Connect with us

बलिया

बलिया: दो हजार से ज्यादा आंगनबाड़ी केंद्रों के पास नहीं है कोई भवन?

Published

on

बलिया: दो हजार से ज्यादा आंगनबाड़ी केंद्रों के पास नहीं है कोई भवन? (प्रतिकात्मक तस्वीर/साभार: Patrika.com)

नई शिक्षा नीति के तहत केंद्र सरकार ने आंगनबाड़ी केंद्रों को प्री-प्राइमरी स्कूल के रूप में विकसित करने की योजना बनाई है। आंगनबाड़ी केंद्रों की व्यवस्था को सुधारकर शिक्षा के क्षेत्र में निचले स्तर से परिवर्तन लाने की कवायद हो रही है। उत्तर प्रदेश के बलिया जिला में आंगनबाड़ी केंद्रों की स्थिति बेहद खराब हो चुकी है। आंगनबाड़ी केंद्रों पर जिले के नौनिहालों के भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है। जिले में दो हजार से भी अधिक ऐसे आंगनबाड़ी केंद्र ऐसे हैं जिनके भवन ही नहीं हैं। यानी एक कमरा तक नहीं है जहां आंगनबाड़ी चल सके।

पूरे बलिया जिले में कुल 3471 आंगनबाड़ी केंद्र हैं। इनमें से लगभग 2671आंगनबाड़ी केंद्रों के पास अपनी भवन नहीं है। महज आठ सौ केंद्रों के पास अपना ढ़ांचा है। जहां बच्चों को पढ़ाया जाता है। इन आठ सौ आंगनबाड़ी केंद्रों में भी कई भवन जर्जर और पुराने हो चुके हैं। बारिश के दिनों में इनकी छत से पानी टपकना आम बात हो चुकी है। आम दिनों में भी छत से सीलन गिरने का खतरा लगातार बना रहता है।

रसड़ा की एक आंगनबाड़ी शिक्षिका पहचान उजागर न किए जाने की शर्त पर बताती हैं कि “हमलोग एक मकान में आंगनबाड़ी चलाते हैं। लेकिन वो हमारा अपना मतलब आंगनबाड़ी का नहीं है। जैसे-तैसे हमलोग काम कर रहे हैं।” आंगनबाड़ी शिक्षिका बताती हैं कि “आंगनबाड़ी का खुद का भवन न होने की वजह से कई लोग अपने बच्चों को यहां भेजते भी नहीं हैं क्योंकि सुविधा कुछ है नहीं। लोग अपने छोटे बच्चों को ऐसे ही कहीं पढ़ने के लिए नहीं भेज सकते हैं न?”

बलिया कई मौलिक मानकों पर पिछड़ा हुआ है। नीति आयोग ने हाल ही में स्वास्थ्य, शिक्षा और पोषण के आधार पर देश के अति पिछड़े जिलों की सूची बनाई थी। इसमें बलिया ने भी खराब प्रदर्शन किया था। जिले के 429 ग्राम पंचायतों में आंगनबाड़ी केंद्र बनाए गए हैं। लेकिन किसी भी पंचायत में आंगनबाड़ी केंद्र की हालत ठीक नहीं है। यहां तक कि कई ग्राम पंचायतों में पेड़ की छांव में भी आंगनबाड़ी का संचालन किया जा रहा है। ज्यादातर आंगनबाड़ी केंद्र अपने इलाके के प्राथमिक या माध्यमिक विद्यालय में चलाए जा रहे हैं।

बलिया के जिला कार्यक्रम अधिकारी कृष्ण मुरारी पांडेय का एक बयान मीडिया में छपा है कि “शासन की ओर से आंगनबाड़ी केंद्रों को प्री-प्राइमरी स्कूल की तर्ज पर विकसित करने का आदेश आ चुका है। इसे लेकर बेसिक शिक्षा विभाग के साथ समन्वया बनाकर आगे की रणनीति तैयार की जा रही है। इसके बाद आंगनबाड़ी केंद्रों के लिए जरूरी ढ़ांचा विकसित किया जाएगा।”

