Connect with us

featured

‘हवाई’ सर्वेक्षण के बाद बोले जलशक्ति मंत्री, ‘ बलिया डीएम का नेतृत्व सराहनीय है’

Published

on

बलिया के बाढ़ग्रस्त इलाकों का जलशक्ति मंत्री महेन्द्र सिंह ने हवाई सर्वेक्षण किया। इसके बाद उन्होंने कलेक्ट्रेट सभागार में प्रशासनिक व सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की साथ ही बचाव व राहत कार्याें की समीक्षा भी की। उन्होंने बाढ़ प्रभावित इलाकों में समय से राहत सामग्री, पका-पकाया भोजन के पैकेट, स्वच्छता, मानव व पशु सुरक्षा के लिए जरूरी दवाओं की उपलब्धा व दवा किट का वितरण आदि के सम्बन्ध में कड़े दिशा-निर्देश दिए। साथ उन्होंने जिला प्रशासन की तैयारियों पर संतोष जताते हुए जिलाधिकारी अदिति सिंह के नेतृत्व की भी जमकर सराहना  की।जलशक्ति मंत्री श्री सिंह ने कहा कि बलिया को बाढ़ से बचाने के लिए सरकार ने कोई कमी नहीं छोड़ी। यहां के लिए जितने प्रस्ताव गए, सभी को स्वीकृत किया गया। सबसे अहम बात कि बचाव कार्य के लिए जो धनराशि अप्रैल में मिलती थी, उसे हमारे मुख्यमंत्री जी ने जनवरी में ही जिलों में भिजवा दिया, ताकि समय से कार्य पूरा करके खत्म भी किया जा सके। इसी का नतीजा रहा कि समय से सभी परियोजनाएं पूरी भी हो गयी। समीक्षा बैठक में उन्होंने अधिकारियों से कहा कि तैयारी में अब भी कोई कमी रह गयी है तो उसे तत्काल पूरा कर लें।

जहां पानी आ गया है वहां तो तैनात रहें ही, जहां पानी आने वाला हो, वहां के लिए भी तैयारी पहले ही कर लें। अनुमन्य राहत सामग्री का वितरण युद्धस्तर पर हो। इसलिए जरूरी है कि पर्याप्त मात्रा में राहत सामग्री बनाकर तैयार कर लिया जाए। विस्थापित परिवार को पका पकाया फुड पैकेट दिया जाए। जरूरतमंदों को साड़ी व अन्य जरूरी कपड़े भी दे सकते हैं। इसमें सामाजिक सहयोग भी लें। शुद्ध पेयजल सबसे जरूरी सेवाओं में एक है, इसलिए आवश्यकता पड़े तो बड़े गैलेन के माध्यम से उपलब्ध कराने का प्रयास करें। जलभराव वाले क्षेत्रों में बिजली काट दी जाती है, ऐसे में वहां प्रकाश

व्यवस्था के लिए टार्च, मोमबत्ती, लालटेन, मिट्टी तेल, इमरजेंसी लाईट की व्यवस्था जरूर कर लें। टापू बने गांवों में जनरेटर के माध्यम से प्रकाश व्यवस्था सुनिश्चित कराएं। हर गांव में एकाध बैट्री की व्यवस्था कर दें, ताकि लोग मोबाइल चार्ज कर सकें। उन्होंने सीडीओ को निर्देश दिया कि पंचायत सचिव, रोजगार सेवक, निगरानी समिति व स्वच्छता समिति को आपस में समन्वय बनाकर गांव में बैठकर ग्रामीणों की समस्या का समाधान कराने का प्रयास सुनिश्चित कराएं। बाढ़ प्रभावित हर गांव में एक-एक नोडल तैनात कर उनकी जवाबदेही तय कर दिया जाए।

