Connect with us

सिकंदरपुर

बलिया- ट्रेन से गिरकर फौजी की मौत, मचा कोहराम !

Published

on

बलिया डेस्क : बलिया के सिकंदरपुर के रहने वाले जवान की लखनऊ जाते समय गोरखपुर के कुसमी जंगल के पास ट्रेन से गिरकर मौत हो गई। जब ये खबर बलिया के उनके पैतृक गांव डूहा बिहरा पहुंची तो कोहराम मच गया।  जवान का अंतिम संस्कार सिकंदरपुर के डूहा बिहरा स्थित घाघरा तट पर किया गया। जवानों ने उन्हें सम्मान के साथ अंतिम सलामी दी।

बताया जाता है कि डूहा बिहरा निवासी धनंजय सिंह लखनऊ में परिवार सहित रहते थे। वह पिछले दिनों गांव आये थे। छुट्टी खत्म होने के बाद बुधवार को 35 वर्षीय धनंजय सिंह कृषक एक्सप्रेस से लखनऊ जा रहे थे। गोरखपुर से कुछ पहले कुसुमी जंगल के पास उनको उल्टी होने लगी, जब वह बाथरूम की तरफ गये तो बाथरूम में पहले से कोई गया था। वह बोगी का गेट खोलकर उल्टी करने लगे, तभी बेहोश होकर ट्रेन से नीचे गिर गये।

गुरुवार की भोर में स्थानीय लोगों ने रेलवे ट्रैक के किनारे एक व्यक्ति के गिरे होने की सूचना जीआरपी को दी। मौके पर जीआरपी के जवान पहुंचे और पॉकेट से टिकट व डायरी से मोबाइल नंबर पर घर सूचना दी।

उधर, धनंजय के साथ जा रहे बेटे ने अपनी मां को फोन कर बताया कि रात में पापा उल्टी करने गये उसके बाद नहीं लौटे। धनंजय की पत्नी सुमन चारबाग रेलवे स्टेशन पहुंच गई। उसने परिजनों से बात की तो धनंजय के ट्रेन से गिरने की जानकारी हुई। यह भी बताया कि उनका इलाज गोरखपुर में चल रहा है। वहां से बटालियन के लोगों ने बेहतर इलाज के लिए लखनऊ आरआर हॉस्पिटल में भर्ती कराया, जहां गुरुवार की रात उनकी मौत हो गई।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

featured

बलिया- सिकंदपुर के पांच गांवो में टीकाकरण आज से शुरू, जानें केंद्रों के नाम

Published

on

बलिया। सोमवार को देश में रिकॉर्ड 88 लाख वैक्सीन की खुराक दी गई। इसके साथ ही देशभर में टीकाकरण अभियान तेज कर दिया गया है। लेकिन देशभर में 88 लाख खुराक देने के साथ ही ऐसे आरोप थे कि मध्य प्रदेश सहित कुछ राज्यों ने “मैजिक मंडे” हासिल करने के लिए कई दिनों तक वैक्सीन की खुराक जमा की गई थी। सबसे ज्यादा खुराक देने वाले टॉप 10 राज्यों में से सात में बीजेपी की सरकार है।

इस साल के अंत तक सभी वयस्कों को पूरी तरह से वैक्सीनेट करने के केंद्र के टारगेट को पूरा करने के लिए हर दिन वैक्सीन की करीब 97 लाख खुराक देने की जरूरत है। मगर, सप्लाई की मौजूदा स्थिति इस पर सवाल उठाती है कि क्या टारगेट पूरा किया जाएगा? वहीं बलिया के सिकंदपुर में टीकाकरण अभियान के तहत बुधवार को पंद्रह ब्लॉकों के पांच गांवों में टीका लगाने के कैम्प का आयोजन किया जा रहा है। ग्राम पंचायत सचिव मृतुन्जय राय ने बताया कि निर्धारित कार्यक्रम के तहत ब्लॉक क्षेत्र के बाछापार, कडसर, गौरी, किकोढ़ा और चड़वा वरवां में टीकाकरण अभियान का सुभारम्भ बुधवार को होगा।

सरकार की तरफ से निर्देश मिलने पर कि अब 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को टीका लगाया जाए। इसी के मद्देनजर बलिया प्रशासन ने सभी स्थानों पर 18 प्लस के युवाओं को टीका लगाने की तैयारी की हुई है। जिन युवाओं को टीका लगवाना है वो इन टीका केंद्रों पर जाकर वैक्सीन लगवा सकते हैं।

