बलिया- एयरफोर्स के जवान के शव का इंतजार, गांव में नहीं जल रहा चूल्हा

0

लापता एएन -32 विमान में सवार 13 वायु सैनिकों की मौत की खबर मिलने के बाद बलिया के शोभा छपरा गांव में तीन दिन से चूल्हा नहीं जला है।
विमान में सवार इस गांव के वायु सैनिक सूरज कुमार सिंह की सलामती के लिए दस दिन तक मंदिर में भजन-कीर्तन से लेकर मन्नतों का दौर चला।

गत शुक्रवार को विमान के सभी सैनिकों के मौत की बुरी खबर आने के बाद पूरे गांव में मातम पसर गया। सूरज के शव के इंतजार में सिर्फ उनके घर ही नहीं नजदीकी रिश्तेदारों के घर भी चूल्हा नहीं जल रहा है। सबको इंतजार है सूरज के शव के घर आने का ताकि उनको अंतिम विदाई दी जा सके।

भारतीय वायु सेना का विमान एएन-32 लापता होने के बाद वायु सैनिक सूरज की पत्नी शालू की तबीयत बिगड़ गई थी। उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था, तब से वह अस्‍पताल में ही हैं। उधर, घर पर बेटे के गम में रोते-रोते मां की आंखें सूज गई हैं। सूरज के पिता विनोद सिंह के साथ उनके भाई विक्रांत ने सरकार से वायु सेना के बेड़े से एएन-32 विमान को हटाने की मांग की है। सूरज के मामा भी एएन-32 विमान क्रैश हो जाने से जान गंवा बैठे थे।

विनोद सिंह के तीन बेटों में सबसे बड़े सूरज हैं। मई में 15 दिन की छुट्टी पर आने के बाद 24 मई को ही वह असम स्थित जोरहाट वायुसेना यूनिट गए थे। जिस दिन विमान लापता हुआ उसके एक दिन पहले उनकी घरवालों से बातचीत हुई थी। सूरज के पिता वायुसेना मुख्यालय जोरहाट फोन करके बेटे के पार्थिव शरीर के बारे में जानकारी ले रहे हैं लेकिन अभी तक कोई संतोषजनक जानकारी नहीं मिल सकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here