अपनी तारीफ सुनने के बाद ये दुआ ज़रूर पढ़े, नहीं तो…

0

दोस्तों अस्सलाम अलैकुम वरहमतुल्लाहि व बरकातहू दोस्तों आज हम आपके लिए एक ऐसी बात लेकर आए हैं जिसमें यह है कि अगर कोई आपकी तारीफ करें तो आपको क्या करना चाहिए दोस्तों इस बात के लिए हमने इस्लामी तहक़ीक़ की तो हमें एक बात मिली कि अगर कोई आपकी तारीफ करें तो आपको क्या करना चाहिए और आपको बता दें कि जब कोई सहाबा किसी सहाबा तारीफ करते थे तो वह एक दुआ पढ़ते थे यानी कि जिसकी तारीफ हुई है वह दुआ पड़ता था दोस्तों आइए आपको बताते हैं कि वह दुआ कौन सी है हसरत अदि इब्ने अरता राज़ी अल्लाहहु अन्हो से रिवायत है.

कि रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के सहाबा में से अगर किसी की तारीफ की जाती तो वह यह दुआ पढ़ते थे अल्लाहहुम्मा ला तुआख़िज़्नी बीमा यकुलुना वगफिरली मा ला याअलमुन जिस का तर्जुमा है कि या अल्लाह यह जो लोग मेरे बारे में कहते हैं ( यानी तारीफ करते हैं) उस पर मेरी गिरिफ्त फरमा और मेरी वो गुनाह भी माफ कर दे जिनका इन लोगों को इल्म नहीं है।

दोस्तों सहाबा के जमाने में जब कोई किसी की तारीफ करता था तो लोग यह दुआ पढ़ते थे और अल्लाह से दुआ करते थे कि अल्लाह उनकी इस तारीफ पर गिरफ्त ना करें और उनकी जो भी गुनाह है जो लोग नहीं जानते उसको भी माफ कर दे दोस्तों अल्लाह के नबी है हमें एक-एक चीज की दुआ बताई है.

जैसे कि खाना खाने की पानी पीने की सोने की सोकर उठने की टॉयलेट जाने की टॉयलेट से बाहर आने की सफर में जाने की सवारी करने की सारी दुआएं हमें अल्लाह के नबी ने बताइए जिसको हम पढ़ कर बहुत फायदा उठा सकते हैं दोस्तों अगर कोई इंसान सफर की दुआ पढ़ ले और रास्ते में उसकी मौत हो जाए तो सीधा जन्नत में जाता है।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here