Connect with us

बेल्थरा रोड

BJP कार्यकर्ता ने पत्रकार पर बेटे की हत्या का लगाया आरोप, पत्रकार ने मीडिया पर बताया हमला !

Published

on

बेल्थरा रोड डेस्क : ख़ुद को भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता बताने वाले रजनीश पाण्डेय ने ज़िले के वरिष्ठ पत्रकार जयप्रकाश बर्नवाल पर अपने पुत्र की हत्या करने का आरोप लगाया है। रजनीश का कहना है कि जयप्रकाश ने 2016 में इंश्योरेंस के पैसों की ख़ातिर अपने बेटे आलोक की गला दबाकर हत्या कर दी। वहीं जयप्रकाश का कहना है कि बीजेपी कार्यकर्ता ने उनपर ये आरोप बदले की भावना से लगाए हैं, वो इस तरह मीडिया की आवाज़ को दबाना चाहते हैं।

दरअसल, 2016 में जयप्रकाश के 22 वर्षीय पुत्र आलोक की मौत हो गई थी। आलोक की मौत की वजह उस वक़्त बीमारी बताई गई थी। मौत के बाद से अबतक किसी ने भी आलोक की मौत पर सवाल नहीं खड़े किए थे। लेकिन अब अचानक बीजेपी कार्यकर्ता रजनीश पाण्डेय ने आलोक की मौत को हत्या बता दिया। उनका आरोप है कि जयप्रकाश ने आलोक के नाम पर किए गए बीमा के पौसों को क्लेम करने के लिए अपने बेटे की हत्या कर दी।

रजनीश ने इस संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित मानवाधिकार आयोग, पुलिस महानिदेशक, मंडलायुक्त, रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया और एलआईसी को पत्र लिखा है। रजनीश ने पत्र में मांग की है कि मामले की निष्पक्ष जांच कराई जाए और दोषियों को कड़ी से कड़ी सज़ा दी जाए।

वहीं पत्रकार जयप्रकाश ने बीजेपी कार्यकर्ता के आरोपों को बेबुनियाद बताया है। बलिया ख़बर से बात करते हुए जयप्रकाश ने कहा कि रजनीश ने उनपर ये आरोप इसलिए लगाए क्योंकि उन्होंने रजनीश द्वारा किए गए अवैध अतिक्रमण को लेकर एक ख़बर चलाई थी। जयप्रकाश का कहना है कि वो अपने ख़िलाफ़ चलाई गई ख़बर से बौखला गए हैं, इसलिए एक पिता पर चंद पैसों के लिए अपने ही बेटे की हत्या का आरोप लगा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि रजनीश इस तरह के अनर्गल आरोप लगाकर मीडिया की आवाज़ को दबाना चाहते हैं। रजनीश अपने ख़िलाफ़ उठने वाली हर आवाज़ को फसाने की कोशिश कर रहे हैं। इससे पहले उन्होंने अवैध अतिक्रमण के ख़िलाफ़ बोलने वाले एक अधिवक्ता को भी फसाने की कोशिश की थी।

पत्रकार ने कहा कि पांच साल बाद अचानक मौत को हत्या बताना ही उनकी मंशा पर सवाल खड़े करता है। इससे पहले किसी ने भी इस तरह की कोई बात नहीं कही। फिर अचानक ये बात कहां से आ गई? ज़ाहिर है रजनीश अपने ख़िलाफ़ ख़बर चलने से बौखला गए हैं, उन्हें लगता है कि इस तरह के अनर्गल आरोपों से वो मुझे डरा सकते हैं।

