Connect with us

बलिया स्पेशल

बलिया जेल में बंद बदमा’श ने ब्लाक प्रमुख से मांगी लाख रुपये की रंगदा’री !

Published

on

बलिया- जेलों से रंगदारी वसूली का खेल कोई नई बात नहीं है। जेल के भीतर अपराधी मोबाइल फोन का इस्तेमाल धड़ल्ले से कर रहे हैं । ताज़ा मामला जिले की जेल से आया है खबर के मुताबिक आजमगढ़ जिले के लाटघाट क्षेत्र के हरैया ब्लाक प्रमुख दुलारी देवी के प्रतिनिधि संतोष सिंह से एक लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई और रुपये न देने पर जान से मारने की धमकी दी गई।

पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। जानकरी के मुताबिक रौनापार थाने के मसूरियापुर गांव निवासी संतोष सिंह हरैया ब्लाक प्रमुख दुलारी देवी के प्रतिनिधि हैं। उनके मुताबिक रौनापार के साहीडीह के प्रधान सुशीला यादव का देवर धर्मेंद्र यादव प्रतिनिधि है। संतोष सिंह का आरोप है कि धर्मेंद्र यादव कई दिनों से एक लाख रुपये मांग रहा था। 17 अगस्त को ब्लाक परिसर में संतोष के पास धर्मेंद्र बाइक से पहुंचा और कहा कि बलिया जेल से ध्रुव सिंह बात करेंगे।

संतोष के फोन लेते ही उधर से आवाज आई कि मेरे विषय में धर्मेंद्र आपको समझा देगा। वह जो कह रहा, उसे पूरा कर दो। इसके बाद से ही धर्मेंद्र रुपये के लिए संतोष पर दबाव बनाने लगा। सोमवार को संतोष सिंह ने थाने में रंगदारी मांगने वालों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई।

इसमें धर्मेंद्र यादव और ध्रुव सिंह पता अज्ञात के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कराई।पुलिस ने धर्मेंद्र यादव को गिरफ्तार कर लिया जबकि दूसरे के नाम और पते की तस्दीक कर रही है। उधर, जीयनपुर कस्बा निवासी संजय गुप्ता ने सोमवार को थाने में दो लोगों के विरुद्ध रंगदारी मांगने की रिपोर्ट दर्ज कराई।

इसमें जीयनपुर कोतवाली के टड़वा सरफुद्दीनपुर गांव निवासी संतोष यादव सहित दो लोगों को आरोपित किया है। बदमाश ने दुकानदार संजय गुप्ता से हर माह दस हजार की रंगदारी मांगी है। रुपये न देने पर जान से मारने की धमकी दी है।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

featured

जानिए अधिकारियों और नाराज़ व्यापारियों के बीच बैठक की वो बातें, जो सामने नहीं आईं

Published

on

बलिया डेस्क : बलिया में कोरोना संक्रमित मरीज़ों की संख्या तेज़ी से बढ़ रही है। महामारी के इस ख़तरे को देखते हुए ज़िला प्रशासन एक्टिव मोड में आ गया है। नगर मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में अधिशासी अधिकारी (ईओ) दिनेश कुमार विश्वकर्मा अपनी टीम के साथ मिलकर बाज़ारों का निरीक्षण कर रहे हैं। इस दौरान उन दुकानदारों के ख़िलाफ़ सख्त कार्रवाई की जा रही है, जो कथित तौर पर नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं।

प्रशासन की इस कार्रवाई में दुकानदारों से जुर्माने की रकम वसूली गई है। जिससे व्यापारी संगठन बेहद नाराज़ हैं। व्यापारी संगठनों ने ईओ दिनेश कुमार विश्वकर्मा के खिलाफ़ मोर्चा खोल दिया है। व्यापारियों का कहना है कि ईओ उन्हें अनावश्यक ही परेशान कर रहे हैं, जबकि वह सभी नियमों का पालन कर रहे हैं। साथ ही नाराज व्यापारियों ने ईओ समेत कई अधिकारीयों पर कारवाई करने की मांग भी मंत्री से की।

