Connect with us

featured

डॉ. सुरेश तिवारी ने रौशन किया बलिया का नाम, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की इस सूची में हुए शामिल

Published

on

बलिया के लाल डॉ. सुरेश तिवारी ने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की सूची में जगह बना कर ज़िले का नाम रौशन किया है। यूनिवर्सिटी ने  उन्हें भारत के दो प्रतिशत उत्कृष्ट शोधकर्ताओं की सूची में शामिल किया है।
डॉ. सुरेश की इस कामयाबी के बाद उनके परिजनों और ज़िले में ख़ुशी की लहर है। परिजनों और बलियावासियों का कहना है कि डॉ. सुरेश ने अपनी इस कामयाबी से ज़िले को गौरवान्वित किया है। वो चाहते हैं कि डॉ. सुरेश इसी तरह कामयाबी की सीढ़ियां चढ़ते रहें।
स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की ये सूची दुनिया भर के वैज्ञानिकों को उनके कॅरियर के दौरान की गई रिसर्च के लिए 2019 तक एकत्र किए गए आंकड़ों के आंकलन के बाद तैयार की गई है। डॉ . सुरेश 21 अक्टूबर 2020 को यूनिवर्सिटी के ऑडिटोरियम में लेक्चर भी दे चुके हैं।
कौन हैं डॉ. सुरेश तिवारी
डॉ. सुरेश सिकंदरपुर स्थित मुंजही गाँव के निवासी हैं और वर्तमान में इंडियन इस्टीट्यूट ऑफ ट्रॉपिकाल मीटिरोलॉजी, पुणे में वरिष्ठ वैज्ञानिक हैं। इसके साथ ही वह जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय द्वारा संचालित ‘लिजेंडस ऑफ बलिया’ फोरम के सदस्य भी हैं। डॉ. सुरेश की रिसर्च वायुमंडलीय विज्ञान पर बेस्ड है। उनके अब तक 210 से ज़्यादा रिसर्च पेपर पब्लिश हो चुके हैं।

featured

CM योगी का आदेश, बलिया में वेंटिलेटर, L-3 बेड्स की सुविधा उपलब्ध कराई जाए

Published

on

 बलिया । कोरोना से लोगों के बचाव को लेकर उप्र की योगी सरकार अलर्ट मोड़ पर है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए सूबे में किए गए चिकित्सा प्रबंधों की रोज समीक्षा कर रहे हैं।

राज्य में रोजाना कितने लोग कोरोना की चपेट में आ रहे हैं और उनके इलाज के लिए जिलों में क्या क्या कदम उठाये जा रहे है  तथा प्रदेश में प्रतिदिन कितने लोगों ने टीकाकरण कराया, मुख्यमंत्री इसकी भी समीक्षा  रोज कर रहे हैं।

वहीं बलिया को लेकर सीएम योगी खास निर्देश दिया है सीएम ऑफिस के आफिसियाल ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया है कि बलिया में वेंटिलेटर व HFNC को फंक्शनल किया जाए तथा एल-3 बेड्स की सुविधा उपलब्ध कराई जाए।  बात दें की बलिया में कोरोना के रोज औसतन 100 मरीज मिल रहे हैं , इसी को देखते हुए स्वास्थ विभाग को अलर्ट किया गया है ।

Continue Reading

featured

बलिया- ऐसे में तो फिर खाली रह जाएंगे ग्राम पंचायत सदस्य के सैंकड़ो पद !

Published

on

बैरिया। पंचायत चुनाव को लेकर प्रशासनिक तैयारियां तेज चल रही हैं। वहीं, गांव देहात में उम्मीदवार भी पूरी ताकत झोंके हुए हैं। सबसे अधिक दावेदार प्रधानी व जिला पंचायत सदस्य के नजर आ रहे हैं। वहीं ग्राम पंचायत सदस्य के एक पद पर एक उम्मीदवार भी नजर नहीं आ रहे हैं। जिससे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में ग्राम पंचायत सदस्यों की कई सीटें खाली रह सकती हैं।

कारण कि इस पद की उम्मीदवारी को लेकर लोगों में उदासीनता है। बैरिया विकासखंड में अभी तक कुल 422 ग्राम पंचायत सदस्य पदों के सापेक्ष अब तक महज 302 नामांकन पत्र ही बिके हैं। जबकि कई पदों पर एक से अधिक नामांकन पत्र भी बिके हैं। अगर एक-एक नामांकन पत्र भी मानें तो अभी तक 120 पदों के लिए कोई नामांकन पत्र नहीं बिका है।

