Connect with us

बलिया

गांवों में सिर्फ प्रधान-सचिव के भरोसे न रहें अधिकारी, स्वयं भी रखें नजर – बलिया डीएम

Published

on

बलियाः जिलाधिकारी अदिति सिंह ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभागार में विकास कार्यक्रमों की समीक्षा बैठक की। स्वास्थ्य विभाग से किसी भी अधिकारी के बैठक में नहीं आने पर जिलाधिकारी ने तत्काल प्रभारी सीएमओ को बुलवाया और फटकार लगाई। उन्होंने निर्माण कार्यों की समीक्षा के दौरान स्थिति खराब मिलने पर कार्यदायी संस्था के अधिकारियों को निर्देश दिया कि ठेकेदारों की मनमानी रोकें।

अगर कोई निर्माण कार्य में लेटलतीफी करता है तो उनको नोटिस जारी करें। सुधार नही होने की दशा में ब्लैकलिस्टेड की कार्यवाही सुनिश्चित कराएं। स्वास्थ्य विभाग के कार्यों की स्थिति ठीक नहीं मिलने पर नाराजगी व्यक्त की और सुधार लाने की चेतावनी दी। मुख्यमंत्री सामुहिक विवाह योजना की प्रगति की भी जानकारी ली।

नवम्बर तक सभी लाभार्थियों को चयनित कर लक्ष्य पूरा करने के निर्देश दिए। कायाकल्प योजना के अन्तर्गत विद्यालयों के भवन निर्माण को जल्द पूरा कराने के निर्देश बीएसए व डीपीआरओ को दिया। ग्राम पंचायत के कार्याें की समीक्षा करते हुए कहा कि सिर्फ पंचायत सचिव व प्रधान के भरोसे नहीं रहें, बल्कि सम्बन्धित अधिकारी भी सभी कार्याें पर नजर बनाए रखें। सिकंदरपुर में अग्निशमन भवन का निर्माण निर्धारित तिथि तक पूरा करा देने को कहा। बैरिया में राजकीय पॉलिटेक्निक कालेज के निर्माण को दिसम्बर तक पूरा कराने के निर्देश दिए।

न्याय विभाग का कोर्ट रूप बना रही कार्यदायी संस्था सीएनडीएस के अधिकारी को कार्य की रफ्तार बढ़ाने को कहा। जीजीआईसी बैरिया, स्पोर्ट्स कालेज, सीएचसी सोनबरसा भवन निर्माण की प्रगति भी जानकारी ली। आशा, एएनएम आदि के माध्यम से गांवों में जागरूकता फैलाकर वैक्सिनेशन कार्य में और तेजी लाने के निर्देश दिए। आयुष्मान कार्ड बनाने व वितरण करने के कार्य में भी सुधार लाने की चेतावनी देते हुए नोडल अधिकारी को प्रतिदिन कैंप लगाने के निर्देश दिए।

कार्यदायी संस्था की लापरवाही पर हो कार्रवाई

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में हो रहे निर्माण कार्य का निरीक्षण करने का निर्देश बीएसए को दिया। कहा कि अगर कार्य सही ढ़ंग से नहीं मिले तो सम्बन्धित कार्यदायी संस्था का लाइसेंस निरस्तीकरण की कार्यवाही हो। राजकीय पॉलिटेक्निक हुसेनाबाद का कार्य ठीक नहीं होने की जानकारी मिलने पर नाराजगी जताते हुए कहा कि सुधार नहीं होने की दशा में कार्यदायी संस्था पर कार्यवाही कराएं। राजकीय गर्ल्स हॉस्टल जिगिरसड़ में खराब पानी टंकी को जल्द ठीक कराने का निर्देश दिया। सेतु निर्माण कार्याें की भी प्रगति की जानकारी ली।

पशुओं की मौत पर तय होगी जवाबदेही

गो-आश्रय स्थलों पर वर्मी कम्पोस्ट ठीक ढंग से स्थापित कराने को कहा। जिलाधिकारी ने कहा कि गौशालाओं में पशुओं की मृत्यु होने पर सम्बन्धित अधिकारियों की जवाबदेही तय की जाएगी। टेंडर के सम्बन्ध में अधिकारियों को साफ शब्दों में चेतावनी दी कि लोकल पेपर में टेंडर सूचना निकलवाकर औपचारिकता पूरा नही करें, बल्कि लोकल के साथ लीडिंग अखबार में भी विज्ञापन निकलवाएं।

बूथों पर सभी सुविधाएं हो दुरूस्त

परिषदीय स्कूलों में लाईट, सफाई, पेयजल की व्यवस्था, रैम्प की मरम्मत आदि के लिए बीएसए, डीपीआरओ, बीडीओ, ईओ को कड़े निर्देश दिए। कहा कि आगामी चुनाव के दृष्टिगत पूरी गंभीरता से इन कार्याें को कराएं। पोलिंग बूथ पर जाने वाली सभी सड़कों की मरम्मत चुनाव से पहले ही ठीक कराने को कहा। बैठक में सीडीओ प्रवीण वर्मा सहित अन्य जनपद स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बलिया