डीपीआरओ को निर्देश दिया कि स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें, ताकि संक्रामक बीमारियों को फैलने से रोका जा सके। इसके लिए युद्धस्तर पर फाॅगिंग, छिड़काव, ब्लीचिंग कराते रहें। एडीएम से कहा कि कंट्रोल रूम 24 घंटे संचालित रहे और उस पर आने वाली सूचना पर तत्काल रिस्पांस मिले। बैठक में बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि बैरिया क्षेत्र के 8 गांवों की करीब 25 से 30 आबादी प्रभावित है। लेकिन, सुदूर इलाकों में एक भुवालछपरा व नौरंगा के लोगों को कस्बों में आने के लिए दो घंटे  नाव से आना पड़ता है। इसलिए वहां चिकित्सा के क्षेत्र में सुसज्जित व्यवस्था सबसे जरूरी है। क्षेत्र में सचल मेडिकल टीम भी रहे। विधायक ने बीएसटी बंधे के डेंजर जोन एनएच-31 पर रामगढ़ के पास रिस्की प्वाइंट को बताते हुए कहा कि अगर एनएच टूटा तो बड़ी तबाही होगी। इस पर जलशक्ति मंत्री ने बाढ़ खंड के एक्सईसन को पूरी ताकत लगाकर वहां अलर्ट रहने का निर्देश दिया। बेल्थरारोड विधायक धनन्जय कन्नौजिया ने कोईरी मुहान ताल को जल संरक्षण केंद्र के रूप में विकसित करने की मांग की। बैठक में जिलाधिकारी अदिति सिंह, एसपी डाॅ विपिन ताडा, सीडीओ प्रवीण वर्मा, एडीएम रामआसरे सहित सिंचाई व बाढ़ खंड के अभियंता मौजूद थे।

तटबंधों पर कैंप करें इंजीनियर- जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ने कहा कि पानी के बढ़ने की अभी भी सम्भावना है। इसलिए बाढ़ खंड के सभी इंजीनियर तटबंधों पर कैंप करें। तटबंधों पर लगातार भ्रमण कर संवेदनशील जगहों पर नजर रखें। डेंजर जोन जहां है वहां जनरेटर लगवाकर प्रकाश व्यवस्था कर निगरानी करें। जनप्रतिनिधियों से भी सम्पर्क बनाकर रहें और उनसे भी राय-मशविरा करते रहें।

मानव संग पशुओं की भी करनी है चिंता– जलशक्ति मंत्री ने कहा कि बाढ़ की आपदा में मानव जाति संग पशुओं की भी उतनी ही चिंता करनी है। सीवीओ को निर्देश दिए कि पशुओं के लिए भी चारा, दवाई, टीकाकरण की व्यवस्था अत्यंत जरूरी है। सीएमओ से कहा कि सभी सीएचसी-पीएचसी पर स्टाॅफ तैनात रहे। हर बाढ़ चैकी पर स्वास्थ्य विभाग की टीम जरूरी दवाओं के साथ तैनात रहे। आवश्यकत दवाओं से लैस किट तैयार रखें, ताकि जरूरत पड़ने पर तत्काल वितरण की जा सके। गर्भवती महिलाओं को क्या सावधानी बरतनी है, इसके लिए जागरूक किया जाए।वायरलेस सेट के साथ सिपाही हर गांव में रहें- मंत्री श्री सिंह ने पुलिस अधीक्षक डाॅ विपिन ताडा से कहा कि बाढ़ के समय गांवों से सम्पर्क टूटने की आशंका रहती है। ऐसे में हर प्रभावित गांव में वायरलेस सेट के साथ सिपाही हर समय रहें। पुलिस जवान गांव में बैठकर एक दूसरे के सहयोग के प्रति जागरूक करेंगे तो वह और कारगर होगा। उन्होंने कहा कि बचाव कार्य के लिए जिले में आए एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, गोताखोर, नाव चालक आदि की सुविधाओं का भी ख्याल रखा जाए। उन्हें समय से भोजन-पानी व अन्य संसाधन मिले।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

featured

बलिया में एक बार फिर 9 अभियुक्तों पर जिला बदर की कार्रवाई, तीन के शस्त्र लाइसेंस भी निरस्त

