Connect with us

रसड़ा

रसड़ा विधायक ने पीड़ितों को दी आर्थिक मदद, कच्चा मकान गिरने से हुई थी मौत

Published

on

रसड़ा से बहुजन समाज पार्टी के विधायक उमाशंकर सिंह ने अपने क्षेत्र के दो पीड़ित परिवारों की आर्थिक मदद की है। बुधवार को उमाशंकर सिंह ने रसड़ा के संवरूपुर गांव और मिर्जापुर जवानियां गांव का दौरा किया। विधायक उमाशंकर सिंह इन दोनों गांवों में दो अलग-अलग पीड़ित परिवारों से मिलने पहुंचे थे। उन्होंने दोनों परिवारों का ढ़ांढ़स बंधाया। साथ ही दोनों परिवारों को 25-25 हजार के चेक भी दिए।

बीते दिनों रसड़ा के संवरूपुर में मिट्टी की एक दिवार गिरने की वजह से एक महिला की मृत्यु हो गई थी। आज महिला के परिवार से मिलकर उमाशंकर सिंह ने शोक व्यक्त किया। उन्होंने महिला के परिवार को 25 हजार की आर्थिक मदद भी दी। बता दें कि संवरूपुर में रामबचन राजभर का मिट्टी का कच्चा मकान है। बारिश के दौरान उनका यह घर गिर गया था। जिसमें रामबचन राजभर की वृद्ध पत्नी की मौत हो गई।

विधायक उमाशंकर सिंह ने मिर्जापुर जवानियां गांव के निवासी शिवचंद राजभर के परिवार से भी मुलाकात की। शिवचंद राजभर की पिछले दिनों एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी। उमाशंकर सिंह ने शिवचंद राजभर के परिवार को भी 25 हजार का चेक दिया। उन्होंने पीड़ित के परिवार के प्रति संवेदना जाहिर की।

बलिया

बलिया- लेखपाल संघ ने 6 सूत्रीयों मांगों को लेकर खोला मोर्चा

Published

on

बलिया। उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ ईकाई रसड़ा ने अपनी मांग तेज कर दी है। जहां उन्होंने 6 सूत्रीय मांगों को लेकर अपनी आवाज बुलंद कर दी है। और अपनी मांगों को लेकर लेखपाल संघ ईकाई ने धरना प्रदर्शन दिया। 6 सूत्रीय मांगों में संघ लेखपाल चतुरी सिंह का निलंबन तत्काल वापस करने, लेखपालों के बार-बार स्थानांतरण को संशोधित करने, अतिरिक्त कार्यभार से हटाने, आय, जाति एवं निवास का मानदेय तत्काल देने, अन्य बकाया एरियर का तत्काल भुगतान करने की मांग शामिल है।

बता दें शनिवार को 6 सूत्रीय मांगों को लेकर लेखपाल संघ ईकाई रसड़ा तहसील मुख्यालय पर धरना-प्रदर्शन किया। संघ लेखपाल चतुरी सिंह का निलंबन तत्काल वापस करने, लेखपालों के बार-बार स्थानांतरण को संशोधित करने, अतिरिक्त कार्यभार से हटाने, आय, जाति एवं निवास का मानदेय तत्काल देने, अन्य बकाया एरियर का तत्काल भुगतान करने आदि मांग को लेकर आंदोलित हैं।

धरना-प्रदर्शन में अजीत कुमार, रामवृक्ष चौहान, दीपक श्रीवास्तव, दिलशान अख्तर, अमीरचंद, बलवीर सिंह, मार्कंडेय, चौधरी विजय कुमार सिंह, देवेंद्र नाथ राय आदि दर्जनों लेखपाल शामिल थे।

Continue Reading

रसड़ा

बलिया : छह अभियुक्तों को गैर-इरादतन हत्या के मामले में दस साल की सजा, क्या है माजरा? 

Published

on

रसड़ा: छह अभियुक्तों को गैर-इरादतन हत्या के मामले में दस साल की सजा, क्या है माजरा? 

