Connect with us

Uncategorized

बलिया- जानिए किस लिये जारी हुआ आधा दर्जन सचिवों को कारण बताओ नोटिस

Published

on

बलिया डेस्क: भारत सरकार की महत्वाकांक्षी कायाकल्प योजना से पंचायत भवनों की मरम्मत में उदासीनता बरतने पर जिला पंचायत राज अधिकारी अजय श्रीवास्तव ने आधा दर्जन ग्राम विकास अधिकारी (पंचायत) को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

यही नहीं उन्होंने इसके साथ ही साथ स्पष्टीकरण मांगने और समय से लक्ष्य के हिसाब से पंचायत भवनों के मरम्मत व वहां समुचित संसाधन हर हाल में उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। डीपीआरओ ने अपनी रिपोर्ट मंडलायुक्त, डीएम, सीडीओ व बीडीओ को भेज दी है। जिला पंचायत राज अधिकारी के सख्त रूख से सचिवों में खलबली मची हुई है।

गौरतलब है कि शासन के कायाकल्प योजना के तहत पंचायत भवनों की मरम्मत कर वहां पेयजल, शौचालय, बिजली आदि की व्यवस्था करने का आदेश दिया था। साथ ही इसकी जिम्मेदारी जिला पंचायत राज विभाग को सौंपी गयी थी।

विभाग ने सचिवों को पंचायत भवनों को ब्लॉकवार लक्ष्य निर्धारित कर कायाकल्प कराने का निर्देश दिया था। अब जबकि वित्तीय वर्ष 2021 समाप्ति की ओर है, आधा दर्जन सचिवों द्वारा काम में उदासीनता बरते जाने से लक्ष्य के हिसाब से काफी कम कार्य हो सका है।

विभागीय आंकड़ों के अनुसार किस ब्लॅाक में कितने गांव में काम हुआ हैं?

हनुमानगंज ब्लॉक में 30 पंचायत भवनों की मरम्मत करानी थी। इसके इसके मुकाबले में सिर्फ 5 की ही मरम्मत करायी गयी है। इसी प्रकार से

नगरा ब्लॉक- 50 पंचायत भवनों के परंतु 22 पंचायत भवनों की ही मरम्मत हो पायी हैं।

सोहांव ब्लॉक – 24 पंचायत भवनों में से सिर्फ 10 पंचायत भवनों की ही मरम्मत हो पायी हैं।

रसड़ा ब्लाक – 25 पंचायत भवनों में से सिर्फ 8 पंचायत भवनों की ही मरम्मत हो पायी हैं।

बांसडीह ब्लॉक – 32 पंचायतों में से 10 पंचायत भवनों की ही मरम्मत हो पायी हैं।

रेवती ब्लॉक – 24 पंचायत भवनों की मरम्मत के मुकाबले में सिर्फ 6 की ही मरम्मत करायी गयी।

कायाकल्प योजना क्या हैं?
भारत में सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं में स्वच्छता और साफ-सफाई सुनिश्चित करने के लिये 15 मई, 2015 को एक राष्ट्रीय पहल ‘कायाकल्प’ की शुरुआत की। इसका उद्देश्य ऐसी सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं को प्रोत्साहित कर उनकी पहचान करना जो कि स्वच्छता और संक्रमण पर नियंत्रण के लिये मानक प्रोटोकॉल का पालन कर अनुकरणीय कार्य करते हैं, साथ ही सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं में स्वच्छता, साफ-सफाई और संक्रमण नियंत्रण प्रथाओं को बढ़ावा देना है। स्वच्छता और साफ-सफाई से संबंधित प्रदर्शन के सतत् मूल्यांकन और सहकर्मी समीक्षा की संस्कृति विकसित करना। सकारात्मक स्वास्थ्य परिणामों से जुड़ी सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार से संबंधित स्थायी प्रथाओं के निर्माण और उन्हें साझा करना।

Uncategorized

बलिया छात्र-युवा फ्रन्ट ने डीएम को सौंपा ज्ञापन, गिरफ्तार छात्रों को रिहा करने की मांग की

Published

on

प्रयागराज में छात्रों के साथ पुलिस की ओर से की गयी बर्बरता का मामला धीरे-धीरे तूल पकड़ता जा रहा हैं। बीते दिनों रेलवे भ​र्ती को लेकर प्रदर्शन के बाद पुलिस ने हॉस्टल और लॉज के दरवाजे तोड़कर छात्रों को पीटा था। मामले में कई पुलिसकर्मी सस्पेंड भी हो चुके हैं। अब प्रदेश के कई हिस्सों में छात्रों के समर्थन में ज्ञापन सौंपे जा रहे हैं और उचित कार्यवाही की मांग की जा रही है।

इसी बीच बलिया में जिला छात्र युवा फ्रन्ट के द्वारा राष्ट्रपति महोदय के नाम एक ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा गया। इस ज्ञापन के जरिए कहा गया कि सन् 1991 से लागू आर्थिक नीतियों के कारण बेरोजगारी बेतहाशा बढ़ती जा रही है। बेरोजगार जब अपने हक के लिए आन्दोलन करते हैं, तो बिहार- उत्तरप्रदेश में पुलिस के द्वारा उनका दमन होता है। एक तो बेरोजगार बनाना और रोजगार की मांग करने पर दमन- यह सरासर अन्याय है।

