Connect with us

बलिया

बहुत कठिन है डगर पनघट की, इस झंझट से कब मिलेगी बलिया को मुक्ति?

Published

on

बहुत कठिन है डगर पनघट की, इस झंझट से कब मिलेगी बलिया को मुक्ति?

बलिया में आए दिन टूटे सड़कों और बारिश के बाद हो रहे जलजमाव को लेकर हंगामा हो रहा है। मंगलवार की सुबह दस बजे जन अधिकार मंच के नेतृत्व में बड़ी संख्या में लोगों ने बलिया शहर के मालगोदाम चौराहे पर बवाल काटा। लोगों ने टूटी सड़को और जलजमाव को लेकर मालगोदाम चौराहे पर प्रदर्शन किया। जन अधिकार ने मांग की है कि जल्द से जल्द शहर के सभी सड़क ठीक किए जाएं। सड़कों को गड्ढामुक्त किया जाए ताकि जलजमाव की समस्या से राहत मिले। प्रदर्शन स्थल पर जिला प्रशासन के अधिकारियों ने पहुंचकर प्रदर्शनकारियों को समझा-बुझाकर और आश्वासन देकर घर भेजा।

मालगोदाम चौराहे पर प्रदर्शन कर रहे लोगों की शिकायत थी कि एनएच का बुरा हाल हुआ है। आवाजाही के दौरान हर वक्त दुर्घटना की खतरा होती है। लम्बे समय से एनएच के मरम्मत की चर्चा चल रही है। लेकिन अब तक यह समस्या दूर नहीं हो सकी है। न इसके अलावा काजीपुरा में सड़क बुरी तरह टूट चुकी है। बारिश की वजह से ये टूटी सड़कें और भी खतरनाक साबित हो रहे हैं। सड़क के गड्ढों में बारिश का पानी जम जा रहा है। जिससे इनसे गुजरना अपने लिए किसी दुर्घटना को निमंत्रण देने जैसा है।

बलिया में हो रहे जन अधिकार मंच के इस प्रदर्शन को शांत कराने जिला प्रशासन के आला अधिकारी पहुंचे थे। जिला प्रशासन ने आश्वासन दिया है कि राष्ट्रीय राजमार्ग के खस्ताहाल को जल्द ही दुरुस्त किया जाएगा। एनएच पर बने गड्ढों की मरम्मत के लिए एनएचआई से सामान लाया जा रहा है। सारे जरूरी सामान पहुंच जाने के बाद काम शुरू हो जाएगा। साथ ही काजीपुरा में टूटी सड़क ठीक कराने के लिए भी ईंट के टूकड़े और रोलर की व्यवस्था कर ली गई है।

प्रदर्शनकारियों की मांग पर शहर के रामलीला मैदान में भरे बारिश के पानी को निकालने के लिए तुरंत ही मोटर की व्यवस्था की गई। बता दें कि नगर मजिस्ट्रेट प्रदीप कुमार, ईओ डीके विश्वकर्मा व शहर कोतवाल बाल मुकुंद मिश्रा ने आश्वासन दिया कि जलजमाव से मुक्ति के लिए अभियान की शुरुआत आज से ही की जाएगी। इस प्रदर्शन के दौरान अतुल सिंह, सुनील परख, प्रदीप रस्तोगी, अभिषेक गुप्ता, विक्रांत सिंह, अजय सिंह, राधा रमण अग्रवाल, राहुल राय, मिंटू खान, ददन यादव, गुड्डू सर्राफ, सर्वदमन जायसवाल, गणेश व अन्य कई लोग भी मौजूद रहे।

Continue Reading
Advertisement />
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बलिया

बलिया के अमीरचंद का निधन, CM योगी ने जताया शोक, ऐसा था सफर

Published

on

बलिया से दुखद ख़बर सामने आई है। संस्कार भारती के राष्ट्रीय महामंत्री अमीरचंद का निधन हो गया है। उनके निधन से प्रदेश में शोक की लहर छा गई है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने उनके निधन पर शोक जताया। वहीं कवि कुमार विश्वास समेत राजनैतिक व कवि जगत के लोगों ने अमीरचंद के निधन पर शोक संवेदनाएं व्यक्ति की हैं।

बलिया में हुआ जन्मः अमीरचंद का जाना संस्कार भारती, संघ के लिए बड़ी छति है। 1 अगस्त 1965 को बलिया जिले मुख्यालय से 5 किमी दूर ब्रह्माइन गांव में जन्मे अमीरचंद बचपन से ही विलक्षण प्रतिभा के धनी थे। उनके पिता का नाम अवधकिशोर व माता का नाम गुलजरिया देवी था। वह सात संतानों में छटवें नंबर के थे।

धर्म व संस्कृति से रहा जुड़ाव– बचपन से ही उनकी रुचि धर्म व संस्कृति में रही। वह आरएसएस के विचारों से हमेशा प्रभावित रहते थे। इनके परिवार का मुख्य पेशा तो व्यापार था, पर अमीरचंद जी शुरू से ही धार्मिक व आध्यात्मिक अनुष्ठानों से जुड़े रहे। सुबह-शाम संघ की शाखा में उपस्थित रहना व उसके प्रचार-प्रसार के प्रति विशेष लगाव इनके अंदर हमेशा दिखाई देता था।

