Connect with us

featured

एक ही पुलिस स्टेशन में बेटी DSP और पिता दरोग़ा, दोनों ऐसे कर रहे बलिया का नाम रोशन!

Published

on

बलिया डेस्क : आज हम आपको बलिया से ताल्लुक़ रखने वाले एक ऐसे परिवार के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसमें बेटी हैं डीएसपी और पिता हैं सब इंस्पेक्टर. दिलचस्प बात यह है कि बाप बेटी दोनो की पोस्टिंग एक ही पुलिस स्टेशन में है. बेटी का नाम है शाबेरा अंसारी जोकि मध्यप्रदेश के देवास में डीएसपी महिला प्रकोष्ठ पद पर तैनात है और पिता अशरफ़ अली इंदौर के लसूड़िया थाने में सब इंस्पेक्टर के पद पर तैनात हैं.

दरअसल छुट्टी लेकर अशरफ़ अली अपनी ट्रेनी डीएसपी बेटी से मिलने गए थे और इसी दौरान लॉकडाउन लग गया और वह वहीं फँस गए. आना जाना मुश्किल हो गया और कोरोना का प्रकोप बढ़ गया था जिसकी वजह से पीएचक्यू के आदेश के बाद एसपी ने सब इंस्पेक्टर अशरफ अली अंसारी को मझौली थाने में ही ड्यूटी करने के आदेश दिए हैं.

दिलचस्प बात यह है कि इस बीच अशरफ की पोस्टिंग भी उसी थाने में हुई जहां उनकी बेटी शाबेरा DSP के पद पर तैनात थीं. इसके बाद से ही बाप बेटी एक ही थाने में तैनात हैं और लोगों की सेवा कर रहे हैं. थाने में पिता बेटी को सैल्यूट करते हैं और घर पर डीएसपी बेटी उन्हें अपने हाथ का खाना खिलाती हैं.

बता दें कि इंस्पेक्टर के पद पर शाबेरा अंसारी का चयन 2013 में हो गया था और उन्होंने 2016 में ज्वाइन भी कर लिया था. लेकिन इसके बाद भी वह पीएससी की तैयारी करती रहीं और 2016 में पीएससी क्वालिफाइड किया और 2018 में डीएसपी पद पर ज्वाइन किया.

शाबेरा के सपने बड़े हैं. डीएसपी के पद पर होने के बाद भी वह यूपीएससी की तैयारी भी कर रही है. उन्होंने मध्य प्रदेश के इंदौर के सरकारी स्कूल से पढ़ाई की और सरकारी कॉलेज से बीए किया.

इस दौरान ही उन्होंने पीएससी की तैयारी शुरू कर दी थी. मूलरूप से शाबेरा का परिवार बलिया से ताल्लुक़ रखता है. पुलिस में नौकरी होने के बाद से पूरा परिवार इंदौर शिफ़्ट हो गया.

शाबेरा बताती हैं कि पढ़ाई लिखाई में बचपन में वह एवरेज स्टूडेंट रही हैं. गणित में वह एक बार फ़ेल भी हो चुकी हैं लेकिन उन्होंने कुछ बनने की ठानी थी. उन्हें हमेशा से पुलिस विभाग में ही जाना था. इसलिए वह लगातार मेहनत करती रहीं और उसका नतीजा आज सभी के सामने है.

बलिया की और तमाम ख़बरें , जिले से जुड़े लोगों के इंटरव्यू पढने के लिए हमें फेसबुक पेज @balliakhabar पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @BalliaKhabar पर क्लिक करें। 

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

featured

PM जन विकास योजना का विस्तार, बलिया में इन अल्पसंख्यक क्षेत्रों को मिलेगा लाभ

Published

on

बलिया। उत्तरप्रदेश में अल्पसंख्यक वर्ग को मजबूत करने के लिए सरकार लगातार काम कर रही है। जहां अब अल्पसंख्यक समाज को मजबूत और शिक्षित बनाने के लिए चल रही प्रधानमंत्री जन विकास योजना का दायरा भी बढ़ाया गया है। ऐसे में अब बलिया जिले के भी कुछ क्षेत्रों को योजना का लाभ मिलेगा। इस योजना के जरिए शिक्षा, स्वास्थ्य और कौशल विकास आदि के क्षेत्र में अल्पसंख्यकों को मजबूत बनाने के लिए भौतिक और सामाजिक ढांचे के विकास पर फोकस रहेगा।

25 फीसदी आबादी पर मिलेगा लाभ- नगरपालिका और नगर पंचायतों में जहां भी अल्पसंख्यकों की आबादी 25 प्रतिशत से अधिक है, वहां 5 किमी परिधि में सबसे अधिक आवश्यकता वाले विकास कार्यों को कराया जाएगा। सब कुछ ब्लॉक स्तरीय कमेटी की रिपोर्ट पर होगा। अल्पसंख्यक कल्याण विभाग की देख-रेख में उन कस्बों या गांवों में शिक्षा, स्वास्थ्य, खेल मैदान, आंगनबाड़ी केंद्र, सामुदायिक भवन, तकनीकी स्कूल, कॉलेज, लाइब्रेरी, छात्रावास आदि के विकास कार्य कराए जाएंगे। अल्पसंख्यक आबादी की गणना साल 2011 की जनगणना के अनुसार होगी