लेकिन मेरा जवाब साफ़ है, मैं इससे नहीं डरने वाला। मैं इसी तरह अवैध कार्यों के ख़िलाफ़ अपनी आवाज़ बुलंद करता रहूंगा।
बलिया ख़बर ने अवैध अतिक्रमण के आरोपों के संबंध में रजनीश से भी बात की। इसपर उन्होंने दावा किया कि उनकी दुकान टाउन एरिया द्वारा अलॉट की गई है। जिसका किराया निकाय लेती है। उन्होंने कोई अतिक्रमण नहीं किया है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

featured

बलिया – सामाजिक बेड़ियों को तोड़ बेटी ने पिता को दी मुखाग्नि, लोग कर रहे सराहना

Published

on

बेल्थरा रोड। बेटियां किसी भी मामले में बेटों से कम नहीं होती, अगर उन्हें सही मौका दिया जाए तो बेटियां आसमान नाप सकती हैं। बलिया में सरयू किनारे तुर्तीपार घाट पर शुक्रवार को एकलौती बेटी खुश्बू सिंह ने अपने पिता को मुखाग्नि दी तो मौजूद हर किसी की आंखे नम हो गई। लेकिन अपने पिता के निधन पर बिलखती इस बिटिया के हौसला और निर्णय को देख बेटियों पर फख्र करने वालों का सर गर्व से ऊंचा हो गया। इस बेटी की हिम्मत की सभी क्षेत्रवासी सराहना कर रहे हैं।

भीमपुरा थाना के कसौंडर गांव निवासी सागर सिंह नाम के किसान का गुरुवार को अचानक हृदयगति रुकने से निधन हो गया। घर में उसकी पत्नी और एकलौती बेटी खुश्बू सिंह हैं। बेटी ने ही पिता के निधन की जानकारी पड़ोसियों और रिश्तेदारों को दी। मृतक सागर सिंह के तीन भाईयों में एक का पहले ही निधन हो गया है।जबकि एक बड़े भाई परिवार समेत लंबे समय से गैर प्रांत में रहते हैं। शुक्रवार तक मृतक के बड़े भाई समय पर नहीं पहुंचे तो आसपास के लोगों के कहने पर बिटिया खुश्बू ने ही अपने पिता को कंधा दिया और सरयू नदी किनारे तुर्तीपार घाट तक पहुंची और बिटिया ने

ही अपने पिता को मुखाग्नि भी दी।सामाजिक रीति रिवाज से हटकर साहसी बेटी के इस निर्णय को अधिकांश लोगों ने सराहा और हौसला दिया। खुशबू को मुखाग्नि देते देख मौजूद सभी की आंखे नम हो गई। खुशबू सिंह अभी एमएससी की पढ़ाई कर रही हैं।

Continue Reading

बेल्थरा रोड

बलिया: यूनियन और स्टेट बैंक से खाताधारकों को लग रही है चपत, ऑनलाइन फ़्रॉड से ग़ायब हो रहे हैं पैसे

Published

on

बिल्थरारोड। नगर के यूनियन और स्टेट बैंक बिल्थरारोड से जुड़े खाताधारकों के बचत बैंक खाता से हर दिन आनलाइन फ्राड कर पैसे निकले जा रहे है। बीते मंगलवार को संजय कुमार गुप्ता के खाते से सोमवार को यूनियन बैंक के खाता से 10, 10 हजार रुपये दो बार निकाल लिया गया।

जिसकी शिकायत लेकर कई खाताधारकों ने बैंक से शिकायत की किंतु कोई सुनवाई न होने पर बैंक कर्मचारियों की भी भूमिका सन्देह के घेरे में आ गयी है। जिसको लेकर बुधवार को पीड़ितों ने पुलिस को न्याय हेतु लिखित तहरीर दिया। लोगों की शिकायत पर पीड़ित के अतुल कुमार मिश्रा चौकी इंचार्ज सीयर ने यूनियन बैंक के प्रबंधक से मुलाकात की और लोगों के बैंक खाते से निकल रहे पैसे की तकनीकी

