Connect with us

featured

बलिया: नदी में डूबे 2 व्यापारी 48 घंटे बाद भी लापता, फेफना पुलिस की डूब गई साख!

Published

on

“तमसा नदी में 6 लोग डूबे। इनमें से 4 तो बाहर आ गए। लेकिन बाकी दो को तैरना नहीं आता है। दोनों नदी में ही गायब हो गए हैं। पुलिस गंभीरता से तलाश नहीं कर रही है। हमें आश्वासन दिया गया कि वाराणसी से NDRF की एक टीम आएगी रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए। लेकिन टीम नहीं आई है। नदी का जलस्तर बढ़ा हुआ है। बताइए अगर जल्दी दोनों को नहीं ढूंढा गया तो धारा के साथ दोनों कहीं और बह कर चले जाएंगे। तब क्या होगा?” भारी आवाज और रूंधे हुए गले के साथ तमसा नदी में लापता माया यादव के रिश्तेदार लक्ष्मण यादव ये बात कहते हैं और मदद की गुहार लगाते हुए चुप हो जाते हैं।

बलिया का फेफना थाना पिछले दिनों की चर्चा का केंद्र बना हुआ था। वजह ये थी कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की एक सीक्रेट रिपोर्ट में फेफना का नाम सामने आया था। रिपोर्ट के मुताबिक फेफना सबसे ख़राब परफॉर्मेंस वाले 10 थानों में शामिल है। इस रिपोर्ट पर अब फेफना पुलिस की एक लापरवाही मुहर भी लगा रही है। तमसा नदी में एक नाव पलट जाने से 6 लोग डूब गए। इनमें 2 लोग अब तक 48 घंटे बीत जाने के बाद भी लापता हैं। आरोप है कि दोनों की तलाश में पुलिस महज खानापूर्ति कर रही है।

नदी में डूबने के बाद लापता हुए दोनों शख्स व्यापारी हैं। इनके परिजनों ने फेफना थाने में तहरीर दी है। पुलिस इस मामले में कार्रवाई करने की बात कह रही है। लेकिन परिजनों का कहना है कि पुलिस पूरी गंभीरता के साथ खोजबीन नहीं कर रही है।

पुलिस को दी गई तहरीर

पुलिस को दी गई तहरीर

क्या है पूरा मामला:

दिन रविवार, तारीख 21 अगस्त यानी कल दोपहर 6 लोग एक छोटी नाव पर सवार होकर तमसा नदी (टोंस नदी) में जा रहे थे। मुन्ना यादव नाम का शख्स नाव चला रहा था। नाव पर सवार थे दरामपुर गांव के दिलीप पासवान, अशोक यादव, धरिक्षन, बांसडीह के रघुनाथ यादव और घसौती गड़वार के माया शंकर यादव। ये सभी लोग दीयर के इलाके में जा रहे थे। रघुनाथ यादव और माया शंकर यादव गाय का बछड़ा खरीदने के लिए उसे देखने जा रहे थे।

बारिश की वजह से तमसा नदी का जलस्तर बढ़ा हुआ है। तभी ये 6 लोग नाव से बीच नदी तक पहुंचते है। तेज हवा चल रही थी। नाव पलट जाती है। सभी 6 लोग नदी में डूब गए। लेकिन इनमें से 4 लोग नदी से निकलने में कामयाब हो गए। लेकिन दोनों व्यापारी माया शंकर यादव और रघुनाथ यादव नदी से नहीं निकल पाए। दोनों के परिजनों का कहना है कि दोनों नदी में गायब हो गए हैं।

नदी में नाव पलटने की बात जैसे ही गांव में फैली हड़कंप मच गया। सूचना मिलने पर स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची। दीयर के इलाके में 2 चरवाहों ने पुलिस को बताया कि “नाव हमारे सामने ही पलटी थी। जिसके बाद हमने 2 लोगों को नदी के इस पार और 2 लोगों को दीयर की ओर निकलते देखा।”

Image

टोंस नदी में डूबे पशु व्यापारी की बाइक किनारे पर लावारिश हालत में पड़ी मिली, जिस पे सवार होकर दोनों पहुंचे थे घाट

क्या बोले परिजन:

