बलिया- रेलवे कर्मचारी की पीट-पीट हत्या

BALLIA SPECIAL

स्थानीय रेलवे स्टेशन से सटे पश्चिम करीब 100 मीटर की दूरी पर स्थित चित्तू पांडेय चौराहा रेलवे क्रासिंग के केबिनमैन की कुछ लोगों ने लोहे की राड से पीटकर हत्या कर दी। घटना से परिजनों ही नहीं बल्कि रेलकर्मियों में भी काफी आक्रोश है। कर्मचारियों व परिजनों ने जिला अस्पताल में जमकर हंगामा किया। रेलवे पुलिस की लापरवाही को लेकर भी लोगों में खासा गुस्सा था। फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है। देवरिया जिले के भटनी थाना क्षेत्र के शकरापुर निवासी 40 वर्षीय शैलेश तिवारी करीब दो साल से स्थानीय रेलवे स्टेशन पर तैनात थे। मंगलवार की रात आठ बजे से उनकी ड्यूटी स्टेशन के पश्चिमी रेलवे क्रासिंग पर लगी हुई थी। बताया जाता है कि रात करीब 9.25 बजे अप पवन एक्सप्रेस के गुजरने वाली थी, लिहाजा गेट बंद था। इसी बीच पहुंचा एक युवक बंद गेट को खोलने के लिये शैलेश पर दबाव बनाने लगा। उन्होंने युवक को नियमों का हवाला देते हुए यह भी कहा कि बंद गेट को खोलना उनके बस की बात नहीं होती क्योंकि यह गेट इंटरलाकिंग सिस्टम से जुड़ा हुआ है। कहासुनी के बाद युवक चला गया और ट्रेन गुजरने के बाद शैलेश भी केबिन में कुर्सी पर बैठकर लिखा-पढ़ी करने लगे। बताया जाता है कि इसी बीच आधा दर्जन की संख्या में पहुंचे लोगों ने शैलेश के उपर अचानक हमला बोल दिया। उनके सिर पर लोहे के राड व धारदार हथियार से वार कर घायल करने के बाद फरार हो गये। इसी बीच, रात करीब 9.42 बजे छपरा-लखनऊ एक्सप्रेस रेलवे स्टेशन पर पहुंच गयी। निर्धारित समय तक रुकने के बाद गाड़ी के खुलने का समय हुआ तो स्टेशन मास्टर राजू राय केबिनमैन को गेट बंद करने के लिये सम्पर्क करने लगे। काफी प्रयास के बाद जब फोन नहीं उठा तो वह कुछ लोगों के साथ केबिन पर पहुंचे तो शैलेश कुर्सी पर पूरी तरह लहुलुहान होकर पड़े थे। रेलकर्मियों ने तत्काल उन्हें जिला अस्पताल पहुंचाया जहां के डॉक्टरों ने प्राथमिक इलाज के बाद वाराणसी रेफर कर दिया। एम्बुलेंस की व्यवस्था कर घायल रेलकर्मी को वाराणसी ले जाया जा रहा था, तभी रास्ते में औड़िहार के पास उनकी मौत हो गयी। इसकी सूचना मिलने के बाद परिवार में कोहराम मच गया तथा रेलकर्मियों में नाराजगी फैल गयी। मृतक की पत्नी की तहरीर पर जीआरपी ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया है। आसपास के ही रहने वाले हैं हत्यारे केबिनमैन शैलेश तिवारी की हत्या करने वाले आसपास के ही लोग हैं। रेलकर्मियों का कहना है कि पवन एक्सप्रेस के गुजरने के दौरान युवक से कहासुनी हुई। इसके बाद वह चला गया, लिहाजा रेलकर्मी भी सामान्य होकर काम में व्यस्त हो गये। हालांकि चंद देर बाद ही उसके साथ कई और लोग पहुंच गये। इससे सम्भावना व्यक्त की जा रही है कि जिस युवक से विवाद हुआ था वह आसपास का ही रहने वाला है। यही कारण है कि कुछ देर में ही वह अन्य लोगों के साथ पहुंचकर शैलेश पर अचानक हमला बोल दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *