दिल्ली में बलिया के दलित बुज़ुर्ग की दबंगों ने की पिटाई, 10 दिन बाद अस्पताल में मौत

नई दिल्ली– देश में दलित उत्पीड़न के मामले थमने का नाम ही नहीं ले रहे। ताज़ा मामला राजधानी दिल्ली से सामने आया है, जहां कथित तौर पर कुछ दबंगों ने एक दलित बुज़ुर्ग को इस कदर पीटा कि उसकी 10 दिन के बाद अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई।

मामला ओखला फेज़ वन के तेखंड गांव का है। बताया जा रहा है कि 29 मई तकरीबन 10 बजे यहां संतोष ढाबे के पास 50 वर्षीय विजय पासवान खड़े थे, तभी वहां गुर्जर समाज के कुछ दबंग आए और उन्हें जातिसूचक गालियां देते हुए वहां से भागने लगे। लेकिन जब विजय वहां से नहीं भागे तो दबंगों ने उनके साथ मारपीट शुरू कर दी।

विजय को पिटता देख विजय के परिजनों ने उसे बचाने की कोशिश की, लेकिन दबंगों ने उन्हें भी नहीं बख्शा। दबंगों ने विजय के 65 वर्षीय पिता, बेटे और 18 वर्षीय बेटी की भी बेरहमी से पिटाई कर दी।

दबंगों की बेरहमी का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि, इस पिटाई के बाद विजय के बुज़ुर्ग पिता को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। जहां10 दिन इलाज के बाद उन्होंने दम तोड़ दिया।

विजय का परिवार मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बलिया का रहने वाला है। दिल्ली में विजय का परिवार मज़दूरी कर अपना गुज़ारा करता है। परिवार में बुज़ुर्ग की मौत से घर में मातम का माहौल है।

वहीं इस मामले में केंद्र शासित दिल्ली की पुलिस की लापरवाही भी सामने आई है। परिजनों का आरोप है कि पुलिस दबंगों के ख़िलाफ़ उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं कर रही। पुलिस के इस रवैए से नाराज़ इलाके के दलितों ने पुलिस के ख़िलाफ़ प्रदर्शन भी किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here