Connect with us

featured

बलिया: 15 साल पुराने मामले में अदालत ने खारीज किया हत्या का आरोप, उम्रकैद की सज़ा क्यों?

Published

on

Allahabad High Court (फोटो साभार: The Leaflet)

Allaशुक्रवार को इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने बलिया में घर में आग लगाकर हत्या करने के मामले में 12 आरोपितों पर से हत्या का आरोप खारिज कर दिया है। जस्टिस अंजनी कुमार मिश्र और जस्टिस सैयद आफताब हुसैन रिजवी की खंडपीठ ने सेशन कोर्ट के फैसले को पलटते हुए अपना फैसला सुनाया है। अदालत ने सभी आरोपितों को हत्या और जानलेवा हमले के अलावा अन्य आरोपों का दोषी पाया है। उच्च न्यायालय ने उम्रकैद की सज़ा को बरकरार रखा है।

इस मामले में आरोपित सात अभियुक्त जमानत पर हैं। उच्च न्यायालय ने इन सभी की जमानत निरस्त कर दी है। साथ पंद्रह दिन के भीतर अधीनस्थ अदालत में सरेंडर करने का आदेश दिया है। उच्च न्यायालय ने कहा है कि अगर पंद्रह दिन के भीतर आरोपित सरेंडर नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है।

क्या है पूरा मामला: इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने ये फैसला पंद्रह साल पुराने मामले में सुनाया है। 2006 का साल था। जनवरी का ठंडा महीना। बलिया के रजनीकांत यादव नाम के एक शख्स ने पकरी थाने में एफआईआर दर्ज कराई। एफआईआर में कहा गया था कि बासुदेव राजभर, कमला राजभर, गुड्डू राजभर, पंचरतन राजभर, राजकपूर गोंड, रामभवन राजभर, हरीशचंद राजभर, गामा राजभर, कंविद्र नाथ, रवींद्र नाथ, श्रवण कुमार, अजय चौहान, राजेश उर्फ बब्बन, संतोष, अरबिंद गौर, राजू, राजेश, जवाहर चौहान, ब्रह्मदेव चौहान, रमाशंकर राजभर और बीस अन्य लोगों ने उसके घर पर हमला कर दिया। साथ ही उसके चाचा राजेश यादव के साथ मारपीट भी की।

मुकदमें में रजनीकांत यादव ने आरोप लगाया था कि आरोपियों ने उनके घर में बाहर से दरवाजा बंद करके आग लगा दी। बाद में पिता चंद्र देव यादव के साथ भी मारपीट की गई। घटना के बाद अस्पताल ले जाते हुए रास्ते में ही पिता की मौत हो गई। तो वहीं अन्य लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे। पुलिस ने इस मामले में चार्जशीट दाखिल की थी। सेशन कोर्ट ने इस मामले में आरोपित 12 लोगों के खिलाफ अलग-अलग धाराओं में सज़ा सुनाई थी। सेशन कोर्ट ने आईपीसी की धारा-302 और 307 के तहत आरोपितों को सज़ा दी थी। जिसे आज उच्च न्यायालय ने पलट दिया। अन्य धाराओं में सज़ा बरकरार है।

 

featured

फेफना के कोल्डस्टोरेज में सरकारी उपकरण मिलने पर पूर्व विधायक ने उठाए सवाल, कही ये बात

Published

on

बलिया। फेफना विधानसभा के कनैला गांव स्थित एक कोल्डस्टोरेज में दिव्यांगजनों को दिये जाने वाला उपकरण भारी मात्रा में पकड़े जाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। कहा जा रहा है कि ये कोल्डस्टोरेज बीजेपी नेता का है। जिसके बाद से राजनैतिक बयानबाजी भी तेज हो गई है। तमाम विपक्षी पार्टियों ने भाजपा पर सवाल भी उठाए हैं।

इसी बीच मामले को लेकर पूर्व विधायक व सपा नेता संग्राम सिंह का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि “चुनाव प्रभावित करने के लिए ट्राई साइकिल रखी गई थी। उन्होंने अधिकारियों पर भी मिलीभगत के आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि मामले में अधिकारी भी मिले हैं, निष्पक्ष चुनाव के लिए अधिकारियों पर एफआईआर दर्ज की जाए।”

संग्राम सिंह ने सवाल उठाते हुए कहा कि “आखिर सरकारी सामान को प्राइवेट गोदाम में क्यों रखा गया? मंत्री उपेंद्र तिवारी पर वार करते हुए कहा कि उन्होंने दिव्यांगों को भी नहीं छोड़ा।” मामले पर अभी तक ठोस कार्यवाही न होने से भी सपा नेता नाराज दिखे। उन्होंने कहा कि मामले कार्रवाई ना होना डीएम की मजबूरी है।

