हमबिस्तरी के बाद मियां बीवी इस तरह करे गुसल, बहुत अहम मसला…

0

दोस्तों अस्सलाम वालेकुम रहमतुल्लाह व बरकातहू दोस्तों आज हम आपको जनाबत से पाक होने का तरीका बताएंगे दोस्तों आपको बता दें जनाबत हमबिस्तरी यानी कि संभोग के बाद किस तरह से इंसान अपने आप को पाक करता है उसको जनाब का ग़ुस्ल कहते हैं आज दुनिया में जितने भी मुसलमान हैं वह ग़ुस्ल का तरीका नहीं जानते कम से कम एक बड़ी तादात है मुसलमानों की जो कि गुसल का तरीका नहीं जानती हम कह सकते हैं कि वह तादाद मुसलमानों में 95% है जो कि ग़ुस्ल करना नहीं जानते हैं हालांकि लोगों को यह भी नहीं पता कि जब तक गुसल ना करें वह पाक नहीं हो सकते चाहे पूरी दुनिया के समुंद्र के पानी से भी नाहा ले और जब तक वह पाक नहीं होंगे.

तो ना ही उनका वजू होगा ना ही उनकी नमाज होगी और बिना पाकी के उनका कोई अमल नहीं होगा हालांकि इससे उन्हें गुनाह ही पड़ेगी दोस्तों हमारे दीन में यह कहा गया है कि पाकी आधा ईमान है आज दुनिया में हर वक्त कोई ना कोई गलत काम हो रहा होता है लेकिन हद तो यह है कि इसको गलत समझा ही नहीं जाता हम गुनाह को गुनाह ही नहीं समझते और यही हमारी ईमान की सबसे बड़ी कमजोरी है क्योंकि जब इंसान गुनाह को गुनाह नहीं समझता हो तो मुसलमान नहीं होता है.

आज दुनिया में हम तरह तरह की चीज सीखते हैं लेकिन कभी दिन से जुड़कर दिन का अमल नहीं सकते सोची दोस्तों जिसे उसी का तरीका नहीं पता आज तक की उसकी सारी इबादत बर्बाद उसकी कोई इबादत नहीं मानी जाएगी क्योंकि वह आज तक पाक ही नहीं हुआ और जो बिना ग़ुस्ल के तरीके को जाने बेगैर मर गया उसका क्या हाल होगा नापाकी की हालत में मरना कैसा होगा हम दुनिया में है इसीलिए भेजे गए हैं कि हम अल्लाह की इबादत करें यह हमारे इम्तिहान की जगह है.

लेकिन हम यहां आकर समझ रहे हैं कि अब हमेशा हमे यही रहना है हालांकि रोज कोई ना कोई मरता है लेकिन हमारे दिल पर इस बात से जूं तक नहीं रेंगती आज हमारे नौजवान नाच गाने में लगे हुए हैं और किसी को दीन से कोई मोहब्बत नहीं रह गई बस कहने को कहते हैं कि हम रसूल अल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की उम्मत लेकिन उनकी बातों पर अमल नहीं करते दोस्तों आइए आपको हम घुसल के फराइज के बारे में बताते हैं कि गुसल कैसे किया जाता है.

दोस्तों सबसे पहले जब आप गुसल खाने में जाएं तो पहले निजासत यानी कि गंदगी की जगह को धो ले उसके बाद मुंह भर की 3 मर्तबा कुल्ली करा और पूरे मुंह में मसा भी करें उंगली से और गलाले के साथ करें इस तरह से 3 मर्तबा करें उसके बाद 3 मर्तबा नाक की नर्म हड्डियों तक पानी पहुंचा है और उसे साफ करें फिर पूरे बदन पर इतना पानी बताएं कि बाल के बराबर भी सुखा ना रह जाए अगर बाल के बराबर भी सुखा रह गया तो आप का उसूल नहीं होगा.

दोस्तों यह है ग़ुस्ल का तरीका अगर आप इस चीज को नहीं करते हैं तो पूरी दुनिया के पानी से नहा ले तो भी पाक नहीं होंगे दोस्तों इस तरीके को आप खुद भी अख्तियार करें और अपने जानने वालों दोस्तों को भी बताएं ताकि वह भी पाक हो सके उनकी भी नमाज सही हो उनका भी वज़ु सही हो।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here