Connect with us

बलिया

मातृभूमि योजना से बदलेगी बलिया के गांवों की तस्वीर, समझिए 60-40 फार्मूला

Published

on

बलिया जिले के मूल निवासी देश और दुनिया के लगभग हर कोने में मौजूद हैं। लंबे समय से बलिया के लोग अपना भविष्य बनाने के लिए देश के दूसरे शहरों से लेकर विदेशों तक जाते रहे हैं। उत्तर प्रदेश शासन की ओर से मातृभूमि योजना लागू की गई है। इस योजना के तहत एनआरआई, ग्रामीण और किसी दूसरे जिले में रहने वाले लोग अपने गांव के विकास में योगदान दे सकेंगे।

शासन की इस योजना के तहत बलिया से बाहर रह रहने वाले लोग जिले के अपने गांव में स्कूल, अस्पताल, सामुदायिक भवन, पुस्तकालय, यात्री शेड जैसे निर्माण करा सकते हैं। इस योजना के माध्यम से बलिया के नौ सौ चालीस गांवों की रूपरेखा बदलने की उम्मीद की जा रही है। अपने मूल गांव के विकास में योगदान देने योग्य क्षमतावान लोग इस योजना में सरकार के साथ मिलकर गांव की तस्वीर बदल सकते हैं।

खबरों के मुताबिक उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने गत शनिवार रात इसे लेकर शासनादेश जारी किया था। इस योजना को उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना का नाम दिया गया है। बता दें कि इस योजना के तहत किसी भी प्रकार के कार्य के लिए चालीस फीसदी राशि सरकार देगी और साठ फीसदी राशि गांव का विकास कराने वाले व्यक्ति को देनी होगी।

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के अंतर्गत किसी गांव में शिक्षा के लिए स्कूल, इंटर कॉलेज की कक्षाएं या स्मार्ट क्लास बनवाए जा सकते हैं। गांव में सामुदायिक भवन, बारातशाला, स्किल सेंटर का निर्माण कराया जा सकता है। पुस्तकालय और ऑडिटोरियम बनावाया जा सकता है। अंत्येष्टि स्थल का निर्माण भी करा सकते हैं। गांव के किसी तालाब का सौंदर्यीकरण, ड्रेनेज व्यवस्था, जल संरक्षण, बस स्टैंड और यात्री शेड का काम भी कराया जा सकता है। पशु सुधार नस्ल केंद्र और फायर सर्विस स्टेशन की स्थापना कराई जा सकती है। दुग्ध संग्रह केंद्र से लेकर समितियों का विकास भी किया जा सकता है।

गांव के इंफ्रास्ट्रक्चर को विकसित करने के लिए ये योजना लाई गई है। जो काम खुद राज्य सरकार को करनी चाहिए उसे मातृभूमि की भावना से जोड़कर लोगों के योगदान से किए जाने का प्रयास किया जा रहा है। बलिया में नौ सौ चालीस गांव हैं। आने वाले दिनों में देखना होगा कि उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के तहत इनमें से कितने गांवों की तस्वीर बदलती है?

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बलिया

बलिया के दो अपराधियों को डीएम ने किया जिला बदर, क्या है वजह?

Published

on

रविवार को बलिया के दो अपराधियों को जिलाधिकारी अदिति सिंह के आदेश से जिला बदर किया गया है। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर जिला प्रशासन पूरी तरह सतर्क हो गया है।

अपराधियों और संदिग्धों के खिलाफ प्रशासन सख्ती दिखाने में देरी नहीं कर रही है। बलिया पुलिस ने दोकटी के रहने वाले दो लोगों को आज जिला बदर किया है।

दलकी नंबर एक के रहने वाले सुखारी पासवान और दलकी नंबर दो के रहने वाले संजय सिंह पर पुलिस ने गुंडा एक्ट के तहत कार्रवाई की है। जिस पर जिलाधिकारी ने दोनों को जिला बदर कर दिया है।

