Connect with us

featured

बलिया में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा वर्कर और रसोइया संघ ने किया हड़ताल, मार्च भी निकाला

Published

on

बलिया के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा कार्यकर्ताओं और रसोइयों ने शुक्रवार को जिलाधिकारी के सामने अपनी 17 सूत्री मांग रखी।

बलिया के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा कार्यकर्ताओं और रसोइयों ने शुक्रवार को जिलाधिकारी के सामने अपनी 17 सूत्री मांग रखी। इसमें आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा कार्यकर्ताओं और रसोइयों को राज्य कर्मचारी का दर्जा देने और मानदेय बढ़ाकर न्यूनतम 21000 रुपए प्रति माह करने की मांगे भी शामिल हैं। अपनी 17 सूत्रीय मांगों को लेकर केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के राष्ट्रव्यापी आह्वाहन पर सीटू बलिया के नेतृत्व में महिला आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ, आशा कर्मचारी संघ और रसोइया कर्मचारी संघ के सभी कार्यकर्ताओं ने हड़ताल किया।महिला आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ, आशा कर्मचारी संघ और रसोइया कर्मचारी संघ के नेतृत्व में बड़ी संख्या में आंगनबाड़ी, आशा और रसोइया कर्मचारियों नें मार्च भी निकाला। रैली निकालते हुए ये सभी कार्यकर्ता बलिया जिलाधिकारी के कार्यालय पहुंची। जिला कार्यालय पर भी इन्होंने धरना दिया। उसके बाद जिलाधिकारी को अपने 17 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन सौंपा।

जिला कार्यालय पर धरना देते हुए आंगनबाड़ी की अध्यक्षा पूनम यादव ने कहा कि कोरोना के बहाने सरकार हम स्कीम वर्कर्स का शोषण कर रही है। जिसे अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। आशा कर्मचारी यूनियन की अध्यक्षा संगीता सिंह ने कहा कि सभी स्कीम वर्करों को सम्मानजनक मानदेय 21000 रुपए प्रतिमाह और राज्य कर्मचारी का दर्जा दिया जाए। इसके लिए जारी आंदोलन सरकार को सत्ता से हटाने तक जारी रहेगा। रसोइया संघ की जिलाध्यक्ष रेनू शर्मा ने कहा कि रसोइयों को पचास रुपए हर रोज का मानदेय और वह भी सात महीनों से नहीं दिया जा रहा है। यदि सरकार ने हमारी मांगें नहीं मानी तो हम रसोइया इस सरकार को सत्ता से हटाने का कार्य करेगें।

धरना देते हुए राज्य कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष अजय यादव, सीटू के जिला संयोजक अजीत सिंह, आशा कर्मचारी संघ के जिला संरक्षक सुशील त्रिपाठी, रसोइया संघ के जिला संरक्षक चन्द्रमा प्रसाद, संयुक्त किसान सभा के रामजीयावन यादव, के साथ श्वेता मिश्रा, अर्चना सिंह, शशि सिंह, विमला भारती, संतोष राय, हेमान्ती देवी और आनन्द सहित विभन्न संगठन के कार्यकर्ताओं ने संबोधित किया।

featured

बलिया में एक बार फिर 9 अभियुक्तों पर जिला बदर की कार्रवाई, तीन के शस्त्र लाइसेंस भी निरस्त

Published

on

बलियाः जिला मजिस्ट्रेट अदिति सिंह ने गुण्डा एक्ट अधिनियम के तहत 9 लोगों को छह महीने के लिए जिला बदर किया है। वहीं 5 लोगों पर इस अधिनियम के तहत कार्यवाही करने के लिए जारी कारण नोटिस वापसी की कार्यवाही की है।

जिलाधिकारी ने विरेन्द्र सोनी उर्फ पप्पू निवासी घोडहरा थाना दुबहड, विशाल पटेल उर्फ पिन्टू निवासी पिलुई थाना मनियर, अशोक चौहान निवासी रामपुर बर्रेबोझ थाना रसडा, मारकण्डेय मिश्रा निवासी भेडौरा थाना उभांव, अविनाश सिंह उर्फ सिंकू निवासी डुमरिया थाना सहतवार, रामाकान्त सिंह निवासी सरदासपुर थाना रसडा, खुर्शीद निवासी वार्ड नम्बर 10 कस्बा रेवती थाना रेवती, रोहित यादव निवासी शाहपुर आंफगा थाना उभांव, सुदामा यादव निवासी टघरौली थाना बांसडीह रोड को जिला बदर किया है। वहीं आफताब अली, मोहम्मद अली हुसैन व

समशुददीन निवासी छोटकी सेरिया थाना बांसडीह, पवन कुमार सिंह पुत्र विक्रम सिंह निवासी मरौटी भैसंहा थाना रेवती, शिवम चौधरी पुत्र अवधेश चौधरी निवासी कस्बा रेवती थाना रेवती के खिलाफ जारी कारण बताओ नोटिस वापस लेने का निर्णय जिला मजिस्ट्रेट अदिति सिंह ने लिया है।

तीन शस्त्र लाइसेंस निरस्त, दो वाहन जब्त

जिला मजिस्ट्रेट ने तीन अभियुक्तों का शस्त्र लाईसेंस निरस्त किया है। अजीमुल्लाह पुत्र सफिउल्लाह निवासी बहेरी थाना कोतवाली, सुशील कुमार सिहं उर्फ झाबर निवासी फेफना थाना फेफना, हरिन्द्र यादव पुत्र मुसाफिर यादव निवासी बिलारी थाना सुखपुरा के शस्त्र लाइसेंस को निरस्त कर दिया है। वहीं दो गोवध अधिनियम के अन्तर्गत सद्दाम कुरैशी निवासी उमरगंज थाना कोतवाली बलिया, रविन्द्र कुमार निवासी गनेश धर्मकाटा तरना शिवपुर वाराणसी के वाहन को जब्त करने की कार्रवाई की है।