बलिया ख़बर के साथ बातचीत में लापता व्यापारी माया शंकर यादव के रिश्तेदार लक्ष्मण यादव ने कहा कि “माया और रघुनाथ यादव नदी में डूबने के बाद से लापता हैं। दोनों नदी में ही गायब हैं। पुलिस ने हमें आश्वासन दिया था कि शाम तक वाराणसी से NDRF की एक टीम आएगी। जो नदीं में रेस्क्यू ऑपरेशन चलाएगी। लेकिन कोई टीम अब तक नहीं आई है।” वहीं नाव घटना में बचे चार चरवाहों ने पुलिस पर गलत बयान देने के लिए फर्जी मुकदमा में फंसाने की धमकी देने का आरोप लगाया।

सवाल है कि जब परिजनों को आशंका है कि माया यादव और रघुनाथ यादव नदी में ही गायब हैं तब पुलिस पूरी गंभीरता से रेस्क्यू ऑपरेशन क्यों नहीं चला रही है? जैसा लक्ष्मण यादव ने बताया कि NDRF की वाराणसी युनिट से एक टीम के आने का आश्वासन मिला था। तब टीम अब तक बलिया क्यों नहीं पहुंची?

featured

एक्शन में बलिया CDO, कस्तूरबा गांधी आवासीय स्कूल की वार्डन की लगाई क्लास!

Published

on

बलिया में प्रशासन लगातार अलर्ट मोड पर नजर आ रहा है। जहां मुख्य विकास अधिकारी प्रवीण कुमार वर्मा ने सोमवार को सुखपुरा स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय स्कूल का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान स्कूल में छात्राओं की कम उपस्थिति और साफ-सफाई के साथ ही फाइलों के रख-रखाल को लेकर नाराजगी जताई।
उन्होंने वार्डन पुष्पा गुप्ता को जमकर फटकारा। इतना ही नहीं मुख्य विकास अधिकारी प्रवीण कुमार वर्मा ने फटकार लगाते हुए खंड शिक्षा अधिकारी से कारण बताओ नोटिस जारी करने को भी कहा। इसके अलावा सीडीओ ने पूर्व माध्यमिक स्कूल का भी निरीक्षण किया। हालांकि यहां बच्चों की उपस्थिति और साफ-सफाई को लेकर संतोष जताया।

मुख्य विकास अधिकारी सुखपुरा में बन रहे कूड़ा निस्तारण केंद्र पर भी गए। ग्राम पंचायत अधिकारी भरत सिंह को मानक के अनुसार कार्य करने का निर्देश दिया। इस दौरान जिला समन्यवक(निर्माण) सत्येंद्र राय, एसपीआरओ श्रवण कुमार आदि मौजूद रहे।

Continue Reading

featured

भरौली-बक्सर के बीच बन रहे पुल के दोनों छोर पर होगा पार्क और कार्मशियल प्वाइंट्स का निर्माण

Published

on

यूपी और बिहार को जोड़ने के लिए भरौली-बक्सर के बीच गंगा नदी पर पुल का निर्माण जारी है। अब कहा जा रहा है कि दोनों छोरों पर पार्क विकसित करने के साथ ही कामर्शियल प्वाइंट भी बनाए जाएंगे।

इसके लिए बिहार के बक्सर स्थित चौराहा पर काम शुरु हो गया है। वहीं भरौली में नए पार्क के किनारे कामर्शियल प्वाइंट्स का निर्माण होगा। दुकानों का निर्माण होने के बाद इनका आवंटन किया जाएगा। इधर बिहार और यूपी को सड़क से कनेक्ट करने की कवायद भी जारी है। गंगा नदी पर पुल बनने से बिहार ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे से जुड़ जाएगा। बिहार को फोरलेन लिंक रोड के जरिए भरौली होते हुए ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस वे के करीमुद्दीनपुर के उत्तमनगर स्थित इंटर एक्सचेंज से जोड़ा जाएगा।

