Connect with us

बेल्थरा रोड

बलिया- ग़रीबों की थाली से पहले ही ग़ायब हुई दाल और सब्ज़ी अब मध्यम वर्ग के लोगों को भी नहीं नसीब!

Published

on

बिल्थरारोड डेस्क :  कोविड-19 के इस दौर में जहां लोगों के समक्ष रोजी रोजगार का संकट बढ़ गया है वही दिन प्रतिदिन बढ़ते सब्जियों के दाम ने जले पर नमक का काम किया है। दाल- रोटी खाओ प्रभु के गुण गाओ का भजन भी आज के दौर में बेमानी सी हो गई है। ₹90 की बिकने वाली दाल जहां 130 तक पहुंच गई है वहीं सब्जियों के दाम आसमान चूम रहे हैं।

इसके चलते गरीबों के साथ ही मध्यम वर्ग के भी थाली से दाल व सब्जी दूर हो चले हैं। बाजार में जहां का सब्जियों का राजा आलू ₹35 में बिक रहा है वहीं हरी सब्जियों का कहना ही क्या? जिस सब्जी को लोग बहुत पसंद से नहीं खाते वह भी आजकल 50 से कम नहीं है। नगर में इस समय आलू जहां ₹35 बिक रहा है वही बैगन 50, लौकी 40, करेली 60, फूल गोभी 100, भिंडी 50, पत्ता गोभी 60, प्याज 45, मिर्चा 120, पपीता 40, परवल 80, बोडो़ ₹70, कोहड़ा ₹30 तथा चौराई का साग भी ₹30 किलो है।

विज्ञापन

वर्तमान में कोरोना संक्रमण से बचने के लिए काढ़ा बनाने में प्रयोग आ रही अदरक भी ₹120 तक पहुंच आसमान छू रही है। एक तरफ लोग दिन प्रतिदिन अपनी गिरती आर्थिक स्थिति से परेशान हैं वहीं सब्जियों और दालों के बढे़ मूल्य ने उन्हें कहीं का नहीं छोड़ा है। सब्जी दुकानदार आबिद अली ने बताया कि ग्राहक आते हैं और सब्जियों को दाम पूछ कर के आगे बढ़े चले जाते हैं और जाते-जाते यह कहते हैं इससे अच्छा तो रोजाना सोयाबीन सस्ता रहेगा।

निलेश मद्धेशिया

बलिया स्पेशल

झमाझम बारिश से पानी-पानी बलिया, सड़कें लबालब, चौकी में भी भरा पानी

Published

on

बलिया। उत्तरप्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश का अलर्ट है।बलिया जिले में भी बारिश का दौर जारी है। शुक्रवार को हुई झमाझम बारिश से जलभराव के चलते नगर की सड़कें और स्कूल तालाब में तब्दील हो गए। जलभराव की वजह से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।इतना ही नहीं भारी बारिश की वजह से सीयर चौकी में तक पानी घुस गया। जहां पुलिसकर्मी बारिश का पानी बाहर निकालते दिखे। बारिश के अलर्ट की वजह से सभी से सावधान रहने की अपील की जा रही है। बारिश के कारण जलभराव से बीमारियों का खतरा भी बढ़ रहा है।
बता दें खराब मौसम को देखते हुए मुख्यमंत्री ने स्कूल- कॉलेज को दो दिन के लिए बन्द कर दिया है। रात से हुई लगातार तेज बारिश से नगर की नालियों और सड़कों पर पूरा पानी भर गया। जिससे आने जाने में लोगो की परेशानियों का सामना करना पड़ा। नगर स्थित पुलिस चौकी सीयर के कार्यालय में तेज बारिश के चलते पानी भर जाने से वहां के पुलिसकर्मी पानी को बाहर बर्तन से फेकते नजर आये। वहीं नगर के मिडिल स्कूल और प्राथमिक तथा कस्तूरबा गांधी विद्यालय सीयर के प्रांगण में भी लगभग एक फीट जल जमाव हो गया है।

स्कूल परिसर में पानी इतना भर गया है कि पूरा स्कूल परिसर तालाब का रूप ले लिया है। जलभराव के चलते ड्यूटी कार्य के लिए कर्मचारियों को पानी से होकर कार्यालय में जाना पड़ा। जल निकासी की समस्या के चलते कई दिनों तक पानी लगा रहेगा। जिसके चलते मच्छरों और संक्रामक रोगों के फैलने की आशंका प्रबल हो गयी है। बारिश के बाद बीमारियों का खतरा बढ़ जाएगा। जिलें में डेंगू और मलेरिया के मरीज भी बढ़ रहे हैं। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग के लिए भी चिंता बढ़ गई है।

Continue Reading

बेल्थरा रोड

बेल्थरा रोड से छह अन्तर्राज्यीय शातिर अपराधी गिरफ्तार, बना रहे थे डकैती की योजना

Published

on

बेल्थरा रोड से छह अन्तर्राज्यीय शातिर अपराधी गिरफ्तार, बना रहे थे डकैती की योजना।

