Connect with us

सिकंदरपुर

चुनाव से पहले ईंट-भट्ठों पर दबिश, अवैध शराब पर प्रशासन ने कसी नकेल, एक्शन में डीएम

Published

on

बलिया  डेस्क : जिलाधिकारी अदिति सिंह के निर्देश पर आबकारी विभाग की प्रवर्तन कार्य में भी तेजी आ गई है। आगामी होली त्यौहार एवं ग्राम पंचायत चुनाव को देखते हुए अवैध शराब की बिक्री उत्पादन एवं परिवहन पर रोक लगाने के लिए विशेष प्रवर्तन अभियान चलाया जा रहा है।

शुक्रवार को एसडीएम सिकंदरपुर अभय कुमार सिंह के नेतृत्व में आबकारी निरीक्षक अशोक कुमार व खेजुरी एसओ ने दलबल के साथ ईट-भट्टों पर छापेमारी की।

टीम ने खेजुरी, हथौज, बबरापुर, अजनेरा में ईंट-भट्ठों पर अचानक दबिश दी। अजनेरा ईंट-भट्ठे पर दो सौ किग्रा लहन बरामद की गई, जिसे मौके पर ही नष्ट कर दिया गया। साथ ही मुकदमा दर्ज कर आबकारी अधिनियम के अंतर्गत कार्रवाई की गई।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सिकंदरपुर

बलिया – महिला बीडीसी प्रत्याशी की मौत, इस गांव से लड़ रहीं थी चुनाव !

Published

on

सिकंदरपुर:  सिकंदरपुर थाना क्षेत्र के कोथ ग्राम के वार्ड नंबर 1, 2 व 3 से बीडीसी का चुनाव लड़ रही शांति देवी पति शिवरतन गुप्ता की गोरखपुर  में ईलाज के दौरान रविवार की देर शाम निधन हो गया।

बीडीसी महिला प्रत्याशी शांति देवी का शव गांव पहुंचते ही पूरे परिवार में कोहराम मच गया। वहीं सोमवार की सुबह शांति देवी का अंतिम संस्कार कर दिया गया। जानकारी के मुताबिक  त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में ग्राम पंचायत कोथ अंतर्गत वार्ड नंबर 1, 2 व 3 से बीडीसी पद हेतु नामांकन करने के अगले ही दिन से शांति देवी की तबीयत खराब होना शुरू हो गई था।

परिजनों द्वारा शांति देवी का बलिया स्थित एक चिकित्सक से इलाज चल रहा था। शांति देवी की चिकित्सकीय जांच में वायरल निमोनिया नामक बीमारी से ग्रसित बताया गया था, जिसके बाद शांति देवी अपने घर पर आ गई थी। इसी दौरान रविवार की सुबह उन्हें सांस लेने में बहुत ज्यादा दिक्कत होने लगी। आनन-फानन में परिजन उन्हें सिकंदरपुर स्थित एक प्राइवेट नर्सिंग होम में ले गए जहां पर उन्हें ऑक्सीजन लगाया गया। इस दौरान चिकित्सक ने उन्हें रेफर कर दिया।

परिजन एंबुलेंस से तत्काल शांति देवी को लेकर गोरखपुर के लिए रवाना हो गए। गोरखपुर पहुंचने के उपरांत एक हॉस्पिटल में एडमिट करते ही शांति देवी की तबीयत अचानक फिर से बिगड़ने लगी। आखिरकार डॉक्टर कुछ करते इससे पहले ही शांति देवी ने दम तोड़ दिया।

Continue Reading

बलिया स्पेशल

बलिया – पूर्व मंत्री जियाउद्दीन रिजवी हुए कोरोना संक्रमित, सोशल मीडिया पर दी जानकारी

Published

on

सिकंदरपुर – बलिया में कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है. कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है.  शनिवार को सिकंदरपुर से सपा के पूर्व विधायक एवं पूर्व मंत्री जियाउद्दीन रिजवी ने कोरोना की जांच कराई, जिसमें वे पॉजिटिव पाए गए.

पूर्व मंत्री जियाउद्दीन रिजवी ने सोशल मीडिया पर कोराना संक्रमित होने की जानकारी दी. मंत्री ने ट्वीट कर लिखा है कि मैंने कोविड जांच कराई. रिपोर्ट पॉजिटिव आई है.

हाल के दिनों में जो भी लोग मेरे संपर्क में आए हैं. वो अपनी जांच कराएं और सजग रहें. बता दें कि क्षेत्रीय भ्रमण के दौरान आधा दर्जन गांवों में आयोजित होली मिलन समारोह में भी उन्होंने शिरकत की थी. उन्होंने संपर्क में आए सभी लोगों से जांच कराने की अपील की है.

Continue Reading

featured

बलिया में कोरोना का क़हर, सिकंदरपुर के व्यापारियों ने लगाया अपना लॉकडाउन !

Published

on

सिकंदरपुर । बलिया में बढ़ते कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए पूरे बलिया जिले में नाइट कर्फ्यू लागू है। इसके उलट दिन में बाजार खुल रहे हैं और खरीदारों की भीड़ भी उमड़ रही है। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग कायम नहीं रह पाती और काफी लोग मास्क भी नहीं लगाते। इससे संक्रमण तेजी से फैलने का खतरा बरकरार है। इन हालात में जिले के सिकंदरपुर व्यापार मंडल के पदाधिकारियों ने बाजार बंदी का फैसला किया है।

सिकंदरपुर व्यापार मंडल ने बताया है कि शुक्रवार को दिन में 1:00 बजे से लेकर सोमवार तक दुकानें तथा अन्य प्रतिष्ठान पूरी तरह से स्वैच्छिक बंदी का फैसला किया है।

वहीँ इस मामले पर उप जिलाधिकारी अभय कुमार सिंह ने बताया कि व्यापार मंडल का यह निर्णय स्वागत योग्य है। उन्होंने बताया कि शाम को 4:00 बजे से लेकर 7:00 बजे तक आवश्यक सामग्रियों की दुकानें जैसे सब्जी व किराना की दुकान खुली रहेंगी साथ ही चिकित्सा से संबंधित दुकानें खुली रहेंगी।

इस दौरान उपजिलाधिकारी ने कहा कि बिना वजह कोई भी घरों से बाहर न निकले. बहुत आवश्यक होने पर मास्क के साथ ही बाहर निकले। बता दें की जिले में गुरुवार को 24 घंटे में 298 नए केस मिले हैं।

 

Continue Reading

TRENDING STORIES