पीएम की रैली की वजह से बलिया में आया बसों का संकट, यात्री परेशान

Published

on

बलियाः सात दिंसबर को गोरखपुर में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शिरकत करने वाले हैं। लेकिन इस कार्यक्रम से बलिया के लोगों की परेशान बढ़ गई है। वजह है कि जनपद की अधिकतर बसों को पीएम की रैली के लिए गोरखपुर भेज दिया गया है। इससे यात्री परेशान हो रहे हैं।

कार्यक्रम के लिए रोडवेज ने अपनी 31 बसों के अलावा 25 अनुबंधित बसें यानि की कुल 56 बसों को भेजा है। रोडवेज के एकाउंटेंट महेश पांडेय ने बताया कि निगम की बसों को प्रति बस 24 हजार व अनुबंधित बसों को 12 हजार रुपये प्रति दिन के हिसाब से भुगतान मिलेगा।

वहीं बसें न मिलने से लोगों को काफी परेशानी हो रही है। इस समय शादी का सीजन चल रहा है। ऐसे में व्रत-त्योहार और ददरी मेला देखने के लिए काफी संख्या में लोग जिले के गांव-गिरांव के अलावा दूसरे शहरों से भी यहां पहुंच रहे हैं। लेकिन रोडवेज की बसें न मिलने से उन्हें निजी साधनों का सहारा लेना पड़ रहा है। और यात्रियों की मजबूरी का फायदा प्राइवेट टैक्सी और बस चालक उठा रहे हैं।

यात्रियों को ठूंस-ठूंस कर बस में बैठाया जा रहा है और मनमाना किराया वसूला जा रहा है। यात्रियों का कहना है कि रोडवेज प्रशासन को अतिरिक्त इंतजाम करना चाहिए था, ताकि आम लोगों को दिक्कत न हो। अधिकांश बसों के भेज दिए जाने से हम यात्रियों को डेढ़ गुना अधिक किराया देकर जाना पड़ रहा है, जिससे बहुत परेशानी हो रही है।

Continue Reading

बलिया

बलियाः उत्कृष्ट कार्य के लिए बीएसए ने किया अध्यापिका को सम्मानित

Published

on

बलिया। प्राथमिक विद्यालय अलावलपुर शिक्षा क्षेत्र हनुमानगंज पर कार्यरत सहायक अध्यापिका कु अंजली तोमर ने अपने सेवा के शुरू में ही अपने स्कूल को तथा उसमें अध्ययनरत बच्चों के लिए कुछ करने का संकल्प कर लिया था। उसी क्रम में कु अंजली तोमर ने स्कूल में अध्ययनरत सभी बच्चों को लोवर टीशर्ट सहायक शिक्षा निदेशक (बेसिक) आज़मगढ़ उपस्थिति में देकर उसकी शुरुआत की।

उस अवसर पर सहायक शिक्षा निदेशक डॉ अमरनाथ राय ने उन्मुक्त कंठ से शिक्षिका के कार्य की सराहना की साथ यह भी कहा कि मैं शिक्षिका का आभार व्यक्त करने आया हूं,ऐसे लोग ही जीवन में कुछ कर सकते हैं। शिक्षिका के इस कार्य को देखकर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने भी मंगलवार को प्रशस्ति पत्र,स्मृति चिन्ह और बुके देखकर सम्मानित किया। शिक्षिका के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि आप जैसे लोगों बेसिक शिक्षा को बुलन्दियों पर ले जाने में सहायक होंगे।

Continue Reading

featured

कोविड टीकाकरण में रुचि नहीं लेने पर जिलाधिकारी ने चिकित्सा अधीक्षक को लगाई फटकार!

Published

on

बलियाः कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रान को लेकर टीकाकरण तेजी से करने के निर्देश दिए गए है। लेकिन फिर भी स्वास्थ्य अधिकारी वैक्सीनेशन के काम में लापरवाही बरत रहे हैं। जिसको लेकर जिलाधिकारी अदिति सिंह ने सख्त रुख अपनाया है।

डीएम अदिति सिंह ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) रसड़ा के चिकित्सा अधीक्षक मुकेश वर्मा को प्रतिकूल प्रविष्टि जारी दी है। उन्होंने पत्र जारी कर डॉ वर्मा की कटु भर्त्सना की है। जिलाधिकारी ने बताया कि कोविड से बचाव के लिए लोगों का सौ प्रतिशत वैक्सीनेशन जरुरी है। और टीकाकरण जल्दी हो इसके लिए प्रशासन लगातार काम कर रहा है। शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन की शासन की प्राथमिकता है। इसके लिए शासन व उच्च स्तर से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा भी की जा रही है।

उन्होंने कहा कि जनपद स्तर पर बार-बार समीक्षा के दौरान निर्देशित किये जाने के बावजूद सीएचसी अधीक्षक श्री वर्मा द्वारा कोविड-19 के टीकाकरण जैसे कार्य में कोई रूचि नहीं ली जा रही है। यह बार-बार दिये गये निर्देशों की अवहेलना है। इस लापरवाही पर जिलाधिकारी ने प्रतिकूल प्रविष्टि जारी करते हुए डॉ वर्मा की कटु भर्त्सना की है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!