Connect with us

बलिया स्पेशल

बलिया में ‘हमारी पाठशाला-हमारी विरासत’ मुहीम की शुरुआत, राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति हुए सम्मानित

Published

on

बलिया डेस्क : हमारी पाठशाला-हमारी विरासत मुहिम की पहली कड़ी की शुरुआत चिलकहर ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय बर्रेबोझ प्रांगड़ से हुई। परिसर में आयोजित ‘पुरातन छात्र सम्मान समारोह’ में बतौर मुख्य अतिथि उसी विद्यालय के पढ़े छात्र व वर्तमान में राजर्षि टण्डन मुक्त विश्वविद्यालय, प्रयागराज के कुलपति कामेश्वर नाथ सिंह शामिल हुए।

जिलाधिकारी एसपी शाही ने कुलपति को सम्मानित करने के साथ अपील भी किया कि इस विद्यालय को मॉडल स्कूल बनाने में अपना अतुलनीय योगदान दें। कार्यक्रम में अभिभावकों व बच्चों के लिए भी शिक्षा से जुड़े कई अहम जानकारी दी गई। अपने सम्बोधन में कुलपति श्री सिंह ने कहा कि मेरे मन में भी आता था कि जहां से हमने शिक्षा ग्रहण किया, वहां के लिए कुछ न कुछ किया जाना चाहिए। निश्चित रूप से जिला प्रशासन ने इस अभियान के जरिए सफलता के शीर्ष पर पहुंचे लोगों को दायित्व बोध कराया है। यह अत्यंत ही सराहनीय पहल है। भरोसा दिलाया कि विद्यालय में हर कमी को पूरा करने के लिए ततपर रहूंगा।

जब भी आऊंगा विद्यालय में जरूर आऊंगा। उन्होंने विशेष बल देकर कहा कि प्रशासन के इस अभियान में शिक्षकों की अहम भूमिका है, लिहाजा उनको भी अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। स्कूल में किताबी ज्ञान के साथ सामाजिक जीवन से जुड़ा ज्ञान भी दें और अभिभावकों से हमेशा सम्पर्क में रहें। ग्रामीणों भी ध्यान दें कि अब नए अध्यापक भी तमाम परीक्षाओं को पास करके, यानि पूरी तरह ट्रेंड होकर आ रहे हैं, इसलिए उन पर भरोसा करें और बच्चों को प्राथमिक स्कूल में भेजें।

दिमाग में भरे भ्रम को दूर करने की जरूरत: डीएम

डीएम श्री शाही ने इस मुहिम में अपना कीमती समय देने के लिए सबसे पहले कुलपति केएन सिंह का आभार जताया। उन्होंने कहा, परिषदीय स्कूलों को बेहतर स्वरूप में लाने के लिए यह एक तरह का प्रयास किया गया है। इन्हीं विद्यालयों से पढ़कर लोग महान विभूति बने और उच्च पदों तक गए, लेकिन आज लोगों का झुकाव अंग्रेजी मीडियम प्राइवेट स्कूलों की तरफ हो गया है। दिमाग में यह भ्रांति आ गई है कि प्राइवेट स्कूलों में ही अच्छी शिक्षा मिलेगी। निःसन्देह सरकारी स्कूलों के अध्यापकों में यह अविश्वास है।

इसी भ्रम को दूर करने की जरूरत है। कहा कि परिषदीय स्कूल की शिक्षा पद्धति हमेशा से बेहतर रही है। सरकार की हमेशा वरीयता में प्राथमिक शिक्षा रही है। अब तो अंग्रेजी माध्यम से भी शिक्षा देने के साथ बहुत सारी सुविधाएं दी जा रही है। लोगों ने विश्वास पैदा करने का यह प्रयास है। इसमें सबके सहयोग की भी जरूरत है।  इससे पहले समारोह की शुरुआत सरस्वती पूजन व विद्यालय के बच्चों द्वारा स्वागत गीत प्रस्तुत कर किया गया। कार्यक्रम में एसडीएम मोतीलाल यादव, डीआईओएस ब्रजेश मिश्र, बीएसए एसएन सिंह, बीइओ वंशीधर श्रीवास्तव, अध्यापक अनिल सिंह सेंगर, बलवंत सिंह समेत ग्रामीण मौजूद थे।