Published

on

बलियाः जिला मजिस्ट्रेट अदिति सिंह ने गुण्डा एक्ट अधिनियम के तहत 9 लोगों को छह महीने के लिए जिला बदर किया है। वहीं 5 लोगों पर इस अधिनियम के तहत कार्यवाही करने के लिए जारी कारण नोटिस वापसी की कार्यवाही की है।

जिलाधिकारी ने विरेन्द्र सोनी उर्फ पप्पू निवासी घोडहरा थाना दुबहड, विशाल पटेल उर्फ पिन्टू निवासी पिलुई थाना मनियर, अशोक चौहान निवासी रामपुर बर्रेबोझ थाना रसडा, मारकण्डेय मिश्रा निवासी भेडौरा थाना उभांव, अविनाश सिंह उर्फ सिंकू निवासी डुमरिया थाना सहतवार, रामाकान्त सिंह निवासी सरदासपुर थाना रसडा, खुर्शीद निवासी वार्ड नम्बर 10 कस्बा रेवती थाना रेवती, रोहित यादव निवासी शाहपुर आंफगा थाना उभांव, सुदामा यादव निवासी टघरौली थाना बांसडीह रोड को जिला बदर किया है। वहीं आफताब अली, मोहम्मद अली हुसैन व

समशुददीन निवासी छोटकी सेरिया थाना बांसडीह, पवन कुमार सिंह पुत्र विक्रम सिंह निवासी मरौटी भैसंहा थाना रेवती, शिवम चौधरी पुत्र अवधेश चौधरी निवासी कस्बा रेवती थाना रेवती के खिलाफ जारी कारण बताओ नोटिस वापस लेने का निर्णय जिला मजिस्ट्रेट अदिति सिंह ने लिया है।

तीन शस्त्र लाइसेंस निरस्त, दो वाहन जब्त

जिला मजिस्ट्रेट ने तीन अभियुक्तों का शस्त्र लाईसेंस निरस्त किया है। अजीमुल्लाह पुत्र सफिउल्लाह निवासी बहेरी थाना कोतवाली, सुशील कुमार सिहं उर्फ झाबर निवासी फेफना थाना फेफना, हरिन्द्र यादव पुत्र मुसाफिर यादव निवासी बिलारी थाना सुखपुरा के शस्त्र लाइसेंस को निरस्त कर दिया है। वहीं दो गोवध अधिनियम के अन्तर्गत सद्दाम कुरैशी निवासी उमरगंज थाना कोतवाली बलिया, रविन्द्र कुमार निवासी गनेश धर्मकाटा तरना शिवपुर वाराणसी के वाहन को जब्त करने की कार्रवाई की है।

Continue Reading

featured

जल्द पूरा हो चौकिया-तेंदूआ मार्ग निर्माण, वरना अनशन पर बैठूंगा: पूर्व विधायक

Published

on

बेल्थरारोडः कई आंदोलनों और लंबी जंग के बाद चौकिया-तेंदूआ मार्ग का निर्माण शुरु हुआ था। लेकिन अब मार्ग की मरम्मत का काम रुक गया है। अधूरे मार्ग निर्माण ने लोगों की परेशानी और भी बढ़ा दी है। मार्ग पर जगह जगह गिट्टी-मिट्टी, कीचड़ से राहगीर परेशान हो रहे हैं।

नागरिकों की इन्हीं समस्या को देखते हुए अब समाजवादी पार्टी से पूर्व विधायक गोरख पासवान ने आवाज उठाई है और मार्ग निर्माण शुरु न होने पर आमरण अनशन की चेतावनी दी है। पूर्व विधायक ने बलिया ख़बर से बातचीत के दौरान कहा कि चौकिया-तेंदूआ मार्ग की चार किलोमीटर की रोड सालभर से अधूरी पड़ी है। निर्माण कार्य ठप्प है।