जानकारी ली। यूनियन बैंक के प्रबंधक विश्वनाथ ने सकारात्मक जबाब नही दिया। कहा कि बैंक खाताधारकों की शिकायत संबंधित सूचना उच्चाधिकारियों को ईमेल से दे दी गई है। जल्द ही आवश्यक कार्रवाई होगी। लगभग 6 माह से यूनियन और स्टेट बैंक से लगभग एक दर्जन खातों धारकों को इस तरह की घटना का शिकार होना पड़ा है। बैंक कर्मचारी द्वारा सिर्फ खोखला आश्वासन देकर पीड़ित खाता धारकों को

हटा दिया जाता है। सभी पैसे आनलाइन एईपीएस यानि आधारा कार्ड लिंक के जरीए निकाला गया है। बैको द्वारा ऑनलाइन हो रहे आये दिन फ्राड को लेकर नगर के व्यापारी प्रशांत कुमार मंटू, प्रवीण चौबे, मोनू गुप्ता आलोक जायसवाल,विनीत

जायसवाल, दिनेश यादव, अजीत गुप्ता, राकेश जायसवाल,अंजय राव,जितेंद्र जायसवाल ने चौकी इंचार्ज अतुल कुमार मिश्र से मिले और घटना के बारे मे जानकारी दी। बैंक खाताधारकों में पैसे को लेकर असुरक्षा की स्थिति बनी हुई है।

Continue Reading

बलिया

Ballia- उभांव पुलिस ने 6 साल की गुम हुई बच्ची को परिजनों से मिलाया, मानवीयता की लोग कर रहे तारीफ

Published

on

बलिया पुलिस का मानवीय चेहरा सामने आया है। बलिया के पुलिस अधीक्षक डॉक्टर विपिन ताडा के निर्देशन में जिले में गुम हुए व्यक्तियों और बच्चों की शीघ्र तलाशी की जा रही है। गुम हुए लोगों की तलाश कर उनके परिजनों से मिलाने के लिए चलाए जा रहे अभियान की कड़ी में थाना उभांव द्वारा एक 6 वर्ष की बच्ची को उसके परिजनों से मिलाने में अहम भूमिका निभायी है।

दरअसल, 14 जून को प्रभारी निरीक्षक उभांव ज्ञानेश्वर मिश्र के नेतृत्व में थाना क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए चौकी प्रभारी सियर अतुल मिश्रा अन्य पुलिसकर्मियों के साथ क्षेत्र में बैंक, ATM, संदिग्ध वाहनों की चेकिंग की जा रही थी। तभी पीएनबी बैंक के पास एक 6 वर्ष की बच्ची अकेली रोती हुई मिली, जो अपने माता-पिता से मिलने के लिए रो रही थी। चौकी प्रभारी सियर अतुल मिश्रा ने तत्काल बच्ची को शांत कराते हुए प्यार पूर्वक

उसका नाम पता पूछा। तो बच्ची ने अपना नाम ईशानी सिंह पुत्री भरत सिंह निवासी टीकोधा थाना उभांव बलिया बताया। चौकी प्रभारी ने फौरन सभी थानों में बने डिजिटल वालंटियर ग्रुप में बच्ची की फोटो भेजी। पुलिस को बच्ची के गाँव भेजकर पता करवाकर सूचना दी गई। इसके बाद बच्ची इशानी की चचेरी बहन अंशिका सिंह पुत्री चन्द्रशेखर सिंह उभांव थाना आ गयीं, जिन्हे चौकी इंचार्ज ने बच्ची को उनके हवाले कर दिया।

थाना उभांव क्षेत्र वासियों ने SHO ज्ञानेश्वर मिश्र और चौकी इंचार्ज सियर अतुल मिश्र व उनकी टीम का दिल से आभार व्यक्त किया।साथ ही परिवार के साथ-साथ क्षेत्र के लोगों ने बलिया पुलिस की तारीफ की। इस तरह के प्रयास निःसंदेह पुलिस की छवि समाज में सकारात्मक बनाते हैं।

Continue Reading

TRENDING STORIES