Connect with us

बलिया

यूपी बिहार के जिलों को पूर्वांचल एक्सप्रेस से जोड़ेगा ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस

Published

on

पूर्वांचल एक्सप्रेस वे बनने के बाद ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस वे विकास के मार्ग पर मील का पत्थर साबित होगा। गाजीपुर के जंगीपुर से शुरु 117 किलोमीटर का एक्सप्रेस वे मांझी घाट तक जाएगा। इससे यूपी ही नहीं बिहार के भी कई जनपद पूर्वांचल एक्सप्रेस वे से कनेक्टर हो पाएंगे।

ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस वे बनने से बलिया के साथ साथ बक्सर, आरा, भोजपुर, छपरा, सीवान और पटना समेत बिहार के कई जिलों का सीधा जुड़ाव पूर्वांचल एक्सप्रेस वे से होगा। गाजीपुर से निकला एक्सप्रेस वे करीमुद्दीनपुर, चितबड़ागांव, फेफना, हल्दी और बैरिया होते हुए गुजरेगा। करीमुद्दीनपुर से तीन किलोमीटर आगे उत्तमपुर गांव के पास पूर्वांचल एक्सप्रेस से जोड़ा जाएगा। भरौली के रास्ते बिहार के कई जनपद पूर्वांचल एक्सप्रेस वे से जुड़ जाएंगे।

अलग अलग चरणों में निर्माण हो रहा है। परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी 14 नवंबर को चौधे चरण की परियोजना का शुभारंभ करेंगे। चौथ चरण बक्सर स्पर (17 किलोमीटर) होगा। यह करीमुद्दीनपुर से शुरू होगा और भरौली में गंगा के पुल (बक्सर से तीन किलोमीटर (पहले) के पास समाप्त होगा। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने देशभर से आईं आठ कंपनियों के ई-टेंडर दस्तावेज स्वीकार किए हैं। कुल 134 किलोमीटर के फोरलेन निर्माण में अब 513.73 करोड़ रुपये अधिक खर्च होंगे।

केंद्र सरकार ने कुल 5311 करोड़ रुपये की स्वीकृति दी है। इसमें एनएचएआइ ने यूपीडा (यूपी एक्सप्रेसवेज डेवलेपमेंट अथारिटी) को 500 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं। उन्होंने 150 करोड़ बलिया और 100 करोड़ रुपये गाजीपुर प्रशासन को दिए हैं। आजमगढ़ एनएचएआई एसपी पाठक का कहना है कि गाजीपुर में भी जल्द जमीन अधिग्रहण शुरू कराया जाएगा। दो फेज के लिए 13 कंपनियों के आवेदन स्वीकार किए गए है। अब उनके टेंडर दस्तावेज का अध्ययन होगा। दिसंबर तक कंपनी फाइनल होगी। बता दें कि एक्सप्रेस वे के लिए बलिया के 99 गांवों से 438 हेक्टेयर भूखंड और गाजीपुर के 86 गांव से 312 हेक्टेयर भूखंड खरीदा जाएगा।

बलिया

बलिया – हल्दी गांव रास्ते के अतिक्रमण पर चला बुलडोजर, सड़क निर्माण के लिए भूमि पूजन भी हुआ

Published

on

बलिया में प्रशासन ने अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई की। हल्दी गांव में जाने वाले रास्ते का अतिक्रमण प्रशासन ने बुलडोजर चलवाकर हटाया। साथ ही सड़क बनवाने के लिए भूमि पूजन भी किया गया है। बता दें अवैध कब्जा हटाने की स्थानीय लोग लंबे समय से मांग कर रहे थे।

परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह ने विधानसभा चुनाव से पहले हल्दी गांव जाने वाले जर्जर मार्ग को बनवाने का आश्वासन दिया था। परिवहन मंत्री ने अपना वादा पूरा किया। जहां 65 लाख की लागत से लगभग 11 सौ मीटर सड़क निर्माण के लिए भूमि पूजन मंत्री प्रतिनिधि के रूप में उनके छोटे भाई धर्मेंद्र सिंह ने किया।