लोगों का कहना है कि पंचायत के संचालन में ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत अधिकारियों द्वारा ग्राम पंचायत सदस्यों को अहमियत न दिए जाने के चलते लोग ग्राम पंचायत सदस्य पद का चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं।

पिछले कई दिनों से ब्लॉक मुख्यालय पर नामांकन पत्रों की बिक्री में प्रधान के 30 पदों के लिए अब तक 466 नामांकन पत्र बिक चुके हैं, जबकि क्षेत्र पंचायत सदस्य के 73 पदों के लिए कुल 258 नामांकन पत्र बिका है। वहीं, ग्राम पंचायत सदस्य के कुल 422 पदों के सापेक्ष अब तक 302 नामांकन पत्र ही बिके हैं। हालांकि अभी चार दिन और नामांकन पत्र बिकेंगे।

 

Continue Reading

featured

इस बार जिला पंचायत में इन नेताओं की प्रतिष्ठा दावं पर, सियासी विरासत बचाने की जिम्मेदारी !

Published

on

बलिया – प्रदेश में पंचायत चुनाव अपने जोर पर है। अपना जिला भी अब पीछे नहीं है। टिकट बंट चुका है। प्रचार-प्रसार चालू है। 58 जिला पंचायत की सीटों वाले बलिया जिले से हज़ारों प्रत्याशी अपनी दावेदारी प्रस्तुत करने को तैयार हैं। सभी प्रत्याशियों ने अपने स्तर पर चुनावी दंगल जीतने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा दिया है। चुनाव के इस रौचक दौर में उन 6 परिवारों के नुमाइंदे कांटे की टक्कर में फंसे हैं, जिन्हें राजनीति में परिवारवाद की कहानी को आगे ले जाने की जिम्मेदारी मिली है। जिला पंचायत सदस्यों के कुल 58 सीटों में  कांग्रेस, बसपा , सपा और भाजपा के आधा दर्जन ऐसे उम्मीदवारों की फेहरिस्त हैं जो ताल ठोक रहे हैं। आइये एक नज़र डालते हैं उन वार्डों पर।

वार्ड नंबर 45

गड़वार

गड़वार की इस अनारक्षित सीट पर बसपा के उम्मीदवार हैं आनन्द चौधरी। आनन्द चौधरी, सपा के पूर्व विधायक अंबिका चौधरी के बेटे हैं। अंबिका चौधरी फिलहाल बसपा में हैं।

आनंद चौधरी की प्रचार सामग्री


वार्ड नंबर 24

सीयर

सीयर की इस अनारक्षित सीट पर मरगूब अख्तर समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार हैं। मरगूब अख्तर सपा अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष के बेटे हैं। जो पिछले 20 साल से पार्टी से जुड़े हुए हैं।

मरगूब अख्तर समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार बने हैं


वार्ड नंबर 24

सीयर

सीयर की इस अनारक्षित सीट पर भाजपा ने अटल राजभर को उम्मीदवार बनाया है। अटल राजभर, पूर्व सांसद और भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य हरिनारायन राजभर के पुत्र हैं।

अटल राजभर की प्रचार सामग्री


वार्ड नंबर 27

सीयर

वर्ष 2021 में ओबीसी के लिए रिज़र्व इस सीट से बैरिया से पूर्व सपा विधायक जय प्रकाश अंचल के बेटे विनय अंचल को टिकट मिला है और ज़ाहिर है कि वह समाजवादी पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार हैं।

ब्लॉक प्रमुख और जिला पंचायत प्रत्याशी विनय अंचल का पोस्टर


वार्ड नंबर 16

मनियर

वर्ष 2021 में ओबीसी के लिए रिज़र्व इस सीट से समाजवादी पार्टी ने वर्तमान नेता प्रतिपक्ष और बांसडीह विधानसभा के विधायक रामगोविंद चौधरी के बेटे रंजीत चौधरी को अपना उम्मीदवार बनाया है।

रंजीत चौधरी की प्रचार सामग्री


वॉर्ड नंबर 42

सोहांव

वर्ष 2021 में सोहांव की यह सीट अनारक्षित है। इस सीट पर समाजवादी पार्टी ने रंजू यादव को उम्मीदवार बनाया है। रंजू यादव निवर्तमान सपा जिलाध्यक्ष राजमंगल यादव की पत्नी हैं।

रंजू यादव का हैंडबिल

रंजू यादव का हैंडबिल


 

Continue Reading

TRENDING STORIES