Connect with us

उत्तर प्रदेश

राज्यसभा चुनाव: यूपी की सियासत में बड़ा उलटफेर, अखिलेश के डिनर में पहुंचे राजा भैया

Published

on

उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव को लेकर जारी जोड़ तोड़ के बीच बड़ा उलटफेर हुआ है. अखिलेश यादव ने इस चुनाव में मायावती से बीएसपी उम्मीदवार भीमराव आंबेडकर को जिताने का वादा किया था लेकिन अब तक उन्हें जिताने के लिए जरूरी 37 वोटों का इंतजाम नहीं हो पा रहा था.

इस बीच आज निर्दलीय विधायक राजा भैया और उनके समर्थक विधायक अखिलेश यादव के डिनर में पहुंच गए. मतलब ये हुआ कि चुनाव में बीएसपी के उम्मीदवार को जिताने के लिए अखिलेश यादव के खाते में 2 वोट और जुड़ गए हैं.

https://twitter.com/pankajjha_/status/976488322137694208

अभी बीएसपी के 19, समाजवादी पार्टी के 9, कांग्रेस के 7 और आरएलडी के एक विधायक को मिलाकर 36 वोट हो रहे थे यानी जरूरी 37 से 1 कम लेकिन अब 2 विधायकों के जुड़ने से बीएसपी के उम्मीदवार के पक्ष में 38 वोट पड़ने की उम्मीद जताई जा रही यानी बीएसपी की जीत तय मानी जा सकती है.

भतीजे अखिलेश का साथ देंगे चाचा शिवपाल
अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव ने भी अब साफ कर दिया है कि राज्यसभा चुनाव में वो अखिलेश के साथ हैं. शिवपाल यादव ने कहा कि वो और समाजवादी पार्टी के सभी विधायक 23 मार्च को वोट डालने जाएंगे. हालांकि शिवपाल यादव आज अखिलेश यादव की डिनर पार्टी में नहीं पहुंचे.

 

बीएसपी उम्मीदवार को जिताने उतरे कांग्रेस के दिग्गज
यूपी राज्यसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी को कांग्रेस के वोट दिलवाने के लिए पार्टी के चार बड़े नेता राजधानी में मौजूद रहेंगे. कांग्रेस सांसद प्रमोद तिवारी ने कहा कि वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया, संजय सिंह, राज बब्बर और तिवारी खुद राजधानी में मौजूद रहेंगे. सात विधायकों वाली कांग्रेस ने पहले ही बीएसपी प्रत्याशी भीमराव आंबेडकर को समर्थन देने का फैसला कर लिया था.

 

एसपी के कुछ विधायक क्रॉस वोटिंग कर सकते हैं: सूत्र
भारतीय जनता पार्टी के कुछ नेताओं का दावा है कि नरेश अग्रवाल के करीबी एसपी के कुछ विधायक क्रास वोटिंग कर सकते हैं, जबकि एसपी का खेमा अपनी प्रत्याशी जया बच्चन और बीएसपी प्रत्याशी भीमराव आंबेडकर की जीत के प्रति आश्वस्त है.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

उत्तर प्रदेश

प्रदेश के परिषदीय विद्यालयों में 30 जून तक होगी आनलाइन पढ़ाई…..

