सीआरपीएफ जवानों के लिए मुसलमानों ने उठाया बड़ा कदम, वापस भेजवाया फू….

0

लोकसभा चुनाव से पहले आजमगढ़ में राष्ट्रीय ओलमा कौंसिल की एक सभा हुआ। इस दौरान पार्टी के नेताओं पुलवामा घटना में शहीद हुए जवानों को याद किया। बड़ी बात यह रही कि इस दौरान पार्टी के बड़े नेताओं का स्वागत करने के लिए कार्यकर्ताओं ने फूलों का इंतजाम किया था और बड़े बड़े माला बनाये गए थे। लेकिन पार्टी के नेताओं ने उन्हें नहीं पहना हहै और स्वागत के कार्यक्रम को ररद्द कर दिया। इसके बाद फूलों बड़ी बड़ी मालाओं और खेप को वापस कर दिया गया। दरअसल उन नेताओं का कहना था कि हमारे जवानों ने हमारी लिए अपनी जान कुर्बान कर दी है।

इस प्रोग्राम के दौरान शहीद जवानों की कुर्बानी को याद किया गया और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे भी लगाये गए। हालाँकि इस प्रोग्राम में राष्ट्रीय ओलमा कौंसिल के चीफ मौलाना रशादी भी शामिल होने के लिए आने वाले थे लेकिन किसी वजह से वह आ नहीं पाए। लेकिन इसके बाद उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं में फोन से संबोधित किया। इस दौरान पार्टी के कार्यकर्ताओं में लोकसभा चुनाव की तैयारी को लेकर गज़ब का जोश दिखाई दे रहा था।

इस दौरान राष्ट्रीय ओलमा कौंसिल के नेताओं ने पाकिस्तान को करारा जवाब देने की सरकार से मांग की है। राष्ट्रीय ओलमा कौंसिल के नेताओं ने कहा है कि हमारे 42 जवान शहीद हुए हैं। उन्होंने कहा है कि अब भारत सरकार को चुप नहीं बैठना चाहिए और पाकिस्तान को ऐसा मज़ा चखना चाहिए कि अब वह ऐसी हरकत के बाड़े में फिर कभी सोच न सके। इस दौरान फोन से कार्यकर्ताओं को सम्बोधत करते हुए मौलाना रशादी ने कहा है कि यह भारत पर सीधे तौर पर हमला किया गया है।

अब सभी भारतियों को एक जुट होना होगा। आपको बता दें कि इस मामले को लेकर सभी पार्टियाँ सरकार के साथ खड़ी हैं और सरकार ने सख्त कार्यवाही की मांग कर रही है। राहुल गाँधी ने भी अपने बयान में कहा था कि इस वक़्त वह सरकार के साथ खड़े हैं और अभी इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here