Connect with us

featured

शिक्षक भर्ती घोटाला – एक ही पैन नंबर पर बलिया में इतने शिक्षक ले रहे सैलरी

Published

on

बलिया डेस्क :  सूबे में अनियमित एवं नियम विरुद्ध तरीके से बेसिक शिक्षा महकमे में फर्जी रूप से नियुक्त शिक्षकों के मामले में नया खुलासा हुआ है । सूबे में 192 ऐसे प्रकरण मिले हैं , जिसमें एक ही नाम व पैन नंबर की दो अलग अलग इंट्री विभिन्न जनपदों की फ़ाइल में सम्मिलित है , परन्तु खाता संख्या भिन्न है । इसी तरह 24 प्रकरण ऐसे हैं , जिसमें एक ही बैंक खाता नम्बर दो भिन्न शिक्षकों के सम्मुख अंकित है ।

पत्र को लेकर मचा हड़कंप

महानिदेशक, स्कूल शिक्षा के एक पत्र को लेकर बेसिक शिक्षा महकमा में हड़कंप मचा हुआ है । महानिदेशक ने गत 26 जून को सूबे के बेसिक शिक्षा अधिकारी को एक पत्र प्रेषित किया है । महानिदेशक ने अपने पत्र में जानकारी दी है कि प्रदेश शासन द्वारा फर्जी शिक्षकों के सम्बंध में जिला स्तरीय समिति के स्तर से जांच गतिमान है । इसके अलावा एस आई टी द्वारा भी जांच की जा रही है । विभाग द्वारा मानव सम्पदा पोर्टल के माध्यम से शिक्षकों की सेवा सम्बन्धी विवरण व अभिलेखों का डिजिटलीकरण किया जा रहा है ।

महानिदेशक विजय किरन आनन्द द्वारा प्रेषित पत्र में स्पष्ट किया गया है कि माह मई 2020 के वेतन भुगतान के परीक्षण से सूबे में 192 ऐसे प्रकरण संज्ञान में आया है, जिसमें एक ही नाम व पैन नंबर की दो अलग अलग इंट्री विभिन्न जनपदों की फ़ाइल में सम्मिलित है, परन्तु खाता संख्या भिन्न है । इसी तरह 24 प्रकरण ऐसे हैं, जिसमें एक ही बैंक खाता नम्बर दो भिन्न शिक्षकों के सम्मुख अंकित है । महानिदेशक आनन्द ने तत्काल सत्यापन कर दो दिन में आख्या तलब किया है ।

कार्यालय में उपस्थित होने का निर्देश दिया

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी शिवनारायण सिंह ने गत 27 जून को जिले के समस्त खण्ड शिक्षा अधिकारी को पत्र लिखकर स्पष्ट किया है कि महानिदेशक की सूची में जनपद के 11 शिक्षकों का नाम है । उन्होंने 11 शिक्षकों के शैक्षिक, प्रशिक्षण, जाति, निवास प्रमाण पत्र, आधार कार्ड व पैन कार्ड के साथ सेवा पुस्तिका व सम्बंधित पत्रावली सहित उनके कार्यालय में उपस्थित होने का निर्देश दिया है ।

इन लोगों का नाम शामिल

सूची में शिक्षा क्षेत्र रेवती की गर्ल्स अपर प्राइमरी स्कूल सहतवार की एकता सिंह, नगरा अपर प्राइमरी स्कूल के अब्दुल भरसारी स्कूल के हमीद अंसारी, चिलकहर के प्राथमिक विद्यालय वसंत पांडे के पूरा के रमाकांत यादव, गढ़वाल ब्लॉक के 3 शिक्षक उच्च प्राथमिक विद्यालय इक्वारी के हरिहर प्रसाद यादव, प्राथमिक विद्यालय कोपवा बहादुरपुर के गौतम गुप्ता तथा प्राथमिक विद्यालय सारे नंबर 1 के महात्मा यादव, सीयर के प्राथमिक विद्यालय गौरव कुशवाहा के संगीता यादव, बेलहरी के उच्च प्राथमिक विद्यालय बजरहा के अजय कुमार पांडे, गरवार के प्राथमिक विद्यालय बहादुरपुर के गौतम गुप्ता रसड़ा के प्राथमिक विद्यालय खीरा पुलीकेसी बचन सिंह शिक्षा से दुकान के उच्च प्राथमिक विद्यालय बसंतपुर के गुलाब से शिक्षा से हनुमानगंज के प्राथमिक विद्यालय बहादुरपुर की श्याम दुलारी का नाम शामिल है। शासन की इस कार्रवाई से शिक्षकों में हड़कंप की स्थिति है।

