Connect with us

featured

बलिया के सुरहा ताल में पहुंचने लगे विदेशी परिंदे

Published

on

बलिया के सुरहा ताल में इन दिनों पक्षियों की चहचहाहट शुरु हो गई है। अब प्रवासी पक्षी सुरहा ताल की सैर पर निकले हैं। पक्षी विहार में अलग अलग प्रजाति के पक्षियों के झुंड देखे जा रहे हैं जो खुले आसमान सैर करने के साथ साथ ताल के किनारे आराम फरमा रहे हैं। बांसडीह के लगभग 10 किमी क्षेत्र में फैले इस सुरहा ताल में सर्दी शुरु होते ही हजारों की संख्या में लगभग विदेशी पक्षियों के आने का सिलसिला शुरु हो जाता है। पहले लोग विदेशी पक्षियों को अठखेलियां करते देख खुश होते थे लेकिन अब पक्षियों के आनंद को शिकारियों की नजर लग गई है।

बीते कुछ वर्षों से स्थानीय लोग ताल आने वाले प्रवासी पक्षियों का शिकार कर उन्हें खाने और बेचने को अपना व्यवसाय बना चुके हैं। शिकारियों के खौफ से कुछ नस्ल के पक्षियों ने यहां आना छोड़ दिया है। इस साल भी हजारों मील की दूरी तय कर प्रवासी पक्षी पहुंच रहे हैं। लेकिन फिर से शिकारी सक्रिय हो गए हैं। गौरतलब है कि सुरहा के किनारे बसे गांवों फुलवरिया, बघौता, मैरीटार, कैथवली, सूर्यपुरा, दतिवड़, शिवपुर व बंसतपुर आदि गांवों को बीच से चीरते हुये बारहों मास बहने वाले सुरहा ताल में पैदा होने वाले ललका, सूर्यपंखी, टुड़ैला आदि धान

को खाने के लिये आने वाले प्रवासी मेहमानों को शौकीनों का निवाला बनने से रोकने के लिये कुछ साल पहले शासन ने ताल को संरक्षित क्षेत्र घोषित किया। राजा सुरथ के नाम से जुड़े  साथ ही इसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी काशी वन्य जीव प्रभाग रामनगर वाराणासी के हवाले कर दिया। बावजूद, उनके शिकार होने का सिलसिला थम नहीं पा रहा है। लेकिन अब विदेशी मेहमानों में से कितने शिकारियों से बचकर सुरक्षित वापस लौटेंगे, यह स्थानीय लोगों व सुरक्षा के जिम्मेदारों पर निर्भर करेगा।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

featured

Breaking – बलिया में दो महीने तक के लिये धारा 144 लागू

Published

on

बलिया। विधानसभा सामान्य निर्वाचन- 2022 एवं 23 जनवरी को आयोजित होने वाली उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटेट), 2021 तथा आगामी त्यौहार यथा महाशिवरात्रि/होली को दृष्टिगत रखते हुए जनपद बलिया की सीमा के भीतर निवास करने वाले तथा आने जाने वाले समस्त व्यक्तियों के लिए 20 जनवरी से आगामी दो माह तक की अवधि के लिए धारा-144 लागू किया गया है। जिला मजिस्ट्रेट इन्द्र विक्रम सिंह ने बताया है कि कोई भी व्यक्ति प्रत्याशी राजनैतिक दल आदर्श चुनाव आचार संहिता की शर्तों का उल्लंघन नहीं करेगा और बिना अनुमति के रैली, जनसभा, नुक्कड़ तथा जुलूस आदि का आयोजन नहीं करेगा।

किसी भी प्रत्याशी/राजनैतिक दल द्वारा चुनाव प्रचार हेतु कोविड-19 के संबंध में मा0 भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित दिशा निर्देशों का उल्लंघन नहीं किया जाएगा। किसी भी व्यक्ति द्वारा निर्वाचन कार्य में लगे कर्मचारियों के साथ किसी प्रकार का अमर्यादित व्यवहार तथा उनके कार्यों में व्यवधान उत्पन्न नहीं किया जाएगा। रात्रि 08 बजे से प्रातः 08 बजे के बीच कोई भी रैली, जनसभा नहीं की जाएगी। नुक्कड़ तथा किसी भी सार्वजनिक सड़क अथवा गोल चक्कर या सार्वजनिक गली या रोड के किनारे नहीं की जाएगी। प्रत्याशी सहित पांच व्यक्तियों से ज्यादा सुरक्षा गार्ड को छोड़कर व्यक्ति डोर टू डोर चुनाव प्रचार नहीं करेगे।

कोई भी व्यक्ति बिना अनुमति के किसी भी वाहन से चुनाव प्रचार नहीं करेगा। चुनाव प्रचार के लिए काफिले में पांच से अधिक वाहन नहीं होंगे, सुरक्षा वाहन को छोड़कर। चुनाव प्रचार के काफिले में पांच वाहन से ज्यादा होने पर प्रत्येक पांच वाहन के काफिले के बीच की दूरी आधा किलो मीटर से कम नहीं होगी। दो पहिया चुनाव प्रचार वाहन पर दो फीट गुणे एक फीट के एक झंडे से ज्यादा झंडे लगाने की अनुमति नहीं होगी। चार पहिया चुनाव प्रचार वाहन पर 3 फीट गुणे दो फीट के एक झंडे से ज्यादा झंडे लगाने की अनुमति नहीं होगीI चुनाव प्रचार हेतु प्रयोग किए जाने वाले झंडे के डंडे की लंबाई 3 फीट से ज्यादा नहीं होगी। किसी भी राजनैतिक दल द्वारा बिना अनुमति के कोई भी रोड शो नहीं किया जाएगा। रोड शो बड़े अस्पताल ट्रामा सेंटर, ब्लड बैंक के पास तथा भीड़ वाले मार्केट पर पिक अवधि में नहीं किया जाएगा। किसी भी दशा में रोड शो के दौरान आधे से ज्यादा सड़क को घेरा अथवा बाधित नहीं किया जाएगा।

