Connect with us

बलिया स्पेशल

बिल्थरारोड- पुलिस का शर्मनाक चेहरा, पैसे न देने पर पशु व्यापारी को बंदूक की बट से पिटा

Published

on

बलिया के बेल्थरारोड में पुलिस का शर्मनाक चेहरा सामने आया है। खबर के मुताबिक मुताबिक सोनाडीह मेले में पशु व्यापारी के साथ पुलिस द्वारा दबंगई किये जाने का मामला प्रकाश में आया है। बेख़ौफ़ वर्दी धारी ने व्यापारी की न सिर्फ बंदूक के बट से बेरहमी से मारापीटा बल्कि हालत खराब होते देख वहां से खिसक लिया।

बताया जाता है कि शुक्रवार की रात मऊ जनपद के मुहम्मदाबाद गोहना पुलिस ने सोनाडीह मेले में मवेशी लेकर जा रहे व्यापारी को कलंदर के समीप रोक कर नजराना देने की पेशकश की ।

व्यापारी द्वारा असमर्थता जताने से आगबबूला हुए पुलिस कर्मी ने व्यापारी अजय सोनकर को मारपीट कर घायल कर दिया।यही नही व्यापारी की हालत खराब होते देख दबंग सिपाही अपनी बाइक छोड़ भाग निकला।

साथी व्यापारीयो ने घायल को मुहम्मदाबाद अस्पताल पहुंचाया लेकिन सूचना पर पहुंची पुलिस ने बवाल की आशंका देख रात को ही व्यापारियों को भगा दिया।

शनिवार की सुबह जब सभी व्यापारी किसी तरह सोनाडीह मेला पहुंचे तो जख्मी अजय सोनकर (35) निवासी ग्राम पल्हना नरसिंहपुर, थाना देवगांव, जिला आजमगढ़ की तबियत और बिगड़ने लगी।

तत्काल डायल 100 पुलिस की मदद से उसे सोनाडीह मेला से सीयर सीएचसी लाया गया, जहां गंभीर हालत में उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। सूचना पर स्थानीय पुलिस के कान खड़े हो गए।

इधर, साथी व्यापारियों में जबरदस्त आक्रोश व्याप्त है।

अजय सोनकर अपने साथी पशु व्यापारियों के साथ मेले में पिकअप से सुअर लेकर आजमगढ़ से सोनाडीह, बिल्थरारोड जा रहे थे। इस बीच मुहम्मदाबाद गोहना के घोसी-मुहम्मदाबाद मोड़ पर कलंदर के पास बाइक सवार मुहम्मदाबाद पुलिस ने जबरन गाड़ी रुकवाया और गालियां देते हुए पैसे की मांग करने लगा।

गाड़ी पर व्यापारी लहजू, डब्बू, डब्ल्यू, विशाल, सोनू, राजदेव, अजय सोनकर व चालक विजयी समेत करीब नौ लोग सवार थे। अजय ने सिपाही के गाली देने का विरोध करने लगा। इससे नाराज सिपाही ने बंदूक के बट से उसकी पिटाई शुरू कर दी।

featured

बलिया: जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के खिलाफ शिक्षकों का हल्ला बोल, उत्पीड़न का आरोप?

Published

on

बलिया में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के खिलाफ प्राथमिक शिक्षक संघ ने धरना दिया।

बलिया में इन दिनों दिनों शिक्षकों के विरोध-प्रदर्शन ने माहौल गरमाया हुआ है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के खिलाफ शिक्षक संघ लगातार आक्रामक विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। सोमवार को प्राथमिक शिक्षक संघ के नेतृत्व में एक बार फिर बड़े स्तर पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय के परिसर में धरना हुआ। शिक्षकों ने जिला बेसिक शिक्षक अधिकारी पर घोटाले और उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

प्राथमिक शिक्षा संघ के आह्वाहन पर जिले के ज्यादातर शिक्षक, शिक्षामित्र, अनुदेशक और रसोइया विद्यालय न जाकर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के कार्यालय परिसर में पहुंच गए। सोमवार को परिसर में प्रदर्शनकारियों की संख्या लगभग हजार से अधिक थी। बताया जा रहा है कि जिले में महज एक या दो विद्यालयों पर ही पढ़ाई-लिखाई हुई।

बलिया के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के खिलाफ शिक्षकों ने लंबे समय से मोर्चा खोला हुआ है। प्राथमिक शिक्षक संघ की ओर से आज एक व्यापक धरने के लिए शिक्षकों को बुलाया गया था। इसे देखते हुए गत रविवार की शाम ही जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी की ओर से एक चेतावनी भरी नोटिस जारी की गई थी।

नोटिस में शिक्षकों को अपने विद्यालय से कहीं और या धरना-प्रदर्शन में न शामिल होने की सलाह दी गई थी। लेकिन इस नोटिस का शिक्षकों पर उल्टा असर हो गया। आज कार्यालय परिसर में हजारों की संख्या में शिक्षक धरना देने पहुंचे। इस दौरान जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी हुई।

