Connect with us

बलिया

श्री हरिबंश बाबा इंटर कॉलेज पूर-बलिया के छात्रों ने निकाली ‘तिरंगा’ यात्रा

Published

on

देशभर में आजादी की 75वीं वर्षगांठ पूरी होने पर अमृत महोत्सव की धूम है। हर घर तिरंगा, घर घर तिरंगा अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में बलिया के श्री हरिबंश बाबा इंटर कॉलेज पूर-बलिया के छात्रों ने ‘हर घर तिरंगा’ अभियान के तहत जन जागरूकता रैली निकाली।

इस दौरान विद्यालय के प्रबंधन प्रहलाद सिंह ने हरी झंडी दिखाकर रैली को रवाना किया। रैली में छात्र-छात्राओं का उत्साह देखते ही बन रहा था। छात्र-छात्राओं ने राष्ट्रभक्ति से प्रेरित गगनभेदी नारों के माध्यम से देश के वीर शहीद सपूतों को नमन करते हुए आमजन से राष्ट्रीय एकता की भावना को आत्मसात करने हेतु प्रेरित किया।

इस अवसर पर विद्यालय के प्रधानाचार्य विनोद तिवारी ने जगह-जगह आमजन को राष्ट्रध्वज भेंट कर अपने घरों पर फहराने का आह्वान किया। उक्त रैली व प्रभात फेरी में विद्यालय के बच्चों सहित समस्त शिक्षक व कर्मचारी गण उपस्थित रहे।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बलिया

बलियाः जयप्रभा सेतु पर पति के सामने नदी में कूदी महिला, तलाश जारी

Published

on

बलिया के बैरिया तहसील में एक महिला ने अपने पति के सामने ही नदी में छलांग लगा दी। मांझी घाट स्थित जयप्रभा सेतु पर यह घटना हुई। जहां पत्नी के कूदने पर पति घबरा गया और उसने शोर मचाना शुरु कर दिया। लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। महिला नदी की गहराई में डूब गई।

महिला रिविलगंज थाना क्षेत्र के आलेख टोला निवासी स्वर्णकार सती प्रसाद की पत्नी सुनीता है। सतीश प्रसाद ने बताया कि मानसिक रूप से बीमार अपनी पत्नी सुनीता को बाइक पर बैठाकर इलाज हेतु उसे छपरा लेकर जा रहा था। दोनों यूपी से बिहार को जोड़ने वाले मांझी घाट स्थित जयप्रभा सेतु से गुजरे तो महिला ने उल्टी करने की इच्छा जताई और सेतु के रेलिंग के सहारे खड़ी होकर उल्टी करने के बजाय पत्नी ने एक सौ फुट नीचे सरयू नदी में छलांग लगा दिया

पत्नी के कूदने पर पति ने शोर मचाना शुरू किया। शोर सुनकर मछुआरों ने डूब रही महिला को नाव के सहारे बचाने का भरपूर प्रयास किया। हालांकि उसे बचाया नहीं जा सका। सूचना पाकर माँझी तथा बैरिया थाना पुलिस पहुंची तथा शव को हर हाल में ढूंढ निकालने का परिजनों को आश्वासन दिया। नाव के सहारे शव की खोजबीन की जा रही थी। डूबी महिला को दो पुत्र व एक पुत्री हैं।

Continue Reading

बलिया

बलिया: हत्या की वारदात को अंजाम देने वाले 2 आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा

Published

on

बलियाः मॉनिटरिंग सेल, अभियोजक, अपर निदेशक अभियोजन व पैरोकारों की प्रभावी पैरवी के चलते विभिन्न अपराधों के दोषियों को कम समय में ही सजा सुनाई जा रही है। हाल ही में कोर्ट ने दो हत्या के आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

साल 2015 में उभांव थाने में आपराधिक घटना को अंजाम देने वाले मन्टू कुमार पुत्र जयराम (निवासी कुम्हीडीह थाना सिकन्दरपुर, बलिया) व सीताराम पुत्र स्व. उचित राम (निवासी माल्दह थाना सिकन्दरपुर, बलिया) को अपर सत्र न्यायाधीश की कोर्ट ने सजा सुनाई है।

328 भादवि के अपराध में दोषी अभियुक्त को 07 वर्ष का सश्रम कारावास व 1000/-रुपये अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया। अर्थ दण्ड न अदा करने पर 02 माह का अतिरिक्त सश्रम कारावास भुगतना होगा। धारा 302 भादवि के अपराध में प्रत्येक अभियुक्त को आजीवन कारावास की सजा व 1000/- रुपये अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया। अर्थ दण्ड न अदा करने पर 02 माह का अतिरिक्त सश्रम कारावास भुगतना होगा।

धारा 201 भादवि के अपराध में प्रत्येक अभियुक्त को 03 वर्ष का सश्रम कारावास व 500/-रुपये अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया। अर्थ दण्ड न अदा करने पर 01 माह का अतिरिक्त साधारण कारावास भुगतना होगा। धारा 392 भादवि के अपराध में प्रत्येक अभियुक्त को 05 वर्ष का सश्रम कारावास व 500/- रुपमे अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया।

Continue Reading

बलिया

कबूतरों की तस्करी कर रहा बलिया का युवक गिरफ्तार, 46 कबूतर बरामद

Published

on

मथुरा में जीआरपी- आरपीएफ ने ट्रेन में सफेद कबूतरों के साथ युवक को गिरफ्तार किया। युवक बलिया का रहने वाला है। जिसकी पहचान धर्मेंद्र कुमार पुत्र देवनाथ निवासी ग्राम नारायनगढ़ के रुप में हुई है। पुलिस ने आोरपी की तलाशी ली दो गत्तों के डिब्बे मिले।

जिन्हें खोला तो इसमें सफेद रंग के 46 कबूतर मिले। जीआरपी प्रभारी निरीक्षक सुशील कुमार ने बताया कि धर्मेंद्र कुमार कबूतरों को अमृतसर पंजाब से लेकर आया था। वह कबूतरों को शिकार के शौकीन लोगों को बेचने का काम करता है। यह बात उसने पूछताछ में स्वीकार की है। बरामद हुए कबूतरों को वन विभाग की टीम के हवाले कर दिया।

डीएफओ रजनीकांत मित्तल ने बताया कि कबूतरों को कैद रखना गैर कानूनी है। यह अधिनियम के ह शेड्यूल-4 के तहत प्रतिबंधित है। जीआरपी ने जो कबूतर बरामद किए हैं वे वह हमें सौंप दिए गए है। हम उन्हें सुरक्षित रखेंगे। तारीख पर न्यायालय में पेश करेंगे। न्यायालय के आदेश के बाद सभी कबूतरों को सुरक्षित वन्य क्षेत्र में कबूतरों को छोड़ दिया जाएगा।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!