Connect with us

बलिया स्पेशल

बलिया में नवनियुक्त शिक्षकों से मेडिकल बनवाने के नाम पर हो रही धन उगाही

Published

on

बलिया डेस्क : बलिया में रिश्वतखोरी का बड़ा मामला सामने आया है। यहां नवनियुक्त शिक्षकों को कथित तौर पर मेडिकल सर्टिफिकेट बनवाने के लिए रिश्वत देनी पड़ रही है। बताया जा रहा है कि CMS दफ्तर में इन शिक्षकों से मेडिकल सर्टिफिकेट बनवाने के नाम पर पैसे वसूले जा रहे हैं।

इस मामले का एक वीडियो भी सामने आया है। जिसमें एक कर्मचारी शिक्षकों को मेडिकल सर्टिफिकेट देता नज़र आ रहा है और इसके बदले उनसे पैसे लेता दिखाई दे रहा है। आरोप है कि ये कर्मचारी नए शिक्षकों से मेडिकल सर्टिफिकेट के एवज़ 200 से 500 रुपए तक वसूल रहा है।

भारत समाचार की ख़बर के मुताबिक, अपनी इस करतूत को छुपाने के लिए स्वास्थ्य कर्मचारियों ने CCTV कैमरों के साथ भी छेड़छाड़ की है। जिस जगह वसूली की जा रही है, वहां कैमरे के रुख को मोड़ दिया गया है।

इतना ही नहीं पैसे लेने के बाद नवनियुक्त शिक्षकों को जो मेडिकल सर्टिफिकेट दिए जा रहे हैं, उसमें भी दिक्कतें आ रही हैं। बताया जा रहा है कि इन सर्टिफिकेट्स में हस्ताक्षर और मोहर ग़ायब हैं।

हालांकि CMS के प्रभारी डॉक्टर आनंद कुमार सिंह ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है। उनका कहना है कि अस्पताल में किसी तरह की कोई रिश्वत नहीं ली जा रही। नवनियुक्त शिक्षकों से वही पैसे लिए जा रहे हैं, जो मेडिकल सर्टिफिकेट बनाने की फीस है।

उन्होंने बताया कि ये फीस केवल 67 रुपए है। बता दें कि प्रदेशभर में नवनियुक्त शिक्षकों को मेडिकल सर्टिफिकेट बनवाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। नियुक्ति के लिए लंबा इंतेज़ार करने वाले शिक्षकों को प्रदेश के हर ज़िले में मेडिकल बनवाने के लिए लंबी कतारों में लगना पड़ रहा है। इतने संघर्षों के बाद भी अभी तक कुछ ही शिक्षकों का मेडिकल बन सका है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

featured

यूपी बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा का रिजल्ट जारी, बलिया के अभय गुप्ता ने लड़कों में किया टॉप

Published

on

यूपी बीएड प्रवेश परीक्षा का रिजल्ट आज जारी हो गया। बरेली की रुहेलखंड विश्वविद्यालय द्वारा जारी किए गए परीक्षा परिणाम में प्रयागराज की रागिनी यादव ने 359.666 अंक हासिल कर टॉप किया है।

प्रयागराज की  नीतू देवी सेकंड टॉपर और बलिया के अभय कुमार गुप्ता ने 3rd रैंक पर रहे। टॉप 10 अभ्यर्थियों में शीर्ष 9 आर्ट्स साइड से हैं। 10वीं रैंक वाला अभ्यर्थी कॉमर्स साइड से है।

बलिया के रसड़ा के रहने वाले अभय कुमार गुप्ता प्रवेश परीक्षा में तीसरे नंबर पर रहें। अभय ने बलिया में ही रहकर बीए किया। करीब एक साल पहले वह तैयारी करने के लिए प्रयागराज आ गए। उनके पिता का नाम अलगू प्रसाद और मां का नाम शीला देवी है।

Continue Reading

featured

ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे की जमीन के मुआवजे की दरें तय

