Connect with us

बलिया

90 प्रतिशत लोग आज भी पिछड़ेपन के दायरे में रहने को मजबुर- छोटलाल राजभर

Published

on

अनुरागी देवी की आठवीं पुण्यतिथि वंचित अधिकार दिवस के रुप में मनायी गयी

बलिया। जनपद की सुप्रसिद्ध सामाजिक संस्था डा० अम्बेडकर सोशल वेलफेयर सोसाइटी असनवार की संस्थापिका अध्यक्ष श्रीमती अनुरागी देवी की आठवीं पुण्यतिथि राम अइगा प्रसाद अनुरागी फाऊंडेशन (रापा फाऊंडेशन) के प्रधान कार्यालय पर ” वंचित अधिकार दिवस ” के रुप में मनायी गयी।इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रुप में सम्बोधित करते हुए पूर्व विधायक छोटलाल राजभर ने कहा कि आजादी के 75 साल बीतने के बावजूद आज भी देश की एक बहुत बड़ी आबादी आज भी अपने मौलिक अधिकारों से वंचित है। कारण कि इन वंचित समूहों के प्रति शासन सत्ता में बैठे लोग कभी संवेदनशील नहीं रहे है।यही कारण है कि आज भारत में दो भारत बसते है। एक 10 प्रतिशत लोगो का रईस इण्डिया और दुसरा 90 प्रतिशत लोगो का गरीब भारत , जोआज भी पिछड़ेपन के दायरे में रहने को अभिशप्त है। जब तक इस तरह की असमानता देश के अन्दर रहेगी , हम लोग चाहकर भी भारत को एक सशक्त राष्ट्र नही बना सकते है।

विशिष्ट अतिथि बहुजन समाज पार्टी के आजमगढ मण्डल के मुख्य सेक्टर प्रभारी विनोद सेहरा ने कहा कि संविधान में यह स्पष्ट व्याख्या की गयी है कि कोई भी राज्य किसी भी नागरिक के विरुद्ध जाति , धर्म , लिंग एवं जन्म स्थान के आधार पर कोई विभेद पैदा नहीं करेगा।इसके बावजूद भी शासन ,प्रशासन और कानून के तरफ से देश के बहुत बड़े समूह को आज भी समान व्यवहार और समान अवसर नहीं प्राप्त हो पा रहा है। आज भी उनकी हालत ज्यों की त्यों बनी हुई है। उनकी हालत बद से बदतर होती जा रही है , जिसे आज गम्भीरता से लेने की जरुरत है। नहीं तो इसके भंयकर परिणाम भुगतने पड़ सकते है।

