Connect with us

बलिया

बलिया: घोटाले की जांच करने आए अधिकारी ने लगाया जान से मारने की धमकी का आरोप

Published

on

प्रतिकात्मक तस्वीर साभार: सोशल मीडिया

बलिया के दो गांवों में मनरेगा योजना और प्रधानमंत्री आवास योजना में हुए घोटाले की जांच करने पहुंचे आजमगढ़ मंडल के संयुक्त विकास आयुक्त को जान से मारने की धमकी देने का मामला सामने आया है। संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा ने इस मामले में उत्तर प्रदेश सरकार के ग्राम्य विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव और निजी सचिव को पत्र लिखा है। उन्होंने इस मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा ने आरोप लगाया है कि घोटाले की जांच करने जाने पर बेलहरी विकास खंड के खंड विकास अधिकारी दीपक त्रिवेदी ने कुछ दबंगों के साथ मिलकर उन्हें धमकाया। पीएन वर्मा का आरोप है कि खंड विकास अधिकारी ने सूचना लेने जाने पर शराब पीकर गाली-गलौज भी की।

क्या है पूरा मामला? इस मामले को शुरू से समझते हैं। आजमगढ़ मंडल के संयुक्त विकास आयुक्त हैं पीएन वर्मा। उन्होंने ग्राम्य विकास सचिव और निजी सचिव को लिखे पत्र में इस मामले को शुरू से अंत तक बताया है। पीएन वर्मा ने लिखा है कि उत्तर प्रदेश सरकार के ग्राम्य विकास राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला के आदेश पर वे बेलहरी विकास खंड के दो गांवों सुल्तानपुर और भरहता में मनरेगा और प्रधानमंत्री आवास योजना में हुए घोटाले की जांच करने गए थे।

पीएन वर्मा के अनुसार पिछले दिनों इस मामले में सूचना हासिल करने के लिए बलिया के विकास भवन गए। लेकिन विकास भवन में उन्हें जरूरी सूचनाएं नहीं दी गईं और पूरे दिन फिजूल में बैठाया गया है। इसके बाद वे 26 नवंबर को सूचना और खंड विकास अधिकारी का इंतजार करते रहे। लेकिन सुबह आठ बजे से लेकर रात साढ़े आठ बजे तक उनकी मुलाकात खंड विकास अधिकारी से नहीं हो सकी।

बेलहरी विकास खंड पर इसी दिन रात साढ़े आठ बजे खंड विकास अधिकारी अपने कुछ दबंगों के साथ शराब के नशे में पहुंचे। पीएन वर्मा के मुताबिक बेलहरी विकास खंड अधिकारी दीपक त्रिवेदी ने शराब के नशे में उनके साथ गाली-गलौज की और जान मारने की धमकी दे डाली। पीएन वर्मा ने अपने पत्र में लिखा है कि दीपक त्रिवेदी ने धमकाते हुए कहा कि “आज तक किसी अधिकारी ने यहां जांच करने की हिम्मत नहीं की।”

मामला बिगड़ता देख संयुक्त विकास आयुक्त अपने अर्दली सतीश पांडेय और ड्राइवर पप्पू के साथ वहां से चले गए। अब पीएन वर्मा ने शासन को पत्र लिखकर इस मामले की जांच कर दोषी खंड विकास अधिकारी पर कार्रवाई करने की मांग की है। बता दें कि “बलिया के पुलिस आयुक्त राज करन नय्यर ने बताया है कि इस मामले में कोई पत्र मिलने के बाद ही मैं कुछ कह पाउंगा।”

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बलिया

बलिया में 3 अलग-अलग जगहों पर आगजनी की घटनाओं में लाखों का नुकसान!

Published

on

बलिया। जिले में 3 अलग-अलग जगहों पर आगजनी की घटनाओं में लाखों का नुकसान हो गया। जहां आगजनी में कीमती सामान और नकदी जलकर खाक हो गई। रसड़ा, रतसर और सहतवार में भीषण आग लगी। एक जगह झोपड़ियों तो दूसरी जगह दूकान में आग लगी इसके अलावा एक मकान में भी आगजनी हुई। कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया है। दुकान में आग का कारण शॉर्ट सर्किट बताया जा रहा है।

पहला मामला रसड़ा का है, जहां अठिलापुरा गांव के पूर्वी टोला ललित बस्ती में करीब 3 बजे अज्ञात कारणों के आग लग गई। जहां 5 झोपड़िया जल गई। इस दौरान उसमें रखा नगदी समेत घर-गृहस्थी का सारा सामान जल गया। इस ग्रामीणों ने आग बुझाने की काफी कोशिश की। जानकारी के मुताबिक गांव के श्रीकांत राम के परिवार के लोग मवेशियों के लिए चारा लेने के लिए खेत में गए थे। इस दौरान उनकी झोपड़ी ने किसी प्रकार आग पकड़ ली। आग की लपटों ने कुछ देर में ही बड़ा रुप धारण कर लिया।

देखते ही देखते आग ने लालबहादुर राम, श्यामलाल राम की एक-एक और शिवलाल राम की दो झोपड़ियों को अपने चपेट में ले लिया। झोपड़ी में रखे अनाज, कपड़ा, बर्तन, बिस्तर, चौकी, भूसा आदि सामान आग की भेंट चढ़ गए। आगजनी में शिवलाल के झोपड़ी में रखे लगभग 10 हजार रूपए नगदी भी जल गया। पीड़ित परिवारों का कहना है कि घटना के वक्त उनके परिवार के लोग कोई खेत में काम करने तो कोई मवेशियों के लिए चारा काटने गये हुए थे।