Published

on

बलिया। गाजीपुर से बलिया के माझी घाट तक बनने वाले ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे में आने वाली जमीन के मुआवजे की दरें तय कर दी गई है। जिला अधिकारी सौम्या अग्रवाल की अध्यक्षता में हुई बैठक में 36 गांव के लिए दरों का निर्धारण कर दिया गया जबकि शहर के समीपवर्ती चार गांवों के बारे में फैसला नहीं हो सका है।

ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे के लिए सदर और बैरिया तहसील के 98 गांवों की जमीन ली जानी है। इसमें से 40 गांवों की जमीन का चिह्नाकन करके गजट भी करा दिया गया है। गजट होने के बाद से किसान मुआवजे की रकम जानने के लिए परेशान थे। बुधवार को मुआवजे की दर के निर्धारण के संबंध में जिलाधिकारी सौम्या अग्रवाल की अध्यक्षता में अधिकारियों की बैठक हुई। बैठक में 36 गांव के दरों का निर्धारण कर लिया गया। जिलाधिकारी सर्किल रेट को ही यहां की भूमि की मौजूदा कीमत के उपयुक्त माना गया।

शहर से सटे चार गांव बेदुआ, कंसपुर, माल्देपुर, नेउरी ताल व जमुआ की दरों की बाबत कोई फैसला नही किया जा सका। शहर से सटे होने के कारण इन गांवों में जमीन की कीमतें ज्यादा बढ़ गई हैं। भूमि खरीद के लिए शासन ने दिनों ढाई सौ करोड़ रुपये की रकम पहले से ही मुहैया करा दी है। इस बैठक में एडीएम वित्त एवं राजस्व राजेश कुमार, मुख्य राजस्व अधिकारी, सदर और बैरिया तहसील के एसडीएम जुनैद अहमद, आत्रेय मिश्रा, तहसीलदार, उपनिबंधक, डिप्टी कलेक्टर इंद्रभान तिवारी, उपेंद्र सिंह और दोनों तहसीलों के लेखपाल आदि मौजूद रहे।

Continue Reading

बलिया स्पेशल

बलिया DM की बैठक से गैरहाजिर रहने पर 6 प्रधानों को नोटिस, जवाब न देने पर कारवाई की चेतावनी

Published

on

बलिया। 28 जुलाई को बैरिया ब्लॉक में आयोजित जिलाधिकारी सौम्या अग्रवाल की बैठक में गैरहाजिर रहने पर छह ग्राम प्रधानों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। जिला पंचायतराज अधिकारी यतेंद्र सिंह ने जिलाधिकारी की बैठक से दूरी बनाने बनाने वाले छह ग्राम प्रधानों को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए तीन दिन के अंदर स्पष्टीकरण मांगा है। डीपीआरओ ने जवाब नहीं देने पर कारवाई की चेतावनी दी है।

गौरतलब है कि  भागड़ नाला की सफाई समेत बैरियां ब्लॉक में पेयजल एवं जलभराव से निजात दिलाने और गांवों में साफ-सफाई को लेकर जिलाधिकारी सौम्या अग्रवाल की अध्यक्षता में एक आवश्यक बैठक 28 जुलाई को विकास खण्ड-बैरिया में आहूत की गयी थी। इसकी पूर्व सूचना ब्लॉक के सभी ग्राम पंचायतों के प्रधानों को जिला पंचायती राज कार्यालय द्वारा दी गई थी। इसके बावजूद करीब छह प्रधानों द्वारा बैठक में जानबूझकर प्रतिभाग नहीं किया गया और न ही जिलाधिकारी के निर्देश के बावजूद दो अगस्त तक भागड़ नाले की साफ-सफाई का कार्य ही शुरू किया गया। इसके अलावा पेयजल एवं जलभराव से निजात के लिए भी कोई सार्थक पहल नहीं की गई।

इसे गंभीरता से लेते हुए जिला पंचायत राज अधिकारी यतेंद्र सिंह ने बुधवार को बैरिया ब्लॉक के भीखाछपरा के भुवनेश्वर राम, दयाछपरा हृदयानंद वर्मा, नवकागांव की रजनी पांडेय, मानगढ़ के राजकुमार यादव, श्रीकांतपुर के अरुण यादव और चकिया के ग्राम प्रधान मनजी पासवान को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए तीन कार्य दिवस के अंदर जवाब मांगा है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!