नाराज शिक्षकों का आरोप है कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी लंबे समय से घोटाले कर रहे हैं। अपनी मर्जी मुताबिक विद्यालयों में सरकारी किताबें भेजने का आरोप भी लगाया गया है। शिक्षकों का कहना है कि अधिकारी जानबूझकर शिक्षकों को परेशान करने के लिए जांच करवाते हैं। जांच के दौरान शिक्षकों का शोषण किया जाता है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी पर आरोप है कि अनुशासनात्मक कार्रवाई के का धौंस दिखाकर शिक्षकों का उत्पीड़न किया जाता है।

प्राथमिक शिक्षक संघ द्वारा बुलाए गए इस धरने का कई संगठनों ने समर्थन किया था। सीनियर बेसिक शिक्षक संघ, कर्मचारी शिक्षक समन्वय समिति, आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन, उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ, अनुदेशक संघ, रसोईया संघ जैसी संगठनों ने आज शिक्षकों के धरने को अपना समर्थन दिया था।

Continue Reading

featured

बलिया के सौरभ ने बढ़ाया गौरव, दिल्ली में RPF कमांडर बन परेड का किया नेतृत्व

Published

on

बलिया के नोजवान लगातार अपने जिले का नाम रोशन कर रहे हैं, जिलेवासियों को गौरान्वित महसूस करा रहे हैं। राष्ट्रीय पुलिस स्मृति दिवस पर परेड का नेतृत्व कर बलिया के लाल सौरभ ने भी जनपद का गौरव बढ़ाया। उन्होंने दिल्ली में आयोजित 21 अक्टूबर को राष्ट्रीय स्मृति दिवस परेड का नेतृत्व कर द्वाबा के समस्त नागरिकों का मान बढ़ाया। सौरभ भारत की सबसे कठिन IAS की परीक्षा उत्तीर्ण कर वर्तमान में सहायक सुरक्षा आयुक्त के पद पर चेन्नई में कार्यरत हैं। बता दें कर्ण छपरा निवासी जवाहर सिंह(प्रवक्ता,महात्मा गांधी इंटर कॉलेज, दलन छपरा)के भतीजे सौरभ सिंह पुत्र अनिल सिंह जो रांची में सिचाई विभाग में अभियंता है।

बता दें, दिल्ली में हर साल पुलिस स्मृति दिवस पर परेड होती है। जिसमे देशभर के पुलिसकर्मी भाग लेते हैं। सौरभ इस साल 21 अक्टूबर को हुए परेड में आरपीएफ परेड कमांडर बने। उन्होंने भारतीय रेलवे सुरक्षा बल का नेतृत्व किया। सौरभ ने बताया कि इस परेड का कमांडर बनना सभी का सपना होता है। खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं, कि मुझे यह अवसर मिला। गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय, अजय कुमार मिश्रा, मुख्य अतिथि थे। कार्यक्रम में डायरेक्टर इंटेलीजेंट ब्यूरो, राज्यों के डीजीपी भी मौजूद रहे।

Continue Reading

Uncategorized

बलिया- दबंगों से परेशान नौजवान ने गंगा में लगाई झलांग, पुलिस की मुस्तैदी से बची जान !

Published

on

बलिया। जनेश्वर मिश्र सेतु से कूदकर एक युवक ने आत्महत्या करने की कोशिश की। गनीगत रही कि पीकेट पर तैनात दुबहर थाने की पुलिस ने युवक को देख लिया और तत्काल नौकायान करते मल्लाहओ के सहयोग से उसे बाहर निकाल लिया। वहीं युवक का कहना है कि वह एक जन्मदिन में पार्टी में गया। जहां उसके साथ मारपीट की गई। जिससे आहत होकर उसने आत्महत्या करने का फैसला लिया। मामले में पुलिस ने परिजनों को युवक की जानकारी दी और युवक को उन्हें सौंप। फिलहाल पुलिस को मामले में कोई शिकायत नहीं मिली है।

जानकारी के मुताबिक शहर के कृष्णा नगर जापलीन गंज थाना कोतवाली निवासी रोहित कुमार पाण्डेय (18 साल) पुत्र परमात्मा नंद पांडे शुक्रवार की शाम लगभग 5 बजे जनेश्वर मिश्र सेतु पर पहुंचा और गंगा नदी में छलांग लगा दी। उसे छलांग लगाता देख पास ही पिकेट पर तैनात दुबहर थाने के सिपाही ने देख लिया। शोर मचाते हुए नदी में नौका पर सवार मल्लाहो को घटना की जानकारी दी। मल्लाहों ने तुरन्त युवक को नदी से बाहर निकालने में जुट गए । तत्काल ही रोहित को बाहर निकाला गया। तब तक दुबहर थाने के थानाध्यक्ष राजकुमार सिंह दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए।

घटना के कारण के बारे में रोहित ने दुबहर थानाध्यक्ष सिंह को बताया कि वह एक युवक के घर जन्मदिन की पार्टी में गया था। जहां अकारण उसकी बेल्ट से पिटाई की गई। इससे दुःखी होकर उसने आत्महत्या करने का फैसला लिया और उसने गंगा नदी में छलांग लगा दी। पुलिस ने युवक के परिजनों को सूचना देकर बुलाया और युवक को सौंप दिया। इस सम्बंध में पुलिस को कोई तहरीर नहीं मिली है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!