Published

on

बलिया डेस्क. प्रदेश के 1.58 लाख से अधिक परिषदीय प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में 30 जून तक ऑनलाइन पढ़ाई होगी। 21 मई से शुरू हो रही गर्मी की छुट्टियों से एक दिन पहले सचिव बेसिक शिक्षा परिषद विजय शंकर मिश्र ने बुधवार को सभी बीएसए को पत्र जारी कर 30 जून तक ऑनलाइन कक्षाएं संचालित करने को कहा है। हालांकि माध्यमिक स्कूलों में कोई आदेश जारी नहीं होने के कारण गुरुवार से गर्मी की छुट्टी शुरू हो जाएगी।
सचिव बेसिक शिक्षा परिषद ने पत्र में लिखा है कि कोरोना के कारण घोषित लॉकडाउन में स्कूल बंद चल रहे हैं। इस दौरान पठन-पाठन में प्रतिपूर्ति के उद्देश्य से दूरदर्शन, रेडियो, दीक्षा पोर्टल एवं व्हाट्सएप कक्षाओं के लिए नवाचारी कार्यक्रम के रूप में ऑनलाइन शिक्षण व्यवस्था संचालित की गई जिसके उत्साहवर्धक परिणाम प्राप्त हुए है। लिहाजा ऑनलाइन कक्षाएं 30 जून तक यथावत संचालित की जाएं। इसके लिए स्कूलों के अध्यापकों, प्रधानाध्यापकों, एकेडमिक रिसोर्स पर्सन और स्टेट रिसोर्स ग्रुप की सहायता लें।
वहीं दूसरी ओर शिक्षा निदेशक माध्यमिक के 23 दिसंबर 2019 के आदेश एवं अवकाश तालिका के अनुसार 21 मई से सभी माध्यमिक विद्यालयों में ग्रीष्मावकाश प्रारंभ हो रहा है। माध्यमिक शिक्षक संघ (ठकुराई गुट) के प्रदेश महामंत्री लालमणि द्विवेदी का कहना है कि छुट्टी के संबंध में जब तक कोई नया निर्देश नहीं आता तब तक शिक्षा निदेशक माध्यमिक का यह 23 दिसंबर 2019 का आदेश लागू है। हालांकि इस संबंध में शिक्षा विभाग और शिक्षण संस्थाओं की ओर से शिक्षकों और विद्यार्थियों को कोई सूचना प्रसारित नहीं की गई।
जिसके कारण विद्यालयों में वर्चुअल तथा ऑनलाइन कक्षाओं के संचालन की स्थिति साफ नहीं है। लालमणि द्विवेदी ने कहा कि नियमानुसार 21 मई से जहां मूल्यांकन कार्य हो रहा है वहां के शिक्षक मूल्यांकन कार्य के दिनों के सापेक्ष अर्जित अवकाश के भी हकदार होंगे।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

बदल जाएगा नियम-कानून जब गर्मी की छुट्टी के बाद खुलेंगे स्कूल…..

Published

on

बलिया. कोरोना के खतरे को देखते हुए स्कूल अभी भले ही बंद है, लेकिन गर्मी की छुट्टियों के बाद जैसे ही वह खुलेंगे तो वहां भी कोरोना से बचाव के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम दिखेंगे. फिलहाल इसके तहत जो अहम उपाय देखने को मिलेंगे, उनमें दो गज दूरी का फार्मूला भी होगा. जिसके तहत क्लास में एक बेंच से दूसरी बेंच के बीच की दूरी कम से कम दो गज की यानि छह फीट रखनी जरूरी होगी. इसके साथ ही लैब और लाइब्रेरी जैसी जगहों में एक बार में सिर्फ दस बच्चों को जाने की इजाजत होगी.
प्राइमरी का मास्टर डॉट कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक स्कूलों को कोरोना संकट से बचाने के लिए फिलहाल मानव संसाधन विकास मंत्रालय के निर्देश पर एनसीईआरटी सेफ्टी गाइड लाइन को अंतिम रूप देने में जुटा है. इसके साथ ही क्लास रूम में अब एक बेंच पर एक ही बच्चे को बैठने की इजाजत मिलेगी. सीटों की अदला बदली नहीं हो सकेगी. सूत्रों के मुताबिक स्कूलों के लिए प्रस्तावित सेफ्टी गाइडलाइन में प्रत्येक क्लास रूम के बाहर हैंड सैनिटाइजर रखना जरूरी होगा. फिलहाल स्कूलों को इससे जुड़ी तैयारी करने के लिए मंत्रालय ने जल्द ही गाइडलाइन जारी करने के संकेत दिए हैं.
इनसेट….
असेंबली व खेल परिसर हर रोज होगा सैनेटाइज
प्रस्तावित गाइडलाइन के तहत स्कूलों के ऐसे परिवार को हर दिन सैनीटाइज करना होगा, जहां बच्चों का जमघट होता है, यानि असेम्बली परिसर और खेल वाली जगह इनमें शामिल होंगी. स्कूलों में मौजूद व्यवस्था के तहत एक क्लास में एक बेच पर दो बच्चे बैठाए जाते हैं, वहीं एक क्लास में बच्चों की कुल संख्या करीब 40 होती है. ऐसे में सेफ्टी गाइडलाइन के बाद उन्हें यह संख्या आधी से भी कम करनी होगी.
वर्जन:
गर्मी की छुट्टी के बाद शासन के निर्देश के मुताबिक स्कूल खुलेंगे, लेकिन जरूर पहले और अब के स्कूलों के संचालन प्रक्रिया में बहुत सारे बदलाव किए जाएंगे, जैसे सिटिंग प्लान, सैनेटाइजेशन आदि चीजें नेसेसरी हो जाएगी. शासन द्वारा बनाए गाइड लाइन के अनुसार विद्यालयों का संचालन कराया जाएगी.
शिवनारायण सिंह
बेसिक शिक्षाधिकारी

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

टीबी की मशीन से होगी कोरोना की जांच, जानें कैसे…..