कुलपति ने साझा किए पुराने दिन

कुलपति ने पुराने दिनों को साझा करते हुए कहा, हम जब पढ़ते थे तो तमाम प्रतिकूल परिस्थिति थी। बरसात के दिनों में पानी भी भर जाता था। अभाव में पढ़ाई करना होता था। घर से बैठने के लिए बोरा व कापी किताब का झोला लेकर आते थे। अब तो तमाम सुविधाएं सरकारी स्कूलों में भी मिल रही हैं। यही बच्चे कल के भविष्य हैं। यही आगे बढ़कर अच्छा समाज, प्रदेश व देश का निर्माण करेंगे।

बोझ की तरह नहीं, बल्कि हंसते-खेलते पढ़ें बच्चे

कुलपति ने सुझाव कि अभिभावक अपने बच्चों पर कभी पढ़ाई के लिए दबाव ना डालें। कोई एक लक्ष्य लेकर पढ़ाई नहीं की जा सकती। बच्चे अपने अंदर के गुण व प्रतिभा के हिसाब से अपने क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर लेंगे। प्रकृति की देन है कि हर बच्चे किसी न किसी क्षेत्र में गुणवान जरूर होते हैं। सिर्फ उनके गुण व प्रतिभा की पहचान करने की जरूरत होती है। यह भी कहा कि नौकरी ही सब कुछ नहीं है, बल्कि जीवन का सार्थक होना जरूरी है। इसलिए जीवन को सार्थक बनाने के उद्देश्य से मेहनत करें।

बलिया स्पेशल

सरकार की तारीफ, विपक्ष पर हमला, सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त बोले – BJP जो बोलती वो करती है

Published

on

बलिया। उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनाव भले ही अगले साल हो, लेकिन चुनावी रंग अभी से देखने को मिल रहा है। पार्टी के वरिष्ठ नेता अपनी पार्टी के उपलब्धि गिना रहे हैं। बलिया के बैरिया में भी बीजेपी सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने बीजेपी सरकार द्वारा किए गए कामों को गिनाया। उन्होंने कहा कि बीजेपी तो कहती है वो जरूर करती है। साथ ही उन्होंने विपक्ष पर भी हमला बोला, कहा कि बीजेपी जाति के नाम पर राजनीति नहीं करती। जनता से किए वादों को पूरा करती है।

भाजपा जो कहती है वह करती है। चुनाव के पहले कहा था अयोध्या में रामलला का मंदिर बनाएंगे, जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाएंगे, गांव, गरीब, किसान की चिता करेंगे और जो हमने कहा था वह कर दिखाया है। जो लोग कहते थे ‘राम लला हम आएंगे मंदिर नहीं बनाएंगे, तारीख नहीं बताएंगे’, उनकी अब बोलती बंद हो चुकी है। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम का अयोध्या में मंदिर बन रहा है। कुछ लोग कहा करते थे कि जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटा तो खून की नदियां बहेंगी, ऐसा कुछ नहीं हुआ, यह आप लोग देख रहे हैं, ये कहना है बलिया से बीजेपी सांसद वीरेंद्र सिंह का।

दरअसल सांसद वीरेंद्र सिंह भाजपा के वरिष्ठ नेता कापरेटिव बैंक के निदेशक मुक्तेश्वर सिंह द्वारा जमालपुर में आयोजित विजयदशमी महोत्सव व कार्यकर्ता सम्मान समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी जाति की राजनीति नहीं करती है। कार्यक्रम में बैरिया विधानसभा के चुनाव प्रभारी दुर्ग विजय राय, आरएसएस के सुधीर सिंह, ओमकार, भाजपा के जिलाध्यक्ष जयप्रकाश साहू, मुरलीछपरा के प्रमुख कन्हैया सिंह, बैरिया के प्रमुख प्रतिनिधि राकेश सिंह आदि ने संबोधित किया। भाजपा नेता मुक्तेश्वर सिंह ने सभी आगंतुकों का स्वागत किया।