रोड शो में पटाखों तथा किसी भी प्रकार के शस्त्रों को ले जाने की अनुमति नहीं होगी। रोड शो के दौरान 6 फीट गुणे 4 फीट से ज्यादा बड़ा बैनर का प्रयोग नहीं किया जाएगा। विशेषतया रोड शो के दौरान स्कूल बच्चों को स्कूली ड्रेस पहनकर भाग लेने की अनुमति नहीं होगी। नामांकन के दौरान प्रत्याशी द्वारा रिटर्निंग ऑफिसर के कार्यालय की 100 मीटर की परिधि में दो से ज्यादा वाहन प्रवेश नहीं करेंगे। चुनाव के दौरान किसी भी प्रचार वाहन, जुलूस, चुनावी मीटिंग, चुनावी सभा इत्यादि बिना अनुमति के लाउडस्पीकर का प्रयोग नहीं किया जाएगा। किसी भी चुनाव प्रचार वाहन में बैनर लगाने की अनुमति नहीं होगी। परीक्षा के दौरान परीक्षा केंद्र के 200 गज की परिधि में परीक्षा से संबंधित लोगों को छोड़कर अन्य किसी भी व्यक्ति के प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। उक्त आदेश का उल्लंघन भारतीय दंड विधान की धारा-188 के अंतर्गत दंडनीय अपराध होगा।

Continue Reading

featured

बलिया में वैक्सीनेशन टीम के साथ अभद्रता करने वाला युवक गिरफ्तार

Published

on

बलिया के रेवती ब्लॉक क्षेत्र में वैक्सीनेशन टीम के साथ बदसलूकी और हाथापाई के मामले में पुलिस ने बड़ी कार्यवाही करते हुए आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस का कहना है आरोपी के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही की जा रही है।

रेवती ब्लॉक के भच्छर कटहा ग्राम पंचायत में टीकाकरण करने पहुंची टीम को परेशानी का सामना करना पड़ा। यहां मौजूद एक शख्स ने पहले को वैक्सीन न लगवाने को लेकर टीम को जमकर छकाया, और बाद में टीम के साथ हाथापाई तक कर डाली। इस गंभीर घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ।

इस वीडियो में नज़र आया कि किस तरह युवक ने पहले टीका लेने से मना किया और बाद में इसको लेकर वैक्सीनशन टीम के साथ दुर्व्यवहार किया। टीम के साथ हाथापाई करने के साथ ही उठापटक से लेकर वैक्सीनेसन टीम के मास्क तक छीन लेने की घटना भी कैमरे में कैद हो गई।

मामले में रेवती ब्लाक के बी.डी.ओ. ने बताया कि लोगों को वैक्सीनेशन करने के उद्देश्य से टीम ने खेत, खलिहान, गांव और नदी के घाटों तक जाकर लोगों को टीका लगाया। इसी बीच टीकाकरण से बचने एक व्यक्ति पेड़ पर चढ़ गया। जो कि ग्राम पंचायत हंड़िहा कला का है। वहीं सरयू नदी के किनारे भी भच्चर कटहा ग्राम पंचायत के एक नाविक ने टीकाकरण टीम के साथ अभ्रदता की थी। जिसका वीडियो वायरल हुआ था।

वही पुलिस ने आरोपी नाविक विपिन यादव को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस की मानें तो सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ है। वैक्सीनेशन करने वाली टीम के साथ एक व्यक्ति ने अभद्रता की थी। अब पुलिस द्वारा उसको ट्रेस कर लिया गया है। विपिन यादव को थाना रेवती ने गिरफ्तार कर नियमानुसार विधिक कार्रवाई की है।

Continue Reading

featured

बलिया में साम्प्रदायिक सौहार्द्र की मिसाल, हिंदू परिवार ने कब्रिस्तान के लिए दान की 3 डिसमिल जमीन

Published

on

बलिया । लालगंज के हृदयपुर ग्राम पंचायत में हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल देखने को मिली। जहां एक हिंदू परिवार ने मुस्लिम समाज की मांग पर अपनी 3 डिसमिल जमीन कब्रिस्तान के लिए दान में दे दी। और समाज में साम्प्रदायिक सौहार्द्र की मिशाल कायम की। जिसकी चर्चा पूरे क्षेत्र में हो रही है। साथ ही महंगाई के दौर में जमीन दान करने पर भी लोग हैरान हैं।

हिंदुस्तान अखबार की एक रिपोर्ट के मुताबिक कब्रिस्तान के लिए जमीन के अभाव में ग्राम पंचायत हृदयपुर के लोगों को दूसरे गांव के कब्रिस्तान में जाकर शव को दफनाना पड़ता है। ऐसे में लोगों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता था। ऐसे में शिवकुमार पाठक और कृष्ण कुमार पाठक से गांव के मुस्लिम समाज के लोगों ने कब्रिस्तान के लिए जमीन की मांग की।

मुस्लिम समाज की मांग पर कृष्ण कुमार पाठक ने अपने परिवार से राय कर मुरारपट्टी मौजे की अपनी निजी भूमि में से तीन डिसमिल भूमि मुसलमानों को दान देकर उसमें शव को दफनाने की अनुमति दे दी। इतना ही नहीं बुधवार को मुस्लिम परिवार की महिला को उसी जमीन में दफनाया भी गया। हिन्दू-मुस्लिम एकता की इस मिसाल की चर्चा क्षेत्र भर में हो रही है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!