जन अधिकार पार्टी के आजमगढ मण्डल के पूर्व अध्यक्ष धन्नजय कुशवाहा ने कहा कि अब तक कि सभी सरकारों के गलत नीति निर्धारण के चलते देश के अन्दर अमीर और अमीर होते जा रहे है। वंचित वर्ग के लोगो का अपना जीवन जीना मुश्किल हो गया है।कुछ धनी लोग भारत की सम्पत्ति के बहुत बड़े हिस्से पर कब्जा जमाये बैठे है। एक तरफ वो लोग है जो खाना खाते समय यह सोचते है कि क्या- क्या खाये ? दुसरी तरफ वो लोग है कि जो यह सोचते है कि क्या खाये ? जब तक इस तरह का अन्तर देश के अन्दर विद्दमान रहेगा , तब तक देश की प्रगति और विकास के सभी दावे खोखले ही साबित होंगेे। समाज और देश में व्याप्त इस तरह की असमानता को समाप्त कर ही देश को एक समृद्धशाली राष्ट्र बनाया जा सकता है।उक्त कार्यक्रम में प्रमुख रुप से भाग लेने वालों में करनेश सिंह ( पूर्व जिलाध्यक्ष , ग्राम प्रधान संघ बलिया ) , हर्षदेव (जिलाध्यक्ष , ग्राम पंचायत व विकास अधिकारी समन्वय समिति बलिया ) , संजय कुमार पाण्डेय ( जिलाध्यक्ष , भारतीय पत्रकार सघ बलिया ) , दिनेश कुमार गुप्ता (ब्यूरो चीफ – भारत एकता टाइम्स बलिया ) , रवि सिन्हा ( क्राइम रिपोर्टर ) , जमाल अख्तर जी (जिलाध्यक्ष , रोजगार सेवक संघ बलिया) , विजय प्रसाद (जिलाध्यक्ष , रामेन्द्र कुमार , बाल गोविन्द यादव ( निदेशक , जेबीआरएस इन्फ्रा डेवलपमेंट लखनऊ) , राज कमल ( जिला उपाध्यक्ष , ग्राम पंचायत अधिकारी संघ बलिया) , दिनेश राजभर (ब्लाक अध्यक्ष कांग्रेस कमेटी चिलकहर ), रामाशीष गौतम ( समाजवादी अम्बेडकर वाहिनी ), विक्रमा सिंह ( ब्लाक मंत्री , भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी चिलकहर ) , चौथी राम (सहायक विकास अधिकारी पंचायत , चिलकहर ),अजीत कुमार राजभर ( प्रधान प्रतिनिधि असनवार ) , सुभाष चन्द ( प्रधान बसनवार ) , रवीन्द्रनाथ कनौजिया ( प्रधान प्रतिनिधि सवन ) , बन्टी कुमार ( प्रधान कैथी कला ) , जितेन्द्र कुमार राव ( प्रधान चिन्तामणिपुर ), मुन्नू राम (पूर्व प्रधान रघुनाथपुर ) , राम अवध यादव ( पूर्व प्रधान सवन ) , मनोज कुमार सिंह , प्रदीप शर्मा ,राम अवध राम ( सभी ग्राम पंचायत विकास अधिकारी गण ) , प्रमोद कुमार सिंह , अंजनीकुमार सिंह ( भारतीय जनता पार्टी बलिया ) , मनीष निगम ( पूर्व जिला संयोजक ) , सुखराम ( शाखा प्रबन्धक ) , एस. के. रंजन , बच्चा नन्द प्रसाद , सुरेन्द्र राम , मुन्ना यादव , आशुतोश कुमार , नन्दा वर्मा , आदि लोग प्रमुख प्रमुख रहे। अन्त में आये हुए सभी लोगो के प्रति आभार प्रकट स्व० अनुरागी देवी के छोटे पुत्र जयराम अनुरागी ने किया।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बलिया

बलिया: घोटाले की जांच करने आए अधिकारी ने लगाया जान से मारने की धमकी का आरोप

Published

on

प्रतिकात्मक तस्वीर साभार: सोशल मीडिया

बलिया के दो गांवों में मनरेगा योजना और प्रधानमंत्री आवास योजना में हुए घोटाले की जांच करने पहुंचे आजमगढ़ मंडल के संयुक्त विकास आयुक्त को जान से मारने की धमकी देने का मामला सामने आया है। संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा ने इस मामले में उत्तर प्रदेश सरकार के ग्राम्य विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव और निजी सचिव को पत्र लिखा है। उन्होंने इस मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा ने आरोप लगाया है कि घोटाले की जांच करने जाने पर बेलहरी विकास खंड के खंड विकास अधिकारी दीपक त्रिवेदी ने कुछ दबंगों के साथ मिलकर उन्हें धमकाया। पीएन वर्मा का आरोप है कि खंड विकास अधिकारी ने सूचना लेने जाने पर शराब पीकर गाली-गलौज भी की।

क्या है पूरा मामला? इस मामले को शुरू से समझते हैं। आजमगढ़ मंडल के संयुक्त विकास आयुक्त हैं पीएन वर्मा। उन्होंने ग्राम्य विकास सचिव और निजी सचिव को लिखे पत्र में इस मामले को शुरू से अंत तक बताया है। पीएन वर्मा ने लिखा है कि उत्तर प्रदेश सरकार के ग्राम्य विकास राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला के आदेश पर वे बेलहरी विकास खंड के दो गांवों सुल्तानपुर और भरहता में मनरेगा और प्रधानमंत्री आवास योजना में हुए घोटाले की जांच करने गए थे।

पीएन वर्मा के अनुसार पिछले दिनों इस मामले में सूचना हासिल करने के लिए बलिया के विकास भवन गए। लेकिन विकास भवन में उन्हें जरूरी सूचनाएं नहीं दी गईं और पूरे दिन फिजूल में बैठाया गया है। इसके बाद वे 26 नवंबर को सूचना और खंड विकास अधिकारी का इंतजार करते रहे। लेकिन सुबह आठ बजे से लेकर रात साढ़े आठ बजे तक उनकी मुलाकात खंड विकास अधिकारी से नहीं हो सकी।

