Connect with us

बलिया स्पेशल

अंबिका चौधरी ने बसपा से दिया इस्तीफा, कहा, ‘अनुपयोगी महसूस कर रहा था’

Published

on

सपा के कद्दावर नेता रहे पूर्व मंत्री अंबिका चौधरी ने बसपा से इस्तीफा दे दिया। अपने इस्तीफे में उन्होंने खुद को पार्टी में उपेक्षित और अनुपयोगी बताया है। 2017 विधानसभा चुनाव से ही वो बसपा में थे। 2017 विधानसभा चुनाव में फेफना विधानसभा से समाजवादी पार्टी का टिकट ना मिलने के बाद वह बसपा में शामिल हुए थे। वह बसपा से चुनाव भी लड़े मगर जीत नहीं सके।

क्या लिख कर दिया इस्तीफा? -अंबिका चौधरी ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करके इस्तीफे की सूचना दी। उन्होंने प्रेस विज्ञप्ति में लिखा है, ‘विगत विधान सभा चुनाव के पूर्व जनवरी 2017 से मैं बहुजन समाज पार्टी में शामिल होने के पश्चात एक निष्ठावान कार्यकर्ता के रूप में पार्टी को अपनी सेवायें दे रहा हूँ। मुझको जब भी छोटा बड़ा कोई उत्तरदायित्व दिया गया उसका पूरी लगन से मैंने निर्वाह किया।’ प्रेस विज्ञप्ति में आगे बसपा सुप्रीमो मायावती का धन्यवाद करते हुए उन्होंने लिखा है ‘2019 में लोकसभा चुनाव के उपरान्त अज्ञात कारणों से पार्टी की किसी मीटिंग में मुझे छोटा बड़ा कोई उत्तरदायित्व भी नहीं सौंपा गया। इस स्थिति में मैं अपने को पार्टी में उपेक्षित और अनुपयोगी पा रहा हूँ।’

अपने बेटे के सपा से उम्मीदवार बनाए जाने का भी जिक्र- अंबिका चौधरी ने आगे जिक्र किया है कि उनके बेटे को सपा में शामिल किया गया है और जिला पंचायत अध्यक्ष पद का उम्मीदवार भी बनाया गया है। इस एवज में अपनी निष्ठा पर प्रश्नचिन्ह ना लगे इसका जिक्र करते हुए अंबिका चौधरी ने लिखा है, ‘आज दिनांक 19 जून 2021 को मेरे पुत्र श्री आनन्द चौधरी को आसन्न जि पंचायत अध्यक्ष निर्वाचन में समाजवादी पार्टी द्वारा प्रत्याशी घोषित किया गया है। ऐसी स्थिति में मेरी निष्ठा पर कोई प्रश्नचिन्ह प्रस्तुत हो इसके पूर्व ही मैंने नैतिक कारणों से भी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से अपना त्यागपत्र राष्ट्रीय अध्यक्ष बहन कु० मायावती जी को प्रेषित कर दिया है।’

उमाशंकर सिंह ने लगाया यह आरोप- वही अंबिका चौधरी के इस्तीफे के बाद रसड़ा से बसपा विधायक उमाशंकर सिंह ने उन पर विश्वासघात का आरोप लगाया है। फिलहाल जिले की राजनीति में एक ही दिन में ये दो बड़ी घटनाएं चर्चा का केंद्र बनी हुई है। अंबिका चौधरी के पुत्र आनंद चौधरी का प्रत्याशी बनना और अंबिका चौधरी के द्वारा बसपा छोड़ दिए जाने की चर्चा हो रही है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

featured

बलिया के सुखपुरा में तैनात लेखा सहायक हुए गायब, अपहरण की आशंका !

Published

on

बलिया। बलिया के सुखपुरा में तैनात पराग डेयरी के लेखा सहायक ज्ञानदेव मिश्रा बुधवार को बैंक जाते समय अचानक लापता हो गए। बलिया पुलिस उनके लापता होने के पोस्टर भी जारी किये हैं और छानबीन कर रही है। गायब होने की खबर मिलते ही बलिया पहुंचे परिजन उनके अगवा होने की आशंका जता रहे हैं। उधर यह खबर जैसे ही आजमगढ़ दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लि. के अधिकारियों को हुई चारो तरफ अफरा-तफरी मची हुई है। विभाग में हड़कंप मच गया और अधिकारी उनका पता लगाने में जुट गए है।

जानकारी के मुताबिक बुधवार को पूर्वांह्न दस बजे लेखा सहायक ज्ञानदेव मिश्र डेरी के किसी काम से जिला मुख्यालय स्थित यूनियन बैंक की मुख्य शाखा में किसी काम से जा रहे थे। अचानक रास्ते से गायब हो गए। देर रात तक वह न तो पराग डेरी के कार्यालय पहुंचे और न ही अपने आवास। श्री मिश्र मूलत: कानपुर के रहने वाले हैं। उनके गायब होने की खबर डेयरी के अधिकारियों ने जब घर वालों को दी, तो कानपुर से उनकी पत्नी व बेटे गुरुवार को सीधे बलिया पहुंच गए। परिजनों ने अपहरण की आशंका जताई है।