इस रोड़ पर पानी गिरने से कीचड़ हो जाता है और धूल-मिट्टी से राहगीर परेशान होते हैं। लेकिन काम कराने के बजाए जनता को कभी रोलर दिखा दिया जाता है, कभी जेसीबी, पर असल में काम नहीं होता। पूरे मार्ग में धूल उड़ती है। जिससे लोग बीमार हो रहे हैं। स्वशन संबंधी दिक्कतें हो रही हैं। हादसे हो रहे हैं। लेकिन सुनवाई नहीं की जा रही।

ऐसे में पूर्व विधायक ने सरकार को चेतावनी दी है कि यदि सोमवार 13 तारीख तक रोड़ नहीं बनाई गई तो सपा पार्टी के लोग मंडी पर इकट्ठा होंगे और जुलूस के माध्यम से एसडीएम को ज्ञापन देंगे और उसी दिन से मैं चरणसिंह की मूर्ति पर अनशन करूंगा। विधायक का कहना है कि अनशन के 3 दिन बाद तक भी कोई सुनवाई नहीं होगी तो वह मार्ग बनने तक आमरण अनशन करेंगे।

विधायक का कहना है कि जनता रोज चिल्लाती है। व्यापार-आवागमन सब प्रभावित हुआ है। आसपास के लोग परेशान होकर सरकार से आग्रह कर रहे हैं। सपा भी कई बार ज्ञापन दे चुकी है। लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई। इसलिए अब लड़ाई आर-पार की होगी। अगर सरकार नहीं मानती है तो सपा उग्र आंदोलन करेगी।

Continue Reading

featured

Ballia News- बैरिया में शराबियों का आंतक! राहगीर पर किया चाकू से हमला

Published

on

बलिया के बैरिया थाना क्षेत्र में शराबियों का आतंक देखने को मिल रहा है। जहां नशे में धुत्त कुछ युवकों ने सड़क से गुजर रहे राहगीर पर चाकू से हमला कर दिया। हमले में युवक गंभीर रुप से घायल हो गया। जिसे वाराणसी के अस्पताल में भर्ती किया गया है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के मुताबिक बैरिया थाना क्षेत्र के चांददीयर चौकी अंतर्गत प्रांतीय सीमा से सटे सरकारी बीयर की दुकान की यह घटना है। जहां दुकान के सामने कुछ लोग बीच रास्ते में ही शराब पी रहे थे। तभी वहां से चांददीयर गांव निवासी जयराम यादव 22 पुत्र बीरन यादव गांव के ही गुड्डू यादव के साथ घर का सामान खरीदने टोला शिवन राय के चट्टी पर जा रहा था।

जयराम ने शराब पी रहे युवकों से रास्ते से हटने को कहा तो वह लोग भड़क गए और जयराम पर चाकू से हमला कर दिया। इस हमले में जयराम को गंभीर चोटे आई। घायल के साथी ने ग्रामीणों को सूचना दी। जिसके बाद घायल को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सोनबरसा पहुंचाया गया। वहीं घायल की हालत को गंभीर देखते हुए उसे वाराणसी रेफर कर दिया गया।

बताया जा रहा है कि घटनास्थल पर मौजूद लोगों ने हमलावरों की तलाश शुरु की। एक आरोपियों को पकड़ कर लोगों ने उसकी पिटाई कर दी। जबकि बाकी लोग भाग निकले। मामले को लेकर चांददीयर पंचायत निवासी सुमेर यादव आदि ग्रामीणों का आरोप है कि इस बीयर की दुकान के पीछे रेस्टोरेंट की तरह बैठने की व्यवस्था है।

यहां बिहार के लोग रोजाना आकर अड्डा जमाते हैं। आरोप लगाया कि चांददीयर पुलिस की मिलीभगत से यह कार्य हो रहा है। कई बार शिकायत के बावजूद कार्यवाही तक नहीं हुई। वहीं मामले को लेकर जब बैरिया एसएचओ शिवशंकर सिंह ने बातचीत की तो उन्होंने कहा घटना की जानकारी मिली है। अभी कोई तहरीर नहीं मिली है। तहरीर प्राप्त होते ही कार्रवाई की जाएगी।

 

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!