Connect with us

बलिया

बिजली चोरी रोकने को ‘स्मार्ट’ बनेगा बलिया, 167.50 करोड़ खर्च कर लगाए जाएंगे प्रीपेड मीटर

Published

on

बिजली चोरी रोकने के लिए बलिया स्मार्ट बनने जा रहा है। अब जनपद के हर घर में स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। बिजली विभाग ने इसकी तैयारी कर ली है। 167.50 करोड़ खर्च कर जनपद के घरों में कुल 3.40 लाख मीटर लगाए जाएंगे।

स्मार्ट मीटर लगाने का कार्य अलग अलग चरणों में किया जाएगा। पहले चरण में शहर के 36 हजार उपभोक्ताओं को चिन्हित किया गया है लेकिन अप्रैल 2020 तक जनपद के हर घर में स्मार्ट मीटर लगा दिए जाएंगे। इसके लिए विभाग ने टेंडरिग प्रक्रिया शुरू की है। एक मीटर लगाने पर विभाग करीब पांच हजार रुपये खर्च करेगा।

शहरी क्षेत्रों के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में स्मार्ट मीटर लगेंगे। इन मीटर की खासियत यह है कि प्री-पेड स्मार्ट मीटर में रिचार्ज करने के बाद ही बिजली आपूर्ति होगी। मीटर का रिचार्ज खत्म होने पर बिजली गुल हो जाएगी। रिचार्ज करने के बाद ही यहां फिर से बिजली आएगी। स्मार्ट मीटर विभाग की तरफ से हर उपभोक्ताओं के यहां लगेगा। उसमें एक दिन का बैकअप होगा। अगर उपभोक्ता का बिल बकाया है तो मैसेज उपभोक्ता के मोबाइल नंबर पर आएगा। बिल जमा करने के बाद ही मीटर से सप्लाई होगी। भुगतान का मैसेज भी मोबाइल पर आएगा। रिचार्ज खत्म होने के एक सप्ताह पहले से ही मीटर से चेतावनी मिलने लगेगी।

स्मार्ट मीटर से ऊर्जा की बचत होगी। साथ ही गरीब लोग भी बिजली का इस्तेमाल मन मुताबिक़ कर सकेंगे। मीटर पर भी एक डिस्प्ले लगेगा, जिससे उपभोक्ताओं को वर्तमान शेष बिजली बिल, बिजली की वर्तमान शेष राशि और पिछले महीने खपत बिजली की मात्रा को आसानी से देख सकता है। इसमें इस्तेमाल कितना किया है, यह भी पता चल जाएग। मीटर में गड़बड़ी की संभावना कम रहेगी, क्योंकि बहुत से लोग ऐसे भी होते हैं, जो बिजली का कनेक्शन कराए बिना ही कटिया डालकर बिजली का इस्तेमाल करते हैं तो ऐसे लोग अब स्मार्ट मीटर के लग जाने के बाद बिजली का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे।

इस नई तकनीक के जरिए बिजली बिल बकाया होने की समस्या नहीं आईगी और न ही विभाग का कोई भी कर्मचारी अवैध वसूली करेगा। बता दें कि जिले में करीब 500 करोड़ रुपये की बकायेदारी है, इसमें शहर में ही 70 करोड़ रुपये हैं। यह वसूली विभाग के लिए चुनौती बनी हुई है।

वहीं विद्युत वितरण खंड द्वितीय अधिशासी अभियंता चंदेश उपाध्याय का कहना है कि स्मार्ट मीटर लगाने के लिए टेंडर की प्रक्रिया चल रही है। पहले चरण में शहर में लगाया जाएगा। उपभोक्ताओं को सुविधा मिलेगी। अनावश्यक विद्युत खपत पर रोक लगेगी। उपभोक्ता के घर बिल निकालने के लिए कर्मचारियों को नहीं जाना पड़ेगा। बिल का भुगतान भी समय से होगा।

बलिया

बलिया: घोटाले की जांच करने आए अधिकारी ने लगाया जान से मारने की धमकी का आरोप

Published

on

प्रतिकात्मक तस्वीर साभार: सोशल मीडिया

बलिया के दो गांवों में मनरेगा योजना और प्रधानमंत्री आवास योजना में हुए घोटाले की जांच करने पहुंचे आजमगढ़ मंडल के संयुक्त विकास आयुक्त को जान से मारने की धमकी देने का मामला सामने आया है। संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा ने इस मामले में उत्तर प्रदेश सरकार के ग्राम्य विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव और निजी सचिव को पत्र लिखा है। उन्होंने इस मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा ने आरोप लगाया है कि घोटाले की जांच करने जाने पर बेलहरी विकास खंड के खंड विकास अधिकारी दीपक त्रिवेदी ने कुछ दबंगों के साथ मिलकर उन्हें धमकाया। पीएन वर्मा का आरोप है कि खंड विकास अधिकारी ने सूचना लेने जाने पर शराब पीकर गाली-गलौज भी की।