Continue Reading

featured

जल्द पूरा हो चौकिया-तेंदूआ मार्ग निर्माण, वरना अनशन पर बैठूंगा: पूर्व विधायक

Published

on

बेल्थरारोडः कई आंदोलनों और लंबी जंग के बाद चौकिया-तेंदूआ मार्ग का निर्माण शुरु हुआ था। लेकिन अब मार्ग की मरम्मत का काम रुक गया है। अधूरे मार्ग निर्माण ने लोगों की परेशानी और भी बढ़ा दी है। मार्ग पर जगह जगह गिट्टी-मिट्टी, कीचड़ से राहगीर परेशान हो रहे हैं।

नागरिकों की इन्हीं समस्या को देखते हुए अब समाजवादी पार्टी से पूर्व विधायक गोरख पासवान ने आवाज उठाई है और मार्ग निर्माण शुरु न होने पर आमरण अनशन की चेतावनी दी है। पूर्व विधायक ने बलिया ख़बर से बातचीत के दौरान कहा कि चौकिया-तेंदूआ मार्ग की चार किलोमीटर की रोड सालभर से अधूरी पड़ी है। निर्माण कार्य ठप्प है।

इस रोड़ पर पानी गिरने से कीचड़ हो जाता है और धूल-मिट्टी से राहगीर परेशान होते हैं। लेकिन काम कराने के बजाए जनता को कभी रोलर दिखा दिया जाता है, कभी जेसीबी, पर असल में काम नहीं होता। पूरे मार्ग में धूल उड़ती है। जिससे लोग बीमार हो रहे हैं। स्वशन संबंधी दिक्कतें हो रही हैं। हादसे हो रहे हैं। लेकिन सुनवाई नहीं की जा रही।

ऐसे में पूर्व विधायक ने सरकार को चेतावनी दी है कि यदि सोमवार 13 तारीख तक रोड़ नहीं बनाई गई तो सपा पार्टी के लोग मंडी पर इकट्ठा होंगे और जुलूस के माध्यम से एसडीएम को ज्ञापन देंगे और उसी दिन से मैं चरणसिंह की मूर्ति पर अनशन करूंगा। विधायक का कहना है कि अनशन के 3 दिन बाद तक भी कोई सुनवाई नहीं होगी तो वह मार्ग बनने तक आमरण अनशन करेंगे।

विधायक का कहना है कि जनता रोज चिल्लाती है। व्यापार-आवागमन सब प्रभावित हुआ है। आसपास के लोग परेशान होकर सरकार से आग्रह कर रहे हैं। सपा भी कई बार ज्ञापन दे चुकी है। लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई। इसलिए अब लड़ाई आर-पार की होगी। अगर सरकार नहीं मानती है तो सपा उग्र आंदोलन करेगी।

Continue Reading

featured

Ballia News- बैरिया में शराबियों का आंतक! राहगीर पर किया चाकू से हमला

Published

on

बलिया के बैरिया थाना क्षेत्र में शराबियों का आतंक देखने को मिल रहा है। जहां नशे में धुत्त कुछ युवकों ने सड़क से गुजर रहे राहगीर पर चाकू से हमला कर दिया। हमले में युवक गंभीर रुप से घायल हो गया। जिसे वाराणसी के अस्पताल में भर्ती किया गया है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के मुताबिक बैरिया थाना क्षेत्र के चांददीयर चौकी अंतर्गत प्रांतीय सीमा से सटे सरकारी बीयर की दुकान की यह घटना है। जहां दुकान के सामने कुछ लोग बीच रास्ते में ही शराब पी रहे थे। तभी वहां से चांददीयर गांव निवासी जयराम यादव 22 पुत्र बीरन यादव गांव के ही गुड्डू यादव के साथ घर का सामान खरीदने टोला शिवन राय के चट्टी पर जा रहा था।

जयराम ने शराब पी रहे युवकों से रास्ते से हटने को कहा तो वह लोग भड़क गए और जयराम पर चाकू से हमला कर दिया। इस हमले में जयराम को गंभीर चोटे आई। घायल के साथी ने ग्रामीणों को सूचना दी। जिसके बाद घायल को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सोनबरसा पहुंचाया गया। वहीं घायल की हालत को गंभीर देखते हुए उसे वाराणसी रेफर कर दिया गया।

बताया जा रहा है कि घटनास्थल पर मौजूद लोगों ने हमलावरों की तलाश शुरु की। एक आरोपियों को पकड़ कर लोगों ने उसकी पिटाई कर दी। जबकि बाकी लोग भाग निकले। मामले को लेकर चांददीयर पंचायत निवासी सुमेर यादव आदि ग्रामीणों का आरोप है कि इस बीयर की दुकान के पीछे रेस्टोरेंट की तरह बैठने की व्यवस्था है।

यहां बिहार के लोग रोजाना आकर अड्डा जमाते हैं। आरोप लगाया कि चांददीयर पुलिस की मिलीभगत से यह कार्य हो रहा है। कई बार शिकायत के बावजूद कार्यवाही तक नहीं हुई। वहीं मामले को लेकर जब बैरिया एसएचओ शिवशंकर सिंह ने बातचीत की तो उन्होंने कहा घटना की जानकारी मिली है। अभी कोई तहरीर नहीं मिली है। तहरीर प्राप्त होते ही कार्रवाई की जाएगी।

 

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!