Continue Reading

बलिया स्पेशल

जानें कौन हैं बलिया के ‘गोल्डमेन’ नीतीश, जिन्होंने गोवा में जीते 3 गोल्ड मेडल

Published

on

बलिया के नीतीश चौहान ने गोवा के मडगांव में खेलो इंडिया औऱ फिट इंडिया के तहत नेशनल यूथ गेम्स चैंपियनशिप 2021 में 3 गोल्ड मेडल जीतकर जिलेब के साथ ही प्रदेश का भी नाम रोशन किया है। उन्होंने मार्शल आर्ट अंतर्गत तायक्वांडो, कीक बाक्सिंग और कलारीपयट्टू खेलों में तीन गोल्ड जीत कर रसड़ा सहित बलिया जनपद को गौरवान्वित किया है। और जब नीतीश अपने गांव पहुंचे तो उनका भव्य स्वागत किया गया। पूरे में क्षेत्र में खुशी का माहौल है। सभी नीतीश के साथ ही उनके परिवार वालोें को बधाई दे रहे हैं।

बता दें नीतीश चौहान रजमलपुर उर्फ नवापुरा (पाही) गांव निवासी हैं। जिनके पिता का नाम गोरखनाथ चौहान है। और उन्होंने अपनी असीम मेधा व कड़ी मेहनत की बदौलत 8 से 10 अक्टूबर के बीच गोवा में तीन मेडल अपने नाम किए हैं। शनिवार को गोवा से गोल्ड मेडल जीत कर पहुंचे नीतीश चौहान को गांव में फूल-मालाओं से भव्य स्वागत किया गया। बचपन से ही मेधावी नितीश ने लखनऊ, बिजनौर में भी प्रदेश स्तर पर हुए आयोजनों में कई मेडल जीत चुके हैं।

अपनी इस सफलता पर नीतीश ने कहा कि 2024 में फ्रांस के पेरिस में होने वाले ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतकर राष्ट्र को गौरवान्वित करने का लक्ष्य है। उन्होंने पिता एसएसबी में कार्यरत गोरखनाथ चौहान, माता धनेश्वरी देवी तथा बड़े भाई कैप्टन सतीश चौहान व कोच राजू भारती द्वारा किए जा रहे सहयोग के प्रति आभार व्यक्त करते हुए नौजवानों को खेलों में भविष्य तलाशने का आह्वान किया।

Continue Reading

featured

बलिया DM ने सुनी जनता की समस्या, पांच अधिकारियों का रोका वेतन !

Published

on

बलिया: सम्पूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर जिलाधिकारी अदिति सिंह ने बैरिया तहसील में जनता की समस्याओं को सुना और त्वरित निस्तारण के लिए सम्बन्धित अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए। इस दौरान तमाम तरह की समस्याएं आई, जिनमें कुछ का मौके पर निस्तारण कराया गया। वहीं, शेष समस्याओं को सम्बन्धित अधिकारियों को ​इस निर्देश के साथ सौंपा कि समयान्तर्गत व गुणवत्तापरक निस्तारण सुनिश्चित कराएं।

सम्पूर्ण समाधान दिवस पर अवैध कब्जे, राशन, पेंशन, भूमि विवाद सम्बन्धी मामले प्रमुख रूप से आए। जिलाधिकारी ने अधिकारियों से कहा कि जनता की समस्याओं को गंभीरता से लें। कोई भी शिकायत डिफाल्डर की श्रेणी में नहीं जानी चाहिए। ध्यान रहे कि निस्तारण की गुणवत्ता भी बेहतर हो, ताकि शिकायकर्ता पूरी तरह संतुष्ट हो जाए। जिलाधिकारी ने पुलिस से जुड़ी समस्याओं को भी सुना और थाना प्रभारियों को आवश्यक दिशा—निर्देश दिए। इस अवसर पर सीडीओ प्रवीण वर्मा, एसडीएम अभय सिंह, सीओ अशोक मिश्र, डीएसओ केजी पांडेय, नायब तहसीलदार रजत सिंह, समाज कल्याण अधिकारी अभय सिंह, पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी राजीव यादव समेत जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

समाधान दिवस में अनुपस्थित पांच अधिकारियों का रोका वेतन

बैरिया तहसील में आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस में पांच अधिकारियों का अनुपस्थित रहने पर जिलाधिकारी अदिति सिंह ने उनका एक दिन का वेतन रोकने का आदेश दिया है। जिलाधिकारी की जनसुनवाई में जिला विकास अधिकारी, परियोजना निदेशक, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी, सहायक निदेशक मत्स्य और ग्रामीण अभियंत्रण सेवा के अधिशासी अभियंता अनुपस्थित थे। तीन दिन के अंदर इन सभी अधिकारियों से स्पष्टीकरण भी तलब किया गया है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!