Published

on

बलिया डेस्क। कोरोना वायरस (कोविड-19) और क्षय रोग यानि टीबी के संक्रमण का तरीका और लक्षण लगभग मिलते-जुलते है। इसलिए इनके संक्रमण की जद में आने से बचने के लिए मरीजों के साथ ही स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को भी विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है।

इसी को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को ऑनलाइन प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है कि यदि कोई टीबी की जाँच के लिए आता है तो वह क्या-क्या सावधानी बरतें। इसके अलावा उन्हें लगता है कि मरीज में टीबी नहीं कोरोना के अधिक लक्षण नजर आ रहे हैं तो वह परामर्श लेकर उनकी कोरोना की भी जाँच करा सकते हैं। इतना ही नहीं टीबी की जांच में इस्तेमाल होने वाली सीबीनाट मशीन कोरोना की भी जाँच कर सकती है और प्रदेश में कई जगह यह जांच हो भी रही है। जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ0 केडी प्रसाद का कहना है कि कोरोना जहाँ एक वायरस (विषाणु) है तो टीबी एक वैक्टीरिया (जीवाणु) है, लेकिन दोनों ही सूक्ष्म और अदृश्य हैं। इनके संक्रमण के लक्षण भी प्रथमदृष्टया समान हैं, इसीलिए इस तरह के लक्षण वाले मरीजों के सामने आने पर उनकी बारीकी से जांच की आवश्यकता पड़ती है, यदि किसी में समान लक्षण के चलते निर्णय लेने में दिक्कत हो तो उचित परामर्श के साथ ऐसे मरीजों की टीबी और कोरोना दोनों की जांच करायी जा सकती है।

इसके अलावा ऐसे मरीजों का सैम्पल लेते वक्त मास्क, ग्लब्स और पर्सनल प्रोटेक्शन इक्यूपमेंट (पीपीई) के इस्तेमाल को अनिवार्य बनाया गया है। डॉ0 प्रसाद का कहना है कि टीबी और कोरोना दोनों मामलों में संक्रमित व्यक्ति के खांसने या छींकने से निकलने वाली बूंदों के संपर्क में आने से दूसरा व्यक्ति भी संक्रमण का शिकार हो सकता है। इसी समानता को देखते हुए कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए साबुन-पानी से 20 सेकंड तक बार-बार हाथ धोने या अल्कोहल युक्त सैनीटाइजर से साफ़ करने, एक दूसरे से कम से कम दो गज (6 फुट) की दूरी बनाये रखने, मास्क का इस्तेमाल करने और अगर बुखार,खांसी और सांस लेने में कठिनाई हो तो चिकित्सक से सलाह लेने और दिशा-निर्देशों का पालन करने को कहा जा रहा है। दूसरी तरफ टीबी से बचने के लिए भी लगभग यही तरीके अपनाने को कहे गए हैं, जैसे- खांसने या छींकने पर अपने मुंह और नाक को अपनी मुड़ी हुई कोहनी या कपड़े से ढकें, रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी न हो शरीर में इसके लिए पोषक आहार का सेवन नियमित करते रहे। उचित वायु संचार बनाये रखें और यदि दो हफ्ते से ज्यादा खांसी हो तो टीबी की जाँच कराएँ। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय इसीलिए टीबी रोगियों को कोरोना की जद में आने से बचने के बारे में बराबर जागरूक कर रहा है क्योंकि इनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है और कोरोना ऐसे ही लोगों को सबसे पहले अपनी चपेट में लेता है।

टीबी और कोरोना दोनों से बचाएगा मास्क:
खांसने और छींकने से संपर्क में आने से दोनों के फैलने का खतरा है, इसलिए हम अगर मास्क लगाते हैं तो वह कोरोना से हमारी रक्षा करने के साथ ही टीबी से भी बचाएगा। डॉ0 प्रसाद का कहना है कि इस बारे में जरूरी आंकड़े भी जुटाए जा रहे हैं तभी पता चल सकेगा कि इसबीच इसमें कितनी कमी आई है। बीमारी के बारे में अधिक जानकारी के लिए कोविड-19 हेल्पलाइन नम्बर- 011-23978046 एवं टीबी हेल्पलाइन नंबर- 1800- 11-6666 पर सम्पर्क कर सकते है।

Continue Reading

Trending