बलिया जिले के रसड़ा थाना क्षेत्र के छह लोगों को अदालत ने गैर-इरादतन हत्या के मामले में दस साल की सजा सुनाई है। बलिया न्यायालय अपर सत्र न्यायाधीश अरुण कुमार ने छह अभियुक्तों को दस साल के सश्रम कारावास समेत दस हजार रुपए का आर्थिक दंड की सजा सुनाई है। अदालत का यह फैसला आज से चार साल पहले यानी 2017 के एक मामले में आया है।

2017 में शिमला चौहान नाम की एक महिला ने रसड़ा थाना क्षेत्र में मुकदमा दर्ज कराया था। 4 जून, 2017 को तहरीर दी थी कि गांव के ही दिलीप चौहान, दीपू चौहान, नागेंद्र चौहान, साधु चौहान, लंगड़ चौहान से विवाद है। शिमला चौहान ने अपनी तहरीर में आरोप लगाया था कि 4 जून को ये सभी लोग उनके घर आए और पति राजपाल चौहान को लाठी-डंडों से बुरी तरह पीटा।

राजपाल चौहान को बचाने जब परिवार के दूसरे सदस्य जगदीश चौहान, जनार्दन चौहान और उमेश चौहान पहुंचे तब उन पर भी हमला किया गया। धारदार हथियारों से मार पड़ने के कारण सभी बुरी तरह घायल हो गए। इनमें से उमेश चौहान की मौत अगले ही दिन इलाज के दौरान हो गई।

पीड़िता की तहरीर के आधार पर रसड़ा थाना ने एफआईआर दर्ज किया। इसके बाद पुलिस ने इस मामले का आरोप पत्र अदालत में दाखिल किया। चार वर्षों तक अदालत में यह विवाद चलता रहा। दोनों पक्षों ने अपनी दलीलें और गवाहों को अदालत के सामने पेश किया। 11 अक्टूबर, 2021 को अदालत ने अपना फैसला सुना दिया। न्यायालय ने दिलीप चौहान, दीपू चौहान, नागेंद्र चौहान, साधु चौहान, राजू चौहान और रविंद्र चौहान को दोषी करार दिया। सभी दोषियों को दस साल का सश्रम कारावास और दस हजार के अर्थ दंड की सजा सुनाई गई।

Continue Reading

बलिया

बलिया- प्राथमिक विद्यालय में दारू पार्टी की शिकायत, प्रधानाध्यापक पर प्रधान ने लगाए गंभीर आरोप

Published

on

बलिया। जिले के रसड़ा थाना क्षेत्र में प्राइमरी स्कूल में दारू होने का मामला उजागर हुआ है। कटहुरा ग्राम पंचायत स्थित प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक पर अराजकतत्वों और शराबियों का जमावड़ा करने का आरोप लग रहा है। बच्चों के अभिभावकों में इसको लेकर काफी आक्रोश है। गांव की प्रधान सुमन यादव ने इस मामले में खंड शिक्षा अधिकारी को शिकायती पत्र देकर अगवत कराया। उन्होंने प्रधानाध्यापक पर कार्रवाई की मांग की।
दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबितक ग्रामीणों का आरोप है कि कटहुरा ग्राम पंचायत स्थित प्राथमिक विद्यालय में आए दिन अराजकतत्वों और शराबियों के जमावड़ा होने से बच्चों की शिक्षा प्रभावित हो रही है। विद्यालय के प्रधानाध्यापक भी इस करतूत में शामिल हैं। प्रधान सुमन यादव ने खंड शिक्षा अधिकारी को शिकायती पत्र देकर कहा है कि बार-बार चेतावनी देने के बावजूद प्रधानाध्यापक द्वारा इस अनैतिक कार्य को बंद नहीं किया जा रहा है।

प्रधान ने अपने शिकायती पत्र में आरोप लगाया गया कि 23 सितंबर को शिक्षण कार्य के दौरान 30 से 35 लोगों की पार्टी विद्यालय परिसर में की गई, जिसमें शराब भी परोसी गई थी। ग्राम प्रधान ने नौनिहालों के भविष्य को देखते हुए प्रधानाध्यापक के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करने की मांग खंड शिक्षा अधिकारी से की। इससे पहले भी ग्राम पंचायत के पूर्व प्रधान रमाशंकर यादव ने भी प्रधानाध्यापक की करतूतों की शिकायत महकमे से कर चुके हैं।

बार-बार शिकायत के बाद भी प्रधानाध्यापक के खिलाफ कोई सख्त कार्रवाई नहीं की जा रही है। लगातार नौनिहालों ही शिक्षा प्रभावित हो रही है। बावजूद प्रधानाध्यापक के खिलाफ सख्त कदम नहीं उठाया जा रहा है। हालांकि ग्राम प्रधान के खिलाफ एक बार फिर खंड शिक्षा अधिकारी से शिकायत की है। अब देखना होगा कि मामले में कब तक कार्रवाई की जाती है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!