रिपोर्ट- अनूप कुमार हेमकर 

featured

बलिया : पैसे के लेन-देन पर दुकानदार की पीट-पीटकर हत्या

Published

on

बलिया के सिकंदरपुर में  पीट-पीटकर हत्या का मामला सामने आया है। खबर के मुताबिक पैसे के लेन-देन को लेकर हुए विवाद के बाद नगर के गंधी मुहल्ला में सोमवार की सुबह अंडा विक्रेता की पीट-पीटकर हत्या कर दी। उसका पुत्र तौहिद के साथ ही दूसरे पक्ष के दो अन्य गंभीर रूप से घायल हो गये। सूचना पर पहुंचे सीओ पवन सिंह, चौकी इंचार्ज अमरजीत यादव, थानाध्यक्ष बालमुकुंद मिश्र घायलों को सीएचसी पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने मुर्शीद के मौत के पुष्टि की। मृतक के पुत्र ने छह लोगों के विरूद्ध तहरीर दी है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। घटना के बाद मुहल्ले के लोगों में आक्रोश को देखते हुए मौके पर पुलिस व पीएसी तैनात की गयी है।

नगर के गंधी मुहल्ला निवासी 46 वर्षीय मुर्शीद मुहल्ले में अंडा का दुकान चलाता था। बकरीद के दिन मुर्शीद से उसका पड़ोसी डब्लू ने शराब पीने के लिए पैसा मांगा। जब उसने देने से इनकार किया तो इस पर दोनों में विवाद हुआ था। उस समय पुलिस ने मामला शांत करा दिया था। इस बीच, सोमवार की सुबह करीब छह बजे मुर्शीद ने दुकान खोला। उसके साथ उसका पुत्र तौहिद भी था। बताया जाता है कि इसी बीच करीब नौ बजे उसका पड़ोसी डब्लू पांच-छह लोगों के साथ दुकान पर पहुंचा तथा मुर्शीद व उसके पुत्र के साथ मारपीट करने लगे। गंभीर चोट लगने से मुर्शीद की मौके पर मौत हो गयी, जबकि चार अन्य घायल हो गये। घायलों में एक पक्ष से 20 वर्षीय जाहिद,19 वर्षीय सोनू, 18 वर्षीय तौहीद उर्फ पप्पू शामिल हैं। सूचना पर पहुंची पुलिस ने सभी को सीएचसी पहुंचाया, जहां मुर्शीद को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया, जबकि तीन लोगों का उपचार कर घर भेज दिया। पुलिस सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। हालांकि समाचार लिखे जाने तक किसी के गिरफ्तार होने की बात पुलिस नहीं बता रही है।

 

Continue Reading

featured

बलिया में तैनात संयुक्त मजिट्रेट विपिन कुमार जैन, अन्नपूर्णा गर्ग का तबादला !

Published

on

उत्तर  प्रदेश सरकार ने बुधवार रात 17 आईएएस समेत 15 पीसीएस अफसरों के तबादले कर दिए। इनमें 2016 बैच के आईएएस अफसर भी हैं, जिन्हें चार वर्ष की सेवा पूरी होने पर बीती एक जनवरी को सीनियर टाइमस्केल दिया गया था। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के पद पर तैनात इन अफसरों को अब मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ) बनाया गया है। नौ जिलों में सीडीओ तैनात किये गए हैं। पांच प्रतीक्षारत अफसरों को भी तैनाती दी गई है।  इसमें बलिया में तैनात संयुक्त मजिट्रेट विपिन कुमार जैन, अन्नपूर्णा गर्ग का भी तबादला किया गया है, अन्नपूर्णा गर्ग-ज्वाइंट मजिस्ट्रेट बलिया को अब सीडीओ अंबेडकरनगर बनाया गया है तो वहीँ विपिन कुमार जैन ज्वाइंट मजिस्ट्रेट बलिया को सीडीओ प्रतापगढ़ बनाया गया है।