क्या है पूरा मामला? इस मामले को शुरू से समझते हैं। आजमगढ़ मंडल के संयुक्त विकास आयुक्त हैं पीएन वर्मा। उन्होंने ग्राम्य विकास सचिव और निजी सचिव को लिखे पत्र में इस मामले को शुरू से अंत तक बताया है। पीएन वर्मा ने लिखा है कि उत्तर प्रदेश सरकार के ग्राम्य विकास राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला के आदेश पर वे बेलहरी विकास खंड के दो गांवों सुल्तानपुर और भरहता में मनरेगा और प्रधानमंत्री आवास योजना में हुए घोटाले की जांच करने गए थे।

पीएन वर्मा के अनुसार पिछले दिनों इस मामले में सूचना हासिल करने के लिए बलिया के विकास भवन गए। लेकिन विकास भवन में उन्हें जरूरी सूचनाएं नहीं दी गईं और पूरे दिन फिजूल में बैठाया गया है। इसके बाद वे 26 नवंबर को सूचना और खंड विकास अधिकारी का इंतजार करते रहे। लेकिन सुबह आठ बजे से लेकर रात साढ़े आठ बजे तक उनकी मुलाकात खंड विकास अधिकारी से नहीं हो सकी।

बेलहरी विकास खंड पर इसी दिन रात साढ़े आठ बजे खंड विकास अधिकारी अपने कुछ दबंगों के साथ शराब के नशे में पहुंचे। पीएन वर्मा के मुताबिक बेलहरी विकास खंड अधिकारी दीपक त्रिवेदी ने शराब के नशे में उनके साथ गाली-गलौज की और जान मारने की धमकी दे डाली। पीएन वर्मा ने अपने पत्र में लिखा है कि दीपक त्रिवेदी ने धमकाते हुए कहा कि “आज तक किसी अधिकारी ने यहां जांच करने की हिम्मत नहीं की।”

मामला बिगड़ता देख संयुक्त विकास आयुक्त अपने अर्दली सतीश पांडेय और ड्राइवर पप्पू के साथ वहां से चले गए। अब पीएन वर्मा ने शासन को पत्र लिखकर इस मामले की जांच कर दोषी खंड विकास अधिकारी पर कार्रवाई करने की मांग की है। बता दें कि “बलिया के पुलिस आयुक्त राज करन नय्यर ने बताया है कि इस मामले में कोई पत्र मिलने के बाद ही मैं कुछ कह पाउंगा।”

Continue Reading

बलिया

बलिया में पत्नी को जुए में हारा पति, फिर मांगे दो लाख मांगे, नहीं देने पर दिया तीन तलाक

Published

on

बलिया से चौंकाने वाला मामला सामने आया है। जहां एक पति ने अपनी पत्नी को जुए में दांव पर लगा दिया और हार गया। हारने के बाद पति ने अपनी पत्नी से दो लाख की डिमांड की और नहीं देने पर तीन तलाक दे दिया। परेशान महिला ने जिलाधिकारी से न्याय की गुहार लगाई है।

बताया जा रहा है कि मनियर थाना क्षेत्र का युवक दिल्ली में काम करता है। शादी के 6 साल बाद वह अपनी पत्नी को दिल्ली ले गया। जब पत्नी पति के साथ रहने लगी तो धीरे-धीरे उस व्यक्ति की गलत आदतों का पता महिला को चलता गया।

पत्नी का आरोप है कि एक दिन पति दिल्ली में अपने दोस्तों के साथ जुआ खेल रहा था, तो उसने पत्नी को ही दांव पर लगा दिया और जुआ हार गया। पत्नी को इस बात की जानकारी मिलने पर वह जान बचाकर मायके भागी। मायके आने के बाद भी पति का आंतक खत्म नहीं हुआ। पति ने महिला से 2 लाख रुपए मांगे। जब महिला ने पैसे देने से इनकार किया तो पति ने तीन बार तलाक बोलकर रिश्ता खत्म कर दिया। अब पीड़ित महिला अपनी छोटी बेटी को लेकर न्याय के लिए भटक रही है। महिला ने बलिया डीएम अदिति सिंह से भी न्याय की गुहार लगाई है।

Continue Reading

बलिया

बलिया: शौच को गई नाबालिग के साथ गैंगरेप, 4 आरोपी गिरफ्तार

Published

on

बलिया में लगातार महिला अपराधों की संख्या बढ़ रही हैं। दुष्कर्म और छेड़छाड़ की घटनाएं सामने आ रही हैं। इसी बीच ताजा मामला सामने आया है सिकंदरपुर से, जहां शौच करने गई नाबालिग लड़की के साथ चार युवकों ने दरिंदगी की। फिलहाल चारों आरोपी पुलिस की गिरफ्त में है।

जानकारी के मुताबिक सिकंदरपुर थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाली नाबालिग लड़की सोमवार शाम शौच करने गई थी। तभी रास्ते में गांव के ही चार युवकों ने उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। पीड़िता किसी तरह भागकर घर पहुंची।

परिजनों को मामले की जानकारी दी। परिजन पीड़िता को थाने लेकर पहुंचे। पीड़िता की मां की तहरीर पर पुलिस ने सामूहिक दुष्कर्म और पास्को एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया। मुखबिर की सूचना पर मंगलवार की सुबह आरोपी मोनू गौड़, समरजीत राजभर, अरविंद तुरहा, राजेश पांडेय को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!