Connect with us

सिकंदरपुर

बलिया: पेट्रोल पंप पर फर्जीवाड़ा, प्रशासन पर उठे सवाल

Published

on

बाइक से तेल निकालकर बोतल में लिए अरुण कुमार संगम

बलिया ज़िले के सिंकदरपुर में तेल पंप पर पेट्रोल देने में गड़बड़ी का मामला सामने आया है। पेट्रोल कम देने को लेकर पंप पर कथित आरोप लगा और जमकर हंगामा भी हुआ। बात इतनी बढ़ गई कि पुलिस को हस्तक्षेप करना पड़ा। लेकिन आरोप है कि पुलिस ने कार्रवाई करने के बजाए सुलह कराने का दबाव बनाया। आरोप है कि इससे पहले पंप मालिक के लोग खरीददारों को धमकी भी दे चुके थे।

मामला सिकंदरपुर के इंद्रासिनी फीलींग किसान सेवा केंद्र का है। एक बाइक पर तीन लोग सवार होकर तेल पंप पर पहुंचे। इनमें नगरा के रहने वाले अभिषेक कुमार गौतम, अरुण कुमार संगम और अनुप कुमार जाटव थे। बकौल अरूण बाइक में 100 रुपए का पेट्रोल भरवाया गया। लेकिन मशीन की रीडींग 80 रुपए से शुरू होकर 100 रुपए पर ही रुक गई।

बाइक सवार युवकों ने इसका विरोध किया। अरुण कुमार संगम ने बताया कि “हम लोगों ने पंप कर्मचारियों से पेट्रोल की रीडींग कंप्यूटर पर दिखाने की बात कही। पहले वो नहीं माने और धमकाने लगे। लेकिन विरोध करने के बाद पंप के ही एक अन्य व्यक्ति ने बाइक की टंकी से तेल निकलवाकर देखा। टंकी से बमुश्किल 600 से 700 ग्राम तेल निकला था। जबकि पहले से ही थोड़ा बहुत तेल था।”

तेल कम होने पर अरुण अपने दोस्तों के साथ मिलकर विरोध करने लगे। हंगामा बढ़ा। अरुण के मुताबिक “बवाल होने पर लोग इकट्ठा हो गए। तभी युवराज विनीत पांडेय उर्फ बिट्टू पांडेय नाम के एक युवक ने हमें धमकी दी। हम लोगों ने पुलिस को फोन किया। सिंकदरपुर थाना के एसओ योगेश यादव आए। लेकिन उन्होंने कहा कि 100 रुपए का तेल ले लो और मामला खत्म करो। पंप के फर्जीवाड़े और हमें धमकी देने को उन्होंने गंभीरता से नहीं लिया।” वहीं धमकी के आरोपों पर “युवराज विनीत पांडेय उर्फ बिट्टू पांडेय ने साफ इंकार किया है। युवराज विनीत पांडेय का कहना है कि हम लोग समझा रहे थे किसी ने कोई धमकी नहीं दी है ये लोग मंगढ़त कहानी बना रहे हैं।”

क्या ये मामला सिर्फ 100 रुपए का तेल लेने पर कम मिलने का है? जिसके बाद हंगामा होता है और 3 युवकों को धमकी दी जाती है। असल सवाल ये है कि क्या ऐसी गड़बड़ी सिर्फ इस बार ही हुआ? क्या तेल पंप पर पेट्रोल-डीजल में बट्टा लगाने और रीडींग गलत दिखाकर तेल चोरी का खेल धड़ल्ले से चल रहा है? सवाल ये भी है कि आखिर पुलिस ने इस मामले में गंभीरता से जांच क्यों नहीं की? आखिर क्यों इसे एक सामान्य हंगामे की तरह देखा गया और एसओ योगेश यादव ने सुलह कराने की कोशिश की?