दूसरी घटना रतसर की है, स्थानीय कस्बे के सदर बजार स्थित बड़सरी निवासी शिवशंकर गुप्त की कपड़ा और सुहंवा निवासी अक्षयलाल वर्मा की खाद की दुकान आग लग गई। जिससे क्षेत्र में हड़कंप मच गया। आसपास के लोग आग पर पानी डालकर काबू पाने के कोशिश में जुट गए। कुछ देर बाद पहुंची फायर ब्रिगेड की टीम ने आग पर काबू पाया। बताया जाता है कि जब तक आग शांत हुई दोनों दुकानों में मौजूद हजारों रुपये का सामान जलकर नष्ट हो चुके थे। दुकानदारों का कहना है कि यह घटना शार्ट-सर्किट के चलते हुई है।

तीसरी घटना सहतवार की है, जहां स्थानीय कस्बा क्षेत्र के वार्ड नम्बर 11 निवासी मीना देवी के घर में अज्ञात कारणों से आग लग गई। लोग जब तक कुछ समझ पाते तब तक घर में मौजूद घर-गृहस्थी का सामान जलकर खाक हो गया था। पीड़ित महिला का कहना है कि आगजनी में घर में मौजूद टीवी, फ्रिज, आभूषण, पंखा, कपड़ा के साथ ही करीब 15 हजार रुपये नगदी जल गया। लोगों की काफी कोशिश के आग बुझी।

Continue Reading

बलिया

जानिए कौन है बब्बन राजभर, जिनको बीजेपी ने रसड़ा से बनाया प्रत्याशी

Published

on

बलिया की रसड़ा सीट से भाजपा ने बब्बन राजभर को अपना उम्मीदवार जताया है। रसड़ा के राजभर वोटरों को साधने के लिए  बड़ा दांव चला है। खास बात ये है कि बसपा के मौजूदा विधायक को हराने भाजपा ने बब्बन राजभर को चुनावी मैदान में उतारा है, वह खुद पहले बसपा के दिग्गज नेता रह चुके हैं। बब्बन राजभर लंबे समय से बसपा से जुड़े थे। साल था 1999, जब सलेमपुर लोकसभा सीट से बब्बन बहुजन समाज पार्टी से सांसद चुने गए थे। इसके बाद उन्होंने पार्टी के लिए काम किया।

लेकिन साल 2018 में बब्बन राजभर ने बसपा पर पैसा लेकर टिकट देने का आरोप लगाते हुए पार्टी छोड़ दी थी। उन्होंने ये कहते हुए इस्तीफा दे दिया था कि बसपा अपने मिशन से भटक गई है। यहां पैसे के हिसाब से टिकट दिए जाते हैं। बता दें कि बब्बन राजभर महाराजा सुहेलदेव सेना के अध्यक्ष भी हैं। साल 2021 में उन्होंने अपने कई साथियों के साथ भाजपा का दामन थाम लिया था।

वहीं राजभर के प्रत्याशी बनने के बाद से उनके समर्थकों में हर्ष की लहर है तो वहीं लंबे समय से राजनीतिक में सक्रिय रहने से राजभर का वोटबैंक भी अच्छा है। ऐसे में आने वाले चुनाव में राजभर रसड़ा के मौजूदा बसपा विधायक उमाशंकर सिंह को कड़ी चुनौती दे पाते हैं  या नहीं ।

Continue Reading

featured

भाजपा ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट, धनंजय कन्नौजिया का टिकट कटा, रसड़ा से बब्बन राजभर मैदान में

Published

on

भारतीय जनता पार्टी ने अपने 91 प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी है। पार्टी ने कई दिग्गजों को दोबारा चुनावी मैदान में उतारा है तो वहीं कुछ का टिकट काट दिया है। इसी बीच बड़ी अपडेट ये हैं कि पार्टी ने बलिया की बेल्थरारोड सीट से विधाक धनंजय कन्नौजिया का टिकट काट दिया है। उनकी जगह बसपा से भाजपा में गए छट्ठू राम को प्रत्याशी बनाया गया है।

कन्नौजिया ने पंचायत चुनाव में अपनी मां को क्षेत्र पंचायत सदस्य के चुनाव में उतारा था लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था जिससे पार्टी की किरकिरी हुई थी। वहीं सूत्रों की मानें तो शेष सभी सीटों पर सिटिंग विधायकों पर ही पार्टी दांव लगाने जा रही है। रसड़ा में राजभर वोटों को साधने के लिए पार्टी ने बड़ा दांव चला है। इस सीट से बब्बन राजभर को प्रत्याशी बनाया गया है। राजभर इससे पहले बसपा के टिकट पर सलेमपुर संसदीय क्षेत्र से सांसद रह चुके हैं। वहीं तमाम अंतर्विरोधों के बावजूद उपेन्द्र तिवारी अपना टिकट बचाने में सफल हुए है। फेफना से पार्टी ने उनपर विश्वास जताया है।

सिकंदरपुर सीट की बात करें तो संजय यादव पर पार्टी ने विश्वास जताया है। भाजपा से मिल रही अंदरूनी खबरों के अनुसार बलिया नगर विधानसभा से आनंद स्वरूप शुक्ल और बैरिया से सुरेंद्र सिंह का भी टिकट मिलना लगभग तय माना जा रहा है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!