क्या बोले आनन्द स्वरूप शुक्ल ? व्यापारियों की नाराज़गी के मद्देनज़र रविवार को कलेक्ट्रेट सभागार में प्रशासनिक अधिकारियों के साथ व्यापारियों की एक बैठक भी हुई। बैठक में व्यापारियों की नाराज़गी को देखते हुए संसदीय कार्य व ग्राम विकास राज्यमन्त्री आनन्द स्वरूप शुक्ल भी उनके समर्थन में आ गए हैं। उन्होंने व्यापारियों को आश्वासन दिया है कि प्रशासन द्वारा वसूला गया जुर्माना उन्हें वापस लौटा दिया जाएगा।

ईओ ने रखा अपना पक्ष- इस बैठक में ईओ ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि उन्होंने दुकानदारों के खिलाफ सख्त कार्रवाई सिर्फ इसलिए की ताकि कोरोना संक्रमण के ख़तरे की रोकथाम हो सके। उन्होंने कहा कि कड़ा कदम उटाए बिना कोरोना के ख़तरे को बढ़ने से नहीं रोका जा सकता। बैठक में मौजूद रहे ज़िलाधिकारी श्री हरि प्रताप शाही ने इस दौरान ईओ की बातों का समर्थन किया।

बैठक में डीएम ने क्या कहा? बलिया खबर के सूत्रों के मुताबिक, शांति से तकरीबन आधे घंटे तक सभी को सुनने के बाद डीएम ने इशारो इशारों में कई बड़ी बातें भी कही। उन्होंने बैठक में कहा कि शुरुआत में कोरोना संक्रमण के ख़तरे को देखते हुए आप में से ही कई व्यापारी सख्ती की मांग कर रहे थे। लेकिन अब प्रशासन की ओर से सख्ती की जा रही है तो आप इसका विरोध कर रहे हैं। जबकि आपको भी पता है कि कोरोना की रोकथाम के लिए सख्ती ज़रूरी है। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण सबसे ज़्यादा बाज़ारों से ही फैल रहा है। इसलिए इसे अनुशासित किया जाना आवश्यक है।

डीएम ने कहा कि आज बलिया नगर में 500 से ज़्यादा कोरोना पाज़िटिव केस हैं, इनमें से 300 से ज़्दाया प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से व्यापारियों और उनके परिवार से जुड़े केस हैं। उन्होंने कहा कि बलिया नगर में पहला केस 25 जून को लक्ष्मी मार्केट से ही सामने आया था। इसके साथ ही उन्होंने उस कोरोना पॉज़िटिव सेल्स गर्ल का भी उदाहरण दिया जिसके सम्पर्क में आने से 21 लोग कोरोना पाज़िटिव हो गए थे। डीएम ने कहा हैरानी की बात ये है कि जिस दिन उस सेल्स गर्ल के दुकान की बैरिकेटिंग हो रही थी उसी दिन उस दूकान के स्वामी वहां बैठ कर ग्राहकों से पैसे का लेंन देंन कर रहे थे, ये संवेदनशीलता है हमारी ?

शाही ने कहा कि इन्हीं सब तथ्यों को देखते हुए मार्केट में ख़ास अनुशासन की ज़रूरत है। जिसका पालन नहीं किया गया तो ख़तरा बढ़ सकता है। व्यापारियों को चाहिए कि वह कोरोना के खिलाफ़ इस जंग में प्रशासन का साथ दें।

बलिया में कोरोना की स्थिति-  10 अगस्त की सुबह तक प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक बलिया में पिछले 24 घंटों में कोरोनावायरस संक्रमण के 83 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही अब बलिया में कुल दर्ज मरीज़ों की संख्या 2410  के पार हो गई है। बलिया में अब तक 24 लोगों की मौत हो चुकी। वहीं अब जिले में ऐक्टिव 933 हैं।

Continue Reading

बलिया स्पेशल

सपा शासन में भाजपा विधायक ने सड़क के गढ्डे में की थी रोपाई, अब खुद मंत्री बने तो सब भूल गए

Published

on

बलिया : उत्तर प्रदेश में जब भाजपा सरकार सत्ता में आई थी तो सीएम योगी ने प्रदेश की सड़कों को गड्ढा मुक्त करने का वादा किया था लेकिन इस वादे पर कितना अमल किया गया, यह बात किसी से छुपी नहीं. सूबे के तमाम जिलों की सड़कों की तरह बलिया की सड़कों पर भी बुरा हाल है. सड़कों पर गड्ढे जस के तस हैं.