देखें पूरी लिस्ट 

 
1-अन्नपूर्णा गर्ग-ज्वाइंट मजिस्ट्रेट बलिया : सीडीओ अंबेडकरनगर
2-विपिन कुमार जैन ज्वाइंट मजिस्ट्रेट बलिया : सीडीओ प्रतापगढ़
3-अश्विनी कुमार पांडे-ज्वाइंट मजिस्ट्रेट चित्रकूट -सीडीओ बलिया 
4-अमित आसरी-ज्वाइंट मजिस्ट्रेट फर्रुखाबाद-सीडीओ चित्रकूट 
5-अतुल वत्स-ज्वाइंट मजिस्ट्रेट मऊ-सीडीओ सुलतानपुर
6-डॉ.अंकुर लाठर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट मऊ : सीडीओ अमेठी 
7-महेंद्र कुमार-सीडीओ चित्रकूट-विशेष सचिव कृषि उत्पादन आयुक्त शाखा
8-अमित पाल सीडीओ प्रतापगढ़ : विशेष सचिव माध्यमिक शिक्षा 
9-गजल भारद्वाज ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ललितपुर : सीडीओ रामपुर 
10-कविता मीणा ज्वाइंट मजिस्ट्रेट भदोही : सीडीओ बहराइच 
11-इंद्रजीत सिंह ज्वाइंट मजिस्ट्रेट इटावा : सीडीओ गोरखपुर 
12-डॉ.मुथु कुमार स्वामी बी. प्रतीक्षारत : विशेष सचिव अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास 
13-श्याम सुंदर शर्मा (प्रतीक्षारत) : सचिव उत्तर प्रदेश राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग
14-मनोज कुमार प्रतीक्षारत : निदेशक कृषि विपणन एवं विदेश व्यापार 
15-गुर्राला श्रीनिवासुलू प्रतीक्षारत : विशेष सचिव वित्त 
16-अरविंद कुमार चौहान सीडीओ बहराइच : विशेष सचिव (समाज कल्याण)
17-घनश्याम मीणा (प्रतीक्षारत) : सीडीओ कुशीनगर 

Continue Reading

featured

कौन हैं बलिया के विंग कमांडर मनीष सिंह, जो राफेल उड़ाकर ला रहे हैं?

Published

on

बलिया : आज का दिन भारत के साथ साथ बलिया के लिए भी बेहद ख़ास है. दरअसल एक तरफ़ जहाँ आज फ़्रांस से भारत के लिए राफेल विमान ने उड़ान भरी तो दूसरी तरफ़ ख़ास बात यह है कि इन पाँच विमान में एक विमान उड़ा ला रहे हैं विंग कमांडर मनीष सिंह. आपको बता दें कि विंग कमांडर मनीष सिंह बलिया से ताल्लुक़ रखते हैं. वह बांसडीह तहसील के छोटे से गांव बकवां के रहने वाले हैं. वहीं मनीष सिंह के पिता मदन सिंह भी सेना से रिटायर हुए हैं. मनीष के राफेल उड़ाकर भारत लाए जाने से बकवा गांव में खुशी की लहर है। जिले के लोगों का सीना गर्व से चौड़ा हो गया है।

वायु सेना के पायलटों का जो दल फ्रांस से राफेल विमान ला रहा है, उसमें जिले के आर्मी से रिटायर मदन सिंह के बेटे विंग कमांडर मनीष सिंह भी शामिल हैं। मनीष के छोटे भाई अनीश सिंह ने बताया कि भैया आज यानी मंगलवार को अबुधाबी में थे तो उनसे हम लोगों ने कुशलक्षेम जानने के लिए बात की थी। उन्होंने बताया कि आज अबुधाबी से भारत के लिए उड़ने वाले हैं। अनीश ने बताया कि सैनिक स्कूल कुंजपुरा हरियाणा से शिक्षा लेने के बाद वायुसेना में मनीष का चयन एनडीए के जरिये हुआ था।

कौन हैं विंग कमांडर मनीष सिंह?

बांसडीह के बकवा गांव के रहने वाले  फौजी मदन सिंह के पुत्र मनीष सिंह अपने भाई बहनों में सबसे बड़े हैं। गांव की गलियों से निकल कर विंग कमांडर के पद तक पहुंचे मनीष की शुरुआती शिक्षा गांव के एक निजी स्कूल नूतन शिक्षा निकतन में हुई। छठवीं कक्षा तक गांव में पढ़ाई करने के बाद उनकी उच्च शिक्षा करनाल के कुंजपुरा स्थित सैनिक स्कूल से हुई, जहां इनके पिता सेना में सेवारत रहे।

वह 2003 में बतौर फ्लाइट लेफ्टिनेंट वायुसेना में भर्ती हुए थे। फिलहाल विंग कमाण्डर हैं। इससे पहले वह गोरखपुर में तैनात थे। उन्हें राफेल उड़ाने का प्रशिक्षण लेने के फ्रांस भेजा गया था। प्रशिक्षण पूरा होने के बाद राफेल को भारत लाने वाले दल में उनका चयन किया जाना पूरे परिवार के लिए गर्व की बात है। दो भाई और दो बहन में सबसे बड़े मनीष के राफेल उड़ाकर भारत लाए जाने से बकवा गांव में खुशी की लहर है। मनीष के पिता मदन सिंह को अपने बेटे पर गर्व है। गांव के समाजसेवी संतोष सिंह ने कहा कि पूरा गांव आने लाल के लिए फूले नहीं समा रहा है।

Continue Reading

Trending