शुक्रवार को बलिया-बैरिया मुख्यमार्ग से गांव में जाने वाले रास्ते पर लोगों द्वारा किये अतिक्रमण को जेसीबी की सहायता से हटाया गया। सड़क को अतिक्रमण करने पर क्षेत्रीय लोगों ने प्रशंसा की। अतिक्रमण की वजह से आये दिन जाम की स्थिति बन रही थी। जिसके कारण कई बार हादसा हुआ।

Continue Reading

बलिया

बेल्थरारोड से पूर्व विधायक गोरख पासवान को कोर्ट से झटका, ट्रेन रोकने के मामले में सजा बरकरार

Published

on

बलिया। वाराणसी कोर्ट से पूर्व विधायक गोरख पासवान को झटका लगा है। कोर्ट ने 11 साल पहले इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन रोकने के मामले में लगी याचिका को खारिज कर दिया है। बता दें मामले में कोर्ट ने बेल्थरारोड सीट से पूर्व विधायक गोरख पासवान को दोषी करार देते हुए 3 महीने की सजा सुनाई थी।

वाराणसी में विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण अवनीश गौतम की अदालत ने एसीजेएम षष्टम के 8 अगस्त 2022 के फैसले को सही मानते हुए अभियुक्त को 7 अप्रैल को हाजिर होने का आदेश दिया है। अभियोजन का पक्ष एडीजीसी विनय सिंह ने रखा। अपीलीय अदालत ने कहा कि अभियुक्त ने ऐसा कोई साक्ष्य नहीं दिया जिसमें कहा गया हो कि उसने जनता को नहीं भड़काया।
क्या है पूरा मामला- बता दें मऊ के एसआई डीके शर्मा ने 4 अप्रैल 2012 को रिपोर्ट दर्ज कराई थी। आरोप था कि सपा विधायक गोरख पासवान के नेतृत्व में ग्रामीणों ने वाराणसी-गोरखपुर रेल प्रखंड पर बनकरा गांव के पास रेल फाटक बनाने की मांग को लेकर इंटरसिटी एक्सप्रेस को 18 मिनट तक रोक कर रखा था।

मामले में अपर कोर्ट ने रेलवे अधिनियम की कई धाराओं में दोषी गोरख पासवान को 3 माह की अधिकतम सजा और साढ़े 4 हजार का जुर्माना 8 अगस्त 2022 को लगाया था। अभियुक्त ने इसी के खिलाफ दाखिल अपील में कहा था कि साक्ष्य पर आधारित सजा नहीं सुनाई बल्कि भावनात्मक आधार पर सजा सुनाई गई। घटनास्थल पर पहले से भीड़ थी।

इसकी जानकारी होने पर डर्मापुर फेफना निवासी तत्कालीन विधायक अभियुक्त मौके पर पहुंचा। भीड़ को समझा-बुझाकर हटाने की कोशिश भी की। अपीलीय अदालत ने कहा कि आरोप के खिलाफ़ कथित भूमिका को साबित करने का भार अभियुक्त पर था जिसे वह साबित नहीं कर सका। ऐसे में अवर न्यायालय की सजा की पुष्टि की जाती है।

Continue Reading

बलिया

बलियाः अवैध अतिक्रमण को लेकर सिटी मजिस्ट्रेट ने किया शहर का निरीक्षण

Published

on

बलिया में बढ़ते अतिक्रमण को लेकर जिलाधिकारी रवींद्र कुमार सख्त रवैया अपना रहे हैं। उनके निर्देश के क्रम में सिटी मजिस्ट्रेट सुरेश कुमार ने आज रामलीला मैदान का निरीक्षण किया।

उन्होंने शीश महल के बगल की गली का भी अवलोकन किया। उन्होंने बताया कि इस गली को भी वाहन स्टैंड बनाया जा सकता है। इसके अलावा और भी स्थानों पर लेखपाल के माध्यम से यह जानकारी ली जा रही है कि उस एरिया में कौन सी सरकारी जमीन है जहां स्टैंड बनाए जा सके।सिटी मजिस्ट्रेट सुरेश कुमार ने बताया कि नगर क्षेत्र में अतिक्रमण के अलावा जाम की समस्या आए दिन बढ़ती जा रही है। इसी क्रम में निरीक्षण किया गया है। इस मौके पर अधिशासी अधिकारी सत्य प्रकाश सिंह, एसके सिंह आर आई इसके अलावा परिवहन विभाग के कर अधिकारी आरती गौतम भी मौजूद रहे।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!