अमीरचंद जी के पिता अवधकिशोर 1971 में सपरिवार ब्रह्माइन गांव से हनुमानगंज में आकर बस गया और वहीं अपने व्यापार को बढाने में लग गए। 1985 में अमीरचंद जी के परिवार ने इनको कलकत्ता व्यापार करने के लिए भेज दिया। वहां जाने के बाद उनको संघ के कार्य व गतिविधियों की आंशिक जानकारी हो चुकी थी। उनका मन हमेशा व्यापार छोड़ राष्ट्र की सेवा में समर्पित होने के प्रति प्रेरित हो रहा था। उन्होंने ऐसा किया भी। उन्हें अपने जीवन का महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक के रुप में काम करने की ठानी।अपने निर्णय पर अडिग रहते हुए उन्होंने प्रचारक के रुप में काम किया। बाद में वह संघ की विभिन्न जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए संस्कार भारती के राष्ट्रीय महामंत्री के पद तक पहुंचे और उसी सन्दर्भ में अरुणाचल प्रदेश में प्रवास के दौरान अपने शरीर का त्याग कर 16 अक्टूबर को शाम 7 बजे अचानक संसार को अलविदा कह गए। उनके जाने से शोक की लहर छा गई है।

Continue Reading

featured

Ballia- प्रतियोगी परीक्षा की फ्री कोचिंग के लिए रजिस्ट्रेशन शुरु, इस तारीख तक करें आवेदन

Published

on

बलियाः प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों के लिए अच्छी खबर है। सरकार प्रतिभावान छात्रों को मुफ्त कोचिंग देने जा रही है। इसके लिए जनपद के विद्यार्थी मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत 20 अक्टूबर तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

बता दें कि प्रदेश सरकार ने पढ़ाई में अव्वल प्रतिभाओं को निखारने के लिए बीते वर्ष मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की शुरुआत की। इसके तहत प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले युवाओं को मुफ्त कोचिंग का प्रावधान है। पहले योजना सिर्फ मंडल मुख्यालय वाले शहरों तक सीमित थी। अब इसका दायरा बढ़ाया गया है। जिससे बलिया के बच्चों को भी इसका फायदा मिलेगा।

बलिया में शासन के निर्देश के बाद समाज कल्याण विभाग की ओर से अस्पताल रोड स्थित जीआईसी में दो कमरों का चयन किया गया था। इसके साथ ही संबंधित विषय के क्लास के लिए अध्यापकों और अधिकारियों का पैनल तैयार कर इसे शासन को भेज दिया गया। निशुल्क कोचिंग क्लास शुरु करने की पूरी तैयारी है।

लेकिन इससे पहले युवाओं को एक ऑनलाइन परीक्षा देनी होगी। जिसके अंतिम आवेदन तारीख 20 अक्टूबर है। जिला समाज कल्याण अधिकारी अभय कुमार सिंह ने बताया कि सिविल सेवा, नीट, जेईई, एनडीए, सीडीएस की प्रवेश परीक्षा के लिए ऑनलाइन पंजीयन 20 अक्तूबर तक करा सकते हैं। आवेदन http://www.abhyuday.up.gov.in पर किया जाना है।

प्रतिभागियों का चयन परीक्षा के आधार पर किया जाएगा। यानि जो परीक्षा में अव्वल होगा उसे मुफ्त कोचिंग का लाभ पहले मिलेगा। इसके लिए जेईई की परीक्षा 21 अक्तूबर, नीट की 22 अक्तूबर, एनडीए और सीडीएस की 25 और सिविल सेवा के लिए 26 अक्तूबर को दोपहर दो बजे से 3.30 बजे तक परीक्षा होगी। प्रवेश परीक्षा का परिणाम वेबसाइट पर 29 अक्टूबर को जारी किया जा सकता है। कोचिंग 15 नवंबर से शुरू होने की संभावना है।

 

Continue Reading

बलिया

बलिया- लेखपाल संघ ने 6 सूत्रीयों मांगों को लेकर खोला मोर्चा

Published

on

बलिया। उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ ईकाई रसड़ा ने अपनी मांग तेज कर दी है। जहां उन्होंने 6 सूत्रीय मांगों को लेकर अपनी आवाज बुलंद कर दी है। और अपनी मांगों को लेकर लेखपाल संघ ईकाई ने धरना प्रदर्शन दिया। 6 सूत्रीय मांगों में संघ लेखपाल चतुरी सिंह का निलंबन तत्काल वापस करने, लेखपालों के बार-बार स्थानांतरण को संशोधित करने, अतिरिक्त कार्यभार से हटाने, आय, जाति एवं निवास का मानदेय तत्काल देने, अन्य बकाया एरियर का तत्काल भुगतान करने की मांग शामिल है।

बता दें शनिवार को 6 सूत्रीय मांगों को लेकर लेखपाल संघ ईकाई रसड़ा तहसील मुख्यालय पर धरना-प्रदर्शन किया। संघ लेखपाल चतुरी सिंह का निलंबन तत्काल वापस करने, लेखपालों के बार-बार स्थानांतरण को संशोधित करने, अतिरिक्त कार्यभार से हटाने, आय, जाति एवं निवास का मानदेय तत्काल देने, अन्य बकाया एरियर का तत्काल भुगतान करने आदि मांग को लेकर आंदोलित हैं।

धरना-प्रदर्शन में अजीत कुमार, रामवृक्ष चौहान, दीपक श्रीवास्तव, दिलशान अख्तर, अमीरचंद, बलवीर सिंह, मार्कंडेय, चौधरी विजय कुमार सिंह, देवेंद्र नाथ राय आदि दर्जनों लेखपाल शामिल थे।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!