गुरूवार को थाना उभांव पुलिस ने बेल्थरा रोड स्थित के नजदीक छह अन्तर्राज्यीय अपराधियों को पकड़ लिया। इनमें चार पुरूष और दो महिला अपराधी शामिल हैं। मौके पर अपराधियों के पास से 54,000 रुपए नगद, तीन चाकू और चोरी किए गए पांच फोन बरामद किए गए। थाना उभांव के एसओजी और सर्विलांस की संयुक्त टीम ने इन अपराधियों को पकड़ा। पुलिस के मुताबिक सभी छह अपराधी अन्तर्राज्यीय गिरोह के सदस्य हैं। इनके खिलाफ इससे पहले कुल सात मुकदमे दर्ज हैं। आज पुलिस ने इनके खिलाफ आर्म्स एक्ट समेत अन्य कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

अभियुक्तों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि ये लोग गोरखपुर में एक किराए के मकान में पिछले एक साल से रहते है। गोरखपुर से ही ट्रेन और बस से दूसरे जनपदों में जाकर फेरी करके सामान बेचते हैं। इसी दौरान ये लोग दुकानों और अन्य जगहों पर चोरी करते हैं। पुलिस ने बताया कि इसी गिरोह के लोगों ने बीते महीने की दो तारिख को बेल्थरा रोड तहसील के पास खड़े मोटर साइकिल की डिग्गी से 45000 रुपए चोरी किया था। उसके बाद सात तारिख को आजाद चौक, गोरखपुर के पास इण्डियन बैंक पर खड़ी मोटर साइकिल की डिग्गी से 40000 रुपए चोरी किया। फिर चौबीस तारिख को देवरिया से साइकिल में टंगे झोले में रखे कुल 30000 रुपए की चोरी की थी।

गिरफ्तार करने वाली टीम में प्रभारी निरीक्षक ज्ञानेश्वर मिश्रा, उप निरीक्षक संजय सरोज, उप निरीक्षक राजेश कुमार, उप निरीक्षक राघवराम यादव, सर्विलांस टीम के शशि प्रताप सिंह, रोहित यादव और राकेश यादव, एसओजी टीम के अनूप सिंह और अतुल सिंह शामिल थे। एसओजी और सर्विलांस टीम ने जिन अपराधियों को गिरफ्तार किया है वे सभी मूल रूप से मध्यप्रदेश के राजगढ़ के रहने वाले हैं। सभी गिरफ्तार अभियुक्तों को जिला अदालत ले जाया जा रहा है। इनमें शालू, अमन, कालू, राज, मंदाकिनी और अंजली शामिल हैं।

गौरतलब है कि बलिया के पुलिस अधिक्षक राजकरन नैय्यर के निर्देशन में जिले में अपराध पर नियंत्रण के लिए अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत पुलिस की टीम जिले में जगह-जगह अपराधियों की धर-पकड़ कर रही है। बलिया में इस तरह के गिरोह काफी समय से सक्रिय हैं जो आए दिन लोगों का पैसा उड़ा देते हैं। अब इन सब पर लगाम कसने के लिए पुलिस की टीम अपराधियों की तलाश कर रही है।

 

Continue Reading

Uncategorized

करोड़ों के धान की फसल बर्बाद, नहीं मिल रहा मुआवजा

Published

on

बेल्थरा रोड में बाढ़ और ताल के पानी में लगभग 1800 एकड़ धान की फसल डूब चुकी है।

बलिया के बेल्थरारोड के किसानों की इन दिनों दुर्दशा हो गई है। सरयू नदी के बाढ़ ने किसानों का फसल बर्बाद कर रखा है। सरयू और ताल के पानी में पूरे धान की फसल डूब चुकी है। बाढ़ और ताल के पानी में लगभग 1800 एकड़ धान की फसल डूब चुकी है। जिसके चलते करोड़ों का नुकसान हुआ है। इस नुकसान ने किसानों की कमर तोड़ रखी है। लेकिन अभी तक सरकार की ओर से किसानों को मुआवजा नहीं मिली है।

बिल्थरारोड के शाहपुर अफगां, तेलमा, पिपरौली, बहुता और हल्दीरामपुर तक के लगभग पचास गांव के खेत रतोई ताल और कोइली मुहान ताल और बाढ़ के पानी में डूबे हुए हैं। सोनाडीह के पूर्व प्रधान प्रतिनिधि जयप्रकाश यादव का कहना है कि भगवानपुर राजस्व गांव में सोनाडीह के करीब नब्बे फीसदी लोगों का खेत है। लेकिन बाढ़ में हुई बर्बादी के बदले किसानों को कभी भी मुआवजा नहीं मिलता है।

यही शिकायत इंद्रानगर, मुबारकपुर, दोथ, बुद्धिपुर, बांसपार बहोरवां, बहाटपुर खेतहरी के लोग भी कर रहे हैं। शासन और प्रशासन इन नुकसानों पर पूरी तरह से आंखें मुंदे हुए है। क्षेत्र के किसानों को राहत देने के लिए कोई खास और ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है। हर साल की कहानी यही है। सरयू और ताल का पानी इलाके के किसानों को आर्थिक तौर पर तोड़ चुका है।

बिल्थरारोड के किसानों की यह समस्या सिर्फ इसी साल की ही नहीं है। हर साल बरसात के मौसम में किसानों को बाढ़ और ताल की मार झेलनी पड़ती है। इसलिए अब इस समस्या के स्थाई समाधान की जरूरत है। ताकि बाढ़ के दिनों में किसानों की फसल ना डूबे और करोड़ों का नुकसान होने से बच जाए।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!