हालांकि पराग डेरी के अधिकारियों ने तहरीर में उनके लापता होने की बात कही गई है। पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है। उधर घटना की सूचना पुलिस कप्तान बलिया, क्षेत्राधिकारी नगर तथा थानाध्यक्ष सुखपुरा को दी है। मजे की बात यह है कि गायब लेखा सहायक ज्ञानदेव मिश्र का मोबाइल नंबर भी बंद बता रहा है। इससे तरह-तरह की आशंका जताई जा रही है।

Continue Reading

बलिया स्पेशल

बलिया- 10 साल की मासूम को मिला इंसाफ, दुष्कर्मी को कोर्ट ने सुनाई उम्र कैद की सजा

Published

on

बलिया। एक साल बाद आखिरकार मासूम को इंसाफ मिल ही गया। करीब 10 साल की मासूम से दुष्कर्म के आरोपी को कोर्ट ने दोषी करार दिया। और दुष्कर्मी को उम्र कैद की सजा सुनाई है। न्यायालय ने 20 हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है। एक साल पहले आरोपी ने दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया था। जिसे अब सजा सुनाई गई। दरअसल एक महिला ने पुलिस को तहरीर देकर आरोप लगाया कि 4 अप्रैल 2020 को उसकी 10 साल की बेटी दुकान पर मोबाइल रिचार्ज कराने गई थी।

इसी बीच पहुंचा प्रेमसागर मोदनवाल ने बच्ची को कमरे में ले जाकर दुष्कर्म किया। पुलिस ने आरोपित के खिलाफ दुष्कर्म और पाक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज कर गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। मामले की सुनवाई करते हुए विशेष न्यायधीश (पाक्सो एक्ट) शिव कुमार द्वितीय ने आरोपित को आजीवन कारावास व अर्थदंड की सजा सुनाया।
महिलाओं/बालिकाओं संबन्धी आपराधों में अभियान के तहत प्रभावी पैरवी के चलते मा. न्यायालय ने दुष्कर्म के अपराध में अभियुक्त को आजीवन कारावास और 20 हजार रूपये के अर्थ दण्ड से दण्डित किया।

गौरतलब है कि जनपद पुलिस द्वारा उच्च अधिकारियों के निर्देशानुसार पुलिसकर्मियों के साक्ष्य शीघ्र न्यायालय में निस्तारण कराने पर बल दिया जा रहा है जिसके चलते नतीजे सामने आ रहे हैं। दुष्कर्मी को सजा होने से लोगों के मन में कानून के प्रति विश्वास बढ़ रहा है। वहीं मासूम को भी न्याय मिल गया। लगातार को इंसाफ दिलाने के लिए आवाज उठाई जा रही थी। घटना के बाद से क्षेत्र में तनाव का माहौल था। अब दुष्कर्मी को इंसाफ मिलने से लोग भी कानून पर विश्वास कर रहे हैं।

Continue Reading

बलिया स्पेशल

बलिया- विवाहिता की संदिग्ध मौत, दहेज हत्या का मामला दर्ज

Published

on

बलिया। बांसडीहोड थाना क्षेत्र में विवाहिता की मौत का सनसनी खेज मामला सामने आया है। जहां फंदे पर विवाहिता का शव मिला है। और ससूराल पक्ष पर दहेज को लेकर हत्या करने का आरोप लगा है। फिलहाल पुलिस ने शव को फंदे से उतार कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। और मामले की जांच शुरू कर दी है। मामला छोटकी सराक गांव के राजभर बस्ती का है, जहां घर के कमरे में पंखे के लिए लगे हुक में विवाहिता का शव लटका मिला। बताया जा रहा है कि छोटकी सराक गांव निवासी राजमुनि देवी (21) पत्नी जयप्रकाश राजभर बुधवार को घर में अकेले थी।

घर के परिजन खेतों में काम करने गए थे। शाम में लोग घर लौटे तो विवाहिता के कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था। आवाज लगाने पर अंदर से कुछ आहट नहीं मिलने पर खिड़की से देखा तो महिला पंखे के हुक में लटकती हुई मिली।
घटना की जानकारी के बाद गांव में सनसनी फैल गई। मौके पर काफी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को हुक से उतारा और पोस्टमार्टम के लिए भेजा। उधर, देर रात घटना की सूचना पाकर थाने पहुंचे मृतका के पिता अमर राजभर ने बेटी की हत्या का आरोप लगाते हुए पुलिस को तहरीर दी।

थानाध्यक्ष सुनील लांबा ने बताया कि मृतका के पिता की शिकायत पर पुलिस ने सास और ससुर के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। बताया कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है। साथ ही पुलिस हर एंगल से जांच कर रही है। सभी के बयान लिए जा रहे हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर पुलिस की जांच में और तेजी आ जाएगी। और जल्द ही मामले का खुलासा कर दिया जाएगा।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!