतंत्र की मशाल थे। सोमनाथ चटर्जी । यूपीए सरकार से वामपंथी दलों की समर्थन वापसी में पोलित व्यूरो ने सोमनाथ चटर्जी को भी लोकसभा अध्यक्ष से इस्तीफ़ा देने को कहा । सोमनाथ चटर्जी ने इस्तीफ़ा देने से साफ़ इंकार करते हुए कहा कि लोकसभा अध्यक्ष का पद दलगत राजनीति से ऊपर है। पार्टी ने उन्हें अनुशासनहीनता के आरोप में पार्टी से दिया। वह अपने फैसले पर अडिग रहे । सादगी और शालीनता की प्रतिमूर्ति सोमनाथ चटर्जी अपनी सादगी , साफ-सुथरी राजनीति और लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए सर्वदा याद किए जाते रहेंगे।
वे पूर्व प्रधानम़़ंत्री चन्द्रशेखर के व्यक्तिगत मित्र थे। आप से हम सभी को बहुत कुछ सिखने को मिलता था। आज एेसा लगता है कि कोई बहुत अपना छोड़ कर चला गया।

इस मौके पर बेरूआरबारी के पूर्व ब्लाक प्रमुख अनिल सिंह ने कहा कि सोमनाथ दा का जाना बहुत बड़ी छति है। जिसकी भरपाई मुश्किल है। कार्यक्रम में मुख्य रूप से अनिरूद्य सिंह, मनोज सिंह, आलोक सिंह झुनझुन, जितेन्द्र सिंह, अमित सिंह बघेल, विनोद सिंह, पिकू सिंह, सुरेन्द्र कन्नोजिया, करण सरावगी, शिवमंगल सिंह आदि उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here