पुल तक एप्रोच निर्माण का कार्य भी तेजी से चल रहा है। पूर्व के बने पुल तक की सड़क को तोड़ने व फोरलेन एप्रोच बनाने का कार्य भी शुरू हो चुका है। सीमावर्ती क्षेत्र में लिंक फोरलेन निर्माण के लिए जमीनों के अधिग्रहण की कार्रवाई शुरू है। इसके अलावा ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस वे का निर्माण गाजीपुर के जंगीपुर से बिहार प्रांत स्थित छपरा के रिविलगंज तक होना है। कुल 177 किलोमीटर फोरलेन सड़क है।

करीब तीन माह पहले परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने भरौली-हैदरिया फोरलेन लिंक रोड निर्माण में संशोधन करते हुए बक्सर स्थित फोरलेन सड़क को भरौली स्थित गंगा पुल पार कर करीमुद्दीनपुर के उत्तमनगर में पहले से निर्धारित इंटरचेंज से जोड़ने की स्वीकृति दे दी। बक्सर एनएचएआई अभियंता एके तिवारी का कहना है कि पूर्व के बने पार्क के स्थान पर नया पार्क यूपी-बिहार के दोनों सिरे पर बनना है। पार्क के पास सड़क किनारे दुकानों का भी निर्माण होगा, जिसका आवंटन होगा। बक्सर में यह कार्य शुरू हो चुका है।

Continue Reading

featured

बलिया में राजस्व रक्षक से मारपीट मारपीट से गुस्साए कर्मचारी संघ ने कार्य बहिष्कार कर किया प्रदर्शन

Published

on

बलिया के कलेक्ट्रेट स्थित राजस्व अभिलेखागार के कर्मचारी रविशंकर श्रीवास्तव के साथ मारपीट को लेकर कर्मचारियों का आक्रोश फूट पड़ा। मिनिस्ट्रीयल कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ के आव्हान पर कर्मचारियों ने कार्य का बहिष्कार कर दिया और धरना प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने मारपीट करने वाले अधिवक्ताओं की गिरफ्तारी की मांग की।

जिलाधिकारी को पत्रक सौंपते हुए कर्मचारियों ने शिकायत करते हुए बताया कि राजस्व अभिलेख रक्षक रविशंकर श्रीवास्तव शुक्रवार को अपने पटल का कार्य सम्पादित कर रहे थे। तभी अधिवक्ता कृपाशंकर यादव आए और रविशंकर के साथ मारपीट करते हुए लहूलुहान कर दिया। जिसके बाद रविशंकर ने मामले की शिकायत की। जिस पर कर्मचारी नेताओं ने रविशंकर की प्राथमिकी दर्ज करने और आरोपी अधिवक्ता कृपाशंकर यादव को गिरफ्तार करने की मांग की।साथ ही कहा कि अधिवक्ता कृपाशंकर यादव का रजिस्ट्रेशन निरस्तीकरण की कार्यवाही के लिए बार कौंसिल आफ उत्तर प्रदेश इलाहाबाद को जिलाधिकारी की अनुशंसा से पत्र प्रेषित किया जाय। कृपाशंकर यादव शासकीय कार्य में बाधा डालने एवं कलेक्ट्रेट कार्यालयों में अपने साथियों के साथ भय का महौल पैदा करने के लिए उप्र गुंडा निवारण अधिनयम/ गिरोहबन्द अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाए। राजस्व अभिलेखागार, न्यायिक अभिलेखागार एवं कलेक्ट्रेट सहित तहसीलों में कार्यरत कर्मचारियों की सुरक्षा की समुचित व्यवस्था करायी जाय।

इस अवसर पर सत्या सिंह, वेदप्रकाश पाण्डेय, सुशील कुमार पांडेय कान्हजी, अखिलेश राय, विजेन्द्र सिंह, सुशील त्रिपाठी, अनिल सिंह, अवनीश चन्द्र पाण्डेय, भारत भूषण मिश्रा, विजयपाल सिंह, संजय सिंह, बृजेश श्रीवास्तव, बृजेश सिंह, अरविंद कुमार शुक्ला, प्रो. निशा राघव, निखिलेंद्र मिश्रा, राजमंगल यादव, राजेश सिंह, अजय पाण्डेय, मृगेन्द्र सिंह, मुकेश उपाध्याय, आदि थे। अध्यक्षता कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ के अध्यक्ष कौशल उपाध्याय व संचालन मंत्री संजय कुमार भारती ने किया।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!