Connect with us

बलिया

बलिया में सांस्कृतिक धरोहरों को सहेजने राज्यमंत्री ने किया यह बड़ा ऐलान…

Published

on

बलिया विकास की नई इबारत लिख रहा है। अब जिले की सांस्कृतिक-पौराणिक धरोहरों को सहेजने के लिए एक पहल की जा रही है। जल्द ही इन धरोहरों के दर्शन के लिए सिटी गैलरी स्थापित की जाएगी। धर्मार्थ कार्य, पर्यटन संस्कृति राज्यमंत्री नीलकंठ तिवारी ने की है।बीते दिन आयोजित जागरण विमर्श के समापन सत्र में मंत्री ने यह बात कही। कार्यक्रम में मौजूद जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर कल्पलता पांडेय ने जब जनपद के पौराणिक एवं सांस्कृतिक महत्व की धरोहरों को विकसित करने का सुझाव दिया तो पर्यटन मंत्री ने तुरंत इस बात पर संज्ञान लिया और उन्हेंं इसका प्रस्ताव बनाकर भेजने तथा विश्वविद्यालय में इससे संबंधित डिस्ट्रिक्ट गैलरी की स्थापना करने को भी कहा।

साथ ही कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राज्यमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद पहली सरकार है, जिसने सांस्कृतिक व पौराणिक धरोहरों, आधारभूत ढांचे के विकास और कनेक्टिविटी को विकास का आधार बनाया है। इसके साथ उन्होंने कहा कि प्रत्येक जनपद में धरोहरों को विकसित कर पर्यटन के रुप में विकसित किया जा रहा है ताकि लोगों को रोजगार मिले। इस तरह की सकारात्मक सोच और विकास कभी पूर्ववर्ती सरकारों ने नहीं किया। 2017 के पूर्व हमें माफिया के इशारे पर चलने वाली भ्रष्टाचार की पर्याय एक सरकार मिली थी, परिणामस्वरूप हमें मिला एक बीमारू राज्य।

उन्होंने योगी सरकार की खूबियां गिनाते हुए कहा कि सरकार बनते ही एक माह के अंदर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी विभागों की समीक्षा की और योजनाएं बनाई। नतीजा, हमने दी एक सकारात्मक, विकास परक, माफियाराज उन्मूलक और कोरोना जैसी महामारी को सफलतापूर्वक नियंत्रित करने वाली सरकार। आज देश ही नहीं, विदेश में भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के चर्चे हैं। इसके अलावा आगरा शिवाजी की स्मृतियों से जुड़े स्थल म्यूजियम के बारे में बताया साथ ही कहा कि अयोध्या विश्व की सबसे सुंदरतम नगरी बनेगी, ताकि रामराज्य की परिकल्पना का वह प्रतिबिंब बन सके।

कार्यक्रम के दौरान एक व्यक्ति ने अमर क्रांतिकारी मंगल पांडेय की स्मृति में संग्रहालय बनाने की मांग रखी। जिस पर उन्होंने सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त के माध्यम से पत्र भेजवाने का आग्रह किया। इसी तरह काशी, विंध्य, ब्रज क्षेत्र, नैमिषारण्य, रत्नेश्वर गिरिडीह, चित्रकूट का विकास किया जा रहा है, ताकि विदेशी पर्यटक आएं तो वहां भी जाएं। 1916 में महात्मा गांधी बीएचयू के उद्घाटन अवसर पर काशी आए तो वहां की गंदगी और दुव्र्यवस्था को देखकर टिप्पणी की थी। इतने लंबे समय तक उनके नाम पर सरकार चलाने वाली कांग्रेस ने उनकी भावनाओं की उपेक्षा की।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में न सिर्फ श्रीकाशी विश्वनाथ धाम कारिडोर, बल्कि पूरी काशी महात्मा गांधी की कल्पना के अनुसार नया रूप ले रही है। आज हमारी सरकार गर्व से कहती है कि एक बार जाइए, इन तीर्थों, पौराणिक स्थलों को देख तो आई।कार्यक्रम के दौरान राज्यमंत्री का पूरा ध्यान पर्यटन व पौराणिक धरोहरों को सहेजने के लिए सरकार के द्वारा उठाए गए कदमों पर था, जिन्हें उन्होंने जनता के सामने पेश किया। अब देखना होगा कि क्या वाकई में बलिया में सिटी गैलरी की स्थापना होगी या राज्यमंत्री की यह बात सिर्फ घोषणा बनकर रह जाएगी।

Continue Reading
Advertisement />
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बलिया