बेलहरी विकास खंड पर इसी दिन रात साढ़े आठ बजे खंड विकास अधिकारी अपने कुछ दबंगों के साथ शराब के नशे में पहुंचे। पीएन वर्मा के मुताबिक बेलहरी विकास खंड अधिकारी दीपक त्रिवेदी ने शराब के नशे में उनके साथ गाली-गलौज की और जान मारने की धमकी दे डाली। पीएन वर्मा ने अपने पत्र में लिखा है कि दीपक त्रिवेदी ने धमकाते हुए कहा कि “आज तक किसी अधिकारी ने यहां जांच करने की हिम्मत नहीं की।”

मामला बिगड़ता देख संयुक्त विकास आयुक्त अपने अर्दली सतीश पांडेय और ड्राइवर पप्पू के साथ वहां से चले गए। अब पीएन वर्मा ने शासन को पत्र लिखकर इस मामले की जांच कर दोषी खंड विकास अधिकारी पर कार्रवाई करने की मांग की है। बता दें कि “बलिया के पुलिस आयुक्त राज करन नय्यर ने बताया है कि इस मामले में कोई पत्र मिलने के बाद ही मैं कुछ कह पाउंगा।”

Continue Reading

बलिया

बलिया में पत्नी को जुए में हारा पति, फिर मांगे दो लाख मांगे, नहीं देने पर दिया तीन तलाक

Published

on

बलिया से चौंकाने वाला मामला सामने आया है। जहां एक पति ने अपनी पत्नी को जुए में दांव पर लगा दिया और हार गया। हारने के बाद पति ने अपनी पत्नी से दो लाख की डिमांड की और नहीं देने पर तीन तलाक दे दिया। परेशान महिला ने जिलाधिकारी से न्याय की गुहार लगाई है।

बताया जा रहा है कि मनियर थाना क्षेत्र का युवक दिल्ली में काम करता है। शादी के 6 साल बाद वह अपनी पत्नी को दिल्ली ले गया। जब पत्नी पति के साथ रहने लगी तो धीरे-धीरे उस व्यक्ति की गलत आदतों का पता महिला को चलता गया।

पत्नी का आरोप है कि एक दिन पति दिल्ली में अपने दोस्तों के साथ जुआ खेल रहा था, तो उसने पत्नी को ही दांव पर लगा दिया और जुआ हार गया। पत्नी को इस बात की जानकारी मिलने पर वह जान बचाकर मायके भागी। मायके आने के बाद भी पति का आंतक खत्म नहीं हुआ। पति ने महिला से 2 लाख रुपए मांगे। जब महिला ने पैसे देने से इनकार किया तो पति ने तीन बार तलाक बोलकर रिश्ता खत्म कर दिया। अब पीड़ित महिला अपनी छोटी बेटी को लेकर न्याय के लिए भटक रही है। महिला ने बलिया डीएम अदिति सिंह से भी न्याय की गुहार लगाई है।

Continue Reading

बलिया

बलिया: शौच को गई नाबालिग के साथ गैंगरेप, 4 आरोपी गिरफ्तार

Published

on

बलिया में लगातार महिला अपराधों की संख्या बढ़ रही हैं। दुष्कर्म और छेड़छाड़ की घटनाएं सामने आ रही हैं। इसी बीच ताजा मामला सामने आया है सिकंदरपुर से, जहां शौच करने गई नाबालिग लड़की के साथ चार युवकों ने दरिंदगी की। फिलहाल चारों आरोपी पुलिस की गिरफ्त में है।

जानकारी के मुताबिक सिकंदरपुर थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाली नाबालिग लड़की सोमवार शाम शौच करने गई थी। तभी रास्ते में गांव के ही चार युवकों ने उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। पीड़िता किसी तरह भागकर घर पहुंची।

परिजनों को मामले की जानकारी दी। परिजन पीड़िता को थाने लेकर पहुंचे। पीड़िता की मां की तहरीर पर पुलिस ने सामूहिक दुष्कर्म और पास्को एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया। मुखबिर की सूचना पर मंगलवार की सुबह आरोपी मोनू गौड़, समरजीत राजभर, अरविंद तुरहा, राजेश पांडेय को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!