बता दें कि बीते दिन कनैला गांव स्थित एक कोल्डस्टोरेज में दिव्यांगजनों को दिये जाने वाला उपकरण भारी मात्रा में पकड़े गए थे। जिसके बाद जांच टीम ने उपकरणों को सोहांव ब्लॉक पर बीडीओ की निगरानी में सौंप दिया है। निजी स्थान पर उपकरण मिलने पर दिव्यांगजन अधिकारी को नोटिस जारी कर रिपोर्ट तलब की गई है। मीडिया रिपोर्ट्स में कोल्ड स्टोरेज को भाजपा के बड़े नेता और सरकार में एक मंत्री के करीबी का बताया गया था।

Continue Reading

featured

बलिया- फेफना में कोल्डस्टोरेज से सरकारी उपकरण बरामद, बीजेपी नेता का बताया जा रहा स्टोरेज

Published

on

बलिया। फेफना विधानसभा में चुनावी सरगर्मियों के बीच क्षेत्र में दिव्यांगों को दिए जाने वाले उपकरण एक निजी कोल्डस्टोरेज से बरामद किए गए हैं। मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि ये कोल्डस्टोरेज बीजेपी नेता का है। वहीं सदर एसडीएम के निर्देश पर टीम ने उपकरणों को जब्त कर सोहांव ब्लॉक पर वीडीओ की निगरानी में सौंप दिए हैं। साथ ही दिव्यांगजन अधिकारी को नोटिस जारी कर मामले में रिपोर्ट तलब की गई है। मामले में काफी सवाल उठ रहे हैं। जिनका सवाल जांच के बाद ही मिल सकता है।

बता दें कनैला गांव स्थित एक कोल्डस्टोरेज में दिव्यांगजनों को दिये जाने वाला उपकरण भारी मात्रा में पकड़े जाने का मामला सामने आया है। एसडीएम सदर के निर्देश पर टीम ने उपकरणों को सोहांव ब्लॉक पर बीडीओ की निगरानी में सौंप दिया है। निजी स्थान पर उपकरण मिलने पर दिव्यांगजन अधिकारी को नोटिस जारी कर रिपोर्ट तलब की गई है। भारत समाचार ने अपनी रिपोर्ट में इस कोल्ड स्टोरेज को भाजपा के बड़े नेता और सरकार में एक मंत्री के करीबी का बताया है। 

वहीं टीम ने बरामद उपकरणों को ट्रकों पर लदवाकर कर सोहांव ब्लॉक भेजा। जहां सोहांव ब्लॉक के बीडीओ के संरक्षण में सभी उपकरण रखे गए हैं। एसडीएम सदर ने बताया कि शिकायत मिली थी कि कनैला गांव में एक कोल्ड स्टोरेज में दिव्यांगजनों को दिए जाने वाले सरकारी उपकरण रखे हैं। जांच की गई तो सही पाया गया और वहां पर जांच में भारी मात्रा में उपकरण बरामद हुए। दिव्यांगजन अधिकारी को नोटिस भेजा गया है। जिसमें पूछा गया है कि किन परिस्थितियों में ये उपकरण निजी स्थान पर रखे गए थे, यह गैर कानूनी है। क्या सम्बंधित अधिकारियों को इसकी जानकारी थी? हालांकि जांच के बाद भी सब कुछ साफ हो पाएगा।

Continue Reading

featured

जानें कौन है मेजर रमेश उपाध्यय जिन्हें JDU ने बैरिया से मैदान में उतारा

Published

on

बलियाः विधानसभा चुनाव के नजदीक आते ही राजनैतिक पार्टियां धीरे-धीरे अपने पत्ते खोल रही हैं। कल सपा ने प्रदेश की विभिन्न सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा की। अब जनता दल (यूनाइटेड) ने अपने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी है।

जनता दल के द्वारा अभी 20 सीटों पर अपने प्रत्याशी घोषित किए हैं। जिसमें रोहनियां, गोसाईगंज, मडिहोंन, घोरावल, बांगरमऊ, प्रतापपुर, करछना समेत कई विधानसभा शामिल हैं। जदयू के द्वारा बलिया की बैरिया सीट पर भी अपने उम्मीदवार का नाम घोषित किया गया है।

पार्टी के द्वारा बैरिया से मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय को चुनावी मैदान में उतारा है। मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय के बारे में बात करें तो वह सेना के रिटायर्ड अधिकारी हैं। बीते साल 2020 में रमेश चंद्र उपाध्याय जदयू में शामिल हुए थे। 2019 लोकसभा चुनाव में रमेश चंद्र उपाध्याय ने बलिया से निर्दलीय चुनाव लड़ा था। लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। इससे पहले 2012 में भी रमेश चंद्र उपाध्याय हिंदू महासभा की टिकट पर बेरिया सीट से विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं।

चूंकि उपाध्याय ब्राम्हण चेहरा हैं, ऐसे में सवर्णों का साथ मिल सकता है। इसी सोच और जातिगत समीकरणों को बैठाते हुए पार्टी ने उन्हें प्रत्याशी बनाया है। इसी के साथ पार्टी ने अन्य विधानसभाओं में भी अपने प्रत्याशियों के चेहरे उजागर किए हैं। जिनकी लिस्ट आप यहां देख सकते हैं।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!