बता दें कि दोनों को अगले छह महीने के लिए जिला बदर किया गया है। आज पुलिस ने मुनादी कराकर दोनों अभियुक्तों के घर पर नोटिस चस्पा कर दिया है।

Continue Reading

बलिया

बलिया – RTI पर सूचना उपलब्ध नहीं करवाने वाले बीडीओ से अर्थदंड की वसूली का निर्देश

Published

on

बलिया के एक बीडीओ ने चार साल पहले आरटीआई के तहत किए गए आवेदन पर कोई भी सूचना उपलब्ध नहीं कराई। जिस कारण 1 वर्ष पूर्व बीडीओ पर 10 हजार का अर्थदंड लगाया गया था। लेकिन 2020 में लगे अर्थदंड का भुगतान बीडीओ ने नहीं किया। जिसके बाद अब राज्य सूचना आयोग ने सीडीओ को अर्थदंड की वसूली के निर्देश दिए हैं।

बता दें कि रेवती निवासी रवि महर्षि ने बताया कि 27 फरवरी 2018 को ग्राम सभा भोपतपुर के विकास कार्य के आय-व्यय का विवरण मांगा था। लेकिन कोई जानकारी नहीं मिली। जिसके बाद प्रथम अपील 29 मार्च के बाद 8 जून को राज्य सूचना आयोग में अपील की। मामले में लापरवाही बरतने वाले बीडीओ पर आयोग ने वर्ष 2020 में 10 हजार का जुर्माना लगाया लेकिन बीडीओ ने अभी तक जुर्माना राशि का भुगतान

नहीं किया। अब मामले में फिर से सुनवाई करते हुए राज्य सूचना आयोग ने 15 नवम्बर 2021 को सीडीओ को निर्देशित किया है कि बीडीओ के वेतन से अर्थ दण्ड की वसूली की जाए।

Continue Reading

बलिया

एनसीसी दिवस पर केपी मेमोरियल में हुआ खास आयोजन, NCC कैडेट्स ने की परेड

Published

on

बलिया में राष्ट्रीय कैडेट कोर यानि एनसीसी दिवस को लेकर कई तरह के आयोजन हो रहे हैं। इसके तहत जनपद के कपिल देव परेश्वरी मेमोरियल महाविद्यालय, सुहवाँ रतसर के प्रांगड़ में एनसीसी दिवस मनाया गया और विशेष कार्यक्रम रखा गया।

एनसीसी दिवस पर आयोजित हुए कार्यक्रम में एनसीसी कैडेट्स ने शानदार परेड का प्रदर्शन किया। परेड की सलामी महाविद्यालय के प्रबंधक अमित कुमार यादव ने ली।  कार्यक्रम के दौरान एनसीसी कैडेट्स ने अपनी कला का प्रदर्शन किया।

जिससे खुश होकर प्रबंधक अमित कुमार ने सबका परिचय लेते हुए उनकी हौसलाफजाई की। और कहा कि देश में जब भी आवश्यकता महसूस हुई, एनसीसी कैडेट्स ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया, चाहे वह कोई जागरूकता अभियान हो या सैन्य सहयोग से जुड़ा मामला हो। उन्होंने कहा कि शारीरिक श्रम के साथ ही बौद्धिक स्तर पर निर्णय लेने की क्षमता, सुदूर क्षेत्रों में जीवन की कठिनाइयों, टीम वर्क के साथ विशिष्ट लक्ष्य को प्राप्त करने में एनसीसी प्रशिक्षण सहायक होती है।

उन्होंने आगे कहा कि परेड में कैडेट्स का जो उत्साह दिख रहा है, यह उत्साह और मेहनत उनके वैयक्तिक विकास में भी सहायक होगी। इस अवसर उन्होंने सभी कैडेट्स को मेडल देकर सम्मानित करते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। इस अवसर पर आदर्श महाविद्यालय, हरिहा कला के प्रबंधक जितेंद्र यादव, जयराम सहित कालेज के छात्र-छात्राएं मौजूद थे।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!