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

featured

बलिया में दर्दनाक सड़क हादसा, 4 की मौत

Published

on

बलिया में सड़कों पर हादसों में लगातार वृद्धि हो रही है। आज मंगलवार सुबह भी जिले के नगरा थाना क्षेत्र में ट्रैक्टर और बाइक टक्कर हो गई। शुरुआती जानकारी के मुताबिक हादसे में अबतक चार लोगों की मौत हो गई। वहीं  कुछ लोग गंभीर रूप से घायल भी बताए जा रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक नगरा थाना क्षेत्र के गोठाई तिलकारी गांव के पास सोमवार की देर रात ट्रैक्टर और बाइक की आमने सामने जोरदार टक्कर हो गई। जिसमें चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई।

सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को उपचार हेतु जिला चिकित्सालय पहुंचाया। वहीं शवों को पोस्टमार्टम हाउस में रखवाया। उधर घटना की सूचना मिलते ही मृतक के घरों में कोहराम मच गया। मृतक होने वालों में  थाना नगरा में खनवर  के वहीं एक  थाना हलधरपुर जनपद मऊ का बताया जा रहा है वहीं एक अज्ञात जिसका शिनाख्त नहीं हो सका है। जबकि एक घायल था, जिसको उपचार कर छोड़ दिया गया।

Continue Reading

बलिया

पुणे में दर्दनाक सड़क हादसे में बलिया निवासी 2 चचेरे भाईयों की मौत

Published

on

पुणे में नौकरी कर रहे बलिया निवासी 2 चचेरे भाइयों की सड़क हादसे में मौत हो गई। इस घटना के बाद से परिजनों में कोहराम मच गया। मृतकों में रोशन खरवार और दीपक खरवार शामिल हैं। इनमें मृतक रोशन खरवार की शादी हो चुकी थी और डेढ़ साल का एक पुत्र है। जबकि मृतक दीपक खरवार की अभी शादी नहीं हुई थी।

जानकारी के मुताबिक, घटना के समय दोनों चचेरे भाई पुणे के एक कंपनी से ड्यूटी के बाद तीसरे साथी के साथ पैदल ही कमरे पर जा रहे थे। इस बीच बीती रात 10 बजे के आसपास तेज रफ्तार बोलेरो ने तीनों को पीछे से जोरदार टक्कर मार दी। जिससे दोनों चचेरे भाइयों की मौत हो गई। जबकि तीसरा गंभीर रूप से घायल बताया जा रहा है।

वहीं परिजनों का अपने पुत्र के अंतिम दर्शन की उम्मीद में रो रोकर बुरा हाल है। बताया जा रहा है कि दोनों मृतक के पिता सहोदर भाई है और दोनों की मां भी आपस में बहन है।

Continue Reading

बलिया

बलिया: पिकअप को ओवरटेक के दौरान पास न देने पर 2 पक्षों में हुई मारपीट

Published

on

बलिया के राष्ट्रीय राजमार्ग पर पिकअप को ओवर टेक करने के दौरान पास न देने पर मारपीट की घटना सामने आई है। जानकारी के मुताबिक, रविवार को सुबह ओएनजीसी कंपनी में काम करने के लिए मजदूर पिक अप से बलिया जा रहें थे। मजदूरों से भरी पिकअप जैसे ही राष्ट्रीय राजमार्ग पर पर फेफना कस्बे में पहुंची, तभी पीछे से आ रहे बाइक सवार से ओवर टेक करने को लेकर तकरार हो गई।

इसके बाद दोनों पक्षों में मारपीट शुरू हो गई। इसमें 30 वर्षीय अरुणेश, 31 वर्षीय आलोक, 22 वर्षीय राममीलन, 22 वर्षीय भीम पूर जिला फत्तेपूर गंभीर रूप से घायल हो गए। सुचना पर पुलिस पहुंचने से पहले ही आरोपी बाइक छोड़कर फरार हो गए।

घायल साथी को लेकर आक्रोशित सैकड़ों मजदूर पिक अप सहित थाने पहुंच गए। रमेश भाई निवासी फत्तेपूर की तहरीर पर बाइक को कब्जे में लेकर दोनों अज्ञात बाइक सवार युवकों पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। फिलहाल दोनों बाइक सवार युवक पुलिस की पकड़ से दूर हैं।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!