5 साल पहले योगी आदित्यनाथ को रोकने वाले अखिलेश यादव आज खुद रोके गए

0

कई बार समय खुद को दोहराता है, और इस बार उत्तर प्रदेश में ऐसा हुआ है. यूपी के पूर्व सीएम व सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को लखनऊ से प्रयागराज जाने से रोक दिया गया. वह इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने जा रहे थे. सीएम योगी आदित्यनाथ सरकार की पुलिस ने उन्हें नहीं जाने दिया. वहीं, एक समय था जब योगी आदित्यनाथ को भी झांसी सहित कई जगहों पर जाने से रोका गया. तब राज्य की बागडोर अखिलेश यादव के हाथ में थी. भाजपा के लोग उस घटना को भी याद कर रहे हैं, जब सांसद रहते योगी आदित्यनाथ को झांसी नहीं जाने दिया गया था. योगी को कानपुर में ही हिरासत में ले लिया गया था.

अखिलेश सरकार में योगी को लिया गया हिरासत में
घटना 20 अगस्त 2013 की है. योगी आदित्यनाथ तब गोरखपुर से सांसद थे. वह झांसी के मढ़िया मोहल्ले में स्थित महाकाल मंदिर में महाजलाभिषेक कार्यक्रम में हिस्सा लेकर पूजा अर्चना के लिए जा रहे थे. इसी दौरान उन्हें तत्कालीन सीएम अखिलेश यादव की पुलिस ने कानपुर रेलवे स्टेशन से ही हिरासत में ले लिया. और वहीं से वापस गोरखपुर भेज दिया गया था. तब की तत्कालीन सरकार ने भी यही तर्क दिया था कि योगी के झांसी जाने से साम्प्रदायिक हिंसा हो सकती है. शांति को ख़तरा हो सकता है, इसलिए रोका गया है. मामला झांसी के मढ़िया मोहल्ला में स्थित मंदिर से अतिक्रमण को हटाने का था. उस मंदिर परिसर में एक समुदाय के लोग रहते थे. आज अखिलेश को रोके जाने के बाद राजनीति ने एक बार फिर करवट बदली है.

आज अखिलेश को रोका गया
बता दें कि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्र नेताओं के शपथ समारोह में जाने से पहले लखनऊ में ही रोक दिया गया. उन्हें लखनऊ के चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे पर पुलिस ने रोक दिया. अखिलेश यादव ट्वीट किया है, ‘सरकार छात्र नेताओं के शपथ समारोह में मेरे जाने से डर गयी. इसलिये मुझे इलाहबाद जाने से रोकने के लिये हवाई अड्डे पर रोक दिया गया. इसे लेकर सपा आंदोलित है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here