वैज्ञानिक भी मान गए दाढी के यह हैं फायदे प्यारे नबी का हर फरमान है सच

0

अस्सलामोअलैकुम रहमतुल्लाह बरकातहू भाइयों और बहनों, वैज्ञानिक भी मान गए दाढ़ी के ये फायदे: हमारे प्यारे मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हमेशा ऐसी बातें बताई जो हमारे लिए सही और फायदेमंद साबित हुई और ऐसी चीजों से मना फ़रमाया जो जो हमारे लिए नुकसानदेह हो। यही वजह है कि वह हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई बातें दुनिया और आखिरत तक कायम रहेगी और जो उस पर अमल करेगा वह कामयाब रहेगा और जन्नत में जायगा। हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने औरतों और मर्दों के लिए ऐसे हुकुम दिए जिन पर वह अमल करें और दुनिया और आखरत दोनों में कामयाब हो लेकिन यह हमारी बदकिस्मती है कि हम नए नए फैशन अख्तियार करते हैं और उन्हें अपने अहकाम को पीछे छोड़ देते हैं अपनी शान शौकत के लिए और उन्ही में फायदा समझते हैं।ऊपर से दिखावा करना और अच्छा दिखने वाली चीजों में अक्सर हमारा नुकसान छुपा होता है और आज जमाना नई नई चीजों से इतना मुतासिर हो गया है.

कि उसने अपने रसूल की कही हुई बातों को पीछे छोड़ दिया है लोग दाढ़ियां फैशन के लिए अपनाते हैं या फिर दाढ़ी को हटा देते हैं लेकिन इस्लाम इसके बारे में क्या हुक्म देता है और दाढ़ी रखने के क्या क्या फायदे हैं आज हम इस विषय पर बात करेंगे।प्यारे नबी सल्लल्लाहु अलैह वसल्लम ने अपनी उम्मत के लिए इरशाद फरमाया अपनी मूंछों को तराशो और अपनी दाढ़ी को छोड़ दो। इस हदीस मुबारका से पता चलता है इस्लाम में दाढ़ी रखने का क्या दर्जा हैह हुज़ूर सलल्ललाहु अलैहि वसल्लम ऐसे लोगों को पसंद नहीं करते थे जिन्होंने मूंछे रखकर दाढ़ी को कटवाया होता था इसका अंदाजा इस वाकए से लगाया जा सकता है कि एक बार कोई आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की खिदमत में किसी काम से आया आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने जब उनकी तरफ देखा तो ना पसंदगी से मुंह मोड़ लिया और कहा इन्हें मेरी नजरों से दूर कर दो।सहाबियों ने इरशाद फरमाया या रसूल अल्लाह यह लोग किसी खास काम से आए हैं तो आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने कहा अल्लाह की लानत हो उन पर जो दाढ़ियों को न रखे पूछने पर आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया इन लोगों ने मूंछे रखी है और दाढ़ियां साफ करदी हैइस वाकए से साफ होता है कि आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम दाढ़ी कटवाने वाले लोगों को किस कदर ना पसंद करते थे।

दाढ़ी रखने का हुक्म इस्लाम में क्यों दिया गया है और इसके पीछे क्या क्या फायदे हैं साइंस रिसर्च ने साबित कर दिया है दाढ़ी रखने के क्या क्या फायदे हैं और ना रखने के क्या क्या नुकसान होता है मगरिब देश में दाढ़ी के खिलाफ कुछ साइंसदानों ने यह अफवाह फैला रखी थी इस्लाम के खिलाफ की दाढ़ी रखने से स्किन पर तमाम तरह के बैक्टीरिया पैदा हो जाते हैं और इसी बिना पर दाढ़ी नहीं रखना चाहिए दिलचस्प बात यह है कि लंबी रिसर्च के बाद अब इस बात को दाढ़ी के तिब्बी फायदे को तस्लीम कर लिया गया है। मुसलमानों ने 14 साल पहले से दाढ़ी रखने की खूबसूरत रवायत को अपनाया है और अब पहली दफा जदीद मगरिब साइंस ने भी दाढ़ी के फायदों को तस्लीम कर लिया बरतानिया में डॉक्टर एडीएन मोनटी और दीगर साइंसदानों ने ढाढ़ी के फायदे को मान लिया है।