बलिया- लेखपाल संघ ने 6 सूत्रीयों मांगों को लेकर खोला मोर्चा

Published

on

बलिया। उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ ईकाई रसड़ा ने अपनी मांग तेज कर दी है। जहां उन्होंने 6 सूत्रीय मांगों को लेकर अपनी आवाज बुलंद कर दी है। और अपनी मांगों को लेकर लेखपाल संघ ईकाई ने धरना प्रदर्शन दिया। 6 सूत्रीय मांगों में संघ लेखपाल चतुरी सिंह का निलंबन तत्काल वापस करने, लेखपालों के बार-बार स्थानांतरण को संशोधित करने, अतिरिक्त कार्यभार से हटाने, आय, जाति एवं निवास का मानदेय तत्काल देने, अन्य बकाया एरियर का तत्काल भुगतान करने की मांग शामिल है।

बता दें शनिवार को 6 सूत्रीय मांगों को लेकर लेखपाल संघ ईकाई रसड़ा तहसील मुख्यालय पर धरना-प्रदर्शन किया। संघ लेखपाल चतुरी सिंह का निलंबन तत्काल वापस करने, लेखपालों के बार-बार स्थानांतरण को संशोधित करने, अतिरिक्त कार्यभार से हटाने, आय, जाति एवं निवास का मानदेय तत्काल देने, अन्य बकाया एरियर का तत्काल भुगतान करने आदि मांग को लेकर आंदोलित हैं।

धरना-प्रदर्शन में अजीत कुमार, रामवृक्ष चौहान, दीपक श्रीवास्तव, दिलशान अख्तर, अमीरचंद, बलवीर सिंह, मार्कंडेय, चौधरी विजय कुमार सिंह, देवेंद्र नाथ राय आदि दर्जनों लेखपाल शामिल थे।

Continue Reading

बलिया

बलिया- ब्रेक फेल होने से पलटी कार, हादसे में गाजीपुर के 4 लोग घायल

Published

on

बलिया। कोतवाली थाना क्षेत्र में एक कार सड़क हादसे का शिकार हो गई। इस दौरान हादसे में 4 लोग घायल हो गए। जिन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। बताया जा रहा है कि कार की रफ्तार ज्यादा होने की वजह से हादसा हुआ। सभी घायल गाजीपुर जिले के बताए जा रहे हैं। गनीमत रही कि हादसा ज्यादा बड़ा नहीं हुआ। फिलहाल घायलों का इलाज जारी है। और उनकी हालत भी खतरें से बाहर बताई जा रही है।

दरअसल पिडहरा के पास शनिवार की शाम को ब्रेक फेल होने से कारण कार सड़क किनारे पलट गई। इसमें सवार गाजीपुर जिले के सदानन्द, दीपक, मोतीचंद और भानु प्रताप गंभीर रूप से घायल हो गए। इन सभी को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। बताया जा रहा है कि पिडहरा से कार तेज गति से शहर की तरफ जा रही थी। इसी बीच अचानक अनियंत्रित होकर सड़क किनारे गड्ढे में पलट गई। आसपास के लोगों ने घायलों को निकाल कर अस्पतला भेजवाया। जहां उनका इलाज जारी है।

Continue Reading

बलिया

बलिया: गंभीर रूप से घायल दो सिपाहियों को भेजा गया वाराणसी, कैसे हुई दुर्घटना?

Published

on

प्रतिकात्मक तस्वीर

बलिया में घटी दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हल्दी थाना के दो सिपाहियों को वाराणसी रेफर कर दिया गया है। 22 वर्षीय श्रवण कुमार और 25 वर्षीय प्रमोद कुमार यादव बीती रात हल्दी थाना क्षेत्र के जबही ग्राम सभा में गश्त के दौरान एक दुर्घटना के शिकार हो गए थे। गश्त के दौरान ही अचानक एक नीलगाय उनके सामने आ गई थी। दुर्घटना के बाद आसपास के लोगों ने दोनों को आननफानन में दोनों सिपाहियों का प्राथमिक उपचार कराया। स्थिति गंभीर होने की वजह से दोनों को जिला अस्पताल में रेफर कर दिया गया था।

बलिया जिला अस्पताल ने दोनों की हालत बिगड़ते देख वाराणसी रेफर कर दिया। हल्दी थाना के उप निरिक्षक शैलेन्द्र पांडेय दोनों सिपाहियों के साथ वाराणसी भेजे गए हैं। जानकारी के मुताबिक इनमें से एक सिपाही की स्थिति नाजूक है। बता दें कि शुक्रवार की रात दस बजे विजयदशमी के मौके पर दोनों सिपाही गश्त पर निकले थे। इसी दौरान यह दुर्घटना हो गई।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!