सड़कें बदहाल है जिसकी कोई सुध लेने वाला नहीं है. गड़वार मार्ग की सड़कों की भी यही स्थिति है. यहाँ के गड्ढे अब जानलेवा साबित हो सकते हैं. खरहाटार में सड़क पर तो अब गड्ढे में पानी ऐसी भर गया है मानो बीचों बीच किसी ने तालाब खोद दिया है. इसकी वजह से यहाँ से गुजरने वाले राहगीरों को तमाम तरह की परेशानी और खतरे का सामना करना पड़ता है. यहाँ हर रोज़ कोई न कोई ट्रक या गाड़ी गड्ढे में फंस जाती है. लेकिन प्रशासन को इससे कोई लेना देना नहीं है. शायद वह यहाँ कोई बड़ी दुर्घटना का इंतजार कर रहा है. बता दें कि यह बलिया की सबसे व्यस्त सड़कों में से एक है.

गड़वार-खरहाटार मार्ग से होकर तमाम भारी वाहन बिहार तक जाते हैं. यहाँ ट्रकों की लम्बी कतारें लग जाती हैं. अमर उजाला की रिपोर्ट के  इससे पहले जब सूबे में सपा की सरकार थी तो तत्कालीन विधायक उपेंद्र तिवारी ने यहाँ अपने कार्यकर्ताओं के साथ धान की रोपाई कर डाली थी. लेकिन अब सरकार उनकी है. सरकार में वह मंत्री हैं. फिर भी सड़क ही स्थिति वैसी ही है. अब इस गड्ढे वाली सड़क पर उनका ध्यान नहीं जाता है. वहीँ इस मामले पर मंत्री के लोगों का कहना है की इस सड़क की स्वीकृति  मार्च के महीने में हो चुकी जल्द ही इसका काम शुरू हो जाएगा.

Continue Reading

बलिया

बलिया नगर पालिका ईओ के खिलाफ लटकी मुक़दमे की तलवार !

Published

on

बलिया –जिले में कोरोना को लेकर प्रशासन द्वारा दुकान खोलने के नियम बनाने के बाद भी व्यापारियों से अवैधानिक तरीके से जुर्माना वसूलने के मुद्दे को लेकर समाजवादी पार्टी के नेता व पूर्व नपा चेयरमैन लक्ष्मण गुप्ता के नेतृत्व में शहर के व्यापारियों ने जिलाधिकारी से मिला। इस दौरान व्यापारियों ने नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी के खिलाफ लूट का मुकदमा दर्ज किए जाने की मांग की।

बताया कि अगर प्रशासनिक उत्पीड़न नहीं रुका तो हम व्यापारी अब कोविड-19 के तहत दी गई व्यवस्था से अलग हटकर जिला प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए बाध्य होंगे। इस मौके पर जिलाधिकारी के प्रतिनिधि को ज्ञापन सौंपकर मांग किया गया कि जिले के व्यापारियों के साथ उत्पीड़नात्मक कार्रवाई न की जाय।

साथ ही पुलिस और प्रशासनिक उत्पीड़न की घटनाओं पर रोक लगाई जाय। मौके पर नपा के पूर्व चेयरमैन लक्ष्मण गुप्ता ने नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी के खिलाफ लूट का मुकदमा दर्ज किए जाने की मांग की। कहा कि शहर के स्टेशन रोड से एक बैटरी दुकान से पांच बैटरी नगर पालिका प्रशासन के लोगों ने प्रशासनिक अधिकारियों के सामने उठाकर अपने वाहन में रख लिया।

इस मौके पर पूर्व नगर पंचायत चेयरमैन प्रदीप गुप्ता, वरिष्ठ अधिवक्ता कमलेश वर्मा, मनोज गुप्ता, अमरीश कुमार, अजय गुप्ता, हरिजी रौनियार, तारकेश्वर प्रधान, विनोद वर्मा, मंटू दूबे, प्रभुजी रौनियार, प्रदीप गुप्ता, सतीश कुमार गुप्ता, ओमप्रकाश सिंह, राम जी, अजय गुप्त, रोशन पांडेय, राम कृष्ण यादव , परवेज रोशन, विनय कुमार आदि लोग उपस्थित रहे।

Continue Reading

Trending