इन क्षेत्रों को मिलेगी विकास की संजीवनी- बलिया जिले में सदर तहसील, सिकंदरपुर, रसड़ा और बिल्थरारोड में अल्पसंख्यक समाज को विकास की संजीवनी मिल सकती है। क्योंकि इन क्षेत्रों में अल्पसंख्यकों की आबादी 25 प्रतिशत से अधिक है।

हर जिले में होगा विकास- अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी दिव्य दुर्गेश सिन्हा ने बताया कि पहले भारत सरकार अल्पसंख्यक युवाओं को कौशल प्रदान करने के लिए MSDP यानि मल्टी सेक्टोरल डेवलपमेंट के तहत अल्पसंख्यक बाहुल्य नगर, कस्बा और गांवों में बहुक्षेत्रीय विकास करती थी। उसमें जिला शामिल नहीं था । इस वजह से यहां के अल्पसंख्यक समाज को लाभ नहीं मिल पाया। अब इसका विस्तार कर दिया गया है। ब्लॉक स्तरीय रिपोर्ट के आधार पर कार्ययोजना बनाकर विकास कार्य होंगे।

Continue Reading

featured

बलिदानी बलिया के वीरों की दास्तां दुनिया को सुनाएगी ‘द एडमिनिस्ट्रेटर’ बुक

Published

on

नई दिल्ली : आजादी के 75 साल पूरे होने पर देश भर में अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। इस दौरान अमर वीर शहीदों की याद में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में बलिया के पूर्व जिलाधिकारी जगदीश्वर निगम के पुत्री के द्वारा लिखित पुस्तक ‘द एडमिनिस्ट्रेटर’ का विमोचन किया गया।

1942 में बलिया के जिलाधिकारी जगदीश्वर निगम की बेटी के द्वारा लिखित पुस्तक में बलिया से जुड़ी ऐतिहासिक घटनाओं का वर्णन किया गया है। पुस्तक के द्वारा बलिया के क्रांतिवीरों की गाथा दुनिया के सामने लाने का प्रयास है। इस दौरान कार्यक्रम में सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त और कई राष्ट्र्र के राजदूत मौजूद थे। जिलाधिकारी के नातिन जेनिस दरबारी ने बलिया से जुड़ी ऐतिहासिक घटनाओं का भी वर्ण किया। साथ ही जिले की कई घटनाओं के किस्से सुनाए। इस कार्यक्रम में गणमान्य नागरिक शामिल हुए।

Continue Reading

featured

Ballia News- स्ट्रीट लाइट लगवाने में गड़बड़ी करने वाले 5 सचिवों को नोटिस जारी

Published

on

बलिया। ग्राम पंचायतों में होने वाले सरकारी कार्यों में अनियमितता बरतने वाले सचिवों पर नकेल कसी जा रही है। जिला पंचायत राज अधिकारी यतेंद्र सिंह ने तीन गांवों में स्ट्रीट लाइन लगवाने में गड़बड़ी करने पर पांच सचिवों को नोटिस जारी किया है।

जानकारी के मुताबिक हनुमानगंज ब्लॉक के बहेरी ग्राम पंचायत में स्ट्रीट लाइट लगाने के लिए 16 दिसंबर 21 को 194980 व 3 नवंबर 21 को 1.98 लाख रुपये ग्राम पंचायत अधिकारी ओमप्रकाश चौहान एवं प्रधान सगीर ने खर्च किया। इस साल 27 मई को सचिव ठाकुर जी सिंह व प्रधान सगीर ने 66 हजार स्ट्रीट लाइट पर व्यय किया।

गांव में शासन आदेश का उल्लंघन करते हुए विधान कंपनी की स्ट्रीट लाइट लगाई गई है। सहायक जिला पंचायत राज अधिकारी प्राविधिक ने जांच कि तो पता चला कि कुल 4 लाख 58 हजार 980 रुपए की स्ट्रीट लाइट नियमों के विरुद्ध लगाई गई है।

इसी तरह माल्देपुर ग्राम पंचायत में 19 नवंबर 21 को 197421 रुपये की स्ट्रीट लाइट ग्राम पंचायत अधिकारी ओमप्रकाश चौहान ग्राम प्रधान ज्योति राय ने लगवाया। शासनादेश के विपरीत प्रोटॉन कंपनी की स्ट्रीट लाइट लगवाई गई। वहीं नवानगर ब्लॉक के हड़सर गांव की जांच में पाया कि सामुदायिक शौचालय की लागत 5.71 लाख में 506768 का भुगतान किया गया है, जबकि काम अधूरा है। इसके लिए ग्राम प्रधान आराधना सिंह, तत्कालीन सचिव राजकुमार, सचिव सूर्यप्रकाश यादव को जिम्मेदार माना। यहां वर्ष 21 22 व 22-23 में 964716 रुपये का भुगतान केवल स्ट्रीट लाइट मरम्मत में किया गया है। जांच में अनियमितता सामने आने के बाद सचिवों को नोटिस जारी हुआ है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!