बलिया- पहले हुआ था विवाद फिर की दोस्ती उसके बाद हुई हत्या

BALLIA SPECIAL

बलिया : शहर से सटे गंगा किनारे दियारे में सरसों के खेत में मिले युवक मनीष कुमार के मिले कंकाल ने कई सवाल खड़ा कर दिए हैं। इस पूरे घटनाक्रम पर नजर दौड़ाएं तो मनीष से चार युवकों का विवाद होता है। इसके बाद ये युवक उससे दोस्ती करते हैं। फिर उसे एक सुनसान इलाके में ले जाकर मौत के घाट उतार देते हैं। मनबढ़ों की इस करतूस से पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गई। मौके से युवक का केवल कंकाल व उसका कपड़ा ही मिला। 13 फरवरी से लापता इस युवक की तलाश में परिवार वालों ने काफी तलाश की लेकिन कोई सफलता नहीं मिल सकी। मंगलवार को जब पुलिस ने इसे गंभीरता से लिया तो मामला बड़ा निकला। यह घटना मनीष के परिवार पर कहर बन कर टूटी है। उसकी मां राजकुमारी देवी का रो रोकर बुरा हाल हो गया है। वहीं उसके पिता लाल जी बेसुध हो गए। मनीष अपने छह भाइयों में सबसे बड़ा था। पिता कपड़े की दुकान चलाकर किसी तरह से परिवार का भरण पोषण करते हैं। यह उनकी दुकान में भी सहयोग करता था। यह सब कैसे हुआ परिवार वाले समझ नहीं पा रहे हैं

मनीष की मौत से परिवार पूरी तरह से टूट गया है। मामूली बात को लेकर इतनी बड़ी घटना हो जाएगी इसकी भनक तनिक भी किसी को नहीं थी। इधर सदर कोतवाली पुलिस ने मृतक की मां राजकुमारी देवी की तहरीर पर छह लोगों पर मुकदमा कायम कर लिया है। साथ ही पुलिस जांच में जुट गई है। तहरीर में दर्शाया गया है कि आरोपियों से पहले मनमुटाव था, इधर दोस्ती कर घटना को अंजाम दिया गया। कोतवाल शशिमौलि पांडेय ने बताया कि मामले में मुकदमा कायम कर लिया गया है। आरोपियों की गिरफ्तारी का प्रयास तेज हो गया है। इसके लिए पुलिस टीम गठित की गई है। जल्द ही आरोपी सलाखों के पीछे होंगे।

शहर के जापलिनगंज निवासी मनीष की मौत ने कई सवाल खड़े कर दिए है। 13 जनवरी को लापता होने पर परिवार के सदस्यों ने दो दिन बाद ही इसकी सूचना पुलिस को दी थी। पुलिस ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। अंतत: बेटे की आने की आस छोड़ व पुलिस अधीक्षक के दरबार में पहुंच गए। उनके निर्देश पर कोतवाली में गुमशुदगी का मुकदमा कायम कर लिया गया। इसके बाद भी पुलिस इस पर गंभीर नहीं हुई। 17 जनवरी को मनीष के परिवार वालों ने हत्या की आशंका जताते हुए कुछ उसके साथ रहने वालों का नाम बताया। पुलिस जब उनमें से कुछ को पकड़ा तो मनीष के मौत का राज खुला। अगर पुलिस ने शुरू में ही इसे गंभीरता से लिया होता तो शायद पहले ही घटना का पता लग जाता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *