Connect with us

featured

बलियावासियों को 2024 में मिलेगी PNG गैस की सुविधा, इस क्षेत्र से होगी शुरुआत

Published

on

बलिया। जिले में कुछ ही सालों में PNG सप्लाई की जा सकती है। पाइप्ड नेचुरल गैस यानी पीएनजी की आपूर्ति साल 2024 से शुरू होने की उम्मीद जताई जा रही है। अभी मंडल में आजमगढ़ में इस पर काम चल रहा है। वहां शुरुआत में लगभग 500 घरों में कनेक्शन देने की योजना है। एक साल में अभी तक सिधारी, हर्रा की चुंगी आदि क्षेत्रों में 30 किलोमीटर पाइपलाइन बिछाई जा चुकी है। मार्च 2022 तक 150 किलोमीटर पाइपलाइन बिछाने का लक्ष्य है। इसके बाद मऊ व बलिया में भी परियोजना पर काम होना है। बलिया में पहले रसड़ा क्षेत्र में कार्य कराया जाएगा।साल 2024 तक इन जनपदों में भी घर-घर कुकिंग गैस की आपूर्ति सुनिश्चित कराने की योजना है। यह काम टोरेंट कंपनी के जिम्मे है। बता दें आजमगढ़ में कप्तानगंज के बितरी गांव में सीजीसी यानी सिटी गेट सेंटर का निर्माण जारी है। यहां 75 फीसद से अधिक काम पूरा हो चुका है। गेल की मुख्य पाइपलाइन से कनेक्शन लेकर यहां पीएनजी का भंडारण किया जा सकेगा। इसके बाद आवश्यकतानुसार तीनों जनपदों को आपूर्ति की जा सकेगी। व्यावसायिक एवं घरेलू कनेक्शन पीएनजी आपूर्ति के लिए व्यावसायिक और घरेलू कनेक्शन दिए जाएंगे। इसकी फीस तय की जाएगी। एकमुश्त धनराशि के अलावा किस्तवार फीस जमा करने की व्यवस्था भी बनाई जाएगी।

इसके लिए कई होटल, रेस्टोरेंट सहित अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठानों ने रुझान दिखाया है। क्या है पीएनजी – यह कुकिंग गैस है। इसकी आपूर्ति पाइपलाइन के जरिए की जाती है। इसके रखरखाव की जिम्मेदारी गैस अथॉरिटी आफ इंडिया यानी गेल के पास है। 50 फीसद तक सस्ती घरेलू गैस (एलपीजी) की तुलना में पीएनजी 50 फीसद तक सस्ती होती है। इससे ईंधन की बचत होती है। पर्यावरण की दृष्टि से भी यह काफी अनुकूल है। मीटर रीडिंग के जरिए गैस भुगतान तय किया जाता है। जितनी गैस खर्च करेंगे, उसी के अनुसार बिल आएगा।

टोरेंट के आजमगढ़ मंडल के महाप्रबंधक जीवी राममनोहर का कहना है कि आजमगढ़ में नवंबर तक पीएनजी कनेक्शन की शुरुआत हो जाएगी। कोरोना संक्रमण के बाद जलजमाव से थोड़ी अड़चनें आई हैं लेकिन कार्य प्रगति पर है। इसके बाद मऊ व बलिया में परियोजना प्रस्तावित है। संभावना जताई जा रही है कि 2024 में बलियावासियों को भी लाभ मिलना शुरू हो जाएगा।

featured

Ballia- प्रतियोगी परीक्षा की फ्री कोचिंग के लिए रजिस्ट्रेशन शुरु, इस तारीख तक करें आवेदन

Published

on

बलियाः प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों के लिए अच्छी खबर है। सरकार प्रतिभावान छात्रों को मुफ्त कोचिंग देने जा रही है। इसके लिए जनपद के विद्यार्थी मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत 20 अक्टूबर तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

बता दें कि प्रदेश सरकार ने पढ़ाई में अव्वल प्रतिभाओं को निखारने के लिए बीते वर्ष मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की शुरुआत की। इसके तहत प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले युवाओं को मुफ्त कोचिंग का प्रावधान है। पहले योजना सिर्फ मंडल मुख्यालय वाले शहरों तक सीमित थी। अब इसका दायरा बढ़ाया गया है। जिससे बलिया के बच्चों को भी इसका फायदा मिलेगा।

बलिया में शासन के निर्देश के बाद समाज कल्याण विभाग की ओर से अस्पताल रोड स्थित जीआईसी में दो कमरों का चयन किया गया था। इसके साथ ही संबंधित विषय के क्लास के लिए अध्यापकों और अधिकारियों का पैनल तैयार कर इसे शासन को भेज दिया गया। निशुल्क कोचिंग क्लास शुरु करने की पूरी तैयारी है।

लेकिन इससे पहले युवाओं को एक ऑनलाइन परीक्षा देनी होगी। जिसके अंतिम आवेदन तारीख 20 अक्टूबर है। जिला समाज कल्याण अधिकारी अभय कुमार सिंह ने बताया कि सिविल सेवा, नीट, जेईई, एनडीए, सीडीएस की प्रवेश परीक्षा के लिए ऑनलाइन पंजीयन 20 अक्तूबर तक करा सकते हैं। आवेदन http://www.abhyuday.up.gov.in पर किया जाना है।

प्रतिभागियों का चयन परीक्षा के आधार पर किया जाएगा। यानि जो परीक्षा में अव्वल होगा उसे मुफ्त कोचिंग का लाभ पहले मिलेगा। इसके लिए जेईई की परीक्षा 21 अक्तूबर, नीट की 22 अक्तूबर, एनडीए और सीडीएस की 25 और सिविल सेवा के लिए 26 अक्तूबर को दोपहर दो बजे से 3.30 बजे तक परीक्षा होगी। प्रवेश परीक्षा का परिणाम वेबसाइट पर 29 अक्टूबर को जारी किया जा सकता है। कोचिंग 15 नवंबर से शुरू होने की संभावना है।

 

Continue Reading

featured

बलिया DM ने सुनी जनता की समस्या, पांच अधिकारियों का रोका वेतन !

Published

on

बलिया: सम्पूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर जिलाधिकारी अदिति सिंह ने बैरिया तहसील में जनता की समस्याओं को सुना और त्वरित निस्तारण के लिए सम्बन्धित अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए। इस दौरान तमाम तरह की समस्याएं आई, जिनमें कुछ का मौके पर निस्तारण कराया गया। वहीं, शेष समस्याओं को सम्बन्धित अधिकारियों को ​इस निर्देश के साथ सौंपा कि समयान्तर्गत व गुणवत्तापरक निस्तारण सुनिश्चित कराएं।

सम्पूर्ण समाधान दिवस पर अवैध कब्जे, राशन, पेंशन, भूमि विवाद सम्बन्धी मामले प्रमुख रूप से आए। जिलाधिकारी ने अधिकारियों से कहा कि जनता की समस्याओं को गंभीरता से लें। कोई भी शिकायत डिफाल्डर की श्रेणी में नहीं जानी चाहिए। ध्यान रहे कि निस्तारण की गुणवत्ता भी बेहतर हो, ताकि शिकायकर्ता पूरी तरह संतुष्ट हो जाए। जिलाधिकारी ने पुलिस से जुड़ी समस्याओं को भी सुना और थाना प्रभारियों को आवश्यक दिशा—निर्देश दिए। इस अवसर पर सीडीओ प्रवीण वर्मा, एसडीएम अभय सिंह, सीओ अशोक मिश्र, डीएसओ केजी पांडेय, नायब तहसीलदार रजत सिंह, समाज कल्याण अधिकारी अभय सिंह, पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी राजीव यादव समेत जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

समाधान दिवस में अनुपस्थित पांच अधिकारियों का रोका वेतन

बैरिया तहसील में आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस में पांच अधिकारियों का अनुपस्थित रहने पर जिलाधिकारी अदिति सिंह ने उनका एक दिन का वेतन रोकने का आदेश दिया है। जिलाधिकारी की जनसुनवाई में जिला विकास अधिकारी, परियोजना निदेशक, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी, सहायक निदेशक मत्स्य और ग्रामीण अभियंत्रण सेवा के अधिशासी अभियंता अनुपस्थित थे। तीन दिन के अंदर इन सभी अधिकारियों से स्पष्टीकरण भी तलब किया गया है।

Continue Reading

featured

बलिया: सहयोग राशि देने में वादा खिलाफी के आरोप पर क्या बोले विधायक धनंजय कन्नौजिया?

Published

on

बलिया के बेल्थरारोड विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक धनंजय कन्नौजिया पर एक राम कथा कार्यक्रम में मंच से 11 हजार रुपए का वादा करके सिर्फ 1 हजार देने का आरोप लगा है। राम कथा कार्यक्रम के आयोजकों ने विधायक धनंजय कन्नौजिया से नाराज होकर उन्हें 1 हजार रुपया लौटा दिया। साथ ही उन्हें दिया गया स्मृति चिन्ह भी वापस ले लिया। इस पूरे बखेड़े पर भाजपा विधायक ने चुप्पी तोड़ी है।

मंच से 11 हजार देने का वादा करके 1 हजार रुपए देने के आरोप पर विधायक धनंजय कन्नौजिया ने कहा है कि “मैंने ऐसी कोई घोषणा नहीं की थी। मंच से 11 रुपए देने की बात अफवाह है। लोग बेवजह मेरी छवि खराब करने के लिए इस तरह की अफवाह फैला रहे हैं। मैं कभी भी धार्मिक कार्यक्रमों में सहयोग राशि देने की घोषणा नहीं करता हूं।”

पूरा बखेड़ा समझिए: बलिया के बेल्थरारोड में पूरा और पतोई गांव द्वारा हर साल नवरात्र के समय राम कथा कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। गांव के ही एक दुर्गा मंदिर पर इस साल भी यह आयोजन किया गया था। राम कथा कार्यक्रम में बेल्थरारोड से भाजपा विधायक धनंजय कन्नौजिया को बतौर अतिथि बुलाया गया था। आयोजकों का कहना है कि कार्यक्रम स्थल पर मंच से धनंजय कन्नौजिया ने ग्यरह हजार की सहयोग राशि देने की घोषणा की। लेकिन बाद में पलट गए और सिर्फ एक हजार रुपया ही दिया। दिलचस्प बात यह है कि राम कथा कार्यक्रम का आयोजक खुद भारतीय जनता पार्टी का ही एक बूथ अध्यक्ष है।ग्यारह हजार का वादा कर एक हजार रुपया थमाने पर कार्यक्रम के आयोजक नाराज हो गए। आयोजकों ने विधायक धनन्जय कन्नौजिया को उनका एक हजार रुपया लौटा दिया। साथ ही कार्यक्रम में दिया गया स्मृति चिन्ह भी वापस ले लिया। आयोजकों ने इस बात की घोषणा बाकायदे मंच पर चढ़ कर दिया। आयोजकों द्वारा मंच से दी गई इस जानकारी का वीडियो सोशल मीडिया पर रायता फैला रहा है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!