साइंसदानों ने इंसानी चेहरे पर ढाढ़ी के फायदों के ज़िक्र किया है जिसमे से चंद फायदे हम आपको बताते हैं- दोस्तों शेविंग के दौरान चेहरे पर रेज़र लगाने से बीमारी पैदा हो जाती है जिसमें एक बैक्टीरिया खाल में इंफेक्शन पैदा कर देता है। मेडिकल साइंटिस्ट का कहना है कि दाढ़ी रखने से यह मुसीबत कभी भी नहीं आती दाढ़ी और मूछों के बाल गर्द गुबार और गन्दगी को अपनी तरफ खींच कर नाक और बाकी अजज़ा में जाने से रोकते हैं और इससे इंसान को एलर्जी नहीं होती।चेहरे के घने बाल जिल्द को सूरज की नुकसान किरणों से बचाकर 95 फीसद तक रोकती हैं चेहरे की खाल पर धूप या माहौल का असर की वजह से झुर्रियां पड़ने का अमल शुरू हो जाता है दाढ़ियों की वजह से झुर्रियों का मसला बहुत कम रह जाता है और आपने अक्सर देखा भी होगा जो लोग दाढ़ी रखते हैं उनके चेहरे पर झुर्रियों के असरात बहुत कम नजर आते हैं।

शेविंग करने से बाल के अंदर तक कतजाते है और जब यह दोबारा बढ़ते हैं तो इनमें से कोई खाल के अंदर दोबारा बढ़कर के दाना और कील मुहांसों का सबब बन जाते हैं दाढ़ी इनसे से भी बचाती हैं दाढ़ी के बाल दमा पैदा करने वाले कीटाणुओं से बचाती है और इंसान को दमा जैसी बीमारियों से निजात दिलाती है। दाढ़ी से जिल्द धूल मिट्टी से महफूज रहती है जिससे पोलन एलर्जी का खतरा भी काफी हद तक कम हो जाता है दाढ़ी के बाल चलनी की तरह हवा को फिल्टर करते रहते हैं इसी तरह काम करते हैं जैसे नाक के बाल जब भी आप सांस लेंगे नुकसानदे चीज़ो को साफ ऑक्सीजन आपके अंदर शामिल होते है । शेविंग जेल में कई तरह की केमिकल पाया जाते हैं जेल का इस्तेमाल भी कम हो जाता है इससे चेहरे की खाल का इंफेक्शन वगैरह भी नहीं होता है साथ ही यह सर्दियों की ठंडी हवा से बचाकर स्किन को खुश्क होने से बचाती है बालों में मौजूद सभी ग्लैंड जिल्द को नरम रखती है।ढाढ़ी आमतौर पर मुसलमानों या इन्तेहाई मज़हब पसन्द लोगो के मज़हब का निशान समझी जाती है लेकिन दरअसल ये उनकी सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद हैं।

ये बात ऑस्ट्रेलिया में होने वाली 1तिब्बी तहकीक में पता चली है कोइसलैंड यूनिवर्सिटी की तहकीक के मुताबिक ढाढ़ी रखने से मर्दो को फायदा ये होता है कि सूरज से निकलने वाली किरणों से जिल्द की सुरक्षा करती है।इसी तरह 1 और तहकीक जबबरमंगम ट्राइकोलॉजी सेंटर की 1 तहकीक में बताया गया है मर्द जो पोलन एनर्जी के बाइस दमे का शिकार होजाता है। ये ढाढ़ी और मूंछे बहोत मददगार साबित होती है।ढाढ़ी न रखने से इंसान के चेहरे पर बहोत जल्दी बुढ़ापे के असरात दिखने लगते हैं।हमारे दीन ने हमारे लिए कोई भी चीज़ बेकार और बे मकसद नही बताई।बात हमारी समझ की है हम इन हुक्म को किस नज़र से देखते है ।अगर हम इस्लाम की तमाम बात पर अमल करें और दाढ़ी को प्यारे नबी की सुन्नत समझकर रखे यकीनन अल्लाह ताला की नज़र में अच्छे ठहरे और दुनिया में भी कामयाब रहेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here