Connect with us

बलिया स्पेशल

शिक्षिका ने मारा थप्पड़, छात्रा की मौत, प्रिंसिपल ने कहा बीमार रहती थी छात्रा

Published

on

उत्तर प्रदेश के बलिया  में एक बेरहमी से छात्रा की पिटाई से मौत का मामला सामने आया है।  छात्रा के पिता सन्तोष वर्मा की शिकायत पर पुलिस ने टीचर रजनी उपाध्याय के खिलाफ  रसड़ा कोतवाली में मामला दर्ज कर लिया है। फिलहाल, पुलिस इस पूरे मामले की जांच कर रही है।

परिजनों ने सुप्रिया के शव को विद्यालय प्रांगण में रखकर प्रदर्शन किया। सूचना मिलने पर वरिष्ठ पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे तथा समझा-बुझाकर परिजनों को वापस भेजा। पुलिस अधीक्षक बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए बलिया भेजा गया है।

खबर के मुताबिक, गुस्साए छात्रा के पिता संतोष वर्मा ने बुधवार को स्कूल के बाहर गेट पर शव रखकर न्याय की मांग की। इसकी सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंचे एडीएम मनोज सिंघल ने कहा कि शव का पोस्टमॉर्टम कराकर मामले की जांच की जाएगी जो भी दोषी होंगे उन पर कार्रवाई होगी।

जिले के रसड़ा थाना क्षेत्र में मौजूद सेंट जेवियर्स स्कूल के बाहर छात्रा के शव को रखकर न्याय की गुहार लगा रहे परिजनों ने बताया कि दस साल की सुप्रिया हर रोज की तरह 5 फरवरी को स्कूल गई थी। परिवार का आरोप है कि होमवर्क न करने की बात पर टीचर रजनी उपाध्याय ने सुप्रिया को इतने थप्पड़ मारे कि उसकी हालत खराब हो गई और वह बेहोश हो गई।

 बता दें कि इस घटना के बाद स्कूल प्रबन्धक ने परिजनों को सूचना देकर सुप्रिया को उनके हवाले कर दिया। परिजन सुप्रिया को लेकर इलाज के लिए मऊ ले गए जहां सीटी स्कैन के बाद डॉक्टरों ने सुप्रिया को ब्रेन हेमरेज बताया। इसके बाद परिजन सुप्रिया को लेकर वाराणसी ट्रॉमा सेंटर ले गए, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

वही इस पुरे मामले पर स्कूल ने प्रेस रिलीज़ जारी कर अपना पक्ष रखा है।  सेंट जेर्वीयस स्कुल रसड़ा के प्रधानाचार्य संगीता सिंह ने कहा कि सुप्रिया पहले से ही बीमार थी और उसको झटके आते थे।मंगलवार को भी उसे अचानक सिर में तेज दर्द की शिकायत किया। जिस पर हमलोगों ने परिवार के लोगो को खबर करते हुए सीएच सी पर दिखाया। जहाँ डॉक्टरों ने हाईब्लड पेर्सर की शिकायत बताया।और मऊ फातमा के लिए रेफर कर दिया।वहाँ से उसे वाराणसी ड्रामा सेंटर भेजा गया।जहा उपचार के दौरान उसकी मौत गयी। मारपीट का आरोप सरासर गलत लगाया गया है।राजनीती से ग्रसित लोगो ने ऐसा कार्य किया हैं।परिवार वालो को दबाव में रखते हुए कुछ लोग स्वार्थ सिध्द कर रहे है।

बलिया स्पेशल

बलिया प्रशासन ने कोरोना को बनाया मज़ाक़, 35 लाख आबादी, महज़ 10 फीसदी जाँच !

Published

on

बलिया। कोरोना को लेकर शासन भले ही गंभीर है, लेकिन जिला प्रशासन की उदासीनता चरम पर है। कभी नाइट कफ्र्यू तो कभी मास्क के नाम पर चालान काटने का आदेश देने वाले तत्कालीन जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही और वर्तमान डीएम अदिति सिंह की देखरेख में 35 लाख की आबादी वाले जनपद बलिया में अभी तक सिर्फ तीन लाख 69 हजार 612 लोगों की ही जांच संभव हो पाई है।

गौरतलब हो कि बीते मार्च 2020 से ही जैसे-जैसे कोरोना का प्रकोप बढऩा शुरू हुआ, वैसे-वैसे कोरोना की जांच का दायरा बढ़ाने के लिए पूरी स्वास्थ्य टीम शिद्दत से जुट गई। लेकिन अफसोस जो आंकड़ा अब सामने आ रहा है उससे सिर्फ और सिर्फ जिला प्रशासन की उदासीनता ही सामने आई है।