Continue Reading

बलिया

बलिया -12 गांवों पर एक डॉक्टर वो भी नदारद, गरीब मरीज भटकने को मजबूर

Published

on

सिकन्दरपुर। प्रधानमंत्री मोदी से लेकर मुख्यमंत्री योगी विकास की बड़ी-बड़ी बातें करते हैं। मगर धरातल पर देखने के बाद मोदी-योगी के सारे दावे धराशायी हो जाते हैं। सीएम योगी लाख कोशिशों के बावजूद ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सिस्टम को नहीं सुधार पा रहे। कोरोना महामारी में स्वास्थ्य विभाग की हालत और भी खराब हुई है। सरकार ग्रामीण स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त करने का दावा कर रही है, लेकिन हकीकत दावों से मेल नहीं खा रही। यूं तो गांवों में इलाज की जिम्मेदारी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को सौंपी गई है, लेकिन यहां डॉक्टर ही नही हैं जो बीमारों को अपनी सेवाएं दे सके।

बलिया के सिकन्दरपुर तहसील क्षेत्र का बघुडी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है। इलाके के करीब एक दर्जन गांवों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने वाले इस प्राथमिक केंद्र पर पिछले एक पखवाड़े से कोई चिकित्सक नहीं है। यहां तैनात चिकित्सक अनिल सिंह का स्थानांतरण देवकली प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर कर दिया। तब यहां किसी को तैनात नही दी गई है। ले देकर एक चिकित्साधिकारी डॉक्टर नीरज के भरोसे यह अस्पताल चल रहा है। बता दें कि उक्त चिकित्साधिकारी को टीकाकरण समेत विभागीय कार्य की जिम्मेदारी सौंप दी गई है।

ज़रा सोचिए एक डॉक्टर विभागीय काम भी देख रहा है तो मरीजों को कौन देखेगा?विभागीय काम देखने के चलते डॉक्टर को आये दिन जिला मुख्यालय जाना पड़ता है। इसके कारण आम लोगों को वे भी अपनी सेवाएं नही दे पाते हैं। क्षेत्रीय लोगों ने उच्चाधिकारियों का ध्यान आकृष्ट कराते हुए तत्काल चिकित्सक की तैनाती करने की मांग की है।

Continue Reading

सिकंदरपुर

Ballia – सिकंदरपुर में बनेगा मुंसिफ न्यायालय, जिला जज ने किया निरीक्षण

Published

on

बलिया। जिले के सिकंदरपुर तहसील में लम्बे समय से मुंसिफ न्यायालय खोलने की मांग हो रही थी जो की अब पूरी होती दिख रही है। इसी क्रम में जिला जज हुसेन अहमद अंसारी तथा मुख्य न्यायिक दंण्डाधिकारी सुरेंद्र प्रसाद ने सोमवार को स्थलीय निरीक्षण किया। बताते चलें कि सोमवार की दोपहर उपरोक्त दोनों अधिकारियों ने सिकंदरपुर तहसील प्रांगण में ग्रामीण न्यायालय को शुरू करने के लिए माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद के निर्देश पर बन रहे भवन का निरीक्षण किया। उक्त उद्देश्य की पूर्ति के लिए भवन एवं कार्यालय दोनों पूरी तरह से तैयार है।

जिनको देखकर उपरोक्त दोनों अधिकारी संतुष्ट दिखे।लेकिन शौचालय तथा विश्राम कक्ष के निर्माण को और अधिक परिमार्जित करने का निर्देश दिया। इस अवसर पर उप जिलाधिकारी सिकंदरपुर अभय कुमार सिंह, तहसीलदार राम नारायण वर्मा,एसएचओ सिकंदरपुर राजेश कुमार सिंह उपस्थित रहे। संबंधित प्रकरण में उक्त दोनों न्यायिक अधिकारियों के द्वारा अवगत कराया गया कि वादकारियों के हित में जल्द ही उक्त न्यायालय का गठन तहसील सिकंदरपुर पर कर दिया जाएगा।

बता दें की जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर दूर स्थित सिकंदरपुर तहसील के पास मुंसिफ न्यायालय की स्थापना हो जाने से न केवल आसपास की जनता को छोटे मुकदमों के लिए जिला मुख्यालय का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। इस न्यायालय के जरिए मारपीट, जमीन से जुड़े मुकदमों की सुनवाई होकर यहीं से निस्तारित किया जाएगा। इस न्यायालय से सिकंदरपुर तहसील के अलावा आसपास की तहसीलों के भी इस तरह के मुकदमों की सुनवाई होगी।

 

Continue Reading

TRENDING STORIES