इस ज्ञापन के जरिए छात्रों ने मांग रखी कि शिक्षा सस्ती की जाए और सभी को काम दिया जाए। खाली सरकारी पदों को भरा जाए। आन्दोलनरत छात्रों का दमन करने वाले पुलिस कर्मियों को बर्खास्त किया जाए और उन पर मुकदमा किया जाए। गिरफ्तार छात्रों एवं बेरोजगारों को रिहा किया जाए और उन पर लगाये गये फर्जी धाराएं खत्म की जाएं। साथ ही छात्रों ने मांग की घायल छात्रों का समुचित इलाज किया जाए और उन्हें मुआवजा दिया जाए।

Continue Reading

Uncategorized

खरीद-दरौली पक्का पुल में बढ़ाए जाएंगे दो पिलर, अधिकारियों ने किया निरीक्षण

Published

on

बलियाः सिकंदरपुर में सरयू नदी पर खरीद-दरौली पक्का पुल पर काम चल रहा है। इस पुल की लंबाई बढ़ाई जाएगी। जिसके लिए पीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर वीके श्रीवास्तव की अगुवाई में अधिकारियों ने स्थलीय निरीक्षण किया।

इस दौरान पूरे क्षेत्र का निरीक्षिण किया गया। नदी के बदलते प्रवाह को देखते हुए शासन को जो रिपोर्ट भेजी गई थी, उसमें दो अतिरिक्त पिलरों के निर्माण की बात कही थी, उन पिलर्स के निर्माण की जानकारी भी अधिकारियों ने ली। दरअसल इस पुल के निर्माण में सरयू के कटान को देखते हुए पहले सेतु निर्माण निगम ने शासन से दो अतिरिक्त पायों के निर्माण की मांग रखी थी। इस संबंध में सरकार ने मुख्य अभियंता सेतु लोक निर्माण विभाग की अध्यक्षता में एक पांच सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। उसी परिप्रेक्ष्य में पहुंचे अधिकारियों ने आज वस्तुस्थिति का जायजा लिया।

निरीक्षण करने पहुंचे अधिकारियों में अधीक्षण अभियंता सीपी गुप्ता, अधिशासी अभियंता जितेंद्र सिंह, सहायक अभियंता अरबी राम, क्षितिज जायसवाल आदि मौजूद थे।चीफ इंजीनियर ने बताया कि सरयू नदी का प्रवाह क्षेत्र अनिश्चित होने की वजह से इतना विलंब हो रहा है। लंबाई बढ़ाने की स्वीकृति मिलने के बाद कार्य तीव्र गति से पूरा कराने का प्रयास किया जाएगा।

बता दें कि 1.542 किमी लंबे उक्त पुल की स्वीकृति शासन से 2016 में हुई थी। तत्कालीन सपा सरकार ने इस बाबत 17 करोड़ रुपये रिलीज भी कर दिया था। 169 करोड़ की लागत से बनने वाली उक्त पुल को मार्च 2022 तक पूर्ण किया जाना था। लेकिन निर्माण की कछुआ चाल की वजह से ये काम पूरा नहीं हो पाया। इसके साथ ही पुल की रिवाइज्ड लागत भी 187 करोड़ हो गई है। अब इस पुल पर काम चल रहा है। दिसंबर 2022 तक संचालन करने का लक्ष्य है।

Continue Reading

Uncategorized

जानिए कौन हैं सिकंदरपुर पर आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार डॉ प्रदीप कुमार

Published

on

बलियाः उत्तरप्रदेश में चुनावी बिगुल बच चुका है। इस बार आम आदमी पार्टी भी मैदान में है। रविवार को पार्टी ने अपने 150 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है। इसमें बलिया जिले से सिकंदरपुर विधानसभा सीट से पार्टी ने अपने जिलाध्यक्ष डॉक्टर प्रदीप कुमार को उम्मीदवार बनाया है।

चलिए आपको बताते हैं कौन है प्रदीप कुमार?

प्रदीप कुमार सिकंदरपुर सीमा पर बिल्थरारोड क्षेत्र के ककरी निवासी हैं। उन्होंने अपनी 12वीं की पढ़ाई करने के लिए फार्मासिस्ट का कोर्स किया। इसके बाद वह जनआंदोलन में हिस्सा लेने लगे। साल 2013 में जब अन्ना आंदोलन कर रहे थे, उसमें भी प्रदीप कुमार शामिल हुए। उन्होंने माथे पर मैं अन्ना हूं की टोपी लगाकर कई कार्यक्रमों में भाग लिया।

इसके बाद जब अरविंद केजरीवाल ने पार्टी बनाई तो डॉक्टर प्रदीप कुमार ने पार्टी की ऑनलाइन सदस्यता ली। इसके बाद वह लगातार पार्टी के लिए काम करते रहे। मार्च 2021 में वह आप पार्टी के जिलाध्यक्ष बनाओ गए और दो महीने पहले ही प्रदीप को सिकंदरपुर का प्रभारी घोषित किया गया और अब पार्टी ने उनपर विश्वास जताते हुए चुनावी मैदान में उतारा है।

डॉ प्रदीप क्षेत्र में लगातार सक्रिय हैं, वह सिकंदरपुर का विकास दिल्ली मॉडल पर करने के दावे के साथ जनता के बीच में पहुंच रहे हैं। उनका कहना है कि बेरोजगारी, शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली-पानी आदि मुद्दों को लेकर भी लोगों के बीच जाएंगे।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!