तभी तो 35 लाख की आबादी वाले जनपद में अभी तक सिर्फ दस प्रतिशत लोगों की ही जांच हो पाई है। कुछ जानकारों की मानें तो बलिया में मौत की संख्या और कम हो सकती थी यदि वास्तव में जिला प्रशासन जांच प्रक्रिया पर जोर देते।

क्वारांटाइन किए जाएंगे प्रवासी
कोरोना संक्रमण बढऩे पर अब उप्र आने वाले प्रवासियों को कोविड- 19 प्रोटोकाल का पूरा पालन करना होगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हर जिले में पहले की तरह क्वारंटाइन सेंटर बनाने का निर्देश दे दिया है। इसके बाद अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने सभी जिलों के लिए दिशा निर्देश भी जारी कर दिया है। जिसमें प्रवासियों की जांच से लेकर क्वारंटाइन किए जाने की व्यवस्था निर्धारित की गई है।

प्रवासियों को रखा जाएगा यहां
प्रदेश के बाहर से आने वाले प्रवासियों के घर में यदि क्वारंटाइन की व्यवस्था नहीं तो ऐसी स्थिति में उन्हें इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन में रखा जाएगा।

रिपोर्ट- तिलक कुमार 

 

Continue Reading

बलिया स्पेशल

मतदान कर्मिकों के ट्रेनिंग में 157 कर्मी अनुपस्थित, CDO बोले- ट्रेनिंग में हिस्सा लें वरना होगा मुकदमा

Published

on

बलिया: त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में लगे मतदान कर्मिकों का प्रशिक्षण मंडी समिति तिखमपुर में जारी है। दूसरे दिन भी दो पालियों में ट्रेनिंग दी गई, जिसमें 157 कर्मी अनुपस्थित रहे। इसमें इसमें 38 पीठासीन अधिकारी, 38 मतदान अधिकारी प्रथम, 45 मतदान अधिकारी द्वितीय, 36 मतदान अधिकारी तृतीय व 38 मतदान अधिकारी शामिल है। मुख्य विकास अधिकारी प्रवीण वर्मा ने एक बार फिर चेतावनी दी है कि अगर अगले दिन ट्रेनिंग में प्रतिभाग नहीं किया तो निर्वाचन कार्य में लापरवाही पर कड़ी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा।

प्रशिक्षण में निर्वाचन प्रक्रिया की महत्वपूर्ण बातों को समझाते हुए अपर जिलाधिकारी राम आसरे ने कहा कि पार्टी रवानगी से पहले अपनी स्टेशनरी व मतपत्र अवश्य मिला लें। यह सही रहा तो आपकी आधी समस्या यहीं खत्म हो जाएगी। इसमें चूक हुई तो काफी दिक्कतें होगी। मतदान स्थल पर पहुंचने के बाद फिर मिला लें। इस बार चार पदों का चुनाव एक साथ है, लिहाजा सावधानी के साथ सभी दिशा-निर्देश सुन लें और समझ लें। मतदान के दिन अगर लगे कि बॉक्स भर सकता है तो थोड़ी देर पहले सेक्टर मजिस्ट्रेट को बता दें। कोरोना को लेकर सावधानी बरतने की भी बात कही। बतौर ट्रेनर मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ अशोक कुमार, जिला कृषि अधिकारी विकेश कुमार पटेल व राजकीय इंटर कालेज के प्रधानाचार्य अतुल तिवारी ने पूरी निर्वाचन प्रक्रिया के बारे में विस्तार से समझाया।

Continue Reading

बलिया

बलिया पुलिस ने कोरोना गाइड लाइन के उल्लंघन में कुल 563 व्यक्तियों का चालान किया

Published

on

बलिया डेस्क:   जिले में कोरोना के बढते मामले के बीच पिछले एक सप्ताह से कोरोना गाइड लाइन के उल्लंघन के सम्बन्ध में बलिया पुलिस द्वारा अब तक कुल 12 मुकदमें पंजीकृत किये गये । जिनमें अभियुक्तों की संख्या 83 है । इसी क्रम में आज बलिया पुलिस द्वारा दोपहर 02 बजे से 03 बजे तक का एक अभियान चलाया गया।

जिसमें लोगो को मास्क वितरण किया गया एवं कोरोना गाइड लाइन के विषय में समझाया व जागरूक किया गया। इसी दौरान कोरोना गाइड लाइन के उल्लंघन में कुल 563 व्यक्तियों का चालान किया गया। जिनसे जुर्माने के रूप में कुल 7,100 रू0 वसूला गया ।

Continue Reading

TRENDING STORIES