इस खबर को दुबारा अपडेट किया गया है

निकाय चुनाव

‘दुनिया की कोई ताकत सुभासपा प्रत्याशी को नहीं हरा सकती, सपा के लिए मुसलमान सिर्फ वोट बैंक’

Published

on

बलिया के सिकंदरपुर में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के तत्वाधान में कार्यकर्ता सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि के रूप में सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर उपस्थित थे। इस दौरान उन्होंने निकाय चुनाव के लिए सिकंदरपुर नगर पंचायत से अध्यक्ष पद के लिए शेख अहमद अली उर्फ संजय भाई की पत्नी सायरा बानो को पार्टी की तरफ से अधिकृत प्रत्याशी घोषित किया और विरोधियों को चुनौती भी दी। कहा कि दुनिया की कोई ताकत सुभासपा प्रत्याशी को हरा नहीं सकती।

अपने दम पर लड़ेंगे चुनाव – इस दौरान उन्होंने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि सुभासपा अपने दम पर पूर्वांचल ही नही, अपितु पश्चिम के बहुतायत सीटों पर दमखम से चुनाव लड़ने का काम करेगी। कार्यकर्ताओं की वजह से ही गरीब, वंचित व शोषित वर्ग की आवाज को बेबाक अंदाज में सड़क से सदन तक उठाने की शक्ति मिली है। उन्होंने कहा कि चाहे शिक्षा की बात हो या पुलिस कर्मचारियों की, शिक्षक भर्ती में धांधली का शिकार हुए नौजवानों की, स बकी बातों को सदन में उठाने वाला एक मात्र ओमप्रकाश राजभर है। हमारी लड़ाई है कि गरीबों का इलाज देश में फ्री होना चाहिए। पूरा प्रदेश बिजली के बिल से परेशान हैं। घरेलू बिजली के बिल को माफ करने की लड़ाई भी सुभासपा ही लड़ती आई है।

सपा के लिए मुसलमान सिर्फ वोट बैंक – सुभासपा अध्यक्ष ने सपा प्रमुख पर कटाक्ष करते हुए कहा कि सुभासपा के दम पर 111 विधायक जितने वाले को नगर निकाय चुनाव में औकात पता चल जाएगी। विस चुनाव के बाद अखिलेश ने मुझे तलाक दे दिया, जिसे मैंने स्वीकार कर लिया। उन्होंने कहा कि मैनपुरी चुनाव में डिंपल यादव की जीत अखिलेश की वजह से नहीं मिली। यह माननीय मुलायम सिंह यादव को श्रद्धांजलि है। रामपुर हार का टिकरा सपा प्रमुख पर फोड़ते हुए कहा कि सपा के लोगों ने मिलकर आजम खां के करीबी आसिम रजा को चुनाव हरा दिया। सपा के लिए मुसलमान सिर्फ वोट बैंक बनकर रह गया है।

Continue Reading

featured

नगर निकाय चुनाव 2022: कौन बनेगा सिकंदरपुर का सिकंदर, ये हैं दावेदार?

Published

on

त्तर प्रदेश नगर निकाय चुनाव 2022 को लेकर गहमागहमी तेज हो चुकी है. तीज-त्योहारों पर शहर के चौक-चौराहे होर्डिंग और बैनर-पोस्टर से पटे पड़े हैं. ये उन लोगों की ओर से दी गई शुभकामनाएं हैं जो आगामी चुनाव में अपनी मेहनत और किसमत आजमाने आने वाले हैं. बलिया के सिकंदरपुर नगर पंचायत का भी यही हाल है. भारतीय जनता पार्टी (BJP), समाजवादी पार्टी (SP), बहुजन समाज पार्टी (BSP) और कांग्रेस (CONGRESS) पूरी तरह तैयारी में हैं. तो वहीं निर्दल प्रत्याशी भी जनता के बीच अपनी मौजूदगी दर्ज कराने में जुटे हुए हैं.

सिकंदरपुर विधानसभा से समाजवादी पार्टी के जियाउद्दीन रिज़वी विधायक हैं. ये बात सपा को कॉन्फिडेंस दे रही है. तो वहीं भाजपा को अपने संगठन की मजबूती पर भरोसा है. हालांकि दूसरी पार्टियों के स्थानीय नेता भी पीछे नहीं हैं. ये बात सभी को मालूम है कि नगर निकाय चुनाव के अपने समीकरण होते हैं. अपने मुद्दे होते हैं. वोटर्स भले ही वही हों जिन्होंने विधानसभा के चुनाव में सिकंदरपुर में जियाउद्दीन रिज़वी को वोट किया. लेकिन निकाय चुनाव में पासा पलट भी सकता है.

संभावित चेहरे: 

सिकंदरपुर में कुछ नाम ऐसे हैं जिनकी चर्चाएं हैं. इन नामों को नगर निकाय चुनाव में सिकंदरपुर नगर पंचायत से संभावित उम्मीदवार के तौर पर देखा जा रहा है. भीष्म यादव, संजय जायसवाल, राजकुमार जायसवाल, सद्दाम हुसैन, नाहिदा बेगम, अनवर ठठेरा, जयराम पांडेय, दिनेश चौधरी मोनू वर्मा, शेख मारूफ अली, रविंद्र प्रसाद, प्रयाग चौहान, गणेश सोनी, भैरव नाथ वर्मा, कौशल श्रीवास्तव, डा. उमेश चंद और डा. आशुतोष गुप्ता नगर निकाय की रेस में संभावित उम्मीदवार माने जा रहे हैं.

जातीय समीकरण:

सिकंदरपुर नगर पंचायत में किसी भी एक जाति के मतदाताओं की बहुतायत नहीं है. बल्कि मिलीजुली स्थिति है. पिछड़े वर्ग के मतदाताओं का प्रभाव है. तो सवर्ण वोटर भी ठीक-ठाक हैं. मुस्लिम समुदाय के लोगों की संख्या भी है. तो कुल जमा बात ये है कि कोई भी उम्मीदवार किसी एक वर्ग को टारगेट कर चुनाव में बढ़त नहीं बना सकता है. बल्कि हर समाज में पैठ जरूरी है. एक ये भी वजह है कि जो निर्दलीय उम्मीदवार हैं वो मजबूत स्थिति में हैं. स्थानीय तौर पर पकड़ है और उन्हें लेकर कोई पर्सेप्शन भी नहीं है.

Continue Reading

बलिया

बलियाः गृहमंत्री के आगमन को लेकर पूर्व विधायक संजय यादव के आवास पर हुई बैठक

Published

on

बलिया। कल यानी 11 अक्तूबर को लोकनायक नारायण की जयंती है। उनकी जन्म जयंती के मौके पर देश के गृहमंत्री अमित शाह सिताबदियारा आएंगे। वह लोकनायक की प्रतिमा का अनावरण करेंगे साथ ही अन्य कार्यक्रमों हिस्सा लेंगे।

उनके आगमन को लेकर बीजेपी लगातार तैयारियों में जुटी है। इसी क्रम में सिकंदरपुर के पूर्व विधायक संजय यादव के आवास पर गोरखपुर क्षेत्र के क्षेत्रीय अध्यक्ष धर्मेन्द्र सिंह ने कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा की। पूर्व विधायक संजय यादव ने बताया कि गृह मंत्री अमित शाह लोकनायक जयप्रकाश नारायण की प्रतिमा का अनावरण  करेंगे इसी सिलसिले में क्षेत्रीय अध्यक्ष माननीय धर्मेन्द्र सिंह जी  ने बैठक ली और कार्यक्रम को कैसे सफल बनाया जाए इस बात को लेकर चर्चा हुई हैं। साथ ही संजय यादव पूर्व मंत्री ने मुलायम सिंह यादव के मृत्यु को प्रदेश का बड़ा क्षति बताया और श्रंद्धाजलि अपनी दी। 

गौरतलब है गृहमंत्री के कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए प्रशासन भी तैयारियों में जुटा हुआ है। बिहार और यूपी के अधिकारियों का जमावड़ा लगा हुआ है। सड़क निर्माण, साफ-सफाई, रंग रोगन, पार्किंग के साथ अन्य कार्य को अंतिम रुप देने के लिए मजदूर दिन रात लगे हुए हैं।कार्यक्रम स्थल पर मंच तैयार किया जा रहा है। वहीं कार्यक्रम को लेकर बीजेपी भी